Tuesday, October 27, 2020
Home देश-समाज जब हत्या और अपहरण थे 'उद्योग', चलती थी तो सिर्फ शहाबुद्दीन और 'सालों' की:...

जब हत्या और अपहरण थे ‘उद्योग’, चलती थी तो सिर्फ शहाबुद्दीन और ‘सालों’ की: बिहार का ‘जंगलराज’ और अपराध का साम्राज्य

तब स्थिति ऐसी थी कि अगर घर का कोई व्यक्ति ज़रूरी काम से भी बाहर गया हो और वो शाम के 6 बजे से पहले घर नहीं लौटे तो परिवार और रिश्तेदारों में कोहराम मच जाता था। कब, किसे, कौन और कहाँ मार कर फेंक दे - कुछ पता नहीं था। लाशें बरामद होती थीं और लोगों की धड़कनें बढ़ती थीं कि कहीं ये उनका कोई अपना तो नहीं।

‘जंगलराज’ – ये शब्द सुनते ही आपके दिमाग में क्या आता है? बिहार में लालू यादव का कार्यकाल, यानी 15 वर्ष। तकनीकी रूप से तो इसमें से 8 साल तक उनकी पत्नी राबड़ी देवी मुख्यमंत्री रहीं लेकिन इस दौरान सत्ता लालू ही चलाते रहे। ये वो दौर था, जब बिहार में हत्या और अपहरण एक ‘उद्योग’ बन चुका था, एक कारोबार था, पैसे कमाने का एक जरिया था। राजनेताओं, अधिकारियों और माफियाओं का ऐसा गठजोड़ इसके पहले कहीं देखा ही नहीं गया।

सबसे पहले बात आँकड़ों की कर लेते हैं। अगर सिर्फ लालू राज के अंतिम वर्ष 2005 की ही बात करें तो उस साल 3471 हत्याएँ हुईं। साथ ही 251 अपहरण की वारदातें हुईं और बलात्कार की 1147 घटनाएँ हुईं। इसके एक साल और पीछे जाएँ तो 2004 में बिहार में हत्या के 3948 मामले आए थे। इसी तरह रंगदारी के लिए अपहरण 411 घटनाएँ और बलात्कार की 1390 घटनाएँ दर्ज की गई थीं।

एक और समस्या जो लालू यादव और राजद के काल में सबसे ज्यादा बढ़ रही रही, वो थी नक्सली हमलों की घटनाएँ। लालू यादव की पार्टी के कई नेताओं के नक्सलियों के साथ साँठ-गाँठ थे और वोट बैंक की राजनीति के कारण उन्हें अपने पाले में रखा करते थे। परिणाम ये हुआ कि हर महीने बड़ी नक्सली घटनाएँ होती थीं। अगर लालू-राबड़ी के अंतिम वर्ष 2005 की बात करें तो अकेले उस साल नक्सली हिंसा की 203 वारदातें हुई थीं।

2005 के अंत में नीतीश कुमार के सत्ता संभालते ही इन वारदातों में कमी आ गई। हालाँकि, 2005 में काफी दिनों तक राष्ट्रपति शासन भी लगा हुआ था लेकिन बिहार में एक तरह से लालू-राबड़ी की ही चल रही थी क्योंकि लालू यादव तब केंद्र की यूपीए-1 की सरकार में रेल मंत्री थे और लोकसभा में 22 सांसदों के साथ सरकार में उनका अच्छा-खासा दबदबा था। अपराधियों में 2006 से भय का माहौल व्याप्त होता चला गया।

जब नीतीश कुमार ने 2010 में अपना पहला कार्यकाल पूरा किया, तब तक 50,000 अपराधियों को सजा दिलवाई जा चुकी थी। ये वो प्रक्रिया थी, जो लालू यादव के जंगलराज वाले काल में एकदम से रुकी हुई थी। कई हत्याओं का मामला कोर्ट तो दूर, पुलिस स्टेशन भी नहीं पहुँच पाता था क्योंकि लोगों को सीधा गायब ही करा दिया जाता था। उन्हें कहाँ ठिकाने लगाया जाता था, इसका पता पुलिस तक को नहीं चल पाता था।

सीवान में सांसद शहाबुद्दीन का आतंक सबसे ज्यादा था। उसके खिलाफ खड़े होने वाले उम्मीदवारों पर गोलीबारी होती थी। उसके खिलाफ कार्रवाई करने वाले पुलिस अधिकारियों पर गोलीबारी होती थी। सीवान के वर्तमान जदयू सांसद ओम प्रकाश यादव और बिहार के वर्तमान डीजीपी एसके सिंघल इसके भुक्तभोगी हैं। जो विपक्षी उम्मीदवारों के पोस्टर लगाते थे, उन्हें गायब कर दिया जाता था। विपक्षी कार्यकर्ताओं की हत्या करा दी जाती थी।

बिहार में इस तरह के कई गुंडे-बदमाश थे, जिनमें से अधिकांश नेता और ठेकेदार थे। उनका पूरा का पूरा सिस्टम था। माफिया टेंडर लेते थे, विकास कार्यों का। अब आप समझ सकते हैं कि सड़कें कैसी बनती होंगी और कंस्ट्रक्शन कैसे होता होगा। नेता ही अपहरण-हत्या उद्योग के अभिभावक हुआ करते थे। एक अपराधी जब नेता बन जाता था तो वो सौ नए अपराधियों को पालता था। इस तरह से ये ‘उद्योग’ बढ़ता ही चला गया।

अगर कुल अपराध की बात करें तो 2004 में हत्या की 3861, डकैती की 1297, दंगे के 9199, और अपहरण के 2566 मामले दर्ज किए गए थे। इसी तरह 2003 में हत्या की 3652 और अपहरण की 1956 वारदातें दर्ज की गईं। वहीं 8189 दंगे हुए। आप देख सकते हैं कि ये वो काल था, जब बिहार में 10,000 के आसपास दंगे हर साल हुआ करते थे। 2005-10 में ये आँकड़े काफी ज्यादा सुधरे।

ये वो समय था, जब जनप्रतिनिधि तक सुरक्षित नहीं थे। विधायक अजीत सरकार हों, विधायक देवेंद्र दुबे हों, विधायक का चुनाव लड़ रहे छोटन शुक्ला हों या फिर मंत्री बृजबिहारी प्रसाद – ये लोग रंजिशों में ही मारे गए। यहाँ तक कि अधिकारी भी सुरक्षित नहीं थे। IAS अधिकारी बीबी विश्वास की पत्नी चम्पा विश्वास, उनकी माँ, भतीजी और 2 मेड्स के साथ बलात्कार की घटना हुई। डीएम जी कृष्णैया की मॉब लिंचिंग हो गई।

और सरकार क्या कर रही थी? सत्ताधीश लालू यादव खुद घोटालों में व्यस्त थे। आज भी वो चारा घोटाला मामले में जेल में बंद हैं। इस मामले में उनके साथ-साथ कई अधिकारी और नेता भी नपे हैं। यानी, सब मिल-जुल कर जनता का पैसा खाने में लगे हुए थे और जहाँ जानवरों का चारा तक सत्ता में बैठे नेता खा जाते थे, वहाँ बाकी विकास परियोजनाओं का क्या हाल होता होगा। ऐसे कई घोटाले हुए, जिसने बिहार के खजाने को ही बर्बाद कर के रख दिया।

बची-खुची कसर लालू यादव के दोनों साले पूरा कर दिया करते थे। सुभाष यादव और साधु यादव का दबदबा ऐसा था कि लालू यादव की बेटियों की शादी होती थी तो गाड़ियों के शोरूम ही खाली कर लिए जाते थे और इस तरह बिहार में कोई कारोबार करना ही नहीं चाहता था। उन शादियों पर सरकारी खजानों से 100 करोड़ खर्च होते थे और 25,000 अतिथियों को खिलाया जाता था। अधिकारीगण जनता की सेवा नहीं, नेता की चापलूसी में लगा दिए जाते थे।

ऊपर से जंगलराज के दौरान लालू यादव विकास पर पूछे गए सवालों को और जनता की समस्याओं को हवा में उड़ा दिया करते थे। हेमा मालिनी और ममता कुलकर्णी के बारे में उनके बयान सुर्खियाँ बना करते थे। जब बिहार में बाढ़ आता था तो वो कहते थे कि इससे लोगों के घरों में मछलियाँ आएँगी और वो पका कर खा सकेंगे। जब अच्छी सड़कें बनवाने की बातें आती थी तो वो कहते थे कि इससे जानवरों के खुर (पाँव का निचला हिस्सा) उखड़ जाएँगे।

तब बिहार राज्य की स्थिति ऐसी थी कि जिनके पास रुपए और संपत्ति थी, वो भी अच्छी लाइफस्टाइल में नहीं जी सकते थे। अगर किसी ने कार तक खरीद लिया तो वो अपहरण उद्योग के रडार पर आ जाता था। डॉक्टरों के क्लिनिक चल गए, इंजीनियरों को बड़ा प्रोजेक्ट मिल गया, वकीलों की वकालत चल पड़ी या फिर किसी कारोबारी की दुकान पर भीड़ जुटने लगी – उसे तुरंत अपराधियों का समन आता था और उसे जेब ढीले करने पड़ते थे।

तब स्थिति ऐसी थी कि अगर घर का कोई व्यक्ति ज़रूरी काम से भी बाहर गया हो और वो शाम के 6 बजे से पहले घर नहीं लौटे तो परिवार और रिश्तेदारों में कोहराम मच जाता था। कब, किसे, कौन और कहाँ मार कर फेंक दे – कुछ पता नहीं था। लाशें बरामद होती थीं और लोगों की धड़कनें बढ़ती थीं कि कहीं ये उनका कोई अपना तो नहीं। रोजगार और शिक्षा की बात तो छोड़ ही दीजिए। इन दोनों मामलों में न काम हुआ, न इसकी ज़रूरत समझी गई।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हंसा रिसर्च ने ET की रिपोर्ट का नकारा, कहा- रिपब्लिक के साथ कोई बिजनेस डील नहीं, मुंबई पुलिस द्वारा फैलाया गया ‘सफेद झूठ’

“हंसा रिसर्च में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि रिपब्लिक टीवी के साथ इसका कोई व्यापारिक लेन-देन नहीं हुआ है और न ही चैनल को कोई भुगतान किया गया है और न ही इसे चैनल से प्राप्त किया गया है।"

‘थाना प्रभारी रंजीत मंडल ने इंजीनियर आशुतोष पाठक के कपड़े उतारे, की बर्बरता’: हत्या का मामला दर्ज, किए गए सस्पेंड

एसपी ने कहा कि इस पूरे मामले की निष्पक्ष जाँच हो, इसीलिए थानाध्यक्ष को सस्पेंड किया गया। पुलिस ने अपनी 'डेथ रिव्यू रिपोर्ट' में आशुतोष के शरीर पर चोट के निशान मिलने की पुष्टि की है।

नूँह कॉन्ग्रेस MLA आफताब अहमद हैं निकिता के हत्यारे तौसीफ के चाचा, कहा- हमें नहीं थी हथियार की जानकारी

कॉन्ग्रेस के पूर्व MLA और पूर्व मंत्री खुर्शीद अहमद निकिता के हत्यारे के चचेरे दादा लगते हैं। इसी तरह वर्तमान में मेवात के नूँह से कॉन्ग्रेस MLA आफताब अहमद उसके चाचा हैं।

मोदी को क्लीन चिट देने पर दिल्ली में बैठे विरोधियों ने किया था उत्पीड़न: CBI के पूर्व निदेशक का खुलासा

"उन्होंने मेरे खिलाफ याचिकाएँ दायर कीं, मुझ पर CM का पक्ष लेने का आरोप लगाया। टेलीफोन पर मेरी बातचीत की निगरानी के लिए केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग भी किया"

जौनपुर की जामा मस्जिद में मिस्र शैली की नक्काशी है या अटाला देवी मंदिर के विध्वंस की छाप?

सुल्तान ने निर्देश दिए थे कि अटाला देवी मंदिर को तोड़कर उसकी जगह मस्जिद की नींव रखी जाए। 1408 ई में मस्जिद का काम पूरा हुआ। आज भी खंबों पर मूर्ति में हुई नक्काशी को ध्वस्त करने के निशान मिलते हैं।

‘मुस्लिम बन जा, निकाह कर लूँगा’: तौसीफ बना रहा था निकिता पर धर्मांतरण का दबाव- मृतका के परिवार का दावा

तौसीफ लड़की से कहता था, 'मुस्लिम बन जा हम निकाह कर लेंगे' मगर जब लड़की ने उसकी बात नहीं सुनी तो उसकी गोली मार कर हत्या कर दी।

प्रचलित ख़बरें

अपहरण के प्रयास में तौसीफ ने निकिता तोमर को गोलियों से भूना, 1 माह पहले ही की थी उत्पीड़न की शिकायत

तौसीफ ने छात्रा पर कई बार दोस्ती और धर्मांतरण के लिए दबाव भी बनाया था। इससे इनकार करने पर तौसीफ ने 2018 में एक बार निकिता का अपहरण भी कर लिया था।

IAS अधिकारी ने जबरन हवन करवाकर पंडितों को पढ़ाया ‘समानता का पाठ’, लोगों ने पूछा- मस्जिद में मौलवियों को भी ज्ञान देंगी?

क्या पंडितों को 'समानता का पाठ' पढ़ाने वाले IAS अधिकारी मौलवियों को ये पाठ पढ़ाएँगे? चर्चों में जाकर पादिरयों द्वारा यौन शोषण की आई कई खबरों का जिक्र करते हुए ज्ञान देंगे?

निकिता तोमर हत्याकांड: तौसीफ के बाद अब रेवान भी गिरफ्तार, भाई ने कहा- अगर मुस्लिम की बेटी होती तो सारा प्रशासन यहाँ होता

निकिता तोमर की माँ ने कहा है कि जब तक दोषियों का एनकाउंटर नहीं किया जाता, तब तक वो अपनी बेटी का अंतिम-संस्कार नहीं करेंगी।

मदद की अपील अक्टूबर में, नाम लिख लिया था सितम्बर में: लोगों ने पूछा- सोनू सूद अंतर्यामी हैं क्या?

"मदद की गुहार लगाए जाने से 1 महीने पहले ही सोनू सूद ने मरीज के नाम की एक्सेल शीट तैयार कर ली थी, क्या वो अंतर्यामी हैं?" - जानिए क्या है माजरा।

जब रावण ने पत्थर पर लिटा कर अपनी बहू का ही बलात्कार किया… वो श्राप जो हमेशा उसके साथ रहा

जानिए वाल्मीकि रामायण की उस कहानी के बारे में, जो 'रावण ने सीता को छुआ तक नहीं' वाले नैरेटिव को ध्वस्त करती है। रावण विद्वान था, संगीत का ज्ञानी था और शिवभक्त था। लेकिन, उसने स्त्रियों को कभी सम्मान नहीं दिया और उन्हें उपभोग की वस्तु समझा।

‘मुस्लिम बन जा, निकाह कर लूँगा’: तौसीफ बना रहा था निकिता पर धर्मांतरण का दबाव- मृतका के परिवार का दावा

तौसीफ लड़की से कहता था, 'मुस्लिम बन जा हम निकाह कर लेंगे' मगर जब लड़की ने उसकी बात नहीं सुनी तो उसकी गोली मार कर हत्या कर दी।
- विज्ञापन -

मुंगेर हत्याकांड: नया वीडियो सामने आया जब गोली चलनी शुरू हुई

इसका एक और वीडियो सामने आया है, जिसमें पुलिस फोर्स की टीम दौड़ती हुई नजर आती है और फिर गोलियों की आवाज सुनाई देती है।

हंसा रिसर्च ने ET की रिपोर्ट का नकारा, कहा- रिपब्लिक के साथ कोई बिजनेस डील नहीं, मुंबई पुलिस द्वारा फैलाया गया ‘सफेद झूठ’

“हंसा रिसर्च में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि रिपब्लिक टीवी के साथ इसका कोई व्यापारिक लेन-देन नहीं हुआ है और न ही चैनल को कोई भुगतान किया गया है और न ही इसे चैनल से प्राप्त किया गया है।"

चाय स्टॉल पर शिवसेना नेता राहुल शेट्टी की 3 गोली मारकर हत्या, 30 साल पहले पिता के साथ भी यही हुआ था

वारदात से कुछ टाइम पहले राहुल शेट्टी ने लोनावला सिटी पुलिस स्टेशन में अपनी जान को खतरा होने की जानकारी पुलिस को दी थी।

‘थाना प्रभारी रंजीत मंडल ने इंजीनियर आशुतोष पाठक के कपड़े उतारे, की बर्बरता’: हत्या का मामला दर्ज, किए गए सस्पेंड

एसपी ने कहा कि इस पूरे मामले की निष्पक्ष जाँच हो, इसीलिए थानाध्यक्ष को सस्पेंड किया गया। पुलिस ने अपनी 'डेथ रिव्यू रिपोर्ट' में आशुतोष के शरीर पर चोट के निशान मिलने की पुष्टि की है।

नूँह कॉन्ग्रेस MLA आफताब अहमद हैं निकिता के हत्यारे तौसीफ के चाचा, कहा- हमें नहीं थी हथियार की जानकारी

कॉन्ग्रेस के पूर्व MLA और पूर्व मंत्री खुर्शीद अहमद निकिता के हत्यारे के चचेरे दादा लगते हैं। इसी तरह वर्तमान में मेवात के नूँह से कॉन्ग्रेस MLA आफताब अहमद उसके चाचा हैं।

महिलाओं की ही तरह अकेले पुरुष अभिभावकों को भी मिलेगी चाइल्ड केयर लीव: केंद्र सरकार का फैसला

केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने घोषणा की है कि जो पुरुष सरकारी कर्मचारी हैं और बच्चे का पालन अकेले कर रहे हैं, उन्हें अब चाइल्डकेयर लीव दी जाएगी।

फेक TRP स्कैम में मुंबई पुलिस द्वारा गवाहों पर दबाव बनाने वाले ऑपइंडिया के ऑडियो टेप स्टोरी पर CBI ने दी प्रतिक्रिया

कॉल पर पड़ोसी से बात करते हुए व्यक्ति बेहद घबराया हुआ प्रतीत होता है और बार-बार कहता है कि 10-12 पुलिस वाले आए थे, अगर ऐसे ही आते रहे तो.....

हाफिज सईद के बहनोई से लेकर मुंबई धमाकों के आरोपितों तक: केंद्र ने UAPA के तहत 18 को घोषित किया आतंकी

सरकार द्वारा जारी इस सूची में पाकिस्तान स्थित आतंकवादी भी शामिल हैं। इसमें 26/11 मुंबई हमले में आरोपित आतंकी संगठन लश्कर का यूसुफ मुजम्मिल, लश्कर चीफ हाफिज सईद का बहनोई अब्दुर रहमान मक्की...

निकिता तोमर हत्याकांड: तौसीफ के बाद अब रेवान भी गिरफ्तार, भाई ने कहा- अगर मुस्लिम की बेटी होती तो सारा प्रशासन यहाँ होता

निकिता तोमर की माँ ने कहा है कि जब तक दोषियों का एनकाउंटर नहीं किया जाता, तब तक वो अपनी बेटी का अंतिम-संस्कार नहीं करेंगी।

मोदी को क्लीन चिट देने पर दिल्ली में बैठे विरोधियों ने किया था उत्पीड़न: CBI के पूर्व निदेशक का खुलासा

"उन्होंने मेरे खिलाफ याचिकाएँ दायर कीं, मुझ पर CM का पक्ष लेने का आरोप लगाया। टेलीफोन पर मेरी बातचीत की निगरानी के लिए केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग भी किया"

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
79,357FollowersFollow
338,000SubscribersSubscribe