Thursday, June 20, 2024
Homeविचारसामाजिक मुद्देअभिनेत्री रश्मिका मंदाना से लेकर कई हस्तियाँ हो चुकी हैं DeepFake की शिकार: जानिए...

अभिनेत्री रश्मिका मंदाना से लेकर कई हस्तियाँ हो चुकी हैं DeepFake की शिकार: जानिए ये AI तकनीक कितनी चिंताजनक और इससे बचाव के लिए क्या हैं उपाय

DeepFake तकनीकी 'डीप लर्निंग' और 'नकली' का एक संयोजन है, जो कृत्रिम बुद्धिमत्ता (Artificial Intelligence) में एक अत्याधुनिक सीमा का प्रतिनिधित्व करता है। यह अति-यथार्थवादी छवियों, वीडियो या ऑडियो रिकॉर्डिंग में हेरफेर करने या उत्पन्न करने के लिए परिष्कृत एल्गोरिदम और तंत्रिका नेटवर्क का उपयोग करता है।

DeepFake तकनीकी ‘डीप लर्निंग’ और ‘नकली’ का एक संयोजन है, जो कृत्रिम बुद्धिमत्ता (Artificial Intelligence) में एक अत्याधुनिक सीमा का प्रतिनिधित्व करता है। यह अति-यथार्थवादी छवियों, वीडियो या ऑडियो रिकॉर्डिंग में हेरफेर करने या उत्पन्न करने के लिए परिष्कृत एल्गोरिदम और तंत्रिका नेटवर्क का उपयोग करता है। शुरुआत में मनोरंजन उद्योग में रचनात्मक अभिव्यक्ति के लिए एक उपकरण के रूप में उभरते हुए डीपफेक ने एक गहरा मोड़ ले लिया है।

दुर्भावनापूर्ण कुछ शरारती लोग इस तकनीक की शक्ति का उपयोग धोखा देने, हेरफेर करने और गलत सूचना फैलाने के लिए कर रहे हैं। राजनेताओं से लेकर मशहूर हस्तियों तक को इसके जरिए निशाना बनाया जा रहा है। इसके संभावित लक्ष्य बहुत बड़े हैं, जो गोपनीयता, प्रतिष्ठा और यहाँ तक कि लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं एवं अखंडता तक के लिए खतरा पैदा करते हैं।

डीपफेक के दुरुपयोग से निपटने के प्रयासों में उन्नत पहचान उपकरण, कानूनी ढाँचे का विकास और सार्वजनिक जागरूकता जरूरी है। जैसे-जैसे समाज डीपफेक तकनीक से उत्पन्न नैतिक और सुरक्षा चुनौतियों से जूझ रहा है, वैसे-वैसे इसे रोकने को लेकर चिंता बढ़ती जा रही है। हालाँकि, इस तकनीकी हथियार की दौड़ में आगे रहने की दौड़ जारी है, जिसका लक्ष्य नवाचार और इसके अनपेक्षित परिणामों के खिलाफ सुरक्षा के बीच संतुलन बनाना है।

डीपफेक तकनीक से बढ़ते खतरे के जवाब में दुनिया भर की सरकारें एआई-जनित सामग्री के दुरुपयोग को रोकने के लिए निर्णायक कदम उठा रही हैं। विधायी निकाय स्वतंत्र अभिव्यक्ति को संरक्षित करने और व्यक्तियों, व्यवसायों और लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं को डीपफेक के संभावित हानिकारक प्रभावों से बचाने के लिए काम कर रहे हैं।

1. दुर्भावनापूर्ण डीपफेक निर्माण को अपराध बनाना: हाल की विधायी पहलों का उद्देश्य दुर्भावनापूर्ण इरादे से डीपफेक के निर्माण और प्रसार को अपराध बनाना है। कई देश ऐसे कानून पेश कर रहे हैं, जो प्रतिष्ठा को नुकसान पहुँचाने, गलत सूचना फैलाने या जनता की राय को प्रभावित करने के लिए डिज़ाइन की गई हेरफेर वाली सामग्री का उत्पादन या साझा करने वाले व्यक्तियों पर जुर्माना अथवा कारावास सहित कई तरह के दंड लगाते हैं। ये उपाय अपराधियों को उनके कार्यों के लिए सामाजिक परिणामों के प्रति जवाबदेह ठहराते हुए एक निवारक के रूप में तय करना है।

2. गोपनीयता संरक्षण कानून: डीपफेक तकनीक द्वारा व्यक्तिगत गोपनीयता पर आक्रमण को पहचानते हुए कानून निर्माता मौजूदा गोपनीयता सुरक्षा कानूनों में बदलाव कर रहे हैं। ये उपाय व्यक्तियों को डिजिटल मीडिया में उनकी समानता पर अधिक नियंत्रण देने पर ध्यान केंद्रित करते हैं, जिसमें व्यक्तियों से जुड़े डीपफेक के निर्माण और वितरण के लिए स्पष्ट सहमति की आवश्यकता होती है। इसका लक्ष्य कानूनी सुरक्षा उपाय स्थापित करना है, जो स्वतंत्र अभिव्यक्ति के अधिकार का सम्मान करते हुए नुकसान की सँभावना को कम करता है।

3. चुनाव-विशिष्ट कानून: लोकतंत्र में खतरों पर बढ़ती चिंता के जवाब में अधिकांश देश चुनाव-विशिष्ट कानून बना रहे हैं। ये कानूनी ढाँचे राजनीतिक अभियानों के दौरान हेरफेर की गई सामग्री से उत्पन्न चुनौतियों का समाधान करते हैं। इसका उद्देश्य लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं की अखंडता को सुनिश्चित करना है। इन कानूनों के प्रावधानों में अक्सर सार्वजनिक धारणा और चुनावी परिणामों पर डीपफेक के प्रभाव का प्रतिकार करने के लिए त्वरित तंत्र शामिल होते हैं।

4. कॉर्पोरेट सुरक्षा उपाय: डीपफेक के खतरों के मद्देनजर व्यापार क्षेत्र को भारी चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। इसने कानून निर्माताओं को कंपनियों और अधिकारियों की सुरक्षा के लिए कानूनी ढाँचे तैयार करने के लिए प्रेरित किया जाता है। ये कानून कॉर्पोरेट जासूसी, प्रतिष्ठा की क्षति और वित्तीय बाजारों पर डीपफेक तकनीक के संभावित दुष्प्रभाव जैसे मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करते हैं। कानूनी उपाय मजबूत साइबर सुरक्षा प्रथाओं को लागू करने के लिए व्यवसायों की जिम्मेदारी पर जोर देते हैं और हेरफेर की गई सामग्री के उपयोग के माध्यम से निगमों का शोषण करने वालों के खिलाफ कानूनी सहारा के महत्व पर जोर देते हैं।

5. नागरिक उपचार: दुर्भावनापूर्ण डीपफेक गतिविधियों को अपराध घोषित करने के अलावा, कानून में हेरफेर के पीड़ितों को सशक्त बनाने के लिए नागरिक उपायों को चिन्हित किया जा रहा है। ये कानूनी तंत्र व्यक्तियों और व्यवसायों को उनकी समानता के दुरुपयोग या झूठी जानकारी के प्रसार से होने वाले नुकसान के लिए मुआवजे की माँग करने के साधन प्रदान करते हैं। इसके अलावा, यह दंडात्मक उपायों और क्षतिपूर्ति के रास्ते दोनों की पेशकश करती हैं।

6. अंतर्राष्ट्रीय सहयोग: इंटरनेट की वैश्विक प्रकृति को देखते हुए कई देश डीपफेक के दुरुपयोग से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए अंतर्राष्ट्रीय सहयोग की आवश्यकता को पहचान रहे हैं। ऐसे समझौते और संधियाँ स्थापित करने के लिए राजनयिक प्रयास चल रहे हैं, जो डीपफेक अपराधों में शामिल व्यक्तियों की जाँच और मुकदमा चलाने में सीमा पार सहयोग की सुविधा प्रदान करते हैं। इस सहयोगात्मक दृष्टिकोण का उद्देश्य एआई-जनित सामग्री के दुरुपयोग से उत्पन्न वैश्विक चुनौतियों के खिलाफ एक एकीकृत मोर्चा बनाना है।

जैसे-जैसे डीपफेक तकनीक का विकास जारी है, वैसे-वैसे समाज की सुरक्षा के लिए कानूनी प्रतिक्रियाएँ भी विकसित होनी चाहिए। कानून नुकसान को रोकने की आवश्यकता के साथ स्वतंत्र अभिव्यक्ति को संतुलित करने की जटिलताओं से निपट रहे हैं। कठोर कानून डीपफेक से उत्पन्न चुनौतियों का समाधान करते हैं।

बताते चलें कि बॉलीवुड अभिनेत्री रश्मिका मंदाना का एक वीडियो सामने आया था। इसमें जारा पटेल नाम की एक ब्रिटिश-इंडियन इन्फ्लुएंसर के वीडियो में छेड़छाड़ करके रश्मिका का चेहरा लगा दिया गया था। जारा अक्सर अंतरंग वस्त्रों में तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर अपलोड करती रहती हैं। इसके बाद रश्मिका ने दिल्ली पुलिस में प्राथमिकी दर्ज कराई थी। इसी तरह इसका शिकार अभिनेतत्री काजोल, ऐश्वर्या राय, रतन टाटा सहित कई नामचीन हस्तियाँ हो चुकी हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Sanjay Kumar
Sanjay Kumar
Sanjay Kumar has been a media professional for more than 20 years and has covered several types of stories related to politics, law, education, defense, parliament affairs, entertainment, business and finance, sports, etc. He also worked with several media organizations and news agencies, like CNBC-TV18, CNN-IBN, NewsX, RSTV, Sansad TV, ANI, etc.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -