Monday, September 21, 2020
Home बड़ी ख़बर कश्मीर में जिहाद को रोकने के लिए अपनाने होंगे 'out of the box' विकल्प

कश्मीर में जिहाद को रोकने के लिए अपनाने होंगे ‘out of the box’ विकल्प

विस्फोटक भरे वाहन टकरा देने की टैक्टिक भले ही डेढ़ दशक पुरानी हो चुकी लेकिन इसका अर्थ यह नहीं कि उसकी पुनरावृत्ति नहीं हो सकती।

पुलवामा में CRPF के काफिले से 350 किलो विस्फोटक से लदे एक वाहन को टकरा कर 40 से अधिक जवानों की प्राण लेकर जिहादियों ने पुनः अपने इरादे स्पष्ट कर दिए हैं। हालाँकि ऐसी वारदातें पहले भी विदेशों में हो चुकी हैं लेकिन उन्हें ‘Lone Wolves’ कहकर भुला दिया गया है। ऐसे ‘लोन वुल्फ’ या अकेले छुट्टा भेड़िये आतंकी घटनाओं को अंजाम देने के लिए स्वतः प्रेरित होते हैं। इन्हें प्रेरणा मिलती है सोशल मीडिया और अन्य वेबसाइट पर निरंतर फैलते मज़हबी उन्मादी ज़हर से।

महत्वपूर्ण यह है कि किसी विस्फोटक भरे वाहन को ले जाकर भिड़ा देना, हमला करने का सबसे आसान तरीका होता है और यह पहले में भी कश्मीर में आज़माया जा चुका है। इसे Suicide Vehicle Borne Improvised Explosive Device (SVBIED) का नाम दिया गया है। संदीप उन्नीथन लिखते हैं कि यह तरीका लेबनानी गृह युद्ध में विकसित हुआ था जब अक्टूबर 1983 में बेरूत में इस्लामी जिहादी संगठन ने 241 अमरीकी मरीन सैनिकों की हत्या कर दी थी।

कश्मीर में पाकिस्तान पोषित आतंकवादी इस प्रकार की वारदातों को नब्बे के दशक में और पुनः 2001 से 2005 के बीच भी अंजाम दे चुके हैं। अप्रैल 2003 में जैश-ए-मुहम्मद ने फिदायीन हमले में एक विस्फोटक भरी कार को श्रीनगर में ऑल इंडिया रेडिओ स्टेशन के गेट से टकरा दिया था और वह धमाका इतना तीव्र था कि कार का इंजन कुछ सौ मीटर दूर स्थित एक ब्रॉडकास्टर के दफ्तर में जा कर गिरा था।

इस प्रकार की वारदात एक झटके में अंजाम तो दी जाती हैं लेकिन इसकी तैयारी बहुत पहले से की जाती है। भारी मात्रा में विस्फोटक सामग्री लाना, उसे वाहन पर असेम्बल करना, कई दिन पहले से इलाके की रेकी करना और पूरा प्लान बनाने में अच्छा-खासा समय लगता है। यह स्थानीय सहायता के बिना संभव ही नहीं है।

- विज्ञापन -

आतंकवादियों ने विस्फोटक भरे वाहन से हमला करने की रणनीति करीब डेढ़ दशक पहले से नहीं अपनाई थी। संभवतः इसीलिए सुरक्षा बलों से चूक हुई। वरिष्ठ विशेषज्ञ लेफ्टिनेंट जनरल अता हसनैन (सेवानिवृत्त) लिखते हैं कि ऐसे में गुरुवार की घटना को पूरी तरह से इंटेलिजेंस फेल्योर नहीं कहा जा सकता। लेकिन यह घटना अपने आप में बहुत सारे सवाल खड़े करती है।

पहली बात तो यह कि इंटेलिजेंस का दायरा केवल विभिन्न इंटेलिजेंस एजेंसी के अधिकारियों तक ही क्यों सीमित रहे? कश्मीर की पूरी समस्या ही इंटेलिजेंस जुटाने और उसपर एक्शन लेने से संबंधित है। ज़्यादा मात्रा में मिलने वाली सूचनाएँ या कच्ची जानकारी (raw intelligence) में से कार्रवाई के लायक (actionable intelligence) सूचनाएँ निकालना एक चुनौती होती है। इंटेलिजेंस जुटाने के लिए कश्मीर में विभिन्न एजेंसियाँ दो प्रकार के एजेंट्स का उपयोग करती हैं।    

एक होते हैं डबल एजेंट जो सीमा पार पाकिस्तान के कब्जे वाले अड्डों में घुलमिल जाते हैं। उनसे हमें जो सूचनाएँ मिलती हैं वे अत्यंत गोपनीय होती हैं और दीर्घकालिक परिणाम देने वाली होती हैं। दूसरे होते हैं डुअल (dual) एजेंट जो पैसा लेकर तात्कालिक सूचना देते हैं। ये हमारे देश के इंटेलिजेंस अधिकारी नहीं होते। यदि जिहादी गुटों ने इनको ज्यादा पैसा दिया है तो ये सुरक्षा बलों की जानकारी उनको दे देते हैं। इंटेलिजेंस जुटाने का इस प्रकार का खतरनाक खेल कश्मीर में खेला जाता है।

कुल मिलाकर आतंकियों से लड़ने के लिए हमारी रणनीति आक्रामक (offensive) या प्रतिकारात्मक (counter offensive) होती है। लेकिन असली समस्या बंदूकधारी आतंकवादी नहीं हैं। समस्या है कश्मीर के नागरिकों की आतंकियों से साठ-गाँठ की संभावना। सेना और अन्य सुरक्षा बल इसे समाप्त करने के लिए बहुत सारे काम करते हैं। भारतीय सेना अस्पताल से लेकर स्कूल तक चलाती है। बाढ़ में तो कश्मीरियों को सेना ने अपने कंधों पर ढोया था, फिर भी कश्मीरी युवा बहक जाते हैं। इसका कारण है कि हम अपनी इंटेलिजेंस प्रणाली को सुधारने के लिए ‘आउट ऑफ़ द बॉक्स’ जाकर नहीं सोचते।

जनरल अता हसनैन ने ही एक बार कहा था कि हमें कश्मीर में लगभग 5000 ‘सूचना योद्धा’ अर्थात ‘information warrior’ तैनात करने चाहिए। इनकी आयु 25 से कम होनी चाहिए और इन्हें एक शोध संगठन के अधीन काम करना चाहिए जिसमें कश्मीर मामलों के जानकार, मनोवैज्ञानिक, और इस्लाम के जानकार शामिल हों। अमरीकी सेना ऐसे ‘सूचना-लड़ाकों’ को संवेदनशील इलाकों में तैनात करती है।

अब समय आ गया है कि हम केवल offensive या counter offensive न होकर ‘Subversive Measures’ अपनाएँ। इंटेलिजेंस प्रणाली में बड़े फेरबदल की आवश्यकता है। हमें ऐसे अधिकारी चाहिये जो कश्मीर की आब-ओ -हवा में घुल मिल जाएँ और वहाँ के नागरिकों के अंदर की मज़हबी कट्टरता को ‘dilute’, ‘manipulate’ और अंततः ‘subvert’ करने का कार्य करें। कोई संस्था वहाँ जमीन लेकर प्रवचन देने के लिए आश्रम तो बना नहीं सकती इसलिए यह काम इंटेलिजेंस एजेंसियाँ ही कर सकती हैं।

सबसे पहले इंटेलिजेंस एजेंसियों के बजट में वृद्धि करने की आवश्यकता है। आंतरिक सुरक्षा के लिए वर्ष 2017 में इंटेलिजेंस ब्यूरो का बजट मात्र ₹1577 करोड़ था। एक ऐसी काउंटर इंटेलिजेंस एजेंसी जिसके कंधों पर पूरे देश में आतंकी घटनाओं को रोकने का दारोमदार है और जिसके लिए कश्मीर सबसे बड़ी चुनौती है उसके लिए यह बजट बहुत ही कम है। विभिन्न इंटेलिजेंस एजेंसियों में कश्मीर में सर्वाधिक सक्रिय इंटेलिजेंस ब्यूरो है। लेकिन इन्हें किसी को गिरफ्तार करने का अधिकार प्राप्त नहीं है। ये जम्मू कश्मीर पुलिस, सेना या CRPF को सूचना भर देते हैं जिसके आधार पर कार्रवाई होती है। ऐसे में आईबी को अधिक अधिकार और साधन सम्पन्न करने की आवश्यकता है।

आउट ऑफ़ द बॉक्स विकल्पों में अत्याधुनिक तकनीक जैसे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का प्रयोग भी करना होगा। आधुनिक तकनीक जैसे बिग डेटा एनालिटिक्स की सहायता से आतंकवादी घटनाओं का पूर्वानुमान लगाने के प्रयास पहले भी किये जा चुके हैं। अमरीका की मेरीलैंड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर वी एस सुब्रमण्यन ने ऐसी एल्गोरिदम की खोज की है जिससे उन्होंने इंडियन मुजाहिदीन और लश्कर ए तय्यबा जैसे संगठनों की हरकतों की भविष्यवाणी की थी। वे इसे SOMA और Temporal Probabilistic Rules कहते हैं। इनकी सहायता से प्रोफेसर सुब्रमण्यन ने 2013 में नरेंद्र मोदी की पटना रैली में हुए बम धमाकों की भविष्यवाणी पहले ही कर दी थी।

इस प्रकार के तरीकों का प्रयोग करना आज समय की मांग है। विस्फोटक भरे वाहन टकरा देने की टैक्टिक भले ही डेढ़ दशक पुरानी हो चुकी लेकिन इसका अर्थ यह नहीं कि उसकी पुनरावृत्ति नहीं हो सकती। हमें यह समझना होगा कि कश्मीर में प्रॉक्सी वॉर चरम पर है। इसके कोई लिखित नियम नहीं हैं। सुरक्षा बलों पर हमला कर देश के मनोबल को गिराने का काम कई दशकों से चल रहा है। यह थका देने वाला मनोवैज्ञानिक युद्ध है अतः इससे लड़ने के उपाय भी पारंपरिक नहीं हो सकते।  

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ये लोग मुझे फँसा सकते हैं, मुझे डर लग रहा है, मुझे मार देंगे’: मौत से 5 दिन पहले सुशांत का परिवार को SOS

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार मौत से 5 दिन पहले सुशांत ने अपनी बहन को एसओएस भेजकर जान का खतरा बताया था।

सेना में महिलाओं को नया मोर्चा: नौसेना के युद्धपोत पर पहली बार तैनाती, राफेल भी उड़ाएँगी

राफेल स्क्वाड्रन में अब एक महिला पायलट की भी एंट्री हुई है। वहीं नौसेना ने पहली बार दो महिला अधिकारियों को युद्धपोत पर तैनात किया है।

₹1100 अरब सिर्फ एक साल में, दाऊद का Pak फाइनेंसर अल्ताफ ऐसे करता है आतंक और ड्रग तस्करों की फंडिंग

“अल्ताफ खनानी तालिबान के साथ लेन-देन के मामले में शामिल था। लश्कर-ए-तैय्यबा, दाऊद इब्राहिम, अल कायदा और जैश-ए-मोहम्मद से भी संबंध थे।”

ठुड्डी के बगल में 1.5 इंच छेद, आँख-नाक से खून; हाथ मुड़े: आखिर दिशा सालियान के साथ क्या हुआ था?

दिशा सालियान की मौत को लेकर रोज नए खुलासे हो रहे हैं। अब एंबुलेंस ड्राइवर ने उनके शरीर पर गहरे घाव देखने का दावा किया है।

सिर्फ 194 दिन में बिहार के हर गाँव में फास्ट इंटरनेट, जुड़ेगा ऑप्टिकल फाइबर से, बनेगा देश का पहला ऐसा राज्य

गाँवों में टेली-मेडिसिन के द्वारा जनता को बड़े अस्पतालों के अच्छे डॉक्टरों की सलाह भी मिल सकेगी। छात्र तेज गति इंटरनेट उपलब्ध होने से...

कॉलेज-किताबें सब झूठे, असल में जिहादियों की ‘वंडर वुमन’ बनना चाहती थी कोलकाता की तानिया परवीन

22 साल की तानिया परवीन 70 जिहादी ग्रुप्स का हिस्सा थी। पढ़िए, कैसे बनी वह लश्कर आतंकी। कितने खतरनाक थे उसके इरादे।

प्रचलित ख़बरें

‘उसने अपने C**k को जबरन मेरी Vagina में डालने की कोशिश की’: पायल घोष ने अनुराग कश्यप पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

“अगले दिन उसने मुझे फिर से बुलाया। उन्होंने कहा कि वह मुझसे कुछ चर्चा करना चाहते हैं। मैं उसके यहाँ गई। वह व्हिस्की या स्कॉच पी रहा था। बहुत बदबू आ रही थी। हो सकता है कि वह चरस, गाँजा या ड्रग्स हो, मुझे इसके बारे में कुछ भी पता नहीं है लेकिन मैं बेवकूफ नही हूँ।”

संघी पायल घोष ने जिस थाली में खाया उसी में छेद किया – जया बच्चन

जया बच्चन का कहना है कि अनुराग कश्यप पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाकर पायल घोष ने जिस थाली में खाया, उसी में छेद किया है।

व्हिस्की पिलाते हुए… 7 बार न्यूड सीन: अनुराग कश्यप ने कुबरा सैत को सेक्रेड गेम्स में ऐसे किया यूज

पक्के 'फेमिनिस्ट' अनुराग पर 2018 में भी यौन उत्पीड़न तो नहीं लेकिन बार-बार एक ही तरह का सीन (न्यूड सीन करवाने) करवाने का आरोप लग चुका है।

प्रेगनेंसी टेस्ट की तरह कोरोना जाँच: भारत का ₹500 वाला ‘फेलूदा’ 30 मिनट में बताएगा संक्रमण है या नहीं

दिल्ली की टाटा CSIR लैब ने भारत की सबसे सस्ती कोरोना टेस्ट किट विकसित की है। इसका नाम 'फेलूदा' रखा गया है। इससे मात्र 30 मिनट के भीतर संक्रमण का पता चल सकेगा।

कहाँ गायब हुए अकाउंट्स? सोनू सूद की दरियादिली का उठाया फायदा या फिर था प्रोपेगेंडा का हिस्सा

सोशल मीडिया में एक नई चर्चा के तूल पकड़ने के बाद कई यूजर्स सोनू सूद की मंशा सवाल उठा रहे हैं। कुछ ट्विटर अकाउंट्स अचानक गायब होने पर विवाद है।

जया बच्चन का कुत्ता टॉमी, देश के आम लोगों का कुत्ता कुत्ता: बॉलीवुड सितारों की कहानी

जया बच्चन जी के घर में आइना भी होगा। कभी सजते-संवरते उसमें अपनी आँखों से आँखे मिला कर देखिएगा। हो सकता है कुछ शर्म बाकी हो तो वो आँखों में...

‘ये लोग मुझे फँसा सकते हैं, मुझे डर लग रहा है, मुझे मार देंगे’: मौत से 5 दिन पहले सुशांत का परिवार को SOS

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार मौत से 5 दिन पहले सुशांत ने अपनी बहन को एसओएस भेजकर जान का खतरा बताया था।

ऑपइंडिया का असर: ‘UN लिंक्ड’ संगठन से प्रशंसा-पत्र मिलने वाला ट्वीट TMC ने डिलीट किया

ऑपइंडिया की स्टोरी के बाद, तृणमूल कॉन्ग्रेस ने बंगाल सरकार को मिले प्रशंसा-पत्र वाला ट्वीट चुपके से डिलीट कर दिया है।

‘क्या तुम्हारे पास माल है’: सामने आई बॉलीवुड की टॉप एक्ट्रेस के बीच हुई ड्रग चैट

कुछ बड़े बॉलीवुड सितारों के बीच की ड्रग चैट सामने आई है। इसमें वे खुलकर ड्रग्स के बारे में बात कर रहे हैं।

सेना में महिलाओं को नया मोर्चा: नौसेना के युद्धपोत पर पहली बार तैनाती, राफेल भी उड़ाएँगी

राफेल स्क्वाड्रन में अब एक महिला पायलट की भी एंट्री हुई है। वहीं नौसेना ने पहली बार दो महिला अधिकारियों को युद्धपोत पर तैनात किया है।

₹1100 अरब सिर्फ एक साल में, दाऊद का Pak फाइनेंसर अल्ताफ ऐसे करता है आतंक और ड्रग तस्करों की फंडिंग

“अल्ताफ खनानी तालिबान के साथ लेन-देन के मामले में शामिल था। लश्कर-ए-तैय्यबा, दाऊद इब्राहिम, अल कायदा और जैश-ए-मोहम्मद से भी संबंध थे।”

महाराष्ट्र के धुले से लेकर यूपी के कानपुर तक, किसान ऐसे कर रहे हैं कृषि बिलों का समर्थन

कृषि सुधार बिलों पर कॉन्ग्रेस इकोसिस्टम के प्रोपेगेंडा के बीच देश के अलग-अलग हिस्सों के किसान इसका समर्थन कर रहे हैं।

रोहिणी सिंह, रबी में भी होता है धान: यह PM पर तंज कसने से नहीं, जमीन पर उतरने से पता चलता है

आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के अलावा तमिलनाडु में भी रबी सीजन में बड़े स्तर पर धान की खेती की जाती है। इस साल अक्टूबर-नवंबर में सरकार 75 लाख टन 'रबी राइस' के खरीद की योजना बना रही है।

प्रशांत महासागर में अमेरिकी नौसैनिक बेस पर चीन के H-6 ने बरसाए बम? PLAAF ने जारी किया हमले का नकली Video

चीन ने प्रोपेगेंडा फैलाने के लिए एक नकली वीडियो जारी किया है। इसमें चीनी वायु सेना के परमाणु सक्षम H-6 बॉम्बर्स को प्रशांत महासागर स्थित अमेरिकी नौसैनिक बेस गुआम पर एक बम गिराते दिखाया गया है।

नुसरत जहां की फोटो दिखा लुभा रहा था वीडियो चैट ऐप, TMC सांसद के कंप्लेन पर हरकत में आई पुलिस

टीएमसी सांसद नुसरत जहां ने अपनी तस्वीर के गलत इस्तेमाल को लेकर एक वीडियो चैट ऐप के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई है।

रिया का ड्रग्स कनेक्शन छोटा नहीं, दुबई और आतंकी समूहों से जुड़े हैं तार: NCB प्रमुख राकेश अस्थाना

एनसीबी प्रमुख राकेश अस्थाना ने एक इंटरव्यू में कहा है कि रिया के मामले से बड़े ड्रग्स रैकेट का पता चला है कि जिसके लिंक दुबई और आतंकी समूहों से जुड़े हुए हैं।

हमसे जुड़ें

263,159FansLike
77,969FollowersFollow
322,000SubscribersSubscribe
Advertisements