DM से मायावती के जूते साफ़ करवाने वाले आज़म ख़ान, आपकी तो पूरी पार्टी ही जूते चाट रही है

डीएम से जूता साफ़ करवाने वाले आज़म ख़ान को समझना चाहिए कि उनकी इसी मानसिकता के कारण आज वो न तो सत्ता में हैं और न ही सत्ता की रेस में।

सपा नेता आज़म ख़ान नित नए स्तर पर गिरते चले जा रहे हैं। कभी महिलाओं के अंगवस्त्रों पर टिप्पणी करते हैं तो कभी हनुमानजी को लेकर अनाप-शनाप बकते हैं। अब उन्हीं आज़म ख़ान ने डीएम से जूते साफ़ करवाने की बात कही है। आज़म ख़ान ने नया विवादित बयान देते हुए कहा, “सब डटे रहो, कलेक्टर-पलेक्टर से मत डरियो, ये हैं तनखैया.. हम इनसे नहीं डरते हैं। देखे हैं मायावती के कई फोटो कैसे बड़े-बड़े अफसर रुमाल निकालकर जूते साफ़ करते रहे हैं। हाँ उन्हीं से है गठबंधन, हाँ उन्हीं से जूते साफ कराऊँगा इनसे अल्लाह ने चाहा तो…। आज़म ख़ान ने मायावती राज का उदाहरण देते हुए ऐसा कहा। ज्ञात हो कि फरवरी 2011 में एक डीएसपी लेवल के पुलिस अधिकारी पद्म सिंह ने झुक कर मायावती की जूती को साफ़ किया था। उन्होंने अपने पॉकेट से रुमाल निकाल कर मायावती की जूती साफ़ की थी।

आज जो आज़म ख़ान मायावती की उसी हरकत को उदाहरण के तौर पर पेश कर रहे हैं, उन्हीं आज़म ख़ान ने तब इसका विरोध किया था। सपा का मुसलमान चेहरा माने जाने वाले आज़म ने तब मुख्यमंत्री रहीं मायावती पर निशाना साधते हुए कहा था, “यह उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती की सामंती मानसिकता को दर्शाता है। वो शाही राजतन्त्र को फिर से जीना चाहती हैं। ऐसा प्रतीत होता है कि सुरक्षा अधिकारी की कुछ गंभीर मजबूरियाँ थीं जिसने उसे शर्मनाक कृत्य करने के लिए मजबूर किया। मैं सुझाव दूंगा कि मायावती अपने मार्ग पर धूल की देखभाल करने और अपने सैंडल की सफाई जैसे कामों को करने के लिए एक अलग दल की नियुक्ति करेंगी।

आज़म ख़ान को ख़ुश होना चाहिए क्योंकि मायावती ने उनकी बात सुन ली, भले ही उसमें 7 वर्ष लग गएउन्होंने शायद अब उस दल की नियुक्ति कर ली है, जो उनके मार्ग पर धूल की देखभाल करेगा और उनके सैंडल की सफाई करेगा उसका नाम समाजवादी पार्टी ही है, जिसके आज़म संस्थापक सदस्य हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

कितनी असमानता है आज़म ख़ान के दोनों बयानों में। इन 7 वर्षों में ऐसा नहीं है कि आज़म ख़ान की प्रकृति बदल गई है। वो तब भी इतने ही विवादित थे, जितने आज हैं। वो तब भी ऐसे ही अलूल-जलूल बयान दिया करते थे, जैसे आज देते हैं। वो तब भी इतने ही महिला विरोधी और हिन्दू विरोधी थे, जितने आज हैं। फ़र्क़ बस इतना है कि राजनीतिक समीकरण बदल गया है। जो मायावती और यादव परिवार एक दूसरे को कोसते थकते नहीं थे, आज वो एक ही थाली में लपेस-लपेस कर खा रहे हैं। अखिलेश-माया एक हो गए हैं और अपने नेता अखिलेश की तरह मायावती का भी गुणगान करना आज़म ख़ान का नया मज़हब बन गया है। तभी तो जो घटना सामंती मानसिकता और शाही राजतन्त्र का परिचायक थी, वो अब छाती चौड़ी करने वाली और गर्व से भर देने वाली घटना हो गई है उनके लिए।

9 बार विधायक चुने गए आज़म ख़ान सपा सरकारों के दौरान मंत्री रह चुके हैं। मोदी के आ जाने से एक-दूसरे के साथ सड़क पर गठजोड़ कर घूमने वाले इन नेताओं को जनता ने अब सही जगह पहुँचाया है। डीएम से जूता साफ़ करवाने वाले आज़म ख़ान को समझना चाहिए कि उनकी इसी मानसिकता के कारण आज वो न तो सत्ता में हैं और न ही सत्ता की रेस में। असल में मायावती की जूती साफ़ करने का काम तो उनकी अपनी ही समाजवादी पार्टी कर रही है, जिसके वो संस्थापक सदस्य हैं। लोकसभा में शून्य सीट वाली मायावती को सपा ने ख़ुद से 1 ज्यादा सीट दी, इससे ज्यादा झुकने का कोई अन्य उदाहरण कहीं और कहाँ मिल सकता है?

आज़म ख़ान को समझना चाहिए कि अब वो ज़माना गया जब उनकी खोई भैंसे खोजने के लिए पूरा सरकारी महकमा सड़कों पर उतर आता था। यूपी में अब वो ज़माना गया जब अधिकारियों को सत्ताधीशों के जूते साफ़ करने पड़ते थे। अब वो ज़माना गया जब मुख़्तार अंसारी, राजा भैया और अतीक अहमद की तूती बोलती थी और सत्ता के संरक्षण के कारण पुलिस और अधिकारी तक उनके सामने झुकते थे। इस यूपी में अपराधी भाग कर पड़ोस के राज्यों की जेल में बंद हो जाते हैं। जो जेल में हैं, वो बाहर नहीं निकलना चाहते। जो बाहर हैं वो फूँक-फूँक कर क़दम रखते हैं। इस यूपी में सड़कों पर विचर रहे बौखलाए आज़म ख़ान को कभी ख़ुद को भी निराहना चाहिए कि जनता ने उनकी और उनकी पार्टी की क्या हालत की है।

अव्वल तो यह कि मुसलमानों के एक अन्य नेता उमर अब्दुल्ला ने भी जूती साफ़ करने वाली घटना के समय मायावती पर तंज कसा था। आज वो भी चुप रहेंगे क्योंकि उनके ही साथी अब उसी घटना को गर्वित करने वाला वृत्तांत की तरह पेश करते फिर रहे हैं। मुसलमानों के स्वघोषित नेताओं के बयानों पर कोई ख़ास आउटरेज नहीं होता, इसे नॉर्मल मान लिया जाता है। माना जाता है कि इनका तो काम ही है ये सब बोलना, किसी पर भी भद्दी टिप्पणियाँ कर देना, हिन्दू देवी-देवताओं का मज़ाक उड़ाना, महिलाओं का अपमान करना और साल दर साल प्राथमिकताएँ बदलते हुए अपने ही बयानों से पलट जाना। इसीलिए, इनके बयानों को ज्यादातर नज़रअंदाज़ ही किया जाता है।

आज़म ख़ान सपा नेता अखिलेश यादव के समक्ष ही ऐसे बयान दिया करते हैं। उस समय नैतिकता, राजनीतिक शुचिता और युवाओं की बात करने वाले अखिलेश यादव हँस कर बगले झाँकते नज़र आते हैं। अगर ऐसा ही बयान किसी भाजपा के सरपंच के समधी के साले की तरफ से आया होता तो इस पर यही अखिलेश आज हंगामा कर रहे होते और कह रहे होते कि भारत में महिलाओं का सम्मान नहीं किया जाता, भाजपा के नेतागण महिलाओं की इज़्ज़त नहीं करते और देश में महिला विरोधी माहौल को बढ़ावा दिया जा रहा है। अगर सरकारी अधिकारियों के बारे में किसी भाजपा नेता का ऐसा बयान आता तब तो कहना ही क्या। इससे ‘मोदी सारी सरकारी संस्थाओं को अपने इशारे पर नचा रहा है‘ वाले नैरेटिव को और मज़बूती मिल जाती। हालाँकि, निंदा हर मामले में होनी चाहिए, चाहे बयान भाजपा नेता का हो या सपा नेता का।

लेकिन, होता इसके एकदम उलट है। जैसा कि हमने ऊपर चर्चा किया, भाजपा के वार्ड सदस्य के रिश्तेदार के व्यक्तिगत बयान या हरकत को ऐसे पेश किया जाता है, जैसे ख़ुद मोदी ने ऐसा किया हो या कहा हो। वहीं दूसरी तरफ चुनावी मंच पर एक बड़ी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष की मौजूदगी में उनके वरिष्ठ नेता द्वारा महिला विरोधी बयान दिया जाता है और इसे आयाराम-गयाराम मान कर हवा में उड़ा दिया जाता है। वैसे सही है, आज़म ख़ान डीएम से अपना जूता साफ़ करवाएँ न करवाएँ, उनकी पार्टी तो मायावती के सामने दंडवत हो ही रखी है। ख़ुद मुलायम सिंह यादव ने भी कह दिया है कि अपने ही लोग पार्टी को बर्बाद करने में लगे हुए हैं। कहीं उनका इशारा आज़म ख़ान जैसे लोगों की तरफ ही तो नहीं था? वैसे आज़म को बोया मुलायम ने ही है, अब फसल काटिए बैठ कर।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

बड़ी ख़बर

इनकी सावरकर से दुश्मनी केवल इसलिए है क्योंकि वह हिंदूवादी थे, और कॉन्ग्रेस की राजनीति मुस्लिम तुष्टिकरण की है। हिन्दूफ़ोबिया इनकी वैचारिक नसों में है, तो इसलिए हिन्दू हितों की बात करने वाले को खलनायक या कमज़ोर दिखाना तो हिन्दूफ़ोबिया की तार्किक परिणति होगा ही।

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

पति ने TIK-TOK चलाने से किया मना, पत्नी ने की आत्महत्या, रिकॉर्ड किया मौत का वीडियो

24 वर्षीय अनीता की शादी 29 साल के पलानीवेल के साथ हुई थी। उनके चार साल की एक बेटी और दो साल का एक बेटा भी है।
दीदी, सुरक्षा दो या इस्तीफा

सईद की मौत पर 200 दंगाईयों को बुलाकर डॉक्टरों पर हमला करने वालों को ममता क्यों बचा रही है?

पथराव शुरू हुआ, डॉक्टरों पर जानलेवा हमले हुए तो पुलिस ने क्यों नहीं रोका? क्यों डॉक्टरों की जान बचाने के लिए दंगाईयों पर नियंत्रण के लिए कड़ी कार्रवाई नहीं की गई? जवाब हम सब को पता है। क्योंकि हमलावर मुसलमान थे- अगर उन्हें कुछ हो जाता तो ममता के वोट बैंक को खतरा था।
कमांडो निराला (फाइल फोटो)

देश के लिए बलिदान हुए थे कॉर्पोरल निराला, गरुड़ कमांडो ने पैसे जुटाकर कराई बहन की शादी

कमांडो निराला की बहन की शादी के लिए गरुड़ कमांडो यूनिट ने आपस में चंदा कर ₹5 लाख इकठ्ठा किए थे। यही नहीं, शादी की रस्म पूरी करने के लिए कमांडोज़ ने शादी में शिरकत भी की।
दि प्रिंट और दीपक कल्लाल

सेक्स ही सेक्स… भाई साहब आप देखते किधर हैं, दि प्रिंट का सेक्सी आर्टिकल इधर है

बढ़ते कम्पटीशन के दौर में सर्वाइवल और नाम का भार ढोते इन पोर्टलों के पास नग्नता और वैचारिक नकारात्मकता के अलावा फर्जीवाड़ा और सेक्स ही बचता है जिसे हर तरह की जनता पढ़ती है। लल्लनपॉट यूनिवर्सिटी से समाज शास्त्र में पीएचडी करने वाले ही ऐसा लिख सकते हैं।

NDTV के प्रणय रॉय और राधिका रॉय को झटका, SEBI ने 2 साल के लिए किया बैन

NDTV पिछले कई सालों से वित्तीय अनियमितताओं और टैक्स फ्रॉड के कारण जाँच एजेंसियों के रडार पर थी। सेबी ने सिक्योरिटी एक्सचेंज मार्केट में लेन-देन और NDTV मैनेजमेंट में किसी भी पोस्ट से 2 साल के लिए बाहर कर दिया है।
सावरकर (साभार: इंडियन एक्सप्रेस)

सावरकर ‘वीर’ तब तक नहीं होंगे जब तक हिन्दू अपनी कहानियाँ खुद सुनाना नहीं सीखते

इनकी सावरकर से दुश्मनी केवल इसलिए है क्योंकि वह हिंदूवादी थे, और कॉन्ग्रेस की राजनीति मुस्लिम तुष्टिकरण की है। हिन्दूफ़ोबिया इनकी वैचारिक नसों में है, तो इसलिए हिन्दू हितों की बात करने वाले को खलनायक या कमज़ोर दिखाना तो हिन्दूफ़ोबिया की तार्किक परिणति होगा ही।

सरकारी डॉक्टर की जान बनाम मुस्लिम वोटबैंक को निहारती निर्मम ममता जो दंगे पीती, खाती और सोती है

ये भीड़ इतनी जल्दी कैसे आती है, कहाँ हमला करती है और किधर गायब हो जाती है? क्या पुलिस ने नहीं देखा इन्हें? क्या हॉस्पिटल में सुरक्षा के लिए पुलिस आदि नहीं होती या फिर इस पहचानहीन भीड़ का सामूहिक चेहरा ममता की पुलिस ने पहचान लिया और उन्हें वो करने दिया जो वो कर गए?
ममता बनर्जी

घमंडी, फासीवादी, सांप्रदायिक, स्वेच्छाचारी, हिंसक, असंवैधानिक, तानाशाह, भ्रष्ट, अलगाववादी: यही हैं ममता

यह इकोसिस्टम कुतर्क में उस्ताद है। बंगाल की हर हिंसा में तृणमूल के साथ बराबर का भागीदार भाजपा को बना देता है। सांप्रदायिकता में भी यही रवैया अपनाता है।
अमित शाह, जदयू प्रवक्ता

अमित शाह और BSF को कोसने के बाद JDU प्रवक्ता ने खुद दिया इस्तीफ़ा

11 तारीख़ को आलोक ने ट्विटर पर एक पोस्ट किया था। इस पोस्ट में उन्होंने बांग्लादेशी शरणार्थियों के मुद्दे पर गृह मंत्री अमित शाह पर तंज कसा था। साथ ही एक ट्वीट में उन्होंने बीएसएफ अधिकारियों पर भी निशाना साधा था।
अक्षय पात्र, पुरस्कार

Akshay-Patra को मिला ग्लोबल अवॉर्ड, द हिंदू खोजता रह गया लहसुन-प्याज

इस पुरस्कार को देने के दौरान निर्णायक पैनल के प्रमुख शेफ़ सामीन नोसरात ने कहा कि स्कूलों में भोजन उपलब्ध कराना अद्भुत और शानदार कार्य है। बच्चों को भोजन करवाना सबसे महत्तवपूर्ण हैं। इस प्रकार के प्रयासों की सराहना की जानी चाहिए।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

50,115फैंसलाइक करें
8,751फॉलोवर्सफॉलो करें
69,712सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: