Tuesday, October 27, 2020
Home विचार राजनैतिक मुद्दे कोसी का ऊँट किस करवट बैठैगा इस बार? जहाँ से बनती-बिगड़ती है बिहार की...

कोसी का ऊँट किस करवट बैठैगा इस बार? जहाँ से बनती-बिगड़ती है बिहार की सरकार… बाढ़ का मुद्दा किसके साथ?

बिहार के कई जिले बाढ़ पीड़ित हैं, इसलिए बाढ़ से निपटने के लिए सरकारों ने क्या किया, इसका जवाब देना सत्ता पक्ष के लिए मुश्किल होगा। RJD नेता इस बात को भी भुनाएँगे कि “सुशासन बाबू” ने उनके साथ धोखा किया है।

बिहार को अगर #राजनीति_की_प्रयोगशाला कहते हैं, तो बिहार की राजनीति की दशा को कोसी के घटवार तय करते हैं। आजादी के बाद से ही बिहार का कोसी प्रमंडल तय करता रहा है कि सत्ता की बागडोर किसके हाथ में जाएगी। शुरुआती कॉन्ग्रेसी दौर में ये कोई बड़ा सवाल नहीं होता था, लेकिन 1990 आते-आते हवा बदली और जनता पार्टी ने भी बिहार की राजनीति में अपनी जगह बना ली थी।

तब से अब तक का दौर देखें तो ये भी कहा जा सकता है कि सहरसा सीट से जो दल जीता, बिहार में सरकार भी उसी दल ने बनाई। कोसी प्रमंडल को जिलों के हिसाब से देखें तो यहाँ सहरसा, सुपौल और मधेपुरा- 3 जिले होंगे। इनमें सहरसा में 4 (सहरसा, सिमरी बख्तियारपुर, महिषी और सोनवर्षा) सीटें, सुपौल में 5 (सुपौल, त्रिवेणीगंज, छातापुर, निर्मली, पिपरा) तथा मधेपुरा में 4 (मधेपुरा, सिंघेश्वर, आलमनगर, बिहारीगंज) विधानसभा सीटें होती हैं।

इस तरह कोसी प्रमंडल से कुल 13 विधायक विधानसभा पहुँचते हैं। राजनैतिक रूप से ये इलाका कितना सक्रिय है, इसका अनुमान लगाना हो तो सहरसा जिले की केवल सहरसा विधानसभा सीट से 2015 में 16 उम्मीदवारों ने पर्चा दाखिल किया, 2 की उम्मीदवारी रद्द हुई और लड़ने वाले 14 में से 12 की जमानत जब्त हो गई थी। गठबंधनों के लिहाज से राजग गठबंधन में भाजपा इस इलाके में कमजोर दिखती है तो महागठबंधन में कॉन्ग्रेस कमजोर पड़ जाती है।

बिहार में क्षेत्रीय दलों (जद-यू, राजद) और राष्ट्रीय दलों (भाजपा, कॉन्ग्रेस) का आपसी समीकरण पिछले 30 वर्षों में कैसा बना है, ये भी इससे नजर आ जाता है। एनडीए से 2010 तक भाजपा को सिर्फ 1 सीट मिलती थी, इस इलाके की बाकी सीटों पर जद-यू लड़ती थी। महागठबंधन की तरफ से सिमरी बख्तियारपुर से एक कॉन्ग्रेस के और बाकी सभी पर राजद के उम्मीदवार होते। अगर 2015 के चुनावी आँकड़ों को देखेंगे तो एक दो चीज़ें और भी देखने लायक होंगी।

राजनैतिक रूप से ये इलाका इतना सक्रिय है कि 13 सीटों पर लड़ने के लिए यहाँ कुल 176 उम्मीदवार तैयार थे। इनमें से महिलाओं की भगीदारी देखेंगे तो वो 8% से भी थोड़ी कम है। जनता कैसे सोचती है, इस विषय में समझना हो तो चुनाव लड़ने वालों और जमानत जब्त करवाने वालों की गिनती देखिए। नामांकन रद्द होने के कारण, कुछ उम्मीदवार लड़ नहीं पाईं , लेकिन जो चुनावी दंगल में उतरीं, उनमें से केवल 2 के बीच ही मुकाबला रहा।

शेष सभी जमानतें जब्त करवा बैठे! उपचुनाव (2019) में सिमरी बख्तियारपुर पर राजद का कब्ज़ा हुआ और छातापुर की सीट भाजपा के हिस्से में आ गई है। महत्व के हिसाब से देखें तो मधेपुरा सीट का नाम इसलिए जाना-पहचाना होता है क्योंकि मधेपुरा की सीट से लालू यादव और शरद यादव जैसे नेता उतरते रहे हैं। “रोटी के साथ राम” का नारा देने वाले और अयोध्या राम मंदिर का शिलान्यास करने वाले भाजपा के दलित नेता कामेश्वर चौपाल 2014 में सुपौल की लोकसभा सीट से लड़े थे।

एक दौर में पूरे देश की राजनीति में हलचल लाने के लिए जिस मंडल कमीशन को याद किया जाता है, उसके मंडल सहरसा के सबसे बड़े जमींदारों में से एक हैं। पिछले चुनावों में सबसे ज्यादा मतों से हारने वाले विधायक, सहरसा के सिटिंग भाजपा विधायक ही थे।

सहरसा और कोसी में जीत का मतलब पटना में सरकार क्यों होता है, ये देखना हो तो हमें थोड़ा सा पीछे चलना होगा। जब 1990 में यहाँ से सभी सीटें जनता दल ने जीती थीं, तो सरकार भी जनता दल की बनी थी। अगले चुनावों (1995) में एक सीट (सिमरी बख्तियारपुर) कॉन्ग्रेस ने जीत ली थी और बाकी सीटों पर फिर से जनता दल का कब्ज़ा रहा।

उसके बाद जब 2000 में राजद ने इस इलाके पर परचम फहराया तो फिर से राजद की (कॉन्ग्रेस समर्थन से) सरकार बन गई। इसके बाद से (2005 के और 2010 के चुनाव में) कोसी पर राजग गठबंधन (भाजपा और जद-यू) काबिज होने लगी। इस दौर में सरकार भी नीतीश कुमार ने बनाई।

पिछले (2015) चुनावों को देखेंगे तो इसमें एक छातापुर (सुपौल जिला) की सीट तो भाजपा जीत पाई मगर बाकी पर महागठबंधन का कब्ज़ा हो गया। इस बार भाजपा और जद(यू) साथ नहीं थे बल्कि नीतीश ने लालू से हाथ मिला लिया था। सरकार भी उन्हीं की बनी, मगर बाद में संभवतः नीतीश बाबू ने “अंतरात्मा की आवाज” सुन ली और वो फिर से भाजपा के साथ आ मिले।

कोसी क्षेत्र के चुनावों में मुकाबला सीधा दो दलों का ही होता है, इस वजह से भी राजनैतिक दलों के लिए यहाँ उम्मीदवार से लेकर रणनीति तय करने तक पर विशेष ध्यान रहता है। इस बार की चुनावी हलचल शुरू होते ही इस इलाके को 500 करोड़ से ऊपर का रेल पुल दिया गया है। भाजपा और जद-यू ने इसके साथ ही अपनी मंशा इस इलाके के लिए साफ़ कर दी है। लॉकडाउन की वजह से बाहर गए मजदूरों का एक बड़ा वर्ग इस बार घर पर ही होगा।

ध्यान रहे कि पलायन के मौसम में इस क्षेत्र से इतने मजदूर पंजाब-दिल्ली की ओर जाते हैं कि दिल्ली इत्यादि से, इस इलाके को जोड़ने वाले सहरसा जंक्शन का रेवेन्यु पटना से भी ज्यादा हो जाता है। पलायन की पीड़ा के अलावा जिस बाढ़ की वजह से हर वर्ष पलायन होता है, वो भी जनता का अघोषित मुद्दा होगा।

बाढ़ राहत के नाम पर लूट के अभियोग नेताओं-अधिकारियों पर लगातार लगते रहे हैं। अभी बिहार के कई जिले बाढ़ पीड़ित ही हैं, इसलिए भी बाढ़ से निपटने के लिए सरकारों ने क्या किया, इसका जवाब देना सत्ता पक्ष के लिए मुश्किल होगा। एंटी इनकमबेंसी फैक्टर के अलावा राजद के नेता इस बात को भी भुनाएँगे कि “सुशासन बाबू” ने उनके साथ धोखा किया है।

मतदान के वक्त तो राजद समर्थन के नाम पर वोट माँगे गए, मगर सरकार से राजद को हटाकर वो फिर भाजपा के साथ हो गए। ऐसे में सत्ता पक्ष के लिए इस बार कोसी प्रमंडल के चुनावों की डगर कठिन ही होगी। बाकी हलचल जब शुरू हो ही गई है तो देखते हैं, थोड़े ही दिन में निष्पक्ष और सापेक्ष दोनों ही पत्रकारों को समझ में आने तो लगेगा कि चुनावी ऊँट किस करवट बैठने वाला है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Anand Kumarhttp://www.baklol.co
Tread cautiously, here sentiments may get hurt!

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मोदी को क्लीन चिट देने पर दिल्ली में बैठे विरोधियों ने किया था उत्पीड़न: CBI के पूर्व निदेशक का खुलासा

"उन्होंने मेरे खिलाफ याचिकाएँ दायर कीं, मुझ पर CM का पक्ष लेने का आरोप लगाया। टेलीफोन पर मेरी बातचीत की निगरानी के लिए केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग भी किया"

जौनपुर की जामा मस्जिद में मिस्र शैली की नक्काशी है या अटाला देवी मंदिर के विध्वंस की छाप?

सुल्तान ने निर्देश दिए थे कि अटाला देवी मंदिर को तोड़कर उसकी जगह मस्जिद की नींव रखी जाए। 1408 ई में मस्जिद का काम पूरा हुआ। आज भी खंबों पर मूर्ति में हुई नक्काशी को ध्वस्त करने के निशान मिलते हैं।

‘मुस्लिम बन जा, निकाह कर लूँगा’: तौफीक बना रहा था निकिता पर धर्मांतरण का दबाव- मृतका के परिवार का दावा

तौफीक लड़की से कहता था, 'मुस्लिम बन जा हम निकाह कर लेंगे' मगर जब लड़की ने उसकी बात नहीं सुनी तो उसकी गोली मार कर हत्या कर दी।

बाबा का ढाबा स्कैम: वीडियो वायरल करने वाले यूट्यूबर पर डोनेशन के रूपए गबन करने के आरोप

ऑनलाइन स्कैमिंग पर बनाई गई वीडियो में लक्ष्य चौधरी ने समझाया कि कैसे लोग इसी तरह की इमोशनल वीडियो बना कर पैसे ऐंठते हैं।

अपहरण के प्रयास में तौफीक ने निकिता तोमर को गोलियों से भूना, 1 माह पहले ही की थी उत्पीड़न की शिकायत

तौफीक ने छात्रा पर कई बार दोस्ती और धर्मांतरण के लिए दबाव भी बनाया था। इससे इनकार करने पर तौफीक ने 2018 में एक बार निकिता का अपहरण भी कर लिया था।

केरल: 2 दलित नाबालिग बेटियों की यौन शोषण के बाद हत्या, आरोपित CPI(M) कार्यकर्ता बरी, माँ सत्याग्रह पर: पुलिस की भूमिका संदिग्ध

महिला का आरोप है कि इस केस को कमजोर करने वाले अधिकारियों का प्रमोशन हुआ। पुलिस ने सौतेले पिता को जिम्मेदारी लेने को भी कहा।

प्रचलित ख़बरें

अपहरण के प्रयास में तौफीक ने निकिता तोमर को गोलियों से भूना, 1 माह पहले ही की थी उत्पीड़न की शिकायत

तौफीक ने छात्रा पर कई बार दोस्ती और धर्मांतरण के लिए दबाव भी बनाया था। इससे इनकार करने पर तौफीक ने 2018 में एक बार निकिता का अपहरण भी कर लिया था।

IAS अधिकारी ने जबरन हवन करवाकर पंडितों को पढ़ाया ‘समानता का पाठ’, लोगों ने पूछा- मस्जिद में मौलवियों को भी ज्ञान देंगी?

क्या पंडितों को 'समानता का पाठ' पढ़ाने वाले IAS अधिकारी मौलवियों को ये पाठ पढ़ाएँगे? चर्चों में जाकर पादिरयों द्वारा यौन शोषण की आई कई खबरों का जिक्र करते हुए ज्ञान देंगे?

मदद की अपील अक्टूबर में, नाम लिख लिया था सितम्बर में: लोगों ने पूछा- सोनू सूद अंतर्यामी हैं क्या?

"मदद की गुहार लगाए जाने से 1 महीने पहले ही सोनू सूद ने मरीज के नाम की एक्सेल शीट तैयार कर ली थी, क्या वो अंतर्यामी हैं?" - जानिए क्या है माजरा।

जब रावण ने पत्थर पर लिटा कर अपनी बहू का ही बलात्कार किया… वो श्राप जो हमेशा उसके साथ रहा

जानिए वाल्मीकि रामायण की उस कहानी के बारे में, जो 'रावण ने सीता को छुआ तक नहीं' वाले नैरेटिव को ध्वस्त करती है। रावण विद्वान था, संगीत का ज्ञानी था और शिवभक्त था। लेकिन, उसने स्त्रियों को कभी सम्मान नहीं दिया और उन्हें उपभोग की वस्तु समझा।

नवरात्र में ‘हिंदू देवी’ की गोद में शराब और हाथ में गाँजा, फोटोग्राफर डिया जॉन ने कहा – ‘महिला आजादी दिखाना था मकसद’

“महिलाओं को देवी माना जाता है लेकिन उनके साथ किस तरह का व्यवहार किया जाता है? उनके व्यक्तित्व को निर्वस्त्र किया जाता है।"

एक ही रात में 3 अलग-अलग जगह लड़कियों के साथ छेड़छाड़ करने वाला लालू का 2 बेटा: अब मिलेगी बिहार की गद्दी?

आज से लगभग 13 साल पहले ऐसा समय भी आया था, जब राजद सुप्रीमो लालू यादव के दोनों बेटों तेज प्रताप और तेजस्वी यादव पर छेड़खानी के आरोप लगे थे।
- विज्ञापन -

निकिता तोमर हत्याकांड: तौफीक के बाद अब रेवान भी गिरफ्तार, भाई ने कहा- अगर मुस्लिम की बेटी होती तो सारा प्रशासन यहाँ होता

निकिता तोमर की माँ ने कहा है कि जब तक दोषियों का एनकाउंटर नहीं किया जाता, तब तक वो अपनी बेटी का अंतिम-संस्कार नहीं करेंगी।

मोदी को क्लीन चिट देने पर दिल्ली में बैठे विरोधियों ने किया था उत्पीड़न: CBI के पूर्व निदेशक का खुलासा

"उन्होंने मेरे खिलाफ याचिकाएँ दायर कीं, मुझ पर CM का पक्ष लेने का आरोप लगाया। टेलीफोन पर मेरी बातचीत की निगरानी के लिए केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग भी किया"

जम्मू-कश्मीर, लद्दाख में अब कोई भी खरीद सकेगा जमीन, नहीं छिनेगा बेटियों का हक़: मोदी सरकार का बड़ा फैसला

जम्मू-कश्मीर में अब देश का कोई भी व्यक्ति जमीन खरीद सकता है और वहाँ पर बस सकता है। गृह मंत्रालय द्वारा मंगलवार को इसके तहत नया नोटिफिकेशन जारी किया गया है।

जौनपुर की जामा मस्जिद में मिस्र शैली की नक्काशी है या अटाला देवी मंदिर के विध्वंस की छाप?

सुल्तान ने निर्देश दिए थे कि अटाला देवी मंदिर को तोड़कर उसकी जगह मस्जिद की नींव रखी जाए। 1408 ई में मस्जिद का काम पूरा हुआ। आज भी खंबों पर मूर्ति में हुई नक्काशी को ध्वस्त करने के निशान मिलते हैं।

₹1.70 लाख करोड़ की गरीब कल्याण योजना से आत्मनिर्भर बन रहे रेहड़ी-पटरी वाले: PM मोदी ने यूपी के ठेले वालों से किया संवाद

पीएम 'स्वनिधि योजना' में ऋण आसानी से उपलब्ध है और समय से अदायगी करने पर ब्याज में 7% की छूट भी मिलेगी। अगर आप डिजिटल लेने-देन करेंगे तो एक महीने में 100 रुपए तक कैशबैक के तौर पर वापस पैसे आपके खाते में जमा होंगे।

‘मुस्लिम बन जा, निकाह कर लूँगा’: तौफीक बना रहा था निकिता पर धर्मांतरण का दबाव- मृतका के परिवार का दावा

तौफीक लड़की से कहता था, 'मुस्लिम बन जा हम निकाह कर लेंगे' मगर जब लड़की ने उसकी बात नहीं सुनी तो उसकी गोली मार कर हत्या कर दी।

मुंगेर में दुर्गा पूजा विसर्जन: पुलिस-पब्लिक भिडंत में युवक की मौत, SP लिपि सिंह ने कहा- ‘बदमाशों’ ने चलाई गोलियाँ

मुंगेर एसपी और JDU सांसद RCP सिंह की बेटी लिपि सिंह ने दावा किया है कि प्रतिमा विसर्जन के दौरान असामाजिक तत्वों ने पुलिस पर पथराव किया और गोलीबारी की।

गाँव में 1 मुस्लिम के लिए भी बड़ा कब्रिस्तान, हिन्दू हैं मेड़ किनारे अंतिम संस्कार करने को विवश: साक्षी महाराज

साक्षी महाराज ने याद दिलाया कि शमसान और कब्रिस्तान के इस मुद्दे को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी उठाया था।

पेशावर: मदरसे में कुरान पढ़ाते वक़्त बम धमाका- 7 की मौत 72 घायल, अधिकतर बच्चे

जहाँ बम धमाका हुआ, स्पीन जमात मस्जिद है, जो मदरसे के रूप में भी काम करता है। मस्जिद में जहाँ नमाज पढ़ी जाती थी, उस जगह को खासा नुकसान पहुँचा है।

बाबा का ढाबा स्कैम: वीडियो वायरल करने वाले यूट्यूबर पर डोनेशन के रूपए गबन करने के आरोप

ऑनलाइन स्कैमिंग पर बनाई गई वीडियो में लक्ष्य चौधरी ने समझाया कि कैसे लोग इसी तरह की इमोशनल वीडियो बना कर पैसे ऐंठते हैं।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
79,331FollowersFollow
338,000SubscribersSubscribe