Sunday, June 26, 2022
Homeदेश-समाजयासीन मलिक के घर के बाहर जमा हुई मुस्लिम भीड़, 'अल्लाहु अकबर' नारे के...

यासीन मलिक के घर के बाहर जमा हुई मुस्लिम भीड़, ‘अल्लाहु अकबर’ नारे के साथ सुरक्षा बलों पर हमला, पत्थरबाजी: श्रीनगर में बढ़ाई गई गश्ती

इसके साथ ही सुरक्षाबलों ने किसी भी वारदात को रोकने के लिए पहले से अधिक सतर्कता के साथ घाटी में गश्ती शुरू कर दिया है। श्रीनगर के सभी थाना प्रभारियों को खुद हर इलाके में गश्त करने पर लगा दिया गया है।

टेरर फंडिंग के मामले में उम्रकैद की सजा पाने के बाद आतंकवादी यासीन मलिक (Yasin Malik) के समर्थकों ने जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में हिंसा और उत्पात मचाना शुरू कर दिया है। उसके श्रीनगर स्थित घर के बाहर कट्टरपंथी मुस्लिमों की भारी भीड़ जमा हो गई। भीड़ ने मुस्लिमों पर जमकर पत्थरबाजी भी की। इस दौरान भीड़ को कंट्रोल करने के लिए पुलिस ने आँसू गैस के गोले दागे।

यासीन मलिक का घर श्रीनगर के मायसुमा इलाके में स्थित है। ये इलाका लाल चौक के पास ही स्थित है। वायरल हो रहे वीडियो में मुस्लिम महिलाओं ने भी ‘हम चाहते आजादी’,’ नारा एक तकबीर अल्लाहु अकबर’ जैसे मजहबी नारेबाजी की। इस बीच हालात को बिगड़ने से रोकने के लिए प्रशासन ने एहतियातन इंटरनेट सेवा को बंद कर दिया है। बड़ी संख्या में पुलिस के साथ ही सीआरपीएफ के भी जवानों को डिप्लॉय किया गया है।

इसके साथ ही सुरक्षाबलों ने किसी भी वारदात को रोकने के लिए पहले से अधिक सतर्कता के साथ घाटी में गश्ती शुरू कर दिया है। श्रीनगर के सभी थाना प्रभारियों को खुद हर इलाके में गश्त करने पर लगा दिया गया है। जगह-जगह नाकाबंदी कर संवेदनशील जगहों पर सुरक्षा व्यवस्था को और अधिक चाक-चौबंद कर दिया गया है। यासीन मलिक को सजा के चलते बुधवार को श्रीनगर के अधिकतर भागों में बाजार बंद रहे। हालाँकि, प्रशासन ने लोगों की आवाजाही को बंद नहीं किया है। केवल चेकिंग बढ़ा दी गई है।

मलिक को सजा से तड़पा पाकिस्तान

‘जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट’ के सरगना आतंकी यासीन मलिक को एनआईए कोर्ट द्वारा उम्रकैद की सजा सुनाए जाने के बाद पाकिस्तान में बेचैनी बढ़ गई है। पाकिस्तान के कट्टरपंथी क्रिकेटर शाहिद अफरीदी ने इसे मानवाधिकार का उल्लंघन बताते हुए यूएन से इस मामले में हस्तक्षेप की माँग की थी। इसके अलावा अफरीदी ने मोदी सरकार को फासिस्ट बताया था।

वहीं पाकिस्तानी नागरिक और यासीन मलिक की बीवी ने शौहर मलिक को मासूम करार देते हुए पाकिस्तान की संसद में एक प्रस्ताव पारित करने की माँग की थी। उसने भारत पर उसे टॉर्चर करने का आरोप लगाया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

’47 साल पहले हुआ था लोकतंत्र को कुचलने का प्रयास’: जर्मनी में PM मोदी ने याद दिलाया आपातकाल, कहा – ये इतिहास पर काला...

"आज भारत हर महीनें औसतन 500 से अधिक आधुनिक रेलवे कोच बना रहा है। आज भारत हर महीने औसतन 18 लाख घरों को पाइप वॉटर सप्लाई से जोड़ रहा है।"

‘गुवाहाटी से आएँगी 40 लाशें, पोस्टमॉर्टम के लिए भेजेंगे’: संजय राउत ने कामाख्या मंदिर और छठ पूजा को भी नहीं छोड़ा, कहा – मोदी-शाह...

संजय राउत ने कहा "हम शिवसेना हैं, हमारा डर ऐसा है कि हमें देख कर मोदी-शाह भी रास्ता बदल लेते हैं।" कामाख्या मंदिर और छठ पर्व का भी अपमान।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
199,523FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe