Wednesday, November 25, 2020
Home विचार राजनैतिक मुद्दे चंदा बाबू जैसों के डर का नाम है जंगलराज, आँकड़ों की लीपापोती से नहीं...

चंदा बाबू जैसों के डर का नाम है जंगलराज, आँकड़ों की लीपापोती से नहीं धुलेगा लालू का ये दाग

TISS के एक प्रोफेसर को यह पता होना चाहिए कि डेटा की क्वांटिटेटिव अनालिसिस से ही सारी बातें पता नहीं चलतीं। अगर वो सामाजिक डर के मापने में असफल रहे हैं, सिर्फ डेटा पर ही खेल कर, उन अपराधों के होने के तरीकों की व्याख्या नहीं कर पाते, तो उन्हें ऐसे संस्थानों में पढ़ा कर विद्यार्थियों को मूर्ख बनाना छोड़ देना चाहिए।

बिहार विधानसभा चुनावों के दौरान एक शब्द का बार-बार इस्तेमाल हुआ है। यह है- जंगलराज। 1990 से 2005 तक के उस वक्त के लिए जिस दौरान बिहार में लालू प्रसाद यादव और उनकी पत्नी राबड़ी देवी का शासन रहा, जंगलराज कहा जाता है।

10 नवंबर 2020 को बिहार विधानसभा चुनाव के नतीजे आए। लिबरल बिरादरी के लिए एनडीए का सत्ता बचा लेना बड़ा झटका था, क्योंकि उन्होंने सपनों में लालू के जंगलराज के उत्तराधिकारी कहे जाने वाले तेजस्वी यादव को शपथ लेते भी देख लिया था। इसी छटपटाहट में नतीजों के अगले दिन प्रोपेगेंडा वेबसाइट ‘द प्रिंट‘ ने राकेश चंद्रा की एक लेख प्रकाशित की। चंद्रा टाटा इंस्टीट्यूट आफ सोशल साइंस (TISS) के सेंटर फॉर हेल्थ पॉलिसी, प्लानिंग और मैनेजमेंट में असिस्टेंट प्रोफेसर हैं। इस लेख के जरिए यह बताने की कोशिश की गई है कि नीतीश कुमार और बीजेपी भले लालू-राबड़ी के राज को जंगलराज कहें, लेकिन यह झूठ है। अपनी बातों को साबित करने और ‘राजद के युवराज’ के दामन को पाक-साफ़ बताने के लिए लेखक ने आँकड़ों की बाजीगरी दिखाई है।

आँकड़ों के जरिए यह भ्रम पैदा करने की कोशिश की गई है कि जंगलराज कोरी कल्पना के सिवा कुछ नहीं है। लिबरल मीडिया और कथित बुद्धिजीवी जमीन से कितने कटे हैं और अपनी ही कल्पनाओं के संसार में किस कदर उतराते रहते हैं, यह बिहार के चुनाव नतीजों ने पहले ही साबित कर दिया है। इस लेख के तथ्यों पर आने से पहले जरा इस बयान को गौर से पढ़िए;

“मरना तो है ही अब ईश्वर मार दे या शहाबुद्दीन”

करीब चार साल पहले यह बात एक पिता ने कही थी। इस पिता का नाम है- चंदा बाबू। चंदा बाबू के दो बेटों को शहाबुद्दीन ने तेजाब से नहलाकर मार डाला था। तीसरे बेटे की गवाह बनने पर हत्या कर दी थी। शहाबुद्दीन कौन था? वह लालू प्रसाद यादव की राजद का सांसद था। अपनी सामानांतर सरकार चलाता था। पुलिस पर भी गोलियाँ बरसाने से नहीं डरता था। वह नाराज हो जाता था तो सत्ता समर्पण कर देती थी। उसने यह खौफ किसके राजनीतिक राजनीतिक संरक्षण की वजह से बनाया था? सीधा सा जवाब है- लालू प्रसाद यादव।

आँकड़ों में चंदा बाबू के तीन बेटों का मारा जाना तो केवल तीन हत्या के रूप में दर्ज है। लेकिन, क्या यही आँकड़े यह भी बताते हैं कि उन्हें किस बेरहमी से मारा गया था? चंदा बाबू ने किस भय में जिंदगी गुजारी? इस घटना ने कितने माँ-बाप को डराया ? इसने कितने शहाबुद्दीन को कानून को रौंद देने की छूट दी?

डाटा भले यह बता दे कि कितनी हत्या हुई है। कितने किडनैप किए गए है। लेकिन, क्या उससे यह भी पता चलेगा कि उस दौर में हत्या और अपहरण एक ‘उद्योग’ बन चुका था? एक कारोबार था, पैसे कमाने का एक जरिया था? राजनेताओं, अधिकारियों और माफियाओं का ऐसा गठजोड़ इसके पहले कहीं देखा ही नहीं गया था? और सबसे बड़ी बात अपराध का साम्राज्य शहाबुद्दीन जैसे गुंडों और सालों के भरोसे चलता था?

16 अक्टूबर 1994 की रात त्रिवेणीगंज से राजद का विधायक रहा योगेन्द्र नारायण सरदार एक दलित युवती को उसके घर से उठाकर अपनी जीप में डालता है। उससे रेप करता है। डाटा में तो यह केवल रेप के तौर पर दर्ज होगा। लेकिन, इसने दलितों में किस कदर खौफ भरा होगा, महिलाएँ खुद को कितनी असुरक्षित और असहाय महसूस कर रही होंगी, कैसे बताएगा?

आम आदमी को तो छोड़िए। उस दौर में कौन सुरक्षित था। IAS अधिकारी बीबी विश्वास की पत्नी, माँ, भतीजी का लगातार दो साल तक यौन शोषण किया गया। जब मामला सामने आया तो आरोपित को बचाने में पूरी सरकार लग गई। कौन सा आँकड़ा इस हकीकत को बताएगा?

बाथे नरसंहार हो या अन्य जातीय नरसंहार, डाटा में वह केवल चंद लोगों की हत्या कही जाएगी। लेकिन इसने भूमिहारों का जनमानस किस वृहद रूप से प्रभावित किया, वह डाटा से सामने नहीं आएगा। ‘भूरा बाल साफ करो’ के नारे से सवर्णों में पैदा हुआ डर आँकड़े नहीं बताते।

आप गिनते जाएँगे पर उस दौर की ऐसी घटनाओं की फे​हरिस्त खत्म नहीं होगी। असल में जंगलराज एक अहसास है, जिसे केवल कुछ आँकड़ों के दम पर नहीं झुठलाया जा सकता। यह 2020 में भी कायम है। यही कारण है कि जब हमने अपने चुनावी कवरेज के दौरान गया के व्यापारियों से सवाल किया: गंदगी, जाम और जलजमाव आपके शहर की पहचान बन गई है, फिर भी आप बीजेपी को वोट क्यों करते हैं? उनका जवाब था- धंधा तो आराम से कर लेते हैं। यह डर नहीं होता कि कब कौन किधर से आएगा और गल्ले पर ही कॉलर पकड़ लेगा।

कायदे से तो TISS के एक प्रोफेसर को यह पता होना चाहिए कि डेटा की क्वांटिटेटिव अनालिसिस से ही सारी बातें पता नहीं चलतीं। अगर वो सामाजिक डर के मापने में असफल रहे हैं, सिर्फ डेटा पर ही खेल कर, उन अपराधों के होने के तरीकों की व्याख्या नहीं कर पाते, तो उन्हें ऐसे संस्थानों में पढ़ा कर विद्यार्थियों को मूर्ख बनाना छोड़ देना चाहिए।

जंगलराज जैसे नाम आँकड़ों पर नहीं, लोगों के भीतर एक अपराध को ले कर जगे डर के कारण मिलते हैं। जब पुलिस केस दर्ज न करे, केस दर्ज करने पर आपकी हालत चंदा बाबू जैसी हो जाए, तो वो डेटा में नहीं लिखा जाता।

जंगलराज का वह डर 2020 का बिहार भी महसूस करता है। यही कारण है कि केनार चट्टी के युवा हों या पटना की कॉलेज गर्ल्स, जिससे भी हमने अपने चुनावी कवरेज के दौरान बात की, वह इस बात को लेकर सशंकित थे कि यदि राजद सत्ता में लौटती है तो जंगलराज का वही डर फिर से लौटेगा।

ये शंकाएँ भी बेजा नहीं थी। 11 नवंबर को बेनीपट्टी विधानसभा के मलमल गाँव की 60 साल की एक महिला ने हमें बताया, “ढेनी टोल बला सब काइल्हे स घर धेने छै। सब छलै ललटेम बला स पाई लेने। हारि गेलै त नुकाएल छै। लेकिन रमनरेस्बा के बेटा भैर गाम गाड़ी पर हुर्र-हुर्र करैत छलै जे ककरो स मारि भ जै।”

सत्ता हाथ से छिटक जाने के बाद भी एक वर्ग विशेष के लोगों से इस बुजुर्ग महिला को दिख रहा डर भला कौन सा आँकड़ा बताएगा प्रोफेसर साहब? याद रखिएगा निर्भया बलात्कार केस भी डाटा में एक ही गिना जाएगा, लेकिन उस एक बलात्कार ने पूरे देश को हिला कर रख दिया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत झा
देसिल बयना सब जन मिट्ठा

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वो सीक्रेट बैठक, जिससे उड़ी इमरान खान की नींद: तुर्की की गोद में बैठा कंगाल Pak अब चीन के लिए होगा खिलौना

पाकिस्तान समेत ज़्यादातर मुस्लिम देश इजरायल को अपना दुश्मन नंबर एक मानते हैं। सऊदी अरब व इजरायल के रिश्ते मजबूत होने से इमरान की उड़ी नींद।

‘PFI वाले मुझे घर, नौकरी और रुपए देंगे’: इस्लाम अपनाने की घोषणा करने वाली केरल की दलित महिला

केरल की दलित महिला ऑटोरिक्शा ड्राइवर चित्रलेखा ने इस्लामी धर्मांतरण की घोषणा की थी। अब सामने आया है कि PFI ने उन्हें इसके लिए प्रलोभन दिया।

उमर खालिद नास्तिकता का ढोंग करता है, वस्तुतः वह कट्टर मुस्लिम है जो भारत को तोड़ना चाहता है: दिल्ली पुलिस

खालिद के लिए दिल्ली में रहने वाले बांग्लादेशी और रोहिंग्या अप्रवासी ऐसे लोग थे, जिनका इस्तेमाल करना आसान था। उसने इस्लाम और अल्ट्रा लेफ्ट...

वो अहमद पटेल, जिसे राज्यसभा सीट जिताने के लिए कॉन्ग्रेस ने खो दिया था पूरे गुजरात को

71 साल के अहमद पटेल का इंतकाल हो गया। उनकी मौत का कारण मल्टिपल ऑर्गन फेलियर रहा। उनसे यूपीए काल में हुए कई घोटालों के...

‘स्पीकर के चुनाव में साथ दो, तुम्हें मंत्री बनाएँगे’: लालू यादव का MLA को लालच देने वाला कॉल, सुनें ऑडियो क्लिप

बिहार के पूर्व उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने लालू यादव पर विधायकों को प्रलोभन देने का आरोप लगाया है। साथ ही एक ऑडियो क्लिप भी शेयर किया।

जानिए क्या है रोशनी एक्ट, जिसका गुनाह छिपाने के लिए हंगामा कर रहा है घोटालेबाज गुपकार गैंग

जम्मू-कश्मीर के ‘रोशनी एक्ट’ भूमि घोटाले की लिस्ट सार्वजनिक कर दी गई है। इस लिस्ट में जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम फारुक अब्दुल्ला समेत...

प्रचलित ख़बरें

‘मेरे पास वकील रखने के लिए रुपए नहीं हैं’: सुप्रीम कोर्ट में पूर्व सैन्य अधिकारी की पत्नी से हरीश साल्वे ने कहा- ‘मैं हूँ...

साल्वे ने अर्णब गोस्वामी का केस लड़ने के लिए रिपब्लिक न्यूज नेटवर्क से 1 रुपया भी नहीं लिया। अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में उन्होंने कुलभूषण जाधव का केस भी मात्र 1 रुपए में लड़ा था।

बहन से छेड़खानी करता था ड्राइवर मुश्ताक, भाई गोलू और गुड्डू ने कुल्हाड़ी से काट डाला: खुद को किया पुलिस के हवाले

गोलू और गुड्डू शाम के वक्त मुश्ताक के घर पहुँच गए। दोनों ने मुश्ताक को उसके घर से घसीट कर बाहर निकाला और जम कर पीटा, फिर उन्होंने...

रहीम ने अर्जुन बनकर हिंदू विधवा से बनाए 5 दिन शारीरिक संबंध, बाद में कहा- ‘इस्लाम कबूलो तब करूँगा शादी’

जब शादी की कोई बात किए बिना अर्जुन (रहीम) महिला के घर से जाने लगा तो पीड़िता ने दबाव बनाया। इसके बाद रहीम ने अपनी सच्चाई बता...

इतिहास में गुम हैं मुगलों को 17 बार हराने वाले अहोम योद्धा: देश भूल गया ब्रह्मपुत्र के इन बेटों को

राजपूतों और मराठों की तरह कोई और भी था, जिसने मुगलों को न सिर्फ़ नाकों चने चबवाए बल्कि उन्हें खदेड़ कर भगाया। असम के उन योद्धाओं को राष्ट्रीय पहचान नहीं मिल पाई, जिन्होंने जलयुद्ध का ऐसा नमूना पेश किया कि औरंगज़ेब तक हिल उठा। आइए, चलते हैं पूर्व में।

कंगना को मुँह तोड़ने की धमकी देने वाले शिवसेना MLA के 10 ठिकानों पर ED की छापेमारी: वित्तीय अनियमितता का आरोप

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मंगलवार को शिवसेना नेता प्रताप सरनाईक के आवास और दफ्तर पर छापेमारी की। यह छापेमारी सरनाईक के मुंबई और ठाणे के 10 ठिकानों पर की गई।

‘मुस्लिमों ने छठ में व्रती महिलाओं का कपड़े बदलते वीडियो बनाया, घाट पर मल-मूत्र त्यागा, सब तोड़ डाला’ – कटिहार की घटना

बिहार का कटिहार मुस्लिम बहुत सीमांचल का हिस्सा है, जिसकी सीमाएँ पश्चिम बंगाल से लगती हैं। वहाँ के छठ घाट को तहस-नहस कर दिया गया।
- विज्ञापन -

राजस्थान में कोरोना संक्रमित कॉन्ग्रेसी मंत्री ने RUHS का दौरा कर उड़ाई प्रोटोकॉल की धज्जियाँ: तस्वीरें वायरल

“आरयूएचएस में पहले से सब पॉजिटिव हैं और मैं भी पॉजिटिव हूँ, इसलिए प्रश्न उठता है कि मुझसे कोरोना फैलेगा कैसे? मैं डॉक्टरों की सलाह के बाद इंतजामों को देखने गया था।”

वो सीक्रेट बैठक, जिससे उड़ी इमरान खान की नींद: तुर्की की गोद में बैठा कंगाल Pak अब चीन के लिए होगा खिलौना

पाकिस्तान समेत ज़्यादातर मुस्लिम देश इजरायल को अपना दुश्मन नंबर एक मानते हैं। सऊदी अरब व इजरायल के रिश्ते मजबूत होने से इमरान की उड़ी नींद।

‘PFI वाले मुझे घर, नौकरी और रुपए देंगे’: इस्लाम अपनाने की घोषणा करने वाली केरल की दलित महिला

केरल की दलित महिला ऑटोरिक्शा ड्राइवर चित्रलेखा ने इस्लामी धर्मांतरण की घोषणा की थी। अब सामने आया है कि PFI ने उन्हें इसके लिए प्रलोभन दिया।

उमर खालिद नास्तिकता का ढोंग करता है, वस्तुतः वह कट्टर मुस्लिम है जो भारत को तोड़ना चाहता है: दिल्ली पुलिस

खालिद के लिए दिल्ली में रहने वाले बांग्लादेशी और रोहिंग्या अप्रवासी ऐसे लोग थे, जिनका इस्तेमाल करना आसान था। उसने इस्लाम और अल्ट्रा लेफ्ट...

वो अहमद पटेल, जिसे राज्यसभा सीट जिताने के लिए कॉन्ग्रेस ने खो दिया था पूरे गुजरात को

71 साल के अहमद पटेल का इंतकाल हो गया। उनकी मौत का कारण मल्टिपल ऑर्गन फेलियर रहा। उनसे यूपीए काल में हुए कई घोटालों के...

‘स्पीकर के चुनाव में साथ दो, तुम्हें मंत्री बनाएँगे’: लालू यादव का MLA को लालच देने वाला कॉल, सुनें ऑडियो क्लिप

बिहार के पूर्व उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने लालू यादव पर विधायकों को प्रलोभन देने का आरोप लगाया है। साथ ही एक ऑडियो क्लिप भी शेयर किया।

जानिए क्या है रोशनी एक्ट, जिसका गुनाह छिपाने के लिए हंगामा कर रहा है घोटालेबाज गुपकार गैंग

जम्मू-कश्मीर के ‘रोशनी एक्ट’ भूमि घोटाले की लिस्ट सार्वजनिक कर दी गई है। इस लिस्ट में जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम फारुक अब्दुल्ला समेत...

‘मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम हवाई अड्डा पर आपका स्वागत है’ – योगी कैबिनेट ने प्रस्ताव को दी मंजूरी, होंगी विश्व स्तरीय सुविधाएँ

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने निर्माणाधीन अयोध्या एयरपोर्ट का नाम 'मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम एयरपोर्ट' रखने का निर्णय लिया है।

कर्नाटक की माला होंगी USA की नई 1st Lady की नीति निदेशक, जो बायडेन के कार्यकाल में बढ़ेगा भारतीयों का दबदबा

जो बायडेन ने यूएस की नई 'फर्स्ट लेडी' और अपनी पत्नी जिल के पॉलिसी डायरेक्टर (नीति निदेशक) के रूप में माला अडिगा को नियुक्त किया है।

ओवैसी को सूअर वाली स्वादिष्ट बिरयानी खिलाने का ऑफर, AIMIM नेता के बीफ बिरयानी पर BJP का पलटवार

"मैं आपको आज बिरयानी का निमंत्रण दे रहा हूँ। वाल्मिकी समुदाय के लोग पोर्क के साथ बिरयानी अच्छी बनाते हैं। आइए हम आपको स्वादिष्ट बिरयानी..."

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,374FollowersFollow
357,000SubscribersSubscribe