Thursday, March 4, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे राहुल गाँधी को 'पप्पू' न मानने वाले सैम पित्रोदा को गुजरात में क्यों नहीं...

राहुल गाँधी को ‘पप्पू’ न मानने वाले सैम पित्रोदा को गुजरात में क्यों नहीं दिखता विकास!

ये स्थिति बेहद हास्यास्पद है कि कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी को पप्पू न समझने के लिए पित्रोदा जैसे समझदार व्यक्ति को प्रेस कॉन्फ़्रेंस तक करनी पड़ गई, इसी से पता चलता है कि वाकई देश में ‘पप्पू’ की कमी नहीं है।

गाँधी परिवार के क़रीबी सैम पित्रोदा आए दिन अपनी टीका-टिप्पणियों के लिए विवादों में रहते हैं। एक बार फिर उन्होंने गाँधी परिवार के प्रति अपनी भक्ति दिखाते हुए राहुल गाँधी के पक्ष में बयान दिया है। अपने इस बयान के लिए उन्होंने बाक़ायदा प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई और संंवाददाताओं के सामने यह ‘ख़ुलासा’ किया कि राहुल गाँधी ‘पप्पू’ नहीं हैं, वो ‘बहुत शिक्षित और इंटेलीजेंट’ हैं।

कॉन्फ्रेन्स में पित्रोदा ने ये भी कहा कि उन्होंने राहुल के साथ एक लंबा समय व्यतीत किया है, जिसके दम पर वो ये बात कह सकते हैं कि वो पप्पू नहीं हैं। केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए पित्रोदा ने पीएम मोदी को भी ख़ूब कोसा। उन्होंने पीएम मोदी द्वारा राजीव गाँधी को ‘भ्रष्टाचारी नम्बर-1’ कहने पर भी कड़ी आपत्ति दर्ज की। इस पर सवालिया होते हुए उन्होंने पूछा कि राहुल गाँधी के पिता राजीव गाँधी को भष्टाचार नम्बर-1 कहने के पीछे आख़िर क्या वजह थी?

ख़ुद को गुजराती बताते हुए पित्रोदा ने पीएम मोदी को घेरते हुए कहा कि उन्होंने (मोदी) राज्य के विकास के लिए कुछ नहीं किया और केवल झूठ ही फैलाया। बीजेपी पर अपना हमलावर रुख़ क़ायम रखते हुए पित्रोदा ने नौकरी, किसानों की डबल इनकम और काले धन को भी मुद्दा बनाया।

ये बड़े दुर्भाग्य की बात है कि पित्रोदा गुजरात से हैं और उन्हें वहाँ विकास के नाम पर कुछ नहीं दिखाई देता। सम्पूर्ण विश्व में गुजरात के विकास मॉडल की चर्चा है। गुजरात में विकास को आम जनता की सहभागिता से एक विस्तृत रूप दिया गया है। गुजरात की विकास यात्रा जनता को सहभागी होने के साथ ही समावेशी भी बनाती है। हाल के वर्षों में गुजरात की उल्लेखनीय सफलता को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कृत किया गया है। साथ ही बड़े वैचारिक समूहों एवं संयुक्त राष्ट्र संघ ने भी गुजरात के विकास की सरहाना की है। इससे अधिक गुजरात के विकास पर जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

आपको बता दें कि पित्रोदा इससे पहले भी कॉन्ग्रेस के प्रति अपनी भक्ति प्रमाणित कर चुके हैं, जब पुलवामा हमले के शिकार हुए भारतीय जवानों की बजाए उनका प्रेम पाकिस्तान पर ही उमड़ा था। जहाँ एक तरफ पुलवामा हमले की चौतरफा निंदा हो रही थी, वहीं पित्रोदा ने यहाँ तक कह दिया था कि इस हमले के लिए पूरे पाकिस्तान को दोषी ठहराना ग़लत है।

इसके अलावा मुंबई हमले (26/11) पर भी उन्होंने कहा था कि मात्र 8 लोगों ने इस हमले को अंजाम दिया था जिसके लिए पूरे देश (पाकिस्तान) पर आरोप नहीं लगाना चाहिए।

पाकिस्तान के प्रति उनका यह लगाव, उनकी सच्ची देश-भक्ति को दर्शाता है जो जगज़ाहिर है। अब वो बात अलग है कि ऐसे कितने लोग हैं जो उनकी इस देश-भक्ति को देखने में पूरी तरह से सक्षम हैं, जो यह देख सकें कि पित्रोदा का दिल किस देश के लिए सही मायनों में धड़कता है। कम से कम सोशल मीडिया पर तो इसे बड़ी ही सरलता से देखा जा सकता है।

राहुल गाँधी की ‘न्याय योजना’ को सफल बनाने के लिए भी सैम पित्रोदा ही आगे आए थे और कहा था कि मध्यम वर्ग को ज़्यादा टैक्स देने के लिए तैयार रहने की ज़रूरत है। क्योंकि उस टैक्स का इस्तेमाल न्याय योजना के लिए आर्थिक बंदोबस्त करने में लगेगा। बाद में ‘न्याय योजना’ ख़ुद ही तमाम सवालों में घिरी दिखी

इसके अलावा एक और बात सामने आई थी कि इंडियन ओवरसीज कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष सैम पित्रोदा को मोबाइल चलाते भारतीय भी नहीं भाते, क्योंकि उनका कहना है कि मोबाइल चलाने वाला हर भारतीय बन्दर है

यह कहना ग़लत नहीं होगा कि कॉन्ग्रेस और उनके चहेतों को मोदी राज में केवल ख़ामियाँ ही नज़र आती हैं। जबकि गाँधी-वाड्रा परिवार के अनेकों घोटाले अब सामने आ चुके हैं। भष्ट्राचार में लिप्त कॉन्ग्रेस का नाता देश में हुए लगभग हर घोटाले से है। बावजूद इसके पित्रोदा जैसे लोग जब कॉन्ग्रेस के बचाव में उतरतें हैं तो बड़ा अफ़सोस होता है। ऐसा करने से उनकी जिस इंटेलीजेंसी का पता चलता है, वो किसी से छिपी नहीं है।

अपनी धुर विरोधी पार्टी बीजेपी के ख़िलाफ़ कोई मुद्दा ना मिलता देख केवल इसी ताक में रहना कि कब मोदी क्या कह दें और उसे एक मौक़ा समझकर ये सारे लपक लें, और फिर शुरू हो जाए अनरगल बातों का दौर। मेरी नज़र में ये स्थिति बेहद हास्यास्पद है कि कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी को पप्पू न समझने के लिए पित्रोदा जैसे समझदार व्यक्ति को प्रेस कॉन्फ़्रेंस तक करनी पड़ गई, इसी से पता चलता है कि वाकई देश में ‘पप्पू’ की कमी नहीं है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

4 शहर-28 ठिकाने, ₹300 करोड़ का हिसाब नहीं: अनुराग कश्यप, तापसी पन्नू सहित अन्य पर रेड में टैक्स चोरी के बड़े सबूत

आयकर विभाग की छापेमारी लगातार दूसरे दिन भी जारी रही। बड़े पैमाने पर कर चोरी के सबूत मिलने की बात सामने आ रही है।

किसान आंदोलन राजनीतिक, PM मोदी को हराना मकसद: ‘आन्दोलनजीवी’ योगेंद्र यादव ने कबूली सच्चाई

वे केवल बीजेपी को हराना चाहते हैं और उनकी कोई जिम्मेदारी नहीं है कि कौन जीतता है। यहाँ तक कि अब्बास सिद्दीकी के बंगाल जीतने पर भी वे खुश हैं। उनका दावा है कि जब तक मोदी और भाजपा को अनिवार्य रूप से सत्ता से बाहर रखा जाता है। तब तक ही सही मायने में लोकतंत्र है।

70 नहीं, अब 107 एकड़ में होंगे रामलला विराजमान: 7285 वर्ग फुट जमीन और खरीदी गई

अयोध्या में भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर का निर्माण अब 70 एकड़ की जगह 107 में एकड़ में किया जाएगा। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने परिसर के आसपास की 7,285 वर्ग फुट ज़मीन खरीदी है।

तिरंगे पर थूका, कहा- पेशाब पीओ; PM मोदी के लिए भी आपत्तिजनक बात: भारतीयों पर हमले के Video आए सामने

तिरंगे के अपमान और भारतीयों को प्रताड़ित करने की इस घटना का मास्टरमाइंड खालिस्तानी MP जगमीत सिंह का साढू जोधवीर धालीवाल है।

अंदर शाहिद-बाहर असलम, दिल्ली दंगों के आरोपित हिंदुओं को तिहाड़ में ही मारने की थी साजिश

हिंदू आरोपितों को मर्करी (पारा) देकर मारने की साजिश रची गई थी। दिल्ली पुलिस ने साजिश का पर्दाफाश करते हुए दो को गिरफ्तार किया है।

100 मदरसे-50 हजार छात्र, गीता-रामायण की करनी ही होगी पढ़ाई: मीडिया के दावों की हकीकत

मीडिया रिपोर्टों में दावा किया जा रहा है कि मदरसों में गीता और रामायण की पढ़ाई को लेकर सरकार दबाव बना रही है।

प्रचलित ख़बरें

BBC के शो में PM नरेंद्र मोदी को माँ की गंदी गाली, अश्लील भाषा का प्रयोग: किसान आंदोलन पर हो रहा था ‘Big Debate’

दिल्ली में चल रहे 'किसान आंदोलन' को लेकर 'BBC एशियन नेटवर्क' के शो में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आपत्तिजनक टिप्पणी (माँ की गाली) की गई।

पुलिसकर्मियों ने गर्ल्स हॉस्टल की महिलाओं को नंगा कर नचवाया, वीडियो सामने आने पर जाँच शुरू: महाराष्ट्र विधानसभा में गूँजा मामला

लड़कियों ने बताया कि हॉस्टल कर्मचारियों की मदद से पूछताछ के बहाने कुछ पुलिसकर्मियों और बाहरी लोगों को हॉस्टल में एंट्री दे दी जाती थी।

‘प्राइवेट पार्ट में हाथ घुसाया, कहा पेड़ रोप रही हूँ… 6 घंटे तक बंधक बना कर रेप’: LGBTQ एक्टिविस्ट महिला पर आरोप

LGBTQ+ एक्टिविस्ट और TEDx स्पीकर दिव्या दुरेजा पर पर होटल में यौन शोषण के आरोप लगे हैं। एक योग शिक्षिका Elodie ने उनके ऊपर ये आरोप लगाए।

‘हाथ पकड़ 20 मिनट तक आँखें बंद किए बैठे रहे, किस भी किया’: पूर्व DGP के खिलाफ महिला IPS अधिकारी ने दर्ज कराई FIR

कुछ दिनों बाद उनके ससुर के पास फोन कॉल कर दास ने कॉम्प्रोमाइज करने को कहा और दावा किया कि वो पीड़िता के पाँव पर गिरने को भी तैयार हैं।

तिरंगे पर थूका, कहा- पेशाब पीओ; PM मोदी के लिए भी आपत्तिजनक बात: भारतीयों पर हमले के Video आए सामने

तिरंगे के अपमान और भारतीयों को प्रताड़ित करने की इस घटना का मास्टरमाइंड खालिस्तानी MP जगमीत सिंह का साढू जोधवीर धालीवाल है।

‘बिके हुए आदमी हो तुम’ – हाथरस मामले में पत्रकार ने पूछे सवाल तो भड़के अखिलेश यादव

हाथरस मामले में सवाल पूछने पर पत्रकार पर अखिलेश यादव ने आपत्तिजनक टिप्पणी की। सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद उनकी किरकिरी हुई।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,284FansLike
81,900FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe