Monday, November 30, 2020
Home विचार मीडिया हलचल कभी PPE किट की कमी तो कभी वेंटिलेटर्स में खोट: जानिए कैसे मीडिया गिरोह...

कभी PPE किट की कमी तो कभी वेंटिलेटर्स में खोट: जानिए कैसे मीडिया गिरोह ने चीन के लिए की खुलेआम बैटिंग

चीन का गुणगान करने वालों को अब ज्ञात होना चाहिए कि वहाँ 12 करोड़ को दोबारा लॉकडाउन में डाल दिया गया है। आखिर जिस देश से सीमा पर भी हमारे रिश्ते तनावपूर्ण ही रहे हैं, उसका गुणगान करने के लिए हमारा मीडिया बेचैन क्यों है? इसमें कहीं उनका कुछ व्यक्तिगत फायदा तो नहीं?

भारत में मीडिया के एक खास वर्ग का चलन है कि वो पहले किसी चीज में कमी निकालता है और बाद में पता चलता है कि उस कमी को (अगर है तो) दूर कर लिया गया है तो वो कहने लगता है कि ये ऐसे नहीं बल्कि वैसे होना चाहिए था। भारत में कोरोना वायरस से निपटने के उपायों पर चर्चा करें तो रवीश कुमार सरीखे पत्रकारों ने यही काम किया है। हर चीज में कमी निकालना, सरकार को बदनाम करना और असली दोषी चीन का बचाव करना।

जब कोरोना वायरस का संक्रमण शुरू हुआ था, तब मीडिया के एक ख़ास जमात ने टेस्टिंग किट की कमी का हल्ला मचाना शुरू कर दिया था। बताया गया कि 25 करोड़ लोग बीमार होने वाले हैं। ये सब इसीलिए, ताकि सरकार पर दबाव बने और वो विदेश से टेस्टिंग किट ख़रीदे। टेस्टिंग किट बस एक ही देश बेच रहा था और वो था चीन। रैपिड टेस्टिंग किट का थोड़ा बहुत इंपोर्ट चीन से हुआ, उसमें भी ज़्यादातर ख़राब निकले।

अभी रोज़ क़रीब 1 लाख टेस्ट हो रहे हैं और ज़्यादातर टेस्टिंग किट भारतीय कंपनियाँ बना रही हैं। चीन का माल नहीं बिक पाया। मीडिया गिरोह का दुष्प्रचार फेल हो गया। फिर वेंटिलेटर का शोर मचाया गया। ऐसा लगा मानो इसके बिना आफ़त आ जाएगी। बताया गया कि देश में सिर्फ़ 45 हज़ार वेंटिलेटर है और मई तक 10 लाख चाहिए। इतने वेंटिलेटर सिर्फ़ चीन ने पहले से बनाकर रखे हैं। वो भी डबल रेट यानी भारतीय रुपये के हिसाब से एक क़रीब 10 लाख का।

जो देसी कंपनियाँ कल तक मशीनरी टूल्स बनाती थीं, उन्होंने वेंटिलेटर बनाना शुरू कर दिया। राजकोट की कंपनी ने 1 लाख रुपए का बेसिक वेंटिलेटर बनाकर लॉन्च भी कर दिया। पहले 100 सरकार को फ़्री में दिए। कहा कि कुछ पार्ट्स जापान से आने हैं, उसके बाद इसे उन्हें अपग्रेड कर दिया जाएगा। मारुति, ह्यूंडई और महिंद्रा जैसी कार कंपनियाँ भी वेंटिलेटर बनाने लगीं। अब ‘अहमदाबाद मिरर’ में छपवाया गया कि राजकोट की कंपनी का वेंटिलेटर नक़ली है।

इसी बहाने ‘मेक इन इंडिया’ और ‘आत्मनिर्भर भारत’ की खिल्ली उड़ाई गई। जबकि वो फ़ौरन ज़रूरत के लिए बेसिक मॉडल था, जिसे कंपनी अपग्रेड कर रही है। भारतीय मीडिया जिस वेंटिलेटर को नक़ली बता रही है, उसे स्पेन और कुछ यूरोपीय देशों से ऑर्डर मिलने शुरू हो चुके हैं। वैसे इन चीजों का मजाक बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। राहुल गाँधी सरीखे नेता पहले भी ‘मेक इन इंडिया’ का मजाक बनाते रहे हैं।

अभी की ज़रूरत के हिसाब से वेंटिलेटर की थोड़ी कमी पैदा हुई तो अमेरिका ने 200 मुफ़्त में दे दिए। अब भारतीय मीडिया में चीन के सेल्समैनों ने शोर मचाया कि अमेरिका फ़्री में नहीं दे रहा बल्कि 20 करोड़ रुपए ले रहा है। मात्र दो महीने में भारत पीपीई किट का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक बन गया। तो अब पीपीई किट की क्वालिटी को लेकर बाजा बजने लगा कि वो चावल की बोरी जैसे हैं। जबकि ये वो किट हैं, जो शुरू में बने थे।

बता दें कि अपनी आदत के मुताबिक़ हमेशा नकारात्मक और विपरीत दिशा में बात करने वाले रवीश कुमार ने प्राइम टाइम में बैठ कर अपने कार्यक्रम में चीन का स्तुति गान किया। जिस वायरस की बात पर आज सारा विश्व चीन पर उँगली उठा रहा है, उस वायरस पर रवीश जी चीन को क्लीन चिट भी दे रहे हैं और कुछ विजुअल्स भी दिखा रहे की देखिए सब कुछ सामान्य है यहाँ। उन्होंने चीन को ‘निर्दोष और बेचारा’ साबित करने के लिए पूरा जोर लगा दिया।

रवीश ने 2 बार प्राइम टाइम कर के चीन का बचाव किया। एक बार 20 अप्रैल को और एक बार 24 अप्रैल को, जिसकी चर्चा हमने ऊपर की है। उन्होंने चीनी राजदूत के ट्वीट की व्याख्या करते हुए उसे ‘महान’ साबित करने का प्रयास किया। उन्होंने दावा किया कि मीडिया के पास ख़बरों का अकाल है और उन्हें कोई दुश्मन चाहिए, इसीलिए चीन को चुन लिया गया। इस बेहूदे लॉजिक के साथ रवीश ने चीन का बचाव किया था।

हाल ही में एक खबर आई थी कि चीन अब हर देश में अपने मेकओवर पर जुट गया है। इसके तहत ऐसे मीडिया संस्थानों को चिह्नित किया जा रहा है, जो उसके खिलाफ लिखते हैं। उन्हें किसी तरह हैंडल किया जा रहा है। साथ ही हर देश में चीन ने कुछ पत्रकारों और मीडिया संस्थानों को सिर्फ इसीलिए हायर किया है, ताकि वो उसके बारे में सकारात्मक बातें लिख-लिख कर उसका महिमामंडन कर सकें। रवीश ऐसा क्यों कर रहे हैं, ये अंदाज़ा आप खुद लगाइए।

भारत में अब पीपीई किट उसी स्टैंडर्ड से बन रहे हैं, जिससे दुनिया के दूसरे देशों में बनते हैं। इस मामले में भी चीन को बहुत नुक़सान हुआ है। ये तीनों मामले बताते हैं कि भारतीय मीडिया में चीन के सेल्समैन कोशिश तो बहुत कर रहे हैं लेकिन कुछ ख़ास कर नहीं पा रहे। आखिर जिस देश से सीमा पर भी हमारे रिश्ते तनावपूर्ण ही रहे हैं, उसका गुणगान करने के लिए हमारा मीडिया बेचैन क्यों है? इसमें कहीं उनका कुछ व्यक्तिगत फायदा तो नहीं?

बकौल रवीश कुमार, जिन्होंने पूरा 2020 पहले ‘टेस्टिंग नहीं हो रहे’, फिर ‘वेंटिलेटर नहीं है’, ‘पीपीई किट नहीं मिल रहे’ का शोर करने में एक तिहाई से ज़्यादा साल तो निकाल ही दिया, लेकिन उनका एक प्रोपेगेंडा नहीं चल पाया। न तो भारत में ऐसे ‘शर्तिया इलाज’ बेचने वाले पत्रकारों को अब कोई सुनता है, न ही इनके बिकाऊ अजेंडे में कोई तथ्य दिखता है। जिस हिसाब के आँकड़े ये दे रहे थे कि भारत अब तबाह हो जाएगा, वैसा कुछ नहीं हुआ और लाख जतन करने के बाद भी चीन की थू-थू जारी है।

साथ ही, चीन का गुणगान करने वालों को अब ज्ञात होना चाहिए कि वहाँ 12 करोड़ को दोबारा लॉकडाउन में डाल दिया गया है। 20 अप्रैल को रवीश प्राइम टाइम में पूरी तरह से चीन की बैटिंग करते नजर आए कि दुनिया ‘चायना बैशिंग थ्योरी’ पर चल रही है जबकि चीन ने तो ये कर दिया, वो कर दिया। रवीश ने यहाँ तक कहा कि खबरों के अकाल के कारण चीन पर निशाने साधे जा रहे हैं और ऐसे समय में सरकार अपनी नाकामियों को छुपाने के लिए चीन के नाम का दुश्मन जनता को देना चाहती है।

चीन को बचाने के लिए रवीश की ‘बकैती’

रवीश ने अपने प्राइम टाइम में चीन को न सिर्फ मासूम और दयनीय हालत को झेलने वाला बताया बल्कि उसे सबसे सक्षम महामानव भी कहा। रवीश के गैंग में से एक कथित वैश्विक एक्स्पर्ट न केवल वुहान से वायरस फैलने को सम्भावना कह रहे हैं बल्कि वुहान से 1100 किलोमीटर उत्तर में बसे बीजिंग की क्लिप दिखाकर वो स्थिति को सामान्य बता रहे। इसी तरह उन्होंने चीन को क्लीन-चिट देने के लिए एड़ी-चोटी एक की।

सवाल यह है कि भारत को कब ऐसी जरूरत पड़ गई? अगर भारत की हालत खराब होनी होती तो चार महीने की ‘बेकार व्यवस्था’ एक लम्बा समय है। आखिर, भारत बर्बाद क्यों नहीं हो गया? वो इसलिए कि भारत का प्रारब्ध रवीश कुमार की फेसबुक के हिसाब से नहीं चलता। भारत ने फरवरी के पहले सप्ताह से तमाम बचाव के प्रयास किए, घेराबंदी शुरू की, लॉकडाउन लगाया और काफी हद तक बीमारी के तीसरे चरण ‘कम्यूनिटी फैलाव’ को नियंत्रित रखने में सफलता पाई।

ये मीडिया का वही वर्ग है, जो चाहता था कि यहाँ ज्यादा से ज्यादा लाशें गिरे, ताकि उसे सरकार को कोसने का एक बढ़िया मौक़ा मिले। लेकिन, ऐसा नहीं हुआ। कोरोना के मृत्यु दर का मामला हो या फिर इससे निपटने के लिए हुई तैयारियों का, मीडिया द्वारा बदनाम किए जाने की लाख कोशिशों के बावजूद भारत सरकार ने अपनी ओर से पूरा प्रयास किया। आर्थिक पैकेज को लेकर भी हंगामा मचाया गया, बाद में यही लोग पूछने लगे कि पैसा कहाँ से आएगा?

(ये पोस्ट चन्द्र प्रकाश के फेसबुक पोस्ट से प्रेरित है)

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसान कहीं भी डायरेक्ट बेचे Vs किसान खेत के बाहर कैसे बेचेगा: 6 साल में वीडियो से समझें राहुल गाँधी की हालत

अप्रैल 2014 में राहुल गाँधी ने 'नेटवर्क 18' के अशीत कुणाल के साथ इंटरव्यू में कृषि और किसान पर बात की थी। आज वो कृषि कानून के विरोध में हैं।

गोलियों से भूना, मन नहीं भरा तो बम विस्फोट किया: 32 परिवारों के खून से अबोहर में खालिस्तानियों ने खेली थी होली

पूरी घटना में 22 लोग मौके पर खत्म हो गए, 10 ने अस्पताल में दम तोड़ा, कइयों ने पसलियाँ गँवा दीं, कुछ की अंतड़ियाँ बाहर आ गईं, किसी के पाँव...

केरल का सिंह, जिससे काँपते थे टीपू और ब्रिटिश: अंग्रेजों ने बताया स्वाभाविक सरदार, इतिहासकारों ने नेपोलियन से की तुलना

केरल में उन्हें सिंह कहा जाता है। इतिहासकार उनकी तुलना नेपोलियन से करते हैं। दुश्मन अंग्रेजों ने उन्हें 'स्वाभाविक नेता' बताया। मैसूर की इस्लामी सत्ता उनसे काँपती थी।

जिस गर्भवती महिला के पेट में लात मारी थी वामपंथी नेता ने, अब वो BJP के टिकट पर लड़ रहीं चुनाव

ज्योत्स्ना जोस ने बीच-बचाव करना चाहा तो उनके हाथ बाँध दिए गए और मारने को कहा गया। उनके पेट पर हमला करने वालों में एक CPIM नेता...

जो बायडेन की टीम में एक और भारतीय: नीरा टंडन को बजट प्रबंधन की जिम्मेदारी मिलनी तय, बनेंगी OMB की निदेशक

प्रशासन के बजट का पूरा प्रबंधन OMB ही देखता है। 50 वर्षीय नीरा टंडन इस पद को संभालने वाली पहली महिला होंगी। जो बायडेन जल्द करेंगे घोषणा।

बेटी हुई तो भी छोड़ा, बेटा के बाद भी छोड़ा… फिर तलाक भी फाइल किया: वाजिद खान की पारसी बीवी का दर्द

वाजिद की माँ के दबाव का असर उनके रिश्ते पर ऐसा पड़ा कि आर्शी (उनकी बेटी) जब ढाई तीन साल की थी, तब वाजिद घर छोड़ गए और...

प्रचलित ख़बरें

दिवंगत वाजिद खान की पत्नी ने अंतर-धार्मिक विवाह की अपनी पीड़ा पर लिखा पोस्ट, कहा- धर्मांतरण विरोधी कानून का राष्ट्रीयकरण होना चाहिए

कमलरुख ने खुलासा किया कि कैसे इस्लाम में परिवर्तित होने के उनके प्रतिरोध ने उनके और उनके दिवंगत पति के बीच की खाई को बढ़ा दिया।

‘बीवी सेक्स से मना नहीं कर सकती’: इस्लाम में वैवाहिक रेप और यौन गुलामी जायज, मौलवी शब्बीर का Video वायरल

सोशल मीडिया में कनाडा के इमाम शब्बीर अली का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें इस्लाम का हवाला देते हुए वह वैवाहिक रेप को सही ठहराते हुए देखा जा सकता है।

‘जय हिन्द नहीं… भारत माता भी नहीं, इंदिरा जैसा सबक मोदी को भी सिखाएँगे’ – अमानतुल्लाह के साथ प्रदर्शनकारियों की धमकी

जब 'किसान आंदोलन' के नाम पर प्रदर्शनकारी द्वारा बयान दिए जा रहे थे, तब आम आदमी पार्टी (AAP) के विधायक अमानतुल्लाह खान वहीं पर मौजूद थे।

मंदिर में जबरन घुस गया मंजूर अली, देवी-देवताओं और पुजारियों को गाली देते हुए किया Facebook Live

मंदिर के पुजारियों और वहाँ मौजूद लोगों ने मंजूर अली को रोकने का प्रयास किया, तब उसने उन लोगों से भी गाली गलौच शुरू कर दिया और...

दिल्ली दंगों के दौरान मुस्लिमों को भड़काने वाला संगठन ‘किसान’ प्रदर्शनकारियों को पहुँचा रहा भोजन: 25 मस्जिद काम में लगे

UAH के मुखिया नदीम खान ने कहा कि मोदी सरकार के खिलाफ आंदोलन कर रहे लोगों को मदद पहुँचाने के लिए हरसंभव प्रयास किया जा रहा है।

साग खोंट रही दलित ‘प्रीति साहनी’ को अपने पास बुलाया, फिर गला रेत मार डाला: सैयद को UP पुलिस ने किया अरेस्ट

उत्तर प्रदेश के बलिया में अपने ननिहाल गई दलित समुदाय की एक युवती की मुस्लिम समुदाय के एक युवक सैयद ने हत्या कर दी। आरोपित हुआ गिरफ्तार।

हैदराबाद चुनावों से पहले ओवैसी ने खुद को बताया ‘लैला’, बिहार चुनावों के बाद कहा था- फँस गई रजिया गुंडो में

हैदराबाद निकाय चुनावों से पहले असदुद्दीन ओवैसी ने अजीबोगरीब बयान देते हुए खुद को कई मजनू से घिरी लैला बताया है।

AAP की कैंडिडेट या पानी की बोतल: हैदराबाद निकाय चुनावों में आसरा फातिमा की बुर्के वाली पोस्टर वायरल

हैदराबाद निकाय चुनाव में AAP की उम्मीदवार आसरा फातिमा का एक पोस्टर सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इसमें वह पहचान में ही नहीं आ रहीं।

गाने पर मेरे समुदाय के लोग मुझे दुत्कारते थे: सितारा परवीन ने इंडियन आइडल में बताया, खानदान के लोगों ने भी नहीं दिया साथ

बिहार के एक छोटे से गाँव से आई इंडियन आइडल की सितारा परवीन ने अपने संघर्षों पर बात करते हुए बताया है कि कैसे उन्हें समुदाय का विरोध झेलना पड़ा।

किसान कहीं भी डायरेक्ट बेचे Vs किसान खेत के बाहर कैसे बेचेगा: 6 साल में वीडियो से समझें राहुल गाँधी की हालत

अप्रैल 2014 में राहुल गाँधी ने 'नेटवर्क 18' के अशीत कुणाल के साथ इंटरव्यू में कृषि और किसान पर बात की थी। आज वो कृषि कानून के विरोध में हैं।

13 साल की बच्ची, 65 साल का इमाम: मस्जिद में मजहबी शिक्षा की क्लास, किताब के बहाने टॉयलेट में रेप

13 साल की बच्ची मजहबी क्लास में हिस्सा लेने मस्जिद गई थी, जब इमाम ने उसके साथ टॉयलेट में रेप किया।

गोलियों से भूना, मन नहीं भरा तो बम विस्फोट किया: 32 परिवारों के खून से अबोहर में खालिस्तानियों ने खेली थी होली

पूरी घटना में 22 लोग मौके पर खत्म हो गए, 10 ने अस्पताल में दम तोड़ा, कइयों ने पसलियाँ गँवा दीं, कुछ की अंतड़ियाँ बाहर आ गईं, किसी के पाँव...

‘हिंदू लड़की को गर्भवती करने से 10 बार मदीना जाने का सवाब मिलता है’: कुणाल बन ताहिर ने की शादी, फिर लात मार गर्भ...

“मुझे तुमसे शादी नहीं करनी थी। मेरा मजहब लव जिहाद में विश्वास रखता है, शादी में नहीं। एक हिंदू को गर्भवती करने से हमें दस बार मदीना शरीफ जाने का सवाब मिलता है।”

जब कंगना ने खोज निकाला ‘रनौत’ की कुलदेवी का 1200 वर्ष प्राचीन मंदिर, पैतृक गाँव में की स्थापना

कंगना रनौत ने बताया कि जब वे फिल्मों में आईं और देश-विदेश में यात्राएँ करने लगीं, तो उनकी माँ ने उनसे कहा कुलदेवी की तलाश करने को कहा।

केरल का सिंह, जिससे काँपते थे टीपू और ब्रिटिश: अंग्रेजों ने बताया स्वाभाविक सरदार, इतिहासकारों ने नेपोलियन से की तुलना

केरल में उन्हें सिंह कहा जाता है। इतिहासकार उनकी तुलना नेपोलियन से करते हैं। दुश्मन अंग्रेजों ने उन्हें 'स्वाभाविक नेता' बताया। मैसूर की इस्लामी सत्ता उनसे काँपती थी।

जिस गर्भवती महिला के पेट में लात मारी थी वामपंथी नेता ने, अब वो BJP के टिकट पर लड़ रहीं चुनाव

ज्योत्स्ना जोस ने बीच-बचाव करना चाहा तो उनके हाथ बाँध दिए गए और मारने को कहा गया। उनके पेट पर हमला करने वालों में एक CPIM नेता...

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,493FollowersFollow
358,000SubscribersSubscribe