विपक्ष और मीडिया का अंतिम तीर, जो कैक्टस बन कर उन्हीं को चुभने वाला है (भाग 1)

आप इस बात पर सवाल कीजिए कि आखिर जिस साम्प्रदायिकता की बात इन मीडियावालों ने खूब बेची है, वो आखिर है क्या? उसका आधार क्या है? क्या भाजपा से ताल्लुक़ रखना, मोदी के समर्थन में खड़े होना, भगवा कपड़े पहनना, तिलक लगाना ही साम्प्रदायिकता है?

आवारगी में हद से गुज़र जाना चाहिए,
लेकिन कभी-कभार तो घर जाना चाहिए

देश में दस लाख पोलिंग बूथ थे, लाखों EVM का इस्तेमाल हुआ, लगभग 60 करोड़ लोगों ने मतदान किया, हजारों सुरक्षा बलों और चुनाव कर्मचारियों ने इसे संपन्न कराया। पूरे चुनाव तक माहौल यही रहा कि राज्यवार गठबंधन काम कर जाएँगे, कॉन्ग्रेस ने तीन राज्य जीते तो क्या पता लोकसभा में भी चकित कर दे, क्या पता लोग राफेल और ‘चौकीदार चोर है’ को सच मान लें…

एक ओर ये चलता रहा और दूसरी ओर एग्जिट पोल्स ने कुछ और ही मामला बना दिया। मूर्ख-से-मूर्ख व्यक्ति भी उमर अब्दुल्ला की सलाह मान कर ये मन बना लेगा कि दस में से नौ संस्था भाजपा को बहुमत दे रही है तो, कुछ तो कारण रहा होगा। लेकिन कुछ लोगों ने एक अंतिम जोर लगाना बेहतर समझा है। वो लोग कौन हैं, उन्हें किसका समर्थन प्राप्त है, उनका लक्ष्य क्या है, ये हम और आप जानते हैं। फिर भी इस पर विस्तार से चर्चा बहुत आवश्यक है क्योंकि यही तय करेगा कि भारत का भविष्य क्या है।

विपक्ष का ‘बुलशिट’ वाला मिसाइल, जो इन्हीं की तरफ पलट गया है

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

विपक्ष की पूरा जोर इस बात पर रहा कि किसी भी तरह सत्ता उनमें से किसी भी के हाथ एक बार लग जाए, ताकि जो बड़े बदलाव इस देश में हो रहे हैं, जिससे इन पार्टियों को सीधे तौर पर नुकसान हुआ है, उन फ़ैसलों को पलट दिया जाए। जो केस चल रहे हैं, उन्हें रोक दिया जाए। जो फ़ंडिंग क़ानून की मदद से रोकी गई है, उसमें ढील दी जाए। पैसा इनका सूख चुका है, और जो कैश रिज़र्व था वो नोटबंदी में बेकार हो गया। अगर बेकार नहीं भी हुआ, तो उन्हें इसका हिसाब इनकम टैक्स वालों को देना ही होगा।

विपक्ष ने मुद्दे नहीं उठाए। विपक्ष ने सनसनी बनाने पर ज़्यादा ध्यान दिया। विपक्ष को समर्थन देने वाली मीडिया में भी वही सारी बातें होती रहीं जिनका आम जनता से कम, और विपक्ष की इमेज को बेहतर करने से ज्यादा वास्ता था। जस्टिस लोया की मौत को मुद्दा बनाया गया, गलत वित्तीय ज्ञान परोस कर अमित शाह के बेटे की कम्पनी को मुद्दा बनाया गया, अजित डोभाल के बेटों पर माहौल बनाने की कोशिशें हुई, नोटबंदी पर लाशें पैदा की गईं, जीएसटी पर उन व्यापारियों के नुकसान की बात हुई जो कहीं थे ही नहीं! कई ऐसी बातें कही गईं जिसे सुप्रीम कोर्ट ने कई बार नकार दिया गया।

डर और साम्प्रदायिकता का ज़हर विपक्ष ने फैलाया

अगर आप गौर से देखें तो साम्प्रदायिकता और मुसलमानों को डराने के नाम पर जो ज़हर विपक्ष और इनके समर्थन वाले मीडिया ने फैलाया है, वो सिर्फ ‘फ़ियर मॉन्गरिंग’ ही है। इस मामले में वामपंथी और छद्म-लिबरल गिरोह, पाक अकुपाइड पत्रकार और पत्रकारिता का समुदाय विशेष जिस तरह से नमक-पानी और सत्तू लेकर अपनी घृणा को तर्क और तथ्य बना कर बेचा है, वो गहन शोध का विषय है।

आप गौर से कुछ तथ्यों को देखिए। आप इस बात पर सवाल कीजिए कि आखिर जिस साम्प्रदायिकता की बात इन मीडियावालों ने खूब बेची है, वो आखिर है क्या? उसका आधार क्या है? क्या भाजपा से ताल्लुक़ रखना, मोदी के समर्थन में खड़े होना, भगवा कपड़े पहनना, तिलक लगाना ही साम्प्रदायिकता है? दंगे इस देश में सबसे ज़्यादा किन पार्टियों ने कराए? एक पैटर्न है दंगों का इस देश में। एक सपोर्ट सिस्टम है कान्ग्रेस और उनकी समर्थित पार्टियों का यहाँ पर।

अगर दंगे नहीं होंगे तो फिर ये तथाकथित सेकुलर पार्टियाँ वोट कैसे माँगेंगी? मुसलमानों को सिर्फ यह कहते रहना कि हिन्दू तुम्हें मार देगा, काम नहीं करता। इसलिए, मस्जिदों के बाहर सूअर और मंदिरों के बाहर गाय का सर फेंक कर दंगे कराना जरूरी हो जाता है कि अल्पसंख्यक इस नैरेटिव को सच मान ले। आप यह बात जान लीजिए कि दंगे स्वयं नहीं होते। दंगों के लिए पूरी व्यवस्था होती है। इस देश के सारे बड़े दंगे, कॉन्ग्रेस के केन्द्र या राज्य में रहते हुए ही हुए हैं। गोधरा में भी कारसेवकों को जलाया नहीं जाता, तो वो दंगा नहीं होता। कुछ दंगे एक पार्टी पर दाग लगाने के लिए किए गए।

अगर ऐसा नहीं है तो आप मुझे यह बताइए कि पिछले पंद्रह सालों में आपने किस दंगे की चर्चा सबसे ज्यादा सुनी? आप याद कीजिए कि गोधरा को दंगों का पर्याय कैसे बना दिया गया। आप यह याद कीजिए कि कैसे राजीव गाँधी जैसा दंगाई व्यक्ति इस देश की मीडिया का लाड़ला हो जाता है, और उसे डैशिंग और हैंडसम कह कर, उसके पापों को क्यूटनेस से धोने की बात की जाती है।

साम्प्रदायिकता और भाजपा दो अलग ध्रुव हैं। भाजपा कभी भी साम्प्रदायिक रही ही नहीं। अगर भाजपा साम्प्रदायिक है, तो फिर भारत की बाकी हर पार्टी उससे ज्यादा कट्टरपंथी रही है। हिन्दुओं को हितों की बात करना साम्प्रदायिकता नहीं है। पेपरों में भाजपा और भगवा को कम्यूनल होने का पर्याय बना देने से वो ऐसे नहीं हो जाते। क्या आपने इनसे आँकड़े माँगे कि बताओ और तुलनात्मक अध्ययन करो कि भाजपा ही साम्प्रदायिक क्यों है तुम्हारे लिए, और बाकी की पार्टियाँ कैसे साफ हो जाती हैं?

आशा की राजनीति

इस देश में आशाओं को भुनाने के लिए नायाब तरीके ढूँढ़े गए। इंदिरा ने गरीब को गरीब ही रहने दिया, ताकि ‘गरीबी हटाओ’ का नारा चिरकाल तक ‘न्याय’ के नाम से उनके पोते तक भुनाते रहें। लालू ने बिहार को साज़िशन निरक्षर रखने की योजना बनाई क्योंकि पढ़ा-लिखा बिहारी किसी घोटालेबाज़ को वोट क्यों देता! मायावती, मुलायम आदि ने एक जाति को दूसरे का डर दिखा कर अपनी नेतागीरी चमकाई।

किस पार्टी ने विशुद्ध विकास के मुद्दे पर राजनीति की है? किस पार्टी को सच में देश को हित से मतलब रहा है? आप गिनेंगे तो शायद उत्तर-पूर्व के कुछ मुख्यमंत्रियों और भाजपा को छोड़ कर आपको कोई याद नहीं आएगा। आखिर चुनावों में साम्प्रदायिकता सबसे बड़ा मुद्दा कैसे हो जाता है?

आखिर स्टूडियो में बैठे एंकर स्वयं ही यह रोना क्यों रोते हैं कि मुद्दों पर बात नहीं हो रही! वो खुद ही मुद्दे क्यों नहीं उठाते?

एडिटर्स गिल्ड और प्रेस क्लब क्या हैप्पी आवर में दारू और फ़िश फिंगर्स खाने के लिए बना है? कब इन संस्थाओं ने नेताओं को खिलाफ मोर्चा खोला और कहा कि बात इस पर होगी कि स्कूलों के शिक्षकों को वेतन नहीं मिल रहा, बात इस पर होगी कि अस्पतालों में बेड कम क्यों हैं, बात इस पर होगी कि शोध में पैसा कम क्यों है, बात इस पर होगी कि किसानों से सरकार सीधे उत्पाद क्यों नहीं ख़रीदती…

ऐसा नहीं होता क्योंकि मीडिया के चाटुकार-चम्पक-एंकरों का गिरोह राहुल गाँधी जैसे नालायक व्यक्ति को देश का भविष्य बताने पर तुला हुआ था। ऐसा नहीं होता क्योंकि ये पत्रकार अपना ज़मीर बेच कर एक व्यक्ति से खुले तौर पर घृणा करते हुए, नेताओं के साथ स्टेज पर खड़े दिखे। ऐसा इसलिए नहीं हुआ क्योंकि पत्रकारों के भीतर की नैतिकता मर चुकी थी, और संस्थानों की विचारधारा सर्वोपरि हो गई थी। यही कारण है कि ये एंकर, ये पत्रकार, ये रिपोर्टर, ये आलोचक, ये विश्लेषक हर बार उन बातों पर नैरेटिव बनाने की कोशिश में लगे हुए दिखे, जिससे किसी एक नेता की छवि बिगाड़ दी जाए।

मीडिया पूरी तरह से जनसामान्य से कटा हुआ दिखा, और स्टूडियो से कैम्पेनिंग में लगे लोगों ने बग़ल के गमले को छूकर भारत के खेतों की हालत पर रिपोर्टिंग कर दी। ये लोग कमरों में बैठ कर वोटरों का मूड और अंडरकरेंट बताने में लीन थे। जिन्हें धान और गेहूँ का फ़र्क़ नहीं पता, उन्होंने किसानों की स्थिति पर लेख लिखे। जिन्हें लोगों को व्यक्ति होने से पहले उनके हिन्दू या मुसलमान होने में रुचि थी, उन्होंने बताया कि निकाह हलाला में मौलवी के साथ किसी महिला को इच्छा के विरुद्ध भी सोना पड़े तो वो उनका अपना मसला है।

ये है आपकी मीडिया जिसे आपने अपना समय दिया, अपने विचार इन्हें सुन कर बनाए, जिन्हें सच मान कर दोस्तों से लड़ाइयाँ कीं। याद कीजिए कि कितनी बार आपने सच जानने के लिए दूसरी तरह की बातें खोजीं? ध्यान से सोचिए कि जब आप एक ही तरह के, एक ही जगह से, एक ही व्यक्ति से प्रभावित हो कर उसी आधार पर अपनी सूचना का चुनाव करते हैं, तो क्या आप सही मायनों में सच जानने को उत्सुक होते हैं, या फिर आपके लिए जो सही ‘लग’ रहा हो, जो सही होने का चोला ओढ़े हो, जो आपने पूर्वग्रहों को संतुष्ट करता है, उसे चाहते हैं कि वही सच हो?

दोनों स्थिति में बहुत अंतर है। आप जो चाहते हैं कि वो सच हो जाए, वो कई बार सच नहीं होता। आपको लगता होगा कि जुनैद की हत्या गोमाँस के कारण हुई, जबकि सत्य यह है कि वो सीट के झगड़े में मारा गया। आपको लगता होगा कि रोहित वेमुला की आत्महत्या राजनीतिक थी, जबकि उसने अपने सुसाइड लेटर में लिखा कि उसके नाम पर राजनीति न हो। आपको लगता रहा कि अखलाख की भीड़ हत्या का पाप सारे हिन्दुओं के सर है, लेकिन सत्य यह है कि भले ही सारे आतंकी हमलों का सूत्रधार, धरती को ख़लीफ़ा के शासन में लाने की चाह रखने वाले एक खास मज़हब के दरिंदे करते हैं, लेकिन उस पाप का बोझ वो मज़हब नहीं उठाता।

इस लेख के बाकी तीन हिस्से यहाँ पढ़ें:
भाग 2: ज़मीर बेच कर कॉफ़ी पीने वाली मीडिया और लिबटार्डों का सामूहिक प्रलाप
भाग 3: वास्कोडिगामा की वो गन जो विपक्ष ने अपना नाम लेकर फायर किया
भाग 4: लिबरलों का घमंड, ‘मैं ही सही हूँ, जनता मूर्ख है’ पर जनता का कैक्टस से हमला

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

बड़ी ख़बर

नयनतारा सहगल जैसे लोग केवल व्यक्ति नहीं हैं, प्रतीक हैं- उस मानव-प्रवृत्ति का, उस ध्यानाकर्षण की लिप्सा और लोलुपता का, जिसके चलते इंसान अपने बूढ़े हो जाने, और अपने विचारों का समय निकल जाने के चलते हाशिए पर पहुँच जाने, अप्रासंगिक हो जाने को स्वीकार नहीं कर पाता।

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

अरविन्द केजरीवाल

लड़की पर पब्लिकली हस्तमैथुन कर फरार हुआ आदमी: मुफ्त मेट्रो से सुरक्षा नहीं मिलती

आप शायद 'सुरक्षा' के नाम पर महिलाओं को मेट्रो में मुफ्त यात्रा करा सकते हैं, लेकिन आप यह कैसे सुनिश्चित करेंगे कि महिलाएँ वहाँ सुरक्षित हैं?
आसिया अंद्राबी

‘मैं हवाला के पैसे लेकर J&K में बवाल करवाती थी, उन्हीं पैसों से बेटे को 8 साल से मलेशिया में पढ़ा रही हूँ’

जम्मू-कश्मीर की अलगाववादी नेता आसिया अंद्राबी सहित गिरफ्तार अलगाववादी नेताओं ने 2017 के जम्मू-कश्मीर आतंकी फंडिंग मामले में अपनी संलिप्तता स्वीकार कर ली है। आसिया अंद्राबी ने कबूल किया कि वो विदेशी स्रोतों से फंड लेती थी और इसके एवज में...
हिन्दू धर्म और प्रतीकों का अपमान फैशन है क्योंकि कोई कुछ कहता नहीं

Netflix पर आई है ‘लैला’, निशाने पर हैं हिन्दू जिन्हें दिखाया गया है तालिबान की तरह

वो पीढ़ी जिसने जब से होश संभाला है, या राजनैतिक रूप से जागरुक हुए हैं, उन्होंने भारत का इतिहास भी ढंग से नहीं पढ़ा, उनके लिए ऐसे सीरिज़ ही अंतिम सत्य हो जाते हैं। उनके लिए यह विश्वास करना आसान हो जाता है कि अगर इस्लामी आतंक है तो हिन्दू टेरर क्यों नहीं हो सकता।
दि प्रिंट और दीपक कल्लाल

सेक्स ही सेक्स… भाई साहब आप देखते किधर हैं, दि प्रिंट का सेक्सी आर्टिकल इधर है

बढ़ते कम्पटीशन के दौर में सर्वाइवल और नाम का भार ढोते इन पोर्टलों के पास नग्नता और वैचारिक नकारात्मकता के अलावा फर्जीवाड़ा और सेक्स ही बचता है जिसे हर तरह की जनता पढ़ती है। लल्लनपॉट यूनिवर्सिटी से समाज शास्त्र में पीएचडी करने वाले ही ऐसा लिख सकते हैं।
जय भीम-जय मीम

जय भीम जय मीम की कहानी 72 साल पुरानी… धोखा, विश्वासघात और पश्चाताप के सिवा कुछ भी नहीं

संसद में ‘जय भीम जय मीम’ का नारा लगा कर ओवैसी ने कोई इतिहास नहीं रचा है। जिस जोगेंद्र नाथ मंडल ने इस तर्ज पर इतिहास रचा था, खुद उनका और उनके प्रयास का हश्र क्या हुआ यह जानना-समझना जरूरी है। जो दलित वोट-बैंक तब पाकिस्तान के हो गए थे, वो आज क्या और कैसे हैं, इस राजनीति को समझने की जरूरत है।
हार्ड कौर, मोहन भागवत, योगी आदित्यनाथ

सस्ती लोकप्रियता के लिए ब्रिटिश गायिका ने मोहन भागवत को कहा ‘आतंकी’, CM योगी को बताया ‘Rape-Man’

"भारत में हुए सारे आतंकी हमलों के लिए मोहन भागवत ही ज़िम्मेदार हैं, चाहे वो 26/11 का मुंबई हमला हो या फिर पुलवामा हमला। इतिहास में महात्मा बुद्ध और महावीर ने ब्राह्मणवादी जातिवाद के ख़िलाफ़ लड़ाइयाँ लड़ी थीं। तुम एक राष्ट्रवादी नहीं हो, एक रेसिस्ट और हत्यारे हो।"
नितीश कुमार

अप्रिय नितीश कुमार, बच्चों का रक्त अपने चेहरे पर मल कर 103 दिन तक घूमिए

हॉस्पिटल का नाम, बीमारी का नाम, जगह का नाम, किसकी गलती है आदि बेकार की बातें हैं, क्योंकि सौ से ज़्यादा बच्चे मर चुके हैं। इतने बच्चे मर कैसे जाते हैं? क्योंकि भारत में जान की क़ीमत नहीं है। हमने कभी किसी सरकारी कर्मचारी या नेता को इन कारणों से हत्या का मुकदमा झेलते नहीं देखा।
औली-उत्तराखंड

200 करोड़ रुपया गुप्ता का, ब्याह गुप्ता के लौंडे का और आपको पड़ी है बदरंग बुग्याळ और पहाड़ों की!

दो सौ से दो हजार तक साल लगते हैं उस परत को बनने में जिस भूरी और बेहद उपजाऊ मिट्टी के ऊपर जन्म लेती है 10 से 12 इंच मोती मखमली घास यानी बुग्याळ! और मात्र 200 करोड़ रुपए लगते हैं इन सभी तथ्यों को नकारकर अपने उपभोक्तावाद के आगे नतमस्तक होकर पूँजीपतियों के समक्ष समर्पण करने में।
पाकिस्तान

ईश-निंदा में फ़ँसे Pak हिन्दू डॉक्टर लटकाए जा सकते हैं सूली पर… लेकिन ‘इनटॉलेरेंस’ भारत में है

जिन्हें अपने देश भारत के कानून इतने दमनकारी लगते हैं कि लैला जैसी डिस्टोपिया बनाकर वह मुसलमानों की प्रताड़ना दिखाना चाहते हैं, उन्हें केवल एक हफ़्ते पाकिस्तान में बिता कर आना चाहिए। आपके हिन्दूफ़ोबिक यूटोपिया जितना तो अच्छा नहीं है, लेकिन वैसे हिंदुस्तान का लोकतंत्र काफी अच्छा है...
पत्रकारिता के नाम पर संवेदनहीनता और बेहूदगी आम हो चुकी है

जब रिपोर्टर मरे बच्चे की माँ से भी ज़्यादा परेशान दिखने लगें…

नर्स एक बीमार बच्चे के बेड के पास खड़ी होकर कुछ निर्देश दे रही है और हमारे पत्रकार माइक लेकर पिले पड़े हैं! ये इम्पैक्ट किसके लिए क्रिएट हो रहा है? क्या ये मनोरंजन है कुछ लोगों के लिए जिनके लिए आप पैकेज तैयार करते हैं? फिर आपने क्या योगदान दिया इस मुद्दे को लेकर बतौर पत्रकार?

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

50,880फैंसलाइक करें
8,839फॉलोवर्सफॉलो करें
69,851सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: