Wednesday, June 23, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे मोदी किसानी-गाय-बैल-मछली की बात कर रहा है... हम लड़ेंगे साथी, पौव्वा पीकर उससे लड़ेंगे

मोदी किसानी-गाय-बैल-मछली की बात कर रहा है… हम लड़ेंगे साथी, पौव्वा पीकर उससे लड़ेंगे

इससे पहले कि सारे मुद्दे छीन लिए जाएँ, चाँद को रोटी बताने वाली कविताएँ बचाने के लिए हमें लड़ना चाहिए! हम मछली को दिए जा रहे पानी के लिए लड़ेंगे! हम विकास के मुद्दों से लड़ेंगे! ठहरो, मैं जरा पौव्वा गटक कर गला तर कर लूँ, फिर हम लड़ेंगे साथी!

मुझे लगता है कि ये आदमी पागल है! बताइए भला जिस राज्य में चुनाव सर पर हों, वहाँ क्या घोषणाएँ की जाती हैं? अरे सरकारी कर्मचारियों के वेतन-भत्ते बढ़ाने की बात करता तो समझ में भी आता। चलिए वो नहीं करना था तो किसी फैक्ट्री पुल वगैरह का शिलान्यास कर देता और कहता कि इससे युवाओं को रोजगार मिलेगा।

तालियाँ बजतीं, अख़बारों में छपता, वाह-वाही होती, विरोधियों को बोलने को कुछ ना मिलता। मगर नहीं! ये तो तीन सौ करोड़ के लगभग की योजनाएँ किसानों के लिए लेकर आ रहा है! बताइए, 300 करोड़? अरे किसानों के मुद्दे पर किसने इस देश में चुनाव लड़ा है आजतक?

उसमें भी कैसी-कैसी चीज़ें हैं? सीधे कृषि की होती तो “अन्नदाता” वाला जुमला उछालते और काम बन जाता। लेकिन यहाँ तो 5 करोड़ की लागत से डुमरा, सीतामढ़ी में बखरी मछली बीज फार्म खोला जा रहा है!

दस करोड़ लगाकर किशनगंज के मत्स्य पालन कॉलेज, पूसा में समेकित उत्पादन प्रौद्योगिकी और मधेपुरा में एक करोड़ की लागत से मत्स्य चारा मिल लगाया जा रहा है। किसी ‘प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना’ के तहत 107 करोड़ की लागत की परियोजना के शुरुआत भी होने वाली है।

पटना में एक बिहार पशु विज्ञान विश्वविद्यालय है, जहाँ के हॉस्टल में कभी लालू रहते थे, जो आजकल चारा घोटाले में जेल में हैं। वहाँ जलीय रेफरल प्रयोगशलाएँ बनेंगी और पटना के ही मसौढ़ी में 2 करोड़ की लागत से फिश ऑन व्हील्स और 2.87 करोड़ की लागत से कृषि विश्वविद्यालय का उद्घाटन भी प्रधानमंत्री मोदी करेंगे।

अब ये फिश इन वाटर तो हमको बुझाता है, लेकिन ई ससुरा फिश ऑन व्हील्स क्या है? इतने कार्यक्रम होंगे तो हम दावे से कह सकते हैं कि इनमें से किस परियोजना में होता क्या है, ये तो खुद अख़बार वाले भी हमें नहीं बता पाएँगे!

इनके अलावा डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय, समस्तीपुर में कुल 74 करोड़ की विभिन्न योजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास होने वाला है। सबसे पहले तो 11 करोड़ की लागत से बने स्कूल ऑफ एग्रीबिजिनेस एंड रूरल मैनेजमेंट के भवन का उद्घाटन होगा।

इसके साथ ही ब्वायज हॉस्टल (27 करोड़), स्टेडियम (25 करोड़), और इंटरनेशनल गेस्ट हाउस (11 करोड़) का शिलान्यास भी प्रधानमंत्री मोदी करेंगे।

पशुपालन की तरफ आएँ तो ‘प्रधानमंत्री राष्ट्रीय गोकुल मिशन’ के तहत 84.27 करोड़ की लागत से पूर्णिया सीमेन स्टेशन, 8.06 करोड़ की लागत से बिहार पशु विज्ञान विश्वविद्यालय, पटना में इम्ब्रयो ट्रांसफर टेक्नोलॉजी (ईटीटी) एवं आईवीएफ लैब और 2.13 करोड़ की लागत से समस्तीपुर, नालंदा, बेगूसराय, खगड़िया और गया में तैयार सेक्स सॉर्टेड सीमेन परियोजना की शुरुआत प्रधानमंत्री मोदी करेंगे।

अगर हम याद करने की कोशिश भी करें तो याद नहीं आता कि पिछले डेढ़-दो दशकों में हमने कभी एक राज्य में एक साथ सिर्फ कृषि क्षेत्र के लिए इतनी अलग-अलग परियोजनाओं का नाम सुना हो।

सच बताएँ तो हमें “एवरीबॉडी लव्स ए गुड ड्राउट” वाले पी. साईंनाथ के बाद से किसी ऐसे पत्रकार और किसी ऐसे अख़बार का नाम भी नहीं पता, जो इन सारी योजनाओं की साधारण जानकारी भी हमें दे सके। स्थानीय पत्रकारों में से कोई ये करेगा, या उसे करने दिया जाएगा, ये भी शंका का विषय है।

इन छोटी-मोटी समस्याओं को छोड़ भी दें तो हमें एक बड़ी चिंता सता रही है। इन गरीब किसानों की गरीबी के नाम पर दादी से लेकर पोते तक की तीन पीढ़ियों ने अपनी राजनीती चलाई है। उनके अलावा भी तथाकथित एक्टिविस्ट, सोशल वर्कर, एडवोकेसी पार्टनर जैसे कई लोग/संस्थाएँ हैं, जो इनके ही नाम पर चंदा माँग-माँग कर खाते हैं।

अगर इस किस्म की परियोजनाएँ आती रहीं तो फिर उन बेचारों का क्या होगा? क्या बड़ी बिंदी और झोला-कुर्ता, जीन्स-चप्पल वाले सिर्फ टीवी और इतिहास की बातें बनकर रह जाएँगे? नहीं-नहीं, ऐसा हरगिज नहीं होना चाहिए!

साथी हमारा आह्वान है कि इससे पहले कि सारे मुद्दे छीन लिए जाएँ, चाँद को रोटी बताने वाली कविताएँ बचाने के लिए हमें लड़ना चाहिए! आओ, हम लड़ेंगे साथी! हम विकास के मुद्दों से लड़ेंगे! हम मछली को दिए जा रहे पानी के लिए लड़ेंगे! अन्नदाता को अनाज क्यों नहीं, मछली वाले को शोध का पैसा क्यों कहकर लड़ेंगे! ठहरो, मैं जरा पौव्वा गटक कर गला तर कर लूँ, फिर हम लड़ेंगे साथी!

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Anand Kumarhttp://www.baklol.co
Tread cautiously, here sentiments may get hurt!

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारत ने कोरोना संकटकाल में कैसे किया चुनौतियों का सामना, किन सुधारों पर दिया जोर: पढ़िए PM मोदी का ब्लॉग

भारतीय सार्वजनिक वित्त में सुधार के लिए हल्का धक्का देने वाली कहानी है। इस कहानी के मायने यह हैं कि राज्यों को अतिरिक्त धन प्राप्त करने के लिए प्रगतिशील नीतियों को अपनाने के लिए प्रोत्साहित करना है।

पल्स पोलियो से टीके को पिटवा दिया अब कॉन्ग्रेस के कोयला स्कैम से पिटेगी मोदी की ईमानदारी: रवीश कुमार

ये व्यक्ति एक ऐसा फूफा है जो किसी और के विवाह में स्वादिष्ट भोजन खाकर यह कहने में जरा भी नहीं हिचकेगा कि; भोजन तो बड़ा स्वादिष्ट था लेकिन अगर नमक अधिक हो जाता तो खराब हो जाता। हाँ, अगर विवाह राहुल गाँधी का हुआ तो...

TMC के गुंडों ने किया गैंगरेप, कहा- तेरी काली माँ न*गी है, तुझे भी न*गा करेंगे, चाकू से स्तन पर हमला: पीड़ित महिलाओं की...

"उस्मान ने मेरा रेप किया। मैं उससे दया की भीख माँगती रही कि मैं तुम्हारी माँ जैसी हूँ मेरे साथ ऐसा मत करो, लेकिन मेरी चीख-पुकार उसके बहरे कानों तक नहीं पहुँची। वह मेरा बलात्कार करता रहा। उस दिन एक मुस्लिम गुंडे ने एक हिंदू महिला का सम्मान लूट लिया।"

‘भारत ने किया कश्मीर पर कब्जा, इस्लाम ने दिखाई सही राह’: TISS में प्रकाशित हुए कई विवादित पेपर, फण्ड रोकने की माँग

पेपर में लिखा गया, "...अल्लाह के शरण में जाना मेरे मन को शांत करता है और साथ ही मुझे एक समझ देता है कि चीजों के होने का उद्देश्य क्या था जो मुझे कहीं और से नहीं पता चलता।"

‘नंदलाला की #$ गई क्या’- रैपर MC कोड के बाद अब मफ़ाद ने हिन्दुओं की आस्था को पहुँचाई चोट, भगवान कृष्ण को दी गालियाँ

रैपर ने अगली पंक्ति में धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचाने के लिए बेहद आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग किया जैसे, "मर गया तेरा नंदलाल नटखट, अब गोपियाँ भागेंगी छोड़के पनघट।"

मॉरीशस के थे तुलसी, कहते थे सब रामायण गुरु: नहीं रहे भारत के ‘सांस्कृतिक दूत’ राजेंद्र अरुण

1973 में 'विश्व पत्रकारिता सम्मेलन' में वो मॉरीशस गए और वहाँ के तत्कालीन राष्ट्रपति शिवसागर रामगुलाम हिंदी भाषा को लेकर उनके प्रेम से खासे प्रभावित हुए। वहाँ की सरकार ने उनसे वहीं रहने का अनुरोध किया।

प्रचलित ख़बरें

‘एक दिन में मात्र 86 लाख लोगों को वैक्सीन, बेहद खराब!’: रवीश कुमार के लिए पानी पर चलने वाले कुत्ते की कहानी

'पोलियो रविवार' के दिन मोदी सरकार ने 9.1 करोड़ बच्चों को वैक्सीन लगाई। रवीश 2012 के रिकॉर्ड की बात कर रहे। 1950 में पहला पोलियो वैक्सीन आया, 62 साल बाद बने रिकॉर्ड की तुलना 6 महीने बाद बने रिकॉर्ड से?

टीनएज में सेक्स, पोर्न, शराब, वन नाइट स्टैंड, प्रेग्नेंसी… अनुराग कश्यप ने बेटी को कहा- जैसी तुम्हारी मर्जी

ब्वॉयफ्रेंड के साथ सोने के सवाल पर अनुराग ने कहा, "यह तुम्हारा अपना डिसीजन है कि तुम किसके साथ रहती हो। मैं केवल इतना चाहता हूँ कि तुम सेफ रहो।"

‘तुम्हारे शरीर के छेद में कैसे प्लग लगाना है, मुझे पता है’: पूर्व महिला प्रोफेसर का यौन शोषण, OpIndia की खबर पर एक्शन में...

कॉलेज के सेक्रेटरी अल्बर्ट विलियम्स ने उन पर शिकायत वापस लेने का दबाव बनाया। जोसेफिन के खिलाफ 60 आरोप लगा कर इसकी प्रति कॉलेज में बँटवाई गई। एंटोनी राजराजन के खिलाफ कार्रवाई की बजाए उन्हें बचाने में लगा रहा कॉलेज प्रबंधन।

TMC के गुंडों ने किया गैंगरेप, कहा- तेरी काली माँ न*गी है, तुझे भी न*गा करेंगे, चाकू से स्तन पर हमला: पीड़ित महिलाओं की...

"उस्मान ने मेरा रेप किया। मैं उससे दया की भीख माँगती रही कि मैं तुम्हारी माँ जैसी हूँ मेरे साथ ऐसा मत करो, लेकिन मेरी चीख-पुकार उसके बहरे कानों तक नहीं पहुँची। वह मेरा बलात्कार करता रहा। उस दिन एक मुस्लिम गुंडे ने एक हिंदू महिला का सम्मान लूट लिया।"

हिंदू से धर्मान्तरण कर बना मोहम्मद उमर गौतम, चला रहा था दिल्ली के जामिया से मुस्लिम बनाने का रैकेट: कई बड़े खुलासे

उमर गौतम द्वारा स्थापित इस्लामिक दावा सेंटर में ही गैर मुस्लिमों का धर्मान्तरण कराया जाता था। मोहम्मद उमर अपने चार मंजिला घर को ही ऑफिस बना रखा था, जिसे एटीएस ने सील कर दिया है।

‘नंदलाला की #$ गई क्या’- रैपर MC कोड के बाद अब मफ़ाद ने हिन्दुओं की आस्था को पहुँचाई चोट, भगवान कृष्ण को दी गालियाँ

रैपर ने अगली पंक्ति में धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचाने के लिए बेहद आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग किया जैसे, "मर गया तेरा नंदलाल नटखट, अब गोपियाँ भागेंगी छोड़के पनघट।"
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
105,519FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe