Thursday, January 28, 2021
Home बड़ी ख़बर एंटोनी साहब, आपने राष्ट्रहित नहीं, 'कॉन्ग्रेस-हित' के कारण राफेल सौदे में देरी की

एंटोनी साहब, आपने राष्ट्रहित नहीं, ‘कॉन्ग्रेस-हित’ के कारण राफेल सौदे में देरी की

मामा-फूफा टाइप लोगों के इस करार में शामिल न हो पाने से कॉन्ग्रेस बेचैन है। उसके हाथ से 2जी, कोलगेट, कॉमनवेल्थ की तरह एक और सोने की चिड़िया हाथ लग सकती थी लेकिन सत्ता परिवर्तन ने उन्हें हिला कर रख दिया है।

भारत के पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटोनी ने राफेल सौदे को लेकर ऐसा बयान दिया है, जो उनके ही 2014 वाले बयान को काटता है। एंटोनी ने आज दो बातें कही। उन्होंने कहा कि राजग सरकार ने राफेल सौदे में देरी की। उन्होंने ख़ुद के बारे में कहा कि उन्होंने भी इस सौदे में देरी की। लेकिन, बड़ी सफाई से उन्होंने ख़ुद के फ़ैसले को ‘राष्ट्रहित’ से जोड़ दिया। बकौल एंटोनी, उन्होंने राष्ट्रहित में राफेल सौदे में देरी की। ये नेशनल इंटरेस्ट से ज्यादा कॉन्ग्रेस इंटरेस्ट प्रतीत होता है। अगर राफेल सौदा उसी समय निपट गया होता तो शायद आज राहुल गाँधी के पास केंद्र सरकार का विरोध करने के लिए कोई मुद्दा ही नहीं होता। अगर राफेल हमारे पास होता तो आज भारत-पाकिस्तान तनाव के बीच एक अहम रोल निभाता।

जब सत्ता में थे, तब अलग ही सुर अलापा था

स्वयं तत्कालीन केंद्रीय रक्षा मंत्री एंटोनी ने 2014 में यह स्वीकार किया था कि यूपीए सरकार के पास वित्त की कमी है, जिस कारण वे चालू वित्त वर्ष में राफेल सौदे को आगे नहीं बढ़ा पाएँगे। फरवरी 6, 2014 को ज़ी न्यूज़ में प्रकाशित एक रिपोर्ट में एंटोनी के बयान का जिक्र था। उस रिपोर्ट में कहा गया था:

“पाँच साल की लंबी प्रक्रिया के बाद भारत ने राफेल लड़ाकू विमानों के लिए फ्रांसीसी दसौं एवियेशन का चयन किया किया है। भारतीय रक्षा ख़रीद प्रक्रिया के अनुसार जो कम्पनियाँ सेनाओं की विशिष्ट आवश्यकता और निर्धारित मानकों पर खरे साजो-सामान को सबसे सबसे कम क़ीमत पर पेशकश करने को तैयार होती है उन्हें उसकी आपूर्ति का ठेका दिया जाता है।”

नीचे संलग्न किए गए ट्वीट में एंटोनी का 2014 वाला वीडियो है जिसमे वे राफेल में देरी का कारण वित्तीय कमी को बता रहे हैं।

जिस कम्पनी का चयन यूपीए काल में ही हो चुका था, उसे लेकर अब हो-हंगामा मचाया जा रहा है। एक और ग़ौर करने वाली बात यह है कि आज के हिट-जॉब विशेषज्ञ अख़बारों और मामले को बिना समझे कुछ भी आक्षेप लगाने वाले नेता राजग सरकार द्वारा फाइनल की गई राफेल डील की तुलना उस डील से कर रहे हैं, जो कभी मूर्त रूप ले ही न सकी। यूपीए काल के दौरान ये डील ‘नेगोशिएशन स्टेज’ में थी जिस पर काफ़ी सुस्त काम हो रहा था। मोदी सरकार ने सारी प्रकिया पूर्ण कर इसे मूर्त रूप प्रदान किया। इस तरह एक अपूर्ण डील से एक पूर्ण डील की तुलना की जा रही है।

कर के दिखाना सबसे मुश्किल कार्य होता है

बहुत आसान होता है किसी ऐसी चीज से तुलना करना, जो कभी अस्तित्व में भी न आई हो। ‘तुमने ऐसा किया, लेकिन मैंने तो वैसा कर दिया था’, ”तुमने इत्ते रुपए ख़र्च कर दिए, मैं तो बस इतने ही ख़र्च करने वाला था।’- यह सब बोल कर डींगें हाँकना बड़ा आसान है। मुश्किल है कर के दिखाना, जो राजग सरकार ने किया। उस समय धन की कमी की बात कहने वाले एंटोनी आज देरी पर राष्ट्रहित का बहाना मार रहे हैं। आपने देरी की तो राष्ट्रहित हो गया, किसी ने उसे पूरा कर दिया तो वो राष्ट्रविरोधी हो गया। वाह रे कॉन्ग्रेसी लॉजिक।

कॉन्ग्रेस ने मीडिया के एक वर्ग से लेकर अन्य सत्तालोलुप विपक्षी पार्टियों तक- सबको राफेल के रूप में एक ऐसा हथियार थमा दिया है, जो राष्ट्रीय सुरक्षा जैसे संवेदनशील मामले के साथ खिलवाड़ है। मीडिया लगातार हिटजॉब में संलग्न है और रक्षा मंत्रालय के काग़ज़ात चुराए जा रहे हैं। नेतागण न्यायपालिका को ही बुरा-भला कह रहे हैं। कैग सहित अन्य संवैधानिक संस्थाओं की रिपोर्ट्स की धज्जियाँ उड़ाई जा रही है। यह सबकुछ सिर्फ़ और सिर्फ़ राफेल विमान सौदे के राजनीतिकरण के कारण हो रहा है, जिसकी जिम्मेदार कॉन्ग्रेस है।

सबसे बड़ा विरोधाभास यहीं प्रकट होता है। कॉन्ग्रेस द्वारा राफेल सौदे पर आक्षेप लगाने का आधार है कि नरेंद्र मोदी ने कॉन्ग्रेस सरकार द्वारा नेगोशिएट की गई डील को बदल दिया। उन्होंने विमानों की संख्या घटा दी और प्रति राफेल विमान ज्यादा दाम दिए। एंटोनी का कहना है कि उन्होंने जान-बूझ कर राष्ट्रहित में डील में देरी की। जब डील में देरी हो रही थी तो कॉन्ग्रेस का ये आरोप कहाँ तक सही है कि उसे बदल दिया गया? उसी यूपीए सरकार ने वित्तीय संकट का बहाना मार कर राफेल सौदे को अगले वित्त वर्ष के लिए टाल दिया था और आज वही कॉन्ग्रेस विपक्ष में बैठ कर डील को बदल देने के आरोप मढ़ रही है।

अब सौदों में कोई मामा-फूफा दलाल शामिल नहीं होता

क्या कॉन्ग्रेस को इस बात की चिंता सता रही है कि राफेल सौदे में पार्टी के प्रथम परिवार से जुड़ा कोई मामा या फूफा नहीं शामिल नहीं है? क्या दलालों के बिना सौदे का सफलतापूर्वक संपन्न हो जाना पार्टी को अखर रहा है? जहाँ दुनिया भर के देश रक्षा जैसे संवेदनशील मुद्दों पर सरकार और सेना के साथ खड़े होते हैं, यहाँ एक महत्वकांक्षी रक्षा सौदे को ही राजनीति में घसीट लाया गया।

ऐसे कई प्रोजेक्ट्स हैं जिसे कॉन्ग्रेस द्वारा शुरू किया गया था लेकिन उसे मोदी सरकार के सत्ता संभालने के बाद ही पूरा किया जा सका। इसमें से कुछ प्रोजेक्ट्स तो ऐसे हैं जिन्हे नेहरू के प्रधानमंत्री रहते शिलान्यास किया गया था (जैसे- नर्मदा डैम)। उसे पूरा होने में पाँच दशक से भी अधिक लगे। क्या समय के साथ उनकी बनावट और योजना के स्वरूप में बदलाव नहीं आता? सालों से नेगोशिएट हो रही राफेल डील में अगर कुछ बदलाव कर उसे पूर्ण किया गया है तो इसमें दिक्कत क्या है? सितम्बर 2018 में मिन्हाज मर्चेंट के एक लेख में इस बारे में विस्तृत रूप में बताया गया था।

कौन है संजय भंडारी? कहाँ है वो?

इस लेख में उन्होंने बताया था कि कैसे रॉबर्ट वाड्रा से जुड़ी एक कम्पनी ने 2012 में राफेल ऑफसेट करार के लिए आवेदन दिया था। दसौं ने उसे अयोग्य पाया और रिजेक्ट कर दिया। क्या एंटोनी बताएँगे कि उस कम्पनी का मालिक संजय भंडारी आज कहाँ छिपा हुआ है? दरअसल, वह अब एक भगोड़ा है जिसकी तलाश भारतीय एजेंसियों को है। ऐसे लोगों के इस करार में शामिल न हो पाने से कॉन्ग्रेस बेचैन है। उसके हाथ से 2जी, कोलगेट, कॉमनवेल्थ की तरह एक और सोने की चिड़िया हाथ लग सकती थी लेकिन सत्ता परिवर्तन ने उन्हें हिला कर रख दिया है।

हमारी देरी राष्ट्रहित और आपकी गति भी राष्ट्रविरोधी! केरल के मुख्यमंत्री रहे एके एंटोनी को अक्सर कॉन्ग्रेस के ईमानदार नेताओं में से एक माना जाता है। वैसे ईमानदार, डॉक्टर मनमोहन सिंह भी रहे। अगर किसी मुद्दे को झूठ के आधार पर जबरदस्ती घसते रहने से वह घोटाला बन जाता है तो कॉन्ग्रेस को यह प्रयोग मुबारक। इस चक्कर में सरकार को घेरने के लिए जो असली ज़मीनी मुद्दे हैं, उनसे वो दूर होते जा रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मानसिक रूप से विक्षिप्त महिला राहुल गाँधी से करना चाहती थी शादी, एयरपोर्ट पर पुलिस ने रोका

इंदौर के देवी अहिल्याबाई होल्कर एयरपोर्ट पर एक महिला ने खूब हंगामा किया। उसका कहना था कि उसे राहुल गाँधी से शादी करने दिल्ली जाना है।

पैंट की चेन खोल 5 साल की बच्ची का हाथ पकड़ना यौन शोषण नहीं: ‘स्किन टू स्किन’ जजमेंट के बाद बॉम्बे HC का फैसला

स्तन दबाने के मामले में ‘स्किन टू स्किन’ जजमेंट सुनाने के बाद अब बताया गया है कि यदि किसी नाबालिग के सामने कोई पैंट की जिप खोल दे, तो वो...

मैंने राज खोले तो भागने का रास्ता नहीं मिलेगा: आधी रात फेसबुक लाइव से दीप सिद्धू ने ‘घमंडी किसान’ नेताओं को दी धमकी

गद्दार कहे जाने से नाराज दीप सिद्धू ने किसान नेताओं को चेतावनी दी कि अगर उन्होंने अंदर की बातें खोलनी शुरू कर दी तो इन नेताओं को भागने की राह नहीं मिलेगी।

जेल में ही रहेगा मुनव्वर फारुखी, हाई कोर्ट से जमानत याचिका खारिज: कॉमेडी के नाम पर हिंदू देवी-देवताओं को देता था गाली

हिंदू देवी-देवताओं पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाला मुनव्वर फारुखी अभी कुछ और दिन जेल में रहेगा। हाईकोर्ट ने उसकी जमानत...

व्यंग्य: गेहूँ काटते किसान को फोटो एडिट कर दिखाया बैरिकेड पर, शर्म करो गोदी मीडिया!

एक पुलिसकर्मी शरबत पिलाने और लंगर खिलाने के बाद 'अन्नदाताओं' को धन्यवाद दे रहा है। लेकिन गोदी मीडिया ने उन्हें दंगाई बता दिया।

श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए योगी आदित्यनाथ ने गोरखनाथ मंदिर की ओर से दान किए ₹1 करोड़, 1 लाख

योगी आदित्यनाथ ने गोरखनाथ मंदिर की ओर से श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए 1 करोड़, 1 लाख रुपए अयोध्या श्रीराम जन्मभूमि निर्माण निधि समर्पण के रूप में दान किए।

प्रचलित ख़बरें

लाइव TV में दिख गया सच तो NDTV ने यूट्यूब वीडियो में की एडिटिंग, दंगाइयों के कुकर्म पर रवीश की लीपा-पोती

हर जगह 'किसानों' की थू-थू हो रही, लेकिन NDTV के रवीश कुमार अब भी हिंसक तत्वों के कुकर्मों पर लीपा-पोती करके उसे ढकने की कोशिशों में लगे हैं।

तेज रफ्तार ट्रैक्टर से मरा ‘किसान’, राजदीप ने कहा- पुलिस की गोली से हुई मौत, फिर ट्वीट किया डिलीट

राजदीप सरदेसाई ने तिरंगे में लिपटी मृतक की लाश की तस्वीर अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर करते हुए लिखा कि इसकी मौत पुलिस की गोली से हुई है।

व्यंग्य: गेहूँ काटते किसान को फोटो एडिट कर दिखाया बैरिकेड पर, शर्म करो गोदी मीडिया!

एक पुलिसकर्मी शरबत पिलाने और लंगर खिलाने के बाद 'अन्नदाताओं' को धन्यवाद दे रहा है। लेकिन गोदी मीडिया ने उन्हें दंगाई बता दिया।

UP पुलिस ने शांतिपूर्ण तरीके से हटाया ‘किसान’ प्रदर्शनकारियों को, लोग कह रहे – बिजली काट मार-मार कर भगाया

नेशनल हाईवे अथॉरिटी के निवेदन पर बागपत प्रशासन ने किसान प्रदर्शकारियों को विरोध स्थल से हटाते हुए धरनास्थल को शांतिपूर्ण तरीके से खाली करवा दिया है।

महिला पुलिस कॉन्स्टेबल को जबरन घेर कर कोने में ले गए ‘अन्नदाता’, किया दुर्व्यवहार: एक अन्य जवान हुआ बेहोश

महिला पुलिस को किसान प्रदर्शनकारी चारों ओर से घेरे हुए थे। कोने में ले जाकर महिला कॉन्स्टेबल के साथ दुर्व्यवहार किया गया।

हिंदुओं को धमकी देने वाले के अब्बा, मोदी को 420 कहने वाले मौलाना और कॉन्ग्रेस नेता: ‘लोकतंत्र की हत्या’ गैंग के मुँह पर 3...

पद्म पुरस्कारों में 3 नाम ऐसे हैं, जो ध्यान खींच रहे- मौलाना वहीदुद्दीन खान (पद्म विभूषण), तरुण गोगोई (पद्म भूषण) और कल्बे सादिक (पद्म भूषण)।
- विज्ञापन -

 

इस्लामी देश में टॉपलेस फोटो खिंचवाने पर प्लेबॉय मॉडल को धमकी, लोगों ने पूछा- क्यों नहीं किया अरेस्ट

लोगों की आलोचनाओं से घिरी ल्युआना सैंडियन ने उनके ऊपर लगे सारे आरोपों को खंडन किया है। ल्युआना का कहना है कि उनका उद्देश्‍य किसी को आहत करना नहीं था।

मानसिक रूप से विक्षिप्त महिला राहुल गाँधी से करना चाहती थी शादी, एयरपोर्ट पर पुलिस ने रोका

इंदौर के देवी अहिल्याबाई होल्कर एयरपोर्ट पर एक महिला ने खूब हंगामा किया। उसका कहना था कि उसे राहुल गाँधी से शादी करने दिल्ली जाना है।

केजरीवाल सरकार दिल्ली दंगो के आरोपितों को बचा रही, जमानत के लिए छिपाई जानकारी: दिल्ली पुलिस

याचिका में दिल्ली पुलिस ने आरोप लगाया कि दिल्ली की केजरीवाल सरकार के वकील ने खुफ़िया एजेंसियों को धोखे में रखा और सही जानकारी को रोके रखा।

पैंट की चेन खोल 5 साल की बच्ची का हाथ पकड़ना यौन शोषण नहीं: ‘स्किन टू स्किन’ जजमेंट के बाद बॉम्बे HC का फैसला

स्तन दबाने के मामले में ‘स्किन टू स्किन’ जजमेंट सुनाने के बाद अब बताया गया है कि यदि किसी नाबालिग के सामने कोई पैंट की जिप खोल दे, तो वो...

‘अयोध्या की मस्जिद में नमाज पढ़ना हराम, चंदा देना हराम… इस्लाम के सभी उलेमाओं ने बताया हराम’

AIMIM के ओवैसी ने अयोध्या की मस्जिद पर बयान दिया। उनका कहना है कि यह ‘मस्जिद-ए-ज़ीरार’ है और उसमें नमाज़ पढ़ना हराम है।

मैंने राज खोले तो भागने का रास्ता नहीं मिलेगा: आधी रात फेसबुक लाइव से दीप सिद्धू ने ‘घमंडी किसान’ नेताओं को दी धमकी

गद्दार कहे जाने से नाराज दीप सिद्धू ने किसान नेताओं को चेतावनी दी कि अगर उन्होंने अंदर की बातें खोलनी शुरू कर दी तो इन नेताओं को भागने की राह नहीं मिलेगी।

जेल में ही रहेगा मुनव्वर फारुखी, हाई कोर्ट से जमानत याचिका खारिज: कॉमेडी के नाम पर हिंदू देवी-देवताओं को देता था गाली

हिंदू देवी-देवताओं पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाला मुनव्वर फारुखी अभी कुछ और दिन जेल में रहेगा। हाईकोर्ट ने उसकी जमानत...

16 साल की लड़की का ‘रेप’, शादी का ऑफर और निकाहशुदा अपराधी को बेल क्योंकि उसके मजहब में…

25 वर्षीय निकाहशुदा आरोपित की रिहाई की माँग करते हुए उसके वकील ने अदालत के सामने कहा, "आरोपित के मज़हब में एक से ज़्यादा निकाह..."

व्यंग्य: गेहूँ काटते किसान को फोटो एडिट कर दिखाया बैरिकेड पर, शर्म करो गोदी मीडिया!

एक पुलिसकर्मी शरबत पिलाने और लंगर खिलाने के बाद 'अन्नदाताओं' को धन्यवाद दे रहा है। लेकिन गोदी मीडिया ने उन्हें दंगाई बता दिया।

मुंबई कर्नाटक का हिस्सा, महाराष्ट्र से काट कर केंद्र शासित प्रदेश घोषित किया जाए: गरमाई मराठी-कन्नड़ राजनीति

"मुंबई कर्नाटक का हिस्सा है। कर्नाटक के लोगों का मानना है कि मुंबई लंबे समय तक कर्नाटक में रही है, इसलिए मुंबई पर उनका अधिकार है।"

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
387,000SubscribersSubscribe