Tuesday, October 27, 2020
Home विचार सामाजिक मुद्दे अजमल कसाब ने आत्महत्या की थी... Google यही दिखा रहा है: भारत-विरोधी प्रोपेगेंडा के...

अजमल कसाब ने आत्महत्या की थी… Google यही दिखा रहा है: भारत-विरोधी प्रोपेगेंडा के पीछे किन-किन का हाथ

ओसामा बिन लादेन की मौत का कारण गूगल ने सही बताया है कि वो 'Gunshot Wounds' से मरा। फिर भारत के साथ भेदभाव क्यों? हिन्दू-विरोधी वेबसाइट विकिपीडिया इसके पीछे का बड़ा कारण है।

आतंकी अजमल कसाब कैसे मरा था? देश में किसी निरक्षर व्यक्ति से भी पूछा जाए तो वो बता देगा कि उसे फाँसी की सज़ा दी गई थी। जिन्हें अधिकतर चीजों के जवाब नहीं पता, उन्हें भी पता है कि उसे पुणे के यरवदा जेल में फाँसी पर लटकाया गया था लेकिन जिसे सारे जवाब पता होते हैं, उस गूगल को लगता है कि अजमल कसाब ने आत्महत्या की थी। आखिर गूगल द्वारा ऐसा दिखाए जाने का कारण क्या है?

अजमल कसाब ने आत्महत्या की थी: गूगल निष्कर्ष

जब आप गूगल पर ‘Ajmal Kasab Death’ लिख कर सर्च करेंगे तो आप ‘मृत्यु का कारण’ वाले सेक्शन में पाएँगे कि ‘आत्महत्या’ लिखा हुआ है। लेकिन अजमल कसाब ने आत्महत्या तो नहीं ही की थी। उसके साथ मुंबई हमलों के अन्य आतंकी तो मारे गए लेकिन वो पकड़ा गया। क़रीब 4 साल तक वो जेल में रहा और सुनवाई चलती रही। उसके बाद उसने मर्सी पेटिशन भी डाला, जिसे राष्ट्रपति द्वारा नकार दिया गया था।

इसके बाद उसे फाँसी दी गई। गूगल सामान्यतः विकिपीडिया के निष्कर्षों को अपने मुख्य पृष्ठ पर दिखाता है लेकिन विकिपीडिया एक हिन्दू-विरोधी वेबसाइट है, जिस पर कट्टर इस्लामी प्रोपेगंडा फैलाया जाता रहा है, इस बारे में हमने कई लेख प्रकाशित किए हैं। तो क्या गूगल आँख बंद कर के विकिपीडिया पर भरोसा करता है? तो फिर ‘आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस’ की बड़ी-बड़ी बातों का क्या?

गूगल के हिसाब से अजमल कसाब की मौत का कारण आत्महत्या है

विकिपीडिया एक पक्षपाती वेबसाइट है क्योंकि दिल्ली में हुए दंगों को उसने हिन्दू-विरोधी मानने से इनकार कर दिया। अब जब दंगे का मुख्य आरोपित ताहिर हुसैन खुद पुलिस के समक्ष स्वीकार कर रहा है कि वो ‘हिन्दुओं को सबक सिखाना चाहता था’ और अंकित शर्मा, दिलबर नेगी सहित तमाम हिन्दुओं को जिस तरह बेरहमी से मजहबी नारेबाजी करते हुए मारा गया, सब कुछ प्रत्यक्ष था। फिर भी विकिपीडिया ने इस्लामी प्रोपेगंडा क्यों फैलाया?

अगर गूगल इसी राह पर चल रहा है और विकिपीडिया के निष्कर्षों को सीधा पहले पन्ने पर जगह देकर दिखा रहा है तो उसे कम से कम इसकी छानबीन तो कर ही लेनी चाहिए न कि वो सही है भी या नहीं? कल को कोई शातिर अजमल कसाब को फ़क़ीर या इमाम बता देगा तो क्या गूगल उसे मोईनुद्दीन चिश्ती और हाजी अली के साथ एक श्रेणी में रख देगा? ऐसा नहीं होना चाहिए। तो फिर उसकी मौत को ‘आत्महत्या’ कैसे दिखाया गया?

फिर 4 सालों तक चली क़ानूनी प्रक्रिया का क्या?

अजमल कसाब 4 साल तक जेल में बिरयानी खाता रहा था और अपनी मनपसंद किताबें मँगा कर पढ़ता रहा था। उस दौरान पूरी कानूनी प्रक्रिया के तहत सुनवाई हुई। उसके सारे सीसीटीवी फुटेज अदालत के समक्ष रखे गए। फ़रवरी 25, 2009 को पुलिस ने उसके खिलाफ 11,000 पेज की चार्जशीट दायर की। कसाब ने समय काटने के लिए तो चार्जशीट की उर्दू कॉपी तक की माँग कर दी थी, जो मराठी व अंग्रेजी में था।

गवाहों ने अजमल कसाब की पहचान की। डिफेंस के लिए उसे वकील भी दिया गया। अब्बास काज़मी ने अदालत में उसका पक्ष रखा। ट्रायल कोर्ट ने उसे फाँसी की सज़ा सुनाई। वो हाईकोर्ट गया। बॉम्बे हाईकोर्ट ने इस फैसले को बरकरार रखा। वो सुप्रीम कोर्ट गया। अगस्त 2012 में सुप्रीम कोर्ट ने भी सज़ा बरकरार रखा। फिर राष्ट्रपति के समक्ष दया याचिका। तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने इसे खारिज किया, तब जाकर उसे सज़ा मिली।

क़ानून के हिसाब से सब कुछ हुआ। 166 लोगों के हत्यारे आतंकी को इतनी छूट किस देश में मिलती है कि गूगल क़ानून-सम्मत सज़ा को ‘आत्महत्या’ कह रहा है? जनभावनाएँ तो ये थीं कि उसे पकड़े जाने के अगले ही दिन फाँसी की सज़ा दे दी जाए लेकिन सजा मिली कानून के हिसाब से।

फिर भी गूगल को लगता है कि उसने जेल में आत्महत्या कर ली। ऐसे में कल को किसी बेहूदा वेबसाइट ने लिख दिया कि ओसामा बिन लादेन PUBG खेलते हुए मारा गया था तो क्या गूगल उसे मान लेगा? या फिर बगदादी भी ज़रूर दिवाली के पटाखों के कारण मर गया होगा? कम से कम मानवाधिकार वाले तो खुश हो जाएँगे कि उन्हें हिन्दू त्यौहार के खिलाफ एक मुद्दा मिल गया। गूगल इसे भी पहले पन्ने पर दिखा दे।

तकनीकी बहाने बना कर बच नहीं सकता गूगल

अब थोड़ा समझ लेते हैं कि आखिर गूगल के पहले पृष्ठ पर सर्च निष्कर्ष आते कैसे हैं। गूगल के पास जिन वेबसाइटों के साइटमैप होते हैं, उनके रिजल्ट्स वो आसानी से शो कर सकता है। जिस वेबसाइट का नेविगेशन लिंक जितना अच्छा होगा, वो गूगल सर्च में उतना ऊपर आता है। उन साइटों के रिजल्ट्स दिखाने में ज़्यादा दिक्कत आती है जो यूआरएल पाथ या यूआरएल नाम की जगह यूआरएल पैरामीटर का इस्तेमाल करते हैं।

सवाल यह उठता है कि कसाब जैसे आतंकी की कानूनी सजा को आत्महत्या दिखाना किस नैरेटिव को समर्पित है? क्या विकिपीडिया के एक या दो लेख को, भारतीय मीडिया पोर्टलों पर दी गई तमाम रिपोर्ट्स से बेहतर मानना गूगल की गलती नहीं? अगर ये मशीनी तरीकों और अल्गोरिदम के हवाले से भी रिजल्ट आती है तो भी क्या मीडिया पोर्टल/साइट्स को नीचे दिखाना (जो सच्ची व सही जानकारी दे रहे हैं) और विकीपीडिया या किसी अन्य पोर्टल के झूठ को सबसे ऊपर दिखाना अनुचित नहीं?

पत्रकारिता की दुनिया में अक्सर उसकी सूचना को पुष्ट माना जाता है जो ग्राउंड पर हो। घटनास्थल के जो जितना नजदीक है, उसकी सूचना को उतना भरोसेमंद माना जाता है। कहीं की खबर के सही विवरण के लिए स्थानीय मीडिया और उसके पत्रकारों की बातो का भरोसा किया जाता है। क्या भारत की किसी घटना के लिए विदेशी विकिपीडिया गूगल के लिए ज्यादा भरोसेमंद है, भले ही वो गलत ही क्यों न दिखाए?

एक कारण और संभव है कि इस्लामी कट्टरपंथी या आतंकी सरगना ऐसे आतंकियों को ‘फिदायीन’ की संज्ञा देते हैं, इसीलिए गूगल कीवर्ड्स के हेरफेर के कारण इसे आत्महत्या बता रहा हो क्योंकि फिदायीन का अर्थ वो लोग होते हैं, जो खुद की जान को किसी मिशन के लिए समर्पित करने के लिए लगे होते हैं। आतंकियों का मिशन क्या है, ये छिपा नहीं है। आजकल ‘जिहाद’ और ‘फिदायीन’ शब्दों का इस्तेमाल क्यों होता है, ये छिपा नहीं है।

अजमल कसाब ने आत्महत्या की तो 11000 पन्नों की चार्जशीट में क्या है?

तो क्या गूगल ने फिदायीन का मतलब ये समझ लिया कि उसने सच में किसी ‘कॉज’ के लिए खुद की जान ‘समर्पित’ कर दी? वो ‘कॉज’ क्या था? 166 लोगों का खून कर के किसी देश को एक तरह से 3 दिन तक बंधक बनाए रखना? फिर तो कोई सनकी वेबसाइट आतंकी अफजल गुरु को सप्तऋषियों में से एक घोषित कर देगा और गूगल उसके निष्कर्षों को पहले पेज पर दिखाने लगेगा क्योंकि वो अफजल ‘गुरु’ है।

गूगल को 11,000 पेज की चार्जशीट पढ़ कर देखना चाहिए कि अजमल कसाब ने किया क्या था, वो क्या था और उसे क्यों फाँसी दी गई। अगर आतंकी खुद को ‘फिदायीन’ बोलें और सुरक्षाबलों के हाथों मारे जाएँ तो इसका मतलब ये नहीं कि उन्होंने आत्महत्या की है, इसका मतलब है कि वो ‘कुत्ते की मौत’ मारे गए। फिर कसाब को तो 4 साल खिला-पिला कर सज़ा सुनाई गई। एक-एक प्रक्रिया और उससे जुडी खबरें इंटरनेट पर हैं।

वहीं ओसामा बिन लादेन की मौत का कारण गूगल ने सही बताया है कि वो ‘Gunshot Wounds’ से मरा। फिर भारत के साथ भेदभाव क्यों? कसाब की मौत पर कोई सस्पेंस रहता और अलग-अलग वर्जन्स होते तो शायद कन्फ्यूजन की बात होती लेकिन जहाँ एक-एक छोटी-छोटी बातें भी लगातार खबरें बन रही थी, गूगल झूठ क्यों दिखा रहा है? अब देखना ये है कि वो कब तक इसे बदलता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘थाना प्रभारी रंजीत मंडल ने इंजीनियर आशुतोष पाठक के कपड़े उतारे, की बर्बरता’: हत्या का मामला दर्ज, किए गए सस्पेंड

एसपी ने कहा कि इस पूरे मामले की निष्पक्ष जाँच हो, इसीलिए थानाध्यक्ष को सस्पेंड किया गया। पुलिस ने अपनी 'डेथ रिव्यू रिपोर्ट' में आशुतोष के शरीर पर चोट के निशान मिलने की पुष्टि की है।

नूँह कॉन्ग्रेस MLA आफताब अहमद हैं निकिता के हत्यारे तौसीफ के चाचा, कहा- हमें नहीं थी हथियार की जानकारी

कॉन्ग्रेस के पूर्व MLA और पूर्व मंत्री खुर्शीद अहमद निकिता के हत्यारे के चचेरे दादा लगते हैं। इसी तरह वर्तमान में मेवात के नूँह से कॉन्ग्रेस MLA आफताब अहमद उसके चाचा हैं।

मोदी को क्लीन चिट देने पर दिल्ली में बैठे विरोधियों ने किया था उत्पीड़न: CBI के पूर्व निदेशक का खुलासा

"उन्होंने मेरे खिलाफ याचिकाएँ दायर कीं, मुझ पर CM का पक्ष लेने का आरोप लगाया। टेलीफोन पर मेरी बातचीत की निगरानी के लिए केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग भी किया"

जौनपुर की जामा मस्जिद में मिस्र शैली की नक्काशी है या अटाला देवी मंदिर के विध्वंस की छाप?

सुल्तान ने निर्देश दिए थे कि अटाला देवी मंदिर को तोड़कर उसकी जगह मस्जिद की नींव रखी जाए। 1408 ई में मस्जिद का काम पूरा हुआ। आज भी खंबों पर मूर्ति में हुई नक्काशी को ध्वस्त करने के निशान मिलते हैं।

‘मुस्लिम बन जा, निकाह कर लूँगा’: तौसीफ बना रहा था निकिता पर धर्मांतरण का दबाव- मृतका के परिवार का दावा

तौसीफ लड़की से कहता था, 'मुस्लिम बन जा हम निकाह कर लेंगे' मगर जब लड़की ने उसकी बात नहीं सुनी तो उसकी गोली मार कर हत्या कर दी।

बाबा का ढाबा स्कैम: वीडियो वायरल करने वाले यूट्यूबर पर डोनेशन के रूपए गबन करने के आरोप

ऑनलाइन स्कैमिंग पर बनाई गई वीडियो में लक्ष्य चौधरी ने समझाया कि कैसे लोग इसी तरह की इमोशनल वीडियो बना कर पैसे ऐंठते हैं।

प्रचलित ख़बरें

अपहरण के प्रयास में तौसीफ ने निकिता तोमर को गोलियों से भूना, 1 माह पहले ही की थी उत्पीड़न की शिकायत

तौसीफ ने छात्रा पर कई बार दोस्ती और धर्मांतरण के लिए दबाव भी बनाया था। इससे इनकार करने पर तौसीफ ने 2018 में एक बार निकिता का अपहरण भी कर लिया था।

IAS अधिकारी ने जबरन हवन करवाकर पंडितों को पढ़ाया ‘समानता का पाठ’, लोगों ने पूछा- मस्जिद में मौलवियों को भी ज्ञान देंगी?

क्या पंडितों को 'समानता का पाठ' पढ़ाने वाले IAS अधिकारी मौलवियों को ये पाठ पढ़ाएँगे? चर्चों में जाकर पादिरयों द्वारा यौन शोषण की आई कई खबरों का जिक्र करते हुए ज्ञान देंगे?

मदद की अपील अक्टूबर में, नाम लिख लिया था सितम्बर में: लोगों ने पूछा- सोनू सूद अंतर्यामी हैं क्या?

"मदद की गुहार लगाए जाने से 1 महीने पहले ही सोनू सूद ने मरीज के नाम की एक्सेल शीट तैयार कर ली थी, क्या वो अंतर्यामी हैं?" - जानिए क्या है माजरा।

जब रावण ने पत्थर पर लिटा कर अपनी बहू का ही बलात्कार किया… वो श्राप जो हमेशा उसके साथ रहा

जानिए वाल्मीकि रामायण की उस कहानी के बारे में, जो 'रावण ने सीता को छुआ तक नहीं' वाले नैरेटिव को ध्वस्त करती है। रावण विद्वान था, संगीत का ज्ञानी था और शिवभक्त था। लेकिन, उसने स्त्रियों को कभी सम्मान नहीं दिया और उन्हें उपभोग की वस्तु समझा।

नवरात्र में ‘हिंदू देवी’ की गोद में शराब और हाथ में गाँजा, फोटोग्राफर डिया जॉन ने कहा – ‘महिला आजादी दिखाना था मकसद’

“महिलाओं को देवी माना जाता है लेकिन उनके साथ किस तरह का व्यवहार किया जाता है? उनके व्यक्तित्व को निर्वस्त्र किया जाता है।"

एक ही रात में 3 अलग-अलग जगह लड़कियों के साथ छेड़छाड़ करने वाला लालू का 2 बेटा: अब मिलेगी बिहार की गद्दी?

आज से लगभग 13 साल पहले ऐसा समय भी आया था, जब राजद सुप्रीमो लालू यादव के दोनों बेटों तेज प्रताप और तेजस्वी यादव पर छेड़खानी के आरोप लगे थे।
- विज्ञापन -

चाय स्टॉल पर शिवसेना नेता राहुल शेट्टी की 3 गोली मारकर हत्या, 30 साल पहले पिता के साथ भी यही हुआ था

वारदात से कुछ टाइम पहले राहुल शेट्टी ने लोनावला सिटी पुलिस स्टेशन में अपनी जान को खतरा होने की जानकारी पुलिस को दी थी।

‘थाना प्रभारी रंजीत मंडल ने इंजीनियर आशुतोष पाठक के कपड़े उतारे, की बर्बरता’: हत्या का मामला दर्ज, किए गए सस्पेंड

एसपी ने कहा कि इस पूरे मामले की निष्पक्ष जाँच हो, इसीलिए थानाध्यक्ष को सस्पेंड किया गया। पुलिस ने अपनी 'डेथ रिव्यू रिपोर्ट' में आशुतोष के शरीर पर चोट के निशान मिलने की पुष्टि की है।

नूँह कॉन्ग्रेस MLA आफताब अहमद हैं निकिता के हत्यारे तौसीफ के चाचा, कहा- हमें नहीं थी हथियार की जानकारी

कॉन्ग्रेस के पूर्व MLA और पूर्व मंत्री खुर्शीद अहमद निकिता के हत्यारे के चचेरे दादा लगते हैं। इसी तरह वर्तमान में मेवात के नूँह से कॉन्ग्रेस MLA आफताब अहमद उसके चाचा हैं।

महिलाओं की ही तरह अकेले पुरुष अभिभावकों को भी मिलेगी चाइल्ड केयर लीव: केंद्र सरकार का फैसला

केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने घोषणा की है कि जो पुरुष सरकारी कर्मचारी हैं और बच्चे का पालन अकेले कर रहे हैं, उन्हें अब चाइल्डकेयर लीव दी जाएगी।

फेक TRP स्कैम में मुंबई पुलिस द्वारा गवाहों पर दबाव बनाने वाले ऑपइंडिया के ऑडियो टेप स्टोरी पर CBI ने दी प्रतिक्रिया

कॉल पर पड़ोसी से बात करते हुए व्यक्ति बेहद घबराया हुआ प्रतीत होता है और बार-बार कहता है कि 10-12 पुलिस वाले आए थे, अगर ऐसे ही आते रहे तो.....

हाफिज सईद के बहनोई से लेकर मुंबई धमाकों के आरोपितों तक: केंद्र ने UAPA के तहत 18 को घोषित किया आतंकी

सरकार द्वारा जारी इस सूची में पाकिस्तान स्थित आतंकवादी भी शामिल हैं। इसमें 26/11 मुंबई हमले में आरोपित आतंकी संगठन लश्कर का यूसुफ मुजम्मिल, लश्कर चीफ हाफिज सईद का बहनोई अब्दुर रहमान मक्की...

निकिता तोमर हत्याकांड: तौसीफ के बाद अब रेवान भी गिरफ्तार, भाई ने कहा- अगर मुस्लिम की बेटी होती तो सारा प्रशासन यहाँ होता

निकिता तोमर की माँ ने कहा है कि जब तक दोषियों का एनकाउंटर नहीं किया जाता, तब तक वो अपनी बेटी का अंतिम-संस्कार नहीं करेंगी।

मोदी को क्लीन चिट देने पर दिल्ली में बैठे विरोधियों ने किया था उत्पीड़न: CBI के पूर्व निदेशक का खुलासा

"उन्होंने मेरे खिलाफ याचिकाएँ दायर कीं, मुझ पर CM का पक्ष लेने का आरोप लगाया। टेलीफोन पर मेरी बातचीत की निगरानी के लिए केंद्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग भी किया"

जम्मू-कश्मीर, लद्दाख में अब कोई भी खरीद सकेगा जमीन, नहीं छिनेगा बेटियों का हक़: मोदी सरकार का बड़ा फैसला

जम्मू-कश्मीर में अब देश का कोई भी व्यक्ति जमीन खरीद सकता है और वहाँ पर बस सकता है। गृह मंत्रालय द्वारा मंगलवार को इसके तहत नया नोटिफिकेशन जारी किया गया है।

जौनपुर की जामा मस्जिद में मिस्र शैली की नक्काशी है या अटाला देवी मंदिर के विध्वंस की छाप?

सुल्तान ने निर्देश दिए थे कि अटाला देवी मंदिर को तोड़कर उसकी जगह मस्जिद की नींव रखी जाए। 1408 ई में मस्जिद का काम पूरा हुआ। आज भी खंबों पर मूर्ति में हुई नक्काशी को ध्वस्त करने के निशान मिलते हैं।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
79,349FollowersFollow
338,000SubscribersSubscribe