Wednesday, April 21, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे लड़ाई अन्याय से या हिन्दू राष्ट्र से? विरोध करने वाले बुद्धिजीवी ढपलीबाज गैंग... पहले...

लड़ाई अन्याय से या हिन्दू राष्ट्र से? विरोध करने वाले बुद्धिजीवी ढपलीबाज गैंग… पहले तय कर लो, करना क्या है

इस ग्रह का कोई भी अन्य मज़हब (सॉरी धर्म) उठा लीजिए और उसके बारे में चंद व्यंग्यात्मक टिप्पणी करके देखिए। पलक झपकते ही नज़ारे बदल जाएँगे, संदेह हो तो लिखिए एक बार ‘फ़क फला मज़हब’ और देखिए खूनी खेल!

यदि कोई आपसे सवाल करे कि बलात्कार और न्याय के बीच दूरी कितनी है? इस प्रश्न का उत्तर क्या होना चाहिए या यूँ कहे, “क्या आप अनुमान लगा सकते हैं कि इन दो शब्दों के बीच कितना फ़ासला है।” इसका एक ही जवाब है ‘हिन्दू राष्ट्र’ या ‘हिंदुत्व’! पहली बार में बेशक विचित्र लग सकता है पर यह सत्य है क्योंकि ‘न्याय’ की गुहार लगाने वालों की लड़ाई अन्याय के विरुद्ध शुरू होकर हिन्दू राष्ट्र और हिंदुत्व तक सीमित रह जाती है। विरोध करने वाली ‘संभ्रांत जनता’ अत्याचार को ख़त्म करते-करते हिन्दू राष्ट्र के खात्मे की ओर निकल लेती है। 

बड़े बुजुर्ग कह गए हैं संसार में हर रोग का उपचार उपलब्ध है लेकिन वैचारिक विकलांगता और दिग्भ्रमित हठधर्मिता का नहीं है। उत्तर प्रदेश के हाथरस की घटना को लेकर पूरे देश में आक्रोश है, सोशल मीडिया से लेकर सड़कों और चौराहों पर प्रदर्शनों की तस्वीर इस बात की तस्दीक करती हैं। विरोध होना भी चाहिए, अपराध हुआ तो विरोध भी होगा और न्याय भी। लेकिन सवाल जनता के उस हिस्से को लेकर है, जिनका एजेंडा ही कुछ और है। जो इंसाफ़ दिलाने के लिए सड़कों पर उतरते तो हैं लेकिन सदियों पुरानी वैचारिक कुंठा के फलीभूत अलग रास्ते पर निकल जाते हैं। सोशल मीडिया पर पिछले कई दिनों से कुछ तस्वीरें साझा की जा रही हैं। 

कुल मिला कर इस मिजाज़ की दो तस्वीरें हैं और दोनों का मजमून हुबहू है। तस्वीर में एक पोस्टरनुमा चीज़ नज़र आ रही है, जिस पर लिखा है “HINDURASHTRA IS A RAPIST” मायने हिन्दू राष्ट्र बलात्कारी है। एक दो व्यक्ति नहीं बल्कि पूरा का पूरा राष्ट्र, हर नागरिक! मतलब बलात्कार सिर्फ एक ही धर्म में होते हैं अन्य मज़हब के लोग देवतुल्य हैं जन्नत से उतरे हुए, अन्य मज़हबों में बलात्कार होते ही नहीं। शायद होते होंगे लेकिन उस समय ऐसे क्रांतिकारी पोस्टर सामने नहीं आते हैं, जिसमें लिखा हो कि फलां (मज़हब) राष्ट्र इज़ ए रेपिस्ट या ढिमकां (रिलीजन) राष्ट्र इज़ ए रेपिस्ट (जनता स्वयं समझदार है)।

हिन्दू राष्ट्र को रेपिस्ट बताने वाले ढपलीबाज (साभार – सोशल मीडिया)

बात स्वयं में कितनी हास्यास्पद है कि इंसाफ़ की गुहार में हिन्दू शब्द इस कदर घुला हुआ है कि उसका धब्बा इन क्रांतिकारियों के कपड़ों से उतरता ही नहीं। इस पड़ाव पर लड़ाई/विरोध में न्याय शब्द का कद बौना हो जाता है और दोषी बन जाता है हिन्दू राष्ट्र। यहाँ अपराधी और अपराध शब्द मायने नहीं रखता बल्कि सारा दोष हिन्दू राष्ट्र का हो जाता है (वही हिन्दू राष्ट्र जिसमें रह कर तथाकथित क्रांतिकारी लोग प्रदर्शन कर रहे हैं)। ऐसे ही प्रदर्शनों में प्रदर्शनकारियों का मूल स्वरूप सामने आता है। 

सोशल मीडिया पर जारी विरोध प्रदर्शन में एक और ऐसी ही तस्वीर सामने आई जिसमें लिखा था “I am a dalit not a hindu” अर्थात मैं एक दलित हूँ, हिन्दू नहीं। बेशक आप क्या हैं या कौन हैं, यह तय करने का अधिकार संविधान ने आपको दिया है। कुछ भी बन जाइए पर क्या यही समय है अपनी पहचान के प्रचार का? जो इच्छा है बने रहिए लेकिन जब समय मिले तो जनता को इस बात का जवाब भी ज़रूर दीजिए कि “मैं हिन्दू नहीं हूँ” इस अतिक्रांतिमय वक्तव्य से न्याय मिलने में कितनी मदद मिलेगी? सिद्ध क्या होगा यह बता कर?

गुड! लोकतंत्र है (साभार – सोशल मीडिया)

हिन्दू शब्द से स्वघोषित बुद्धिजीवी जमात का ‘लगाव’ नया बिलकुल नहीं है। हाल फ़िलहाल के कुछ साल उठा लीजिए, मुद्दा क़ानून व्यवस्था का हो या सामाजिक अव्यवस्था का, क्रांतिकारी महोदयों के अनुसार सारे फसाद की जड़ हिन्दू राष्ट्र और हिंदुत्व ही है।

सीएए और एनआरसी का विरोध में देश के अलग अलग क्षेत्रों में हुआ, इन प्रदर्शनों की तस्वीरें भी बकायदे चर्चा में रहीं। ऐसी ही एक तस्वीर थी, जिसमें एक युवती के गालों पर (जी हाँ सही पढ़ा आपने गालों पर) विशुद्ध हिन्दी में लिखा था ‘फ़क हिन्दू राष्ट्र’। लोकतंत्र है और लोकतंत्र में ढपली पीट कर आलोचनात्मक कीर्तन करने का अधिकार सभी के पास है। फिर भी ठंडे दिमाग से सोचिए मुद्दा देश पर लागू किए गए एक क़ानून से जुड़ा हुआ है और स्वघोषित क्रांतिकारी हिन्दू राष्ट्र ‘फ़क’ करने निकले हैं। 

क्या किसी और मज़हब को भी इस तरह फ़क किया जा सकता है? (साभार – सोशल मीडिया)

ऐसी ही एक और तस्वीर है। हालाँकि यह पुरानी है लेकिन इसके मूल में भी वही संदेश है। यहाँ लिखा है महिलाएँ हिन्दू राष्ट्र को डिस्ट्रॉय करेंगी (कारण भी बताते चलिए)। क्या इस धर्म को नष्ट करना आसान है? सदियों से इस श्रेणी के प्रयास हो रहे हैं, 1-2 हथौड़ा आप भी चला कर देख लीजिए और हो जाए तो अवश्य सूचित करिए।

लेकिन कैसे? (साभार – सोशल मीडिया)

एक तस्वीर में इस वैचारिक निर्लज्जता की सीमा ही पार कर दी गई थी। हिटलर की नाज़ी सेना के चिन्ह को स्वास्तिक के रूप में दिखा कर हिंदुत्व के लिए अपशब्द लिखे गए थे। 

ढपलीबाज स्वास्तिक और नाज़ी के चिन्ह की खिचड़ी बनाते हुए (साभार – सोशल मीडिया)

बाकी देश के दो तथाकथित उदारवादी और बुद्दिजीवियों के गढ़ जामिया मिलिया इस्लामिया और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में लगाए गए नारे सदाबहार हैं ही। उन नारों में खपाई गई ऊर्जा और झोंके गए मंतव्य से साफ़ हो जाता है कि व्यक्ति के जीवन में केवल शिक्षा महत्वपूर्ण नहीं होती। बहुत कुछ अहम होता है जिसकी इन लोगों के पास भीषण कमी है।

इस ग्रह का कोई भी अन्य मज़हब (सॉरी धर्म) उठा लीजिए और उसके बारे में चंद व्यंग्यात्मक टिप्पणी करके देखिए। पलक झपकते ही नज़ारे बदल जाएँगे, संदेह हो तो लिखिए एक बार ‘फ़क फला मज़हब’। फिर इस मुल्क में रहने वाले बुद्धिजीवी कहते हैं कि हिन्दू शब्द के इर्द गिर्द गढ़ी गई सारी परिभाषाएँ असहिष्णु हैं।

यह बात ऊपर कई बार लिखी जा चुकी है एक बार फिर से पढ़ लीजिए, क्या बलात्कार हिन्दू राष्ट्र में ही होते हैं? क्या पूरा हिन्दू राष्ट्र बलात्कारी है, हर नागरिक? क्या दूसरे समुदायों में बलात्कार नहीं होते हैं? होते हैं तो क्या उनके लिए भी आपका विरोध इतना ही स्पष्ट और खरा होगा? ऐसे विरोध की सूरत वाली लड़ाइयों का नतीजा क्या होगा यह तो नहीं पता लेकिन यह भटकी हुई ज़रूर हैं। तय इन्हें ही करना है कि न्याय के लिए लड़ना है या हिन्दू राष्ट्र से?   

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

देश के 3 सबसे बड़े डॉक्टर की 35 बातें: कोरोना में Remdesivir रामबाण नहीं, अस्पताल एक विकल्प… एकमात्र नहीं

देश में कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है। 2.95 लाख नए मामले सामने आने के बाद देश में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़ कर...

‘गैर मुस्लिम नहीं कर सकते अल्लाह शब्द का इस्तेमाल, किसी अन्य ईश्वर से तुलना गुनाह’: इस्लामी संस्था ने कहा- फतवे के हिसाब से चलें

मलेशिया की एक इस्लामी संस्था ने कहा है कि 'अल्लाह' एक बेहद ही पवित्र शब्द है और इसका इस्तेमाल सिर्फ इस्लाम के लिए और मुस्लिमों द्वारा ही होना चाहिए।

आज वैक्सीन का शोर, फरवरी में था बेकारः कोरोना टीके पर छत्तीसगढ़ में कॉन्ग्रेसी सरकार ने ही रचा प्रोपेगेंडा

आज छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री इस बात से नाखुश हैं कि पीएम ने राज्यों को कोरोना वैक्सीन देने की बात नहीं की। लेकिन, फरवरी में वही इसके असर पर सवाल उठा रहे थे।

पंजाब के 1650 गाँव से आएँगे 20000 ‘किसान’, दिल्ली पहुँच करेंगे प्रदर्शनः कोरोना की लहर के बीच एक और तमाशा

संयुक्त किसान मोर्चा ने 'फिर दिल्ली चलो' का नारा दिया है। किसान नेताओं ने कहा कि इस बार अधिकतर प्रदर्शनकारी महिलाएँ होंगी।

हम 1 साल में कितने तैयार हुए? सरकारों की नाकामी के बाद आखिर किस अवतार की बाट जोह रहे हम?

मुफ्त वाई-फाई, मुफ्त बिजली, मुफ्त पानी से आगे लोगों को सोचने लायक ही नहीं छोड़ती समाजवाद। सरकार के भरोसे हाथ बाँध कर...

मधुबनी: धरोहर नाथ मंदिर में सोए दो साधुओं का गला कुदाल से काटा, ‘लव जिहाद’ का विरोध करने वाले महंत के आश्रम पर हमला

बिहार के मधुबनी जिला स्थित खिरहर गाँव में 2 साधुओं की गला काट हत्या कर दी गई है। इससे पहले पास के ही बिसौली कुटी के महंत के आश्रम पर रात के वक्त हमला हुआ था।

प्रचलित ख़बरें

रेप में नाकाम रहने पर शकील ने बेटी को कर दिया गंजा, जैसे ही बीवी पढ़ने लगती नमाज शुरू कर देता था गंदी हरकतें

मेरठ पुलिस ने शकील को गिरफ्तार किया है। उस पर अपनी ही बेटी ने रेप करने की कोशिश का आरोप लगाया है।

मधुबनी: धरोहर नाथ मंदिर में सोए दो साधुओं का गला कुदाल से काटा, ‘लव जिहाद’ का विरोध करने वाले महंत के आश्रम पर हमला

बिहार के मधुबनी जिला स्थित खिरहर गाँव में 2 साधुओं की गला काट हत्या कर दी गई है। इससे पहले पास के ही बिसौली कुटी के महंत के आश्रम पर रात के वक्त हमला हुआ था।

रेमडेसिविर खेप को लेकर महाराष्ट्र के FDA मंत्री ने किया उद्धव सरकार को शर्मिंदा, कहा- ‘हमने दी थी बीजेपी को परमीशन’

महाविकास अघाड़ी को और शर्मिंदा करते हुए राजेंद्र शिंगणे ने पुष्टि की कि ये इंजेक्शन किसी अन्य उद्देश्य के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। उन्हें भाजपा नेताओं ने भी इसके बारे में आश्वासन दिया था।

‘सुअर के बच्चे BJP, सुअर के बच्चे CISF’: TMC नेता फिरहाद हाकिम ने समर्थकों को हिंसा के लिए उकसाया, Video वायरल

TMC नेता फिरहाद हाकिम का एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल है। इसमें वह बीजेपी और केंद्रीय सुरक्षा बलों को 'सुअर' बता रहे हैं।

हाँ, हम मंदिर के लिए लड़े… क्योंकि वहाँ लाउडस्पीकर से ऐलान कर भीड़ नहीं बुलाई जाती, पेट्रोल बम नहीं बाँधे जाते

हिंदुओं को तीन बातें याद रखनी चाहिए, और जो भी ये मंदिर-अस्पताल की घटिया बाइनरी दे, उसके मुँह पर मार फेंकनी चाहिए।

रवीश और बरखा की लाश पत्रकारिताः निशाने पर धर्म और श्मशान, ‘सर तन से जुदा’ रैलियाँ और कब्रिस्तान नदारद

अचानक लग रहा है जैसे पत्रकारों को लाश से प्यार हो गया है। बरखा दत्त श्मशान में बैठकर रिपोर्टिंग कर रही हैं। रवीश कुमार लखनऊ को लाशनऊ बता रहे हैं।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,653FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe