Wednesday, April 1, 2020
होम विचार राजनैतिक मुद्दे प्यारे मोदी-विरोधी चिलगोजों, PM ने ताली बजाने को कहा तो तुम्हारे अंतःपुर में खुजली...

प्यारे मोदी-विरोधी चिलगोजों, PM ने ताली बजाने को कहा तो तुम्हारे अंतःपुर में खुजली क्यों हो रही है?

ये ध्वनि न केवल मोदी द्वारा राष्ट्र रक्षकों के सम्मान के लिए है, बल्कि तुम हरे-पिले और 'चिलगोजों' के दिलों-दिमाग के लिए भी फायदेमंद है। लेकिन, तुम्हें तो मोदी-विरोध करना है, अब भले चाहे तुम्हारा दिमाग खराब रहे, दिल-गुर्दे फ्यूज हो जाएँ या फिर तुम्हारे अंतःपुर में खुजली होती रहे।

ये भी पढ़ें

Praveen Kumarhttps://praveenjhaacharya.blogspot.com
बेलौन का मैथिल

“देख लो साथियों, जहाँ ट्रम्प और जिनपिंग ने कोरोना से बचने को करोड़ों खर्च कर डाले, वहीं हमारा फेकू मोदी भाषण से काम चला रहा है।”
“चीन, अमेरिका और यूरोपीय देशों ने क्या-क्या न किया कोरोना भगाने को और ये फासिस्ट मोदी हमसे घंटी बजवा रहा है।”
“सभी बड़े और समझदार देश इलाज बात कर रहे हैं और मूर्ख मोदी “जनता कर्फ्यू” लगवा रहा है।”

ये सब मैं नहीं बल्कि हमारे देश का ‘कामपंथी व चमनजी’ समाज कह रहा है। ये वह समाज है जिससे मोदी कह दें कि विष्ठा मलद्वार से करनी चाहिए तो वह अपने मुख से करने लगेगा। इनका ऑक्सीजन भी मोदी-विरोध है। इनका गड़बड़ाया पाचन तंत्र भी मोदी को गाली देकर दुरुस्त होता है। इस समाज के गाँजा और सेक्स लाइफ का एक्स फैक्टर है मोदी विरोध। घंटी वाली क्या बात कही मोदी ने? उन्होंने कहा था:

“डॉक्टर, नर्स, हॉस्पिटल स्टाफ, सैनिटेशन वर्कर, एयरलाइन्स कर्मचारी, सरकारी कर्मचारी, पुलिस बल, मीडिया कर्मचारी, ट्रेन, बस/ऑटो ऑपरेटर और होम डिलिवरी से सम्बद्ध लोग- इन सबों ने हमारे लिए अपनी जान जोखिम में डाल कर और निस्वार्थ होकर हमें जो सेवाएँ दी हैं, वो साधारण कार्य नहीं है। ये सभी लोग हमारे और कोरोना के बीच राष्ट्र के रक्षक के रूप में मजबूती से खड़े हैं। राष्ट्र इन सभी का आभारी है। मेरी इच्छा है कि 22 मार्च रविवार को हम ऐसे सभी लोगों का आभार व्यक्त करें। रविवार को ठीक 5 बजे, हम सभी अपने घरों के दरवाजे, बॉलकनी खिड़कियों पर खड़े हों और 5 मिनट का स्टैंडिंग ओवेशन दें। हम अपने हाथों से तालियाँ बजा कर, बर्तन पीट कर या घंटियाँ बजा कर इन सबकी सेवा को सलाम करें।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

अब आप बताइए की ‘चमनजी’ और कामपंथियों की सभी शाखाओं को किसी की सेवा के प्रति आभार जताने से भी आपत्ति है। कोई तुम्हारी जान के लिए अपनी जान जोखिम में डाल रहा है और तुम्हें उन्हें सल्यूट करने पर आपत्ति है? देखो ‘चमनाधिपतियों’ और कॉन्ग्रेस+वामपंथ के गठबंधन से बने ‘कामपंथियों’, अपना स्टैंड क्लियर करो। ऐसे राष्ट्र-रक्षकों को सम्मान मिलने से समस्या क्या है तुम्हें या फिर घंटी, तालियों और बर्तन की आवाज से दिक्कत है? यूँ तो आपलोग बहुत पढ़ते हो (हालाँकि, ‘कामशास्त्र और सूराशास्त्र’ के अलावा क्या पढ़ते हो- मुझे नहीं पता)। लेकिन आओ, इसी बहाने कुछ ज्ञान की बातें बताता जाऊँ।

थोड़ा पल्मिस्ट्री और थोड़ा एक्यूप्रेशर पढ़ोगे तो ज्ञान पाओगे कि ताली बजाने से न केवल शरीर का ब्लड सर्कुलेशन ठीक होता है बल्कि, यह हार्ट, साँस सम्बन्धी समस्याओं को भी कम करता है। इससे डायबेटिक्स को भी आराम मिलता है। जिन्होंने अब तक कोरोना को पढ़ा व समझा होगा, उन्होंने इसमें होने वाली साँस सम्बन्धी समस्या और डायबेटिक्स वालों के खतरे को भी पढ़ा ही होगा। यूँ तो ताली बजने से हुए एक्यूप्रेशर से बैक, नेक और ज्वाइंट पेन भी ठीक होता है, डिप्रेशन भी कम होता और बच्चों का दिमाग दुरुस्त होता है, लेकिन तुम लोगों का क्या? तुम्हारा तो दिमाग अब न बच्चों का रहा और न बचा हुआ।

अब आओ बताता हूँ कि बर्तन पीटने और घंटियाँ बजाने का क्या असर होता है। सबसे बड़ा फायदा तो तुम ‘चिलगोजों’ को ये मिलेगा कि इस ध्वनि से तुम्हारे अंदर की नेगेटिविटी कम होगी। हाँ! बर्तन, करताल और घंटियों में इस्तेमाल होने कुछ धातुओं को पीटने से जो स्पंदन उत्पन्न होता है वो 7-10 सेकंड तक हमारे कानों में लगातार पड़ता है। यह ध्वनि न केवल रिचुअल है, बल्कि हमारे शरीर पर इसके कई सारे सकारात्मक परिणाम भी हैं। जैसे, हमारी एकाग्रता का बढ़ना, हमारे लेफ्ट और राइट ब्रेन को बैलेंस्ड करना, आँखों देखी का ब्रेन द्वारा बेहतर और जल्द समझना, श्रवण शक्ति को समझने में सुधार, हार्ट की ब्लड पम्पिंग में बैलेंस, शरीर के सातों हीलिंग सेंटर को एक्टिवट करना।

हमारी सेंसिंग को बेहतर करना और हमारे मेन्टल डिसऑर्डर को ठीक करना भी इसके सकारात्मक परिणाम हैं। कुल मिलाकर ये ध्वनि न केवल मोदी द्वारा राष्ट्र रक्षकों के सम्मान के लिए है, बल्कि तुम हरे-पिले और ‘चिलगोजों’ के दिलों-दिमाग के लिए भी फायदेमंद है। लेकिन, तुम्हें तो मोदी-विरोध करना है। अब भले चाहे तुम्हारा दिमाग खराब रहे, दिल-गुर्दे फ्यूज हो जाएँ या फिर तुम्हारे अंतःपुर में खुजली होती रहे।

मोदी ने सरकारी व्यवस्थाएँ नहीं दुरुस्त की और भाषण देने आ गया। क्या कर दे मोदी उपलब्ध व्यवस्था और उसको भी न मानने वाले हम महान लोगों के लिए फिर? अपने मुँह में सैनिटाइजर लगा कर स्प्रे करे या फिर आकर जनता के हाथों पर साबुन मले? दुनिया कह रही है की प्रिवेंशन ही इलाज है इसका। कोई सरकार और कोई स्वास्थ्य सुविधा कुछ नहीं कर सकती इसका। फिर किसका इलाज नहीं हुआ अब तक देश में? किसको कहीं मरने को छोड़ दिया मोदी ने? प्यारे ‘चिलगोजों’, इस वायरस चेन को ब्रेक कर ही रोका जा सकता है। ये तो तुम्हें पता है न? तुम्हारे पास इस चेन ब्रेक के लिए 24 घंटे के जनता कर्फ्यू से बेहतर कोई उपाय हो तो कहो। मुँह से ही कहो न क्योंकि अब तक तो शायद मोदी ने ये कहा नहीं है- “मेरे प्यारे देशवासियों, हमें मुँह से बोलना चाहिए” कि तुम लोग कहीं और से बोलने लगो। तो मेरे प्यारों, समस्या के समाधान में हाथ नहीं बँटा सकते हो, ठीक है, चलेगा। मगर कुछ हो रहा उस पर हंगामा कर समस्या तो न बढ़ाओ।

- ऑपइंडिया की मदद करें -
Support OpIndia by making a monetary contribution

ख़ास ख़बरें

Praveen Kumarhttps://praveenjhaacharya.blogspot.com
बेलौन का मैथिल
Searched termsdelhi corona, kejriwal corona, delhi lock down, kejriwal lock down, कोरोना से मौत, कोरोना मरीजों की संख्या, ऑल इंडिया सूफी उलेमा काउंसिल, ऑल इंडिया सूफी उलेमा काउंसिल जनता कर्फ्यू, west bengal, west bengal janta curfew, mamata banerjee janta curfew, west bengal corona virus, mamata banerjee corona virus, ममता बनर्जी जनता कर्फ्यू, बंगाल जनता कर्फ्यू, ममता बनर्जी कोरोना, बंगाल कोरोना, रमाकांत यादव सपा, रमाकांत यादव एफआईआर, रमाकांत यादव कोरोना, कोरोना इटली, इटली में फंसे भारतीय, जनता कर्फ्यू, janta curfew, नवरात्रि पर मोदी के नौ आग्रह, कोरोना बांग्लादेश, कोरोना ईरान, कोरोना भारतीय, कोरोना कर्नाटक, Covid-19, Coronavirus, coronavirus india, coronavirus news, coronavirus symptoms, coronavirus update, कोरोना वायरस, कोरोना वायरस इंडिया, इंडिया ट्रैवल बैन, इंडिया वीजा, कोरोना से मौत, कोरोना से भारत में पहली मौत, corona disater,Covid 19 disater, corona update, कोरोना वायरस अपडेट, कोरोना सार्क, कोरोना मोदी, Coronavirus SAARC, Corona कांग्रेस, कोरोना कांग्रेस, Corona राहुल गांधी, Corona आनंद शर्मा, कोरोना राहुल गांधी, कोरोना आनंद शर्मा, कोरोना से मौत, कोरोना के मरीज, कोरोना दवा, कोरोना टीका, कोरोना इलाज, कोरोना ट्रंप, कोरोना अमेरिका

ताज़ा ख़बरें

फैक्ट चेक: क्या तबलीगी मरकज की नौटंकी के बाद चुपके से बंद हुआ तिरुमला तिरुपति मंदिर?

मरकज बंद करने के फ़ौरन बाद सोशल मीडिया पर एक खबर यह कहकर फैलाई गई कि आंध्रप्रदेश में स्थित तिरुमाला के भगवान वेंकेटेश्वर मंदिर को तबलीगी जमात मामला के जलसे के सामने आने के बाद बंद किया गया है।

इंदौर: कोरोनो वायरस संदिग्ध की जाँच करने गई मेडिकल टीम पर ‘मुस्लिम भीड़’ ने किया पथराव, पुलिस पर भी हमला

मध्य प्रदेश का इंदौर शहर सबसे अधिक कोरोना महामारी की चपेट में है, जहाँ मंगलवार को एक ही दिन में 20 नए मामले सामने आए, जिनमें 11 महिलाएँ और शेष बच्चे शामिल थे। साथ ही मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 6 हो गई है।

योगी सरकार के खिलाफ फर्जी खबर फैलानी पड़ी महँगी: ‘द वायर’ पर दर्ज हुई FIR

"हमारी चेतावनी के बावजूद इन्होंने अपने झूठ को ना डिलीट किया ना माफ़ी माँगी। कार्रवाई की बात कही थी, FIR दर्ज हो चुकी है आगे की कार्यवाही की जा रही है। अगर आप भी योगी सरकार के बारे में झूठ फैलाने के की सोच रहे है तो कृपया ऐसे ख़्याल दिमाग़ से निकाल दें।"

बिहार की एक मस्जिद में जाँच करने पहुँची पुलिस पर हमले का Video, औरतों-बच्चों ने भी बरसाए पत्थर

विडियो में दिख रही कई औरतों के हाथ में लाठी है। एक लड़के के हाथ में बल्ला दिख रहा है और वह लगातार मार, मार... चिल्ला रहा। भीड़ में शामिल लोग लगातार पत्थरबाजी कर रहे हैं। खेतों से किसी तरह पुलिसकर्मी जान बचाकर भागते हैं और...

तबलीगी जमात वालों ने अस्पताल के क्वारंटाइन में भी डॉक्टरों पर थूका, बदतमीजी जारी है

ये लोग सुबह से किसी की नहीं सुन रहे थे और खाने की चीजों की अनुचित माँग कर रहे थे। उन्होंने क्वारंटाइन सेंटर में कर्मचारियों के साथ दुर्व्यवहार किया। यही नहीं, उन्होंने वहाँ पर मौजूद डॉक्टरों समेत अन्य काम करने वाले सभी लोगों पर थूकने लगे।

मजनू-का-टीला गुरुद्वारे में फँसे सिखों को एक स्कूल में किया गया शिफ्ट, मनजिंदर सिंह सिरसा ने की थी सरकार से अपील

देश में घोषित किए गए लॉकडाउन के बीच 28 मार्च से उत्तरी दिल्ली के मजनू-का-टीला गुरुद्वारा में फँसे सिखों को दिल्ली सरकार ने नेहरू विहार के एक स्कूल में शिफ्ट करने का फैसला किया है। साथ ही सरकार ने फैसला लिया है कि सभी लोगों को क्वारंटाईन करके जाँच के लिए उनके सैंपल लिए जाएँगे।

प्रचलित ख़बरें

रवीश है खोदी पत्रकार, BHU प्रोफेसर ने भोजपुरी में विडियो बनाके रगड़ दी मिर्ची (लाल वाली)

प्रोफेसर कौशल किशोर ने रवीश कुमार को सलाह देते हुए कहा कि वो थोड़ी सकारात्मक बातें भी करें। जब प्रधानमंत्री देश की जनता की परेशानी के लिए क्षमा माँग रहे हैं, ऐसे में रवीश क्या कहते हैं कि देश की सारी जनता मर जाए?

800 विदेशी इस्लामिक प्रचारक होंगे ब्लैकलिस्ट: गृह मंत्रालय का फैसला, नियम के खिलाफ घूम-घूम कर रहे थे प्रचार

“वे पर्यटक वीजा पर यहाँ आए थे लेकिन मजहबी सम्मेलनों में भाग ले रहे थे, यह वीजा नियमों के शर्तों का उल्लंघन है। हम लगभग 800 इंडोनेशियाई प्रचारकों को ब्लैकलिस्ट करने जा रहे हैं ताकि भविष्य में वे देश में प्रवेश न कर सकें।”

जान-बूझकर इधर-उधर थूक रहे तबलीग़ी जमात के लोग, डॉक्टर भी परेशान: निजामुद्दीन से जाँच के लिए ले जाया गया

निजामुद्दीन में मिले विदेशियों ने वीजा नियमों का भी उल्लंघन किया है, ऐसा गृह मंत्रालय ने बताया है। यहाँ तबलीगी जमात के मजहबी कार्यक्रम में न सिर्फ़ सैकड़ों लोग शामिल हुए बल्कि उन्होंने एम्बुलेंस को भी लौटा दिया था। इन्होने सतर्कता और सोशल डिस्टन्सिंग की सलाहों को भी जम कर ठेंगा दिखाया।

बिहार के मधुबनी की मस्जिद में थे 100 जमाती, सामूहिक नमाज रोकने पहुँची पुलिस टीम पर हमला

पुलिस को एक किमी तक समुदाय विशेष के लोगों ने खदेड़ा। उनकी जीप तालाब में पलट दी। छतों से पत्थर फेंके गए। फायरिंग की बात भी कही जा रही। सब कुछ ऐसे हुआ जैसे हमले की तैयारी पहले से ही हो। उपद्रव के बीच जमाती भाग निकले।

मंदिर और सेवा भारती के कम्युनिटी किचेन को ‘आज तक’ ने बताया केजरीवाल का, रोज 30 हजार लोगों को मिल रहा खाना

सच्चाई ये है कि इस कम्युनिटी किचेन को 'झंडेवालान मंदिर कमिटी' और समाजसेवा संगठन 'सेवा भारती' मिल कर रही है। इसीलिए आजतक ने बाद में हेडिंग को बदल दिया और 'कैसा है केजरीवाल का कम्युनिटी किचेन' की जगह 'कैसा है मंदिर का कम्युनिटी किचेन' कर दिया।

ऑपइंडिया के सारे लेख, आपके ई-मेल पे पाएं

दिन भर के सारे आर्टिकल्स की लिस्ट अब ई-मेल पे! सब्सक्राइब करने के बाद रोज़ सुबह आपको एक ई-मेल भेजा जाएगा

हमसे जुड़ें

170,197FansLike
52,766FollowersFollow
209,000SubscribersSubscribe
Advertisements