Monday, May 25, 2020
होम विचार राजनैतिक मुद्दे हाँ, नंदिता दो तरह का भारत है: एक जहाँ मजदूर रहते हैं, दूसरा जहाँ...

हाँ, नंदिता दो तरह का भारत है: एक जहाँ मजदूर रहते हैं, दूसरा जहाँ से तुम्हारे पिता निकाले गए थे

जहाँ एक तरफ वाइन पीते घर बैठकर गरीबों की रोटी की चिंता जतातीं हुईं नंदिता दास हैं। वहीं दूसरी ओर आरएसएस जैसी वे संस्थाएँ भूखों को भोजन उपलब्ध कराने में दिन-रात एक किए हैं, जिन्हें ये लोग सुबह शाम गाली देते घूमते हैं।

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

कोरोना वायरस महामारी ने फुल टाइम प्रोटेस्ट में पारंगत एक्टिविस्ट जमात को ज्ञान बाँटने का बहुत सही मौका उपलब्ध कराया है। यह ब्रिगेड आजकल सिर्फ इतना ही बताने में व्यस्त है कि महामारी को रोकने के लिए सरकार को किस प्रकार के प्रयास करने थे और कौन सा कदम उठाने से बचना चाहिए था। इन एक्टिविस्ट्स का फोकस सिर्फ इस बात पर रहता है कि सरकार ने क्या-क्या गलतियाँ कीं, जो प्रधानमंत्री मोदी के प्रति इनकी निरंकुश घृणा से पैदा हुए ‘वर्ल्डव्यू’ पर आधारित होती है।

ठीक उसी समय ये तबलीगी जमात के ‘सुपर स्प्रेडर्स’ को बेशर्मी पूर्वक बचाते भी दिखते हैं। सिर्फ इसलिए कि उनका मजहब उन्हें ‘लॉकडाउन’ का उल्लंघन करने, थूकने और कॉरिडोर्स में मल-मूत्र त्यागने की इजाजत देता है। जब विश्व कोरोना महामारी से निपटने के लिए उठाए गए मोदी के कदमों की प्रशंसा करता है, ये स्टूडियोज में मौन व्रत धारण कर बैठ जाते हैं। ये एक्टिविस्ट्स जिनकी चिंता में दुबला होने का स्वांग रचते घूमते हैं इस आपदा के समय उनके लिए ऊँगली तक हिलाते नहीं दिखते। ऐसी ही एक फुल टाइम प्रोटेस्टर और पार्ट टाइम एक्ट्रेस हैं, नंदिता दास।

कोरोना लॉकडाउन किस तरह प्रवासी मजदूरों पर प्रभाव डाल रहा है, इस पर एनडीटीवी से चर्चा करते हुए हाल ही में नंदिता दास ने टिप्पणी की थी कि यहाँ दो तरह के भारत मौजूद हैं। पहला, वह जो घर जाने और खाने के लिए मीलों पैदल चलता है। दूसरा, वह जो अपने वाइन के इंतजाम के लिए परेशान है।

नंदिता दस का स्टेटमेंट ( source : NDTV )
- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

नंदिता दास का यह बयान अपने आप में गलत नहीं है, क्योंकि सच में भारत में एक महान विभाजन मौजूद है। लेकिन जब आप सोचते हैं कि यह बयान किसी तरफ से आया है तो मुँह दबा कर हँसते हुए यह सोचने को मजबूर हो जाते हैं कि आखिर कोई खुलेआम इतना दोमुँहा बर्ताव कैसे कर लेता है।

वैसे तो नंदिता दास खुद को एक मितव्ययी एक्टिविस्ट के रूप में पेश करने की शौक़ीन हैं। आम लोगों के साथ खुद को जोड़ कर देखना पसंद करतीं हैं। जबकि वास्तविकता में वह उन लोगों में से हैं जो अपने घर में आराम से वाइन पीते हुए गरीबों की चिंता जताने के आदी होते हैं, लेकिन उनके लिए करते कुछ भी नहीं।

नंदिता दास के पिता प्रसिद्ध पेंटर जतिन दास हैं। वे आर्थिक रूप से काफी संपन्न हैं। लेकिन एक सरकारी फ्लैट में तब तक कब्जा जमाए हुए बैठे रहे जब तक उनको वह जगह खाली करने का नोटिस नहीं भेजा गया। गरीबों, वंचितों की बात करने वाली नंदिता दास के पिता सालों से एक सरकारी रिहाइश में गैर क़ानूनी ढंग से कब्जा जमाए हुए बैठे थे।

जतिन दास एशियन गेम्स विलेज के एक फ्लैट में 26 सालों से रह रहे थे, जबकि वह उन्हें सिर्फ 3 साल के लिए दिया गया था। सच में देश में दो भारत हैं, लेकिन वाइन के लिए परेशान रहने वाली जमात कौन है यह न तो मीडिया पहचान पाती है और न ही नंदिता स्वीकार कर पाती हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

जहाँ एक तरफ वाइन पीते घर बैठकर गरीबों की रोटी की चिंता करती नंदिता दास हैं। वहीं दूसरी ओर आरएसएस जैसी वे संस्थाएँ हैं जो भूखों को भोजन उपलब्ध कराने में दिन-रात एक किए हुए हैं, जिन्हें ये लोग सुबह-शाम गाली देते घूमते हैं। आरएसएस की तरह ही उसका संबद्ध संगठन ‘सेवा भारती’ भी इस आपदा के दौरान वंचितों की मदद में अनथक परिश्रम में जुटा है।

‘सेवा भारती’ का मुख्यालय दिल्ली में है, जहाँ से सारे देश में सहायता कार्यक्रम चलाया जा रहा है। कोरोना महामारी के इस काल में भोजन के पैकेट से लेकर, मास्क बना कर उन्हें जरूरतमंदों तक पहुँचाने तक में ‘सेवा भारती’ का काडर युद्ध स्तर पर लगा हुआ है। ‘सेवा भारती’ का दो लाख से ज्यादा का काडर देश के दूरदराज के इलाकों में बेहद जरूरी सहायता सामग्री लेकर आज मौजूद दिखता है।

‘सेवा भारती’ के अखिल भारतीय महासचिव श्रवण कुमार ने बताया कि संगठन यह नहीं देखता कि वह किस राज्य में काम कर रहा है, या सहायता की जरूरत जिस व्यक्ति को है वह किस जाति-धर्म या पहचान से संबद्ध है। उन्होंने बताया कि मुख्यतः संगठन उन क्षेत्रों में काम कर रहा है जहाँ सरकार भी नहीं पहुँच पा रही। श्रवण कुमार ने बताया कि 26 लाख लोगों तक तो उनकी सीधी पहुँच है जिनको भोजन आदि सहायता पहुँचाई जा रही। आरएसएस भी कोरोना से लड़ाई में अपनी प्रत्यक्ष भूमिका निभा रहा है जो भोजन पैकेट्स और मस्के बाँटने से लेकर गंदे अस्पतालों की साफ़-सफ़ाई में अपना योगदान देता हुआ देश के साथ खड़ा नजर आता है।

नंदिता दास सच कह रहीं हैं, सच में यहाँ दो भारत हैं। और दो ही नहीं, तीन भारत कहे जाने चाहिए। पहला, जहाँ श्रमिक खुद के जीवन की मूलभूत समस्याओं को पूरा करने में संघर्ष करते दिखते हैं। दूसरा, वह जहाँ आरएसएस और सेवा भारती जैसे संगठनों के वालंटियर्स और वे देशवासी हैं जो इस संकट के समय वंचित वर्ग का मददगार बनने का भरसक प्रयत्न कर रहे हैं। और, तीसरा वह है जहाँ नंदिता और उनके पिता जैसे लोग हैं जो सरकारी पैसों पर बेजा आश्रित होते हुए भी गरबों और जरूरतमंदों की बात करते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

अब नहीं ढकी जाएगी ‘भारत माता’, हिन्दुओं के विरोध से झुका प्रशासन: मिशनरियों ने किया था प्रतिमा का विरोध

कन्याकुमारी में मिशनरियों के दबाव में आकर भारत माता की प्रतिमा को ढक दिया गया था। अब हिन्दुओं के विरोध के बाद प्रशासन को ये फ़ैसला...

‘दोबारा कहूँगा, राजीव गाँधी हत्यारा था’ – छत्तीसगढ़ में दर्ज FIR के बाद भी तजिंदर बग्गा ने झुकने से किया इनकार

तजिंदर पाल सिंह बग्गा के खिलाफ FIR हुई है। इसके बाद बग्गा ने राजीव गाँधी को दोबारा हत्यारा बताया और कॉन्ग्रेस के सामने झुकने से इनकार...

महाराष्ट्र के पूर्व CM और ठाकरे सरकार के मंत्री अशोक चव्हाण कोरोना पॉजिटिव, राज्य के दूसरे मंत्री वायरस के शिकार

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और उद्धव ठाकरे के मंत्रिमंडल में पीडब्ल्यूडी मिनिस्टर, अशोक चव्हाण कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। उन्हें तुरंत...

पिंजरा तोड़ की दोनों सदस्य जमानत पर बाहर आईं, दिल्ली पुलिस ने फिर कर लिया गिरफ्तार: इस बार हत्या का है मामला

हिंदू विरोधी दंगों को भड़काने के आरोप में पिंजरा तोड़ की देवांगना कालिता और नताशा नरवाल को दिल्ली पुलिस ने फिर गिरफ्तार कर...

जिन लोगों ने राम को भुलाया, आज वे न घर के हैं और न घाट के: मीडिया संग वेबिनार में CM योगी

"हमारे लिए राम और रोटी दोनों महत्वपूर्ण हैं। राज्य सरकार ने इस कार्य को बखूबी निभाया है। जिन लोगों ने राम को भुलाया है, वे घर के हैं न घाट के।"

Covid-19: 24 घंटों में 6767 संक्रमित, 147 की मौत, देश में लगातार दूसरे दिन कोरोना के रिकॉर्ड मामले सामने आए

इस समय देश में संक्रमितों की संख्या 1,31,868 हो चुकी है। अब तक 3867 लोगों की मौत हुई है। 54,440 लोग ठीक हो चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

गोरखपुर में चौथी के बच्चों ने पढ़ा- पाकिस्तान हमारी प्रिय मातृभूमि है, पढ़ाने वाली हैं शादाब खानम

गोरखपुर के एक स्कूल के बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई के लिए बने व्हाट्सएप ग्रुप में शादाब खानम ने संज्ञा समझाते-समझाते पाकिस्तान प्रेम का पाठ पढ़ा डाला।

‘न्यूजलॉन्ड्री! तुम पत्रकारिता का सबसे गिरा स्वरुप हो’ कोरोना संक्रमित को फ़ोन कर सुधीर चौधरी के विरोध में कहने को विवश कर रहा NL

जी न्यूज़ के स्टाफ ने खुलासा किया है कि फर्जी ख़बरें चलाने वाले 'न्यूजलॉन्ड्री' के लोग उन्हें लगातार फ़ोन और व्हाट्सऐप पर सुधीर चौधरी के खिलाफ बयान देने के लिए विवश कर रहे हैं।

रवीश ने 2 दिन में शेयर किए 2 फेक न्यूज! एक के लिए कहा: इसे हिन्दी के लाखों पाठकों तक पहुँचा दें

NDTV के पत्रकार रवीश कुमार ने 2 दिन में फेसबुक पर दो बार फेक न्यूज़ शेयर किया। दोनों ही बार फैक्ट-चेक होने के कारण उनकी पोल खुल गई। फिर भी...

राजस्थान के ‘सबसे जाँबाज’ SHO विष्णुदत्त विश्नोई की आत्महत्या: एथलीट से कॉन्ग्रेस MLA बनी कृष्णा पूनिया पर उठी उँगली

विष्णुदत्त विश्नोई दबंग अफसर माने जाते थे। उनके वायरल चैट और सुसाइड नोट के बाद कॉन्ग्रेस विधायक कृष्णा पूनिया पर सवाल उठ रहे हैं।

तब भंवरी बनी थी मुसीबत का फंदा, अब विष्णुदत्त विश्नोई सुसाइड केस में उलझी राजस्थान की कॉन्ग्रेस सरकार

जिस अफसर की पोस्टिंग ही पब्लिक डिमांड पर होती रही हो उसकी आत्महत्या पर सवाल उठने लाजिमी हैं। इन सवालों की छाया सीधे गहलोत सरकार पर है।

हमसे जुड़ें

206,772FansLike
60,088FollowersFollow
241,000SubscribersSubscribe
Advertisements