Wednesday, September 29, 2021
Homeविचारराजनैतिक मुद्देहिंदू वोट चाहिए, हिंदू भीड़ चाहिए लेकिन... देवी-देवता नहीं: कॉन्ग्रेसी राहुल गाँधी का यह...

हिंदू वोट चाहिए, हिंदू भीड़ चाहिए लेकिन… देवी-देवता नहीं: कॉन्ग्रेसी राहुल गाँधी का यह राजनीतिक दर्शन या रणनीति?

गणेश चतुर्थी के दिन गणेश जी नहीं... खिलाड़ी सुमित की फोटो से ॐ का लॉकेट क्रॉप... जन्माष्टमी पर शुभकामना वाले ट्वीट में भी कृष्ण भगवान गायब... क्या कॉन्ग्रेसी राहुल गाँधी जानबूझकर देवी-देवताओं को जगह नहीं देते?

सोशल मीडिया युग में बिना फोटो/क्रिएटिव के शुभकामनाएँ अधूरी लगती हैं। आज गणेश चतुर्थी के दिन यह बात फिर से साबित हुई। राहुल गाँधी ने एक क्रिएटिव अटैच करते हुए ट्विटर पर लोगों को गणेश चतुर्थी की शुभकामनाएँ दीं पर उस क्रिएटिव में गणेश जी नहीं दिखे। मोदक, दीया, फूल वगैरह तो थे पर गणेश जी नहीं। लोगों ने पूछा कि गणेश चतुर्थी पर बने क्रिएटिव में गणेश जी क्यों नहीं हैं? कुछ ने यह अनुमान भी लगाया कि शायद राहुल गाँधी ने जानबूझकर ऐसा किया है और क्रिएटिव में से गणेश जी को क्रॉप कर दिया। ऐसे अनुमान के पीछे कारण भी हैं। 


हाल ही में राहुल गाँधी द्वारा परालिम्पिक में स्वर्ण पदक जीतने वाले सुमित अंतील को बधाई देते हुए उन्हीं की एक फोटो का इस्तेमाल किया। राहुल गाँधी ने सुमित की जिस फोटो का इस्तेमाल किया था, उसमें उनके गले में ॐ का एक लॉकेट दिखाई दे रहा था जो राहुल गाँधी द्वारा इस्तेमाल किए गए फोटो में दिखाई नहीं दे रहा था। इसकी वजह ने सोशल मीडिया यूजर्स ने राहुल की आलोचना करते हुए यह कहा कि उन्होंने जानबूझकर उसे क्रॉप कर दिया क्योंकि उन्हें हिन्दुओं के देवी-देवताओं और उनके धार्मिक प्रतीकों से चिढ़ है।

आज भी कई ट्विटर यूजर्स की यही शिकायत थी। अधिकतर शिकायतें यह कहते हुए की गई कि राहुल गाँधी ने जानबूझकर गणेश जी को क्रिएटिव से निकाल दिया। कुछ शिकायतों का आधार यह था कि गणेश चतुर्थी पर बधाई के लिए ऐसा क्रिएटिव कौन इस्तेमाल करता है, जिसमें गणेश जी की उपस्थिति ही न हो? यह प्रश्न मुझे तर्कपूर्ण लगता है।

हिन्दू देवी-देवताओं में सबसे अधिक लोकप्रिय गणेश जी ही हैं। मूर्तिकार भी सबसे अधिक उनकी ही प्रतिमाएँ और मूर्तियाँ बनाते हैं। ऐसे में गणेश चतुर्थी के दिन क्रिएटिव बनाने वाला कोई व्यक्ति उन्हें ही कैसे भूल सकता है? ऐसे में यदि कोई शंका जाहिर करे तो इस बात में आश्चर्य कैसा? 

राहुल गाँधी इस समय वैष्णो देवी के दर्शन खातिर जम्मू की यात्रा पर हैं। तो क्या यह यात्रा दिखावे की है? क्या यह साबित करने के लिए है कि राहुल गाँधी हिन्दू हैं? कोई हिन्दू है, यह बात बार-बार साबित करने की आवश्यकता क्यों पड़ती है? वैसे भी जो दो दिनों की धार्मिक यात्रा पर है, वह गणेश चतुर्थी पर ऐसा क्रिएटिव इस्तेमाल करने की सोचेगा जिसमें गणेश जी न हों? हाल ही में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर शुभकामना वाले ट्वीट के साथ अटैच किए गए क्रिएटिव में भी श्रीकृष्ण नहीं थे।

ऐसे में यह कहा जा सकता है कि कहीं न कहीं यह राहुल गाँधी या कॉन्ग्रेस पार्टी का राजनीतिक दर्शन है कि हिंदू देवताओं या हिंदू प्रतीकों का इस्तेमाल नहीं करना है। यदि ऐसा है तो फिर लोगों की यह शिकायत तथ्यपूर्ण है कि वे अपने ट्वीट में जानबूझकर देवी-देवताओं या हिन्दू धार्मिक प्रतीकों को जगह नहीं देते। 

यदि पिछले कुछ वर्षों की राजनीति की जाँच हो तो पता चलेगा कि एक नेता के तौर पर राहुल गाँधी और एक दल के तौर पर कॉन्ग्रेस का इस बात में पुख्ता विश्वास है कि राजनीति में सच से अधिक महत्वपूर्ण धारणाएँ होती हैं। ऐसे में यह आश्चर्य की बात है कि धारणाओं में विश्वास करने वाला नेता और उसका दल किन परिस्थितियों में देश के हिंदुओं के मन में पनपने वाली धारणाओं को नहीं समझ रहे?

अगले वर्ष कई राज्यों में चुनाव होने हैं। हिंदू वोट लेने की कवायद में कॉन्ग्रेस पार्टी असम में अपने मित्र बदरुद्दीन अज़मल से किनारा कर चुकी है पर उसके नेता हिंदुओं के साथ अपने संवाद में हिंदुओं के देवी-देवताओं और धार्मिक प्रतीकों का इस्तेमाल करने से क्यों बचते हैं? यह ऐसा प्रश्न है जिसका उत्तर राहुल गाँधी ही दे सकते हैं। 

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘उमर खालिद को मिली मुस्लिम होने की सजा’: कन्हैया के कॉन्ग्रेस ज्वाइन करने पर छलका जेल में बंद ‘दंगाई’ के लिए कट्टरपंथियों का दर्द

उमर खालिद को पिछले साल 14 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था, वो भी उत्तर पूर्वी दिल्ली में भड़की हिंसा के मामले में। उसपे ट्रंप दौरे के दौरान साजिश रचने का आरोप है

कॉन्ग्रेस आलाकमान ने नहीं स्वीकारा सिद्धू का इस्तीफा- सुल्ताना, परगट और ढींगरा के मंत्री पदों से दिए इस्तीफे से बैकफुट पर पार्टी: रिपोर्ट्स

सुल्ताना ने कहा, ''सिद्धू साहब सिद्धांतों के आदमी हैं। वह पंजाब और पंजाबियत के लिए लड़ रहे हैं। नवजोत सिंह सिद्धू के साथ एकजुटता दिखाते हुए’ इस्तीफा दे रही हूँ।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
125,039FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe