हिन्दू करें कल्कि अवतार की प्रतीक्षा, क्योंकि जिनको चुना उनसे तो कुछ हो नहीं रहा

फेसबुक पर लिख कर, चार सवाल फेंक कर अपनी जिम्मेदारी निभा लेने के मुग़ालते में रहने वाले हिन्दू बहुत हैं। जबकि मुसलमान आपसी दुश्मनी में भले ही अलग दिखे, लेकिन बाकी हर काम, जहाँ मजहब है, चाहे वो नमाज हो या सामूहिक हिंसा, वो एकजुट और तैयार दिखता है।

इसमें कोई दोराय नहीं है कि विरोधियों ने मोदी और भाजपा को आज तक ‘हिंदुत्व’ एजेंडा चलाने वाला कहा है, जिसमें फासीवाद से लेकर तमाम मवादों के नाम एक साथ ग्राइंडर में डाल कर भगवा शेक बनाने के बाद कहा जाता है कि पूरे भारत को मोदी शाकाहारी, विशुद्ध हिन्दू और मंगलवार को हनुमान की अराधना करने वाला बना देगा। वहीं, दूसरी तरफ जिन लोगों ने मोदी को, योगी को, भाजपा को वोट दिया है, वो भी उन्हें हिन्दू हृदय सम्राट से लेकर तमाम विशेषणों से नवाजते हैं।

वस्तुस्थिति चाहे इसके उलट रही हो, और सिर्फ जून के महीने में छः जगह (एक, दो, तीन, चार, पाँच, छः) मंदिरों और मूर्तियों को मुसलमानों ने तोड़ा हो, लेकिन बर्बर बहुसंख्यक का तमगा हिन्दुओं के सर पर ही चिपकाया जाता है। खबरें आती हैं जहाँ सामाजिक अपराध को मजहबी रंग देकर, हिन्दुओं को असहिष्णु बताया जाता है, स्थान विशेष से मोमबत्तियाँ निकल आती हैं, चौक-चौराहों पर हजारों की भीड़ जुटती है और बीबीसी लंदन से लेकर वाशिंगटन पोस्ट तक भारत को बताते हैं कि इस देश में अल्पसंख्यकों का जीना हिन्दुओं ने मुहाल कर रखा है।

और हिन्दू क्या करते हैं? या, हिन्दुओं के चुने हुए तथाकथित हिन्दुवादी नेता क्या करते हैं? वो तमाम पावर में बैठे लोग क्या करते हैं, जिनकी रगों के खून को भगवा बताया जाता है? वो कुछ नहीं करते। कुछ नहीं करना भी बड़ा कठिन कार्य है, क्योंकि आपको पता ही नहीं चलता कि आपने वो काम कब खत्म कर दिया। इनकी आस लगाए फेसबुक पर जनता कोसती है एक-दूसरे को कि ‘जिसको चुना वो निष्क्रिय है’, ‘हिन्दुओं इकट्ठा हो जाओ’, ‘आत्मरक्षा के लिए तैयार रहो’, ‘तैयारी करो…’ आदि। लेकिन ये सब तो समाधान नहीं है। हिंसा से किसी भी समस्या का समाधान नहीं मिल सकता।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इसी पर बात करते हुए एक सोशल मीडिया यूजर ने जो लिखा है वो हिन्दुओं के बारे में पूरी तरह से सही है कि धर्म हिन्दुओं को लिए कभी भी प्राथमिकता नहीं रहा। इसलिए फेसबुक पर लिख कर, चार सवाल फेंक कर अपनी जिम्मेदारी निभा लेने के मुग़ालते में रहने वाले लोग बहुत हैं। जबकि मुसलमान आपसी दुश्मनी में भले ही अलग दिखे, लेकिन बाकी हर काम, जहाँ मजहब है, चाहे वो नमाज हो या सामूहिक हिंसा, वो एकजुट और तैयार दिखता है।

दक्षिणपंथी सरकार और दक्षिणपंथी लोग कभी भी एक साथ होना ही नहीं चाहते। यहाँ हमेशा यह देखा गया है कि सबको बॉण्ड बनना है, और जरूरत पड़े तो एक दूसरे की पतलून उतार लेनी है। जबकि ऐसे मौकों पर, जब आपका धर्म, आपकी धार्मिक जगहें, आपकी जीवनशैली और अंततः आपका अस्तित्व ही संकट में हो, आपको तय तरीके से, कश्मीर से कैराना और वहाँ से मेरठ के प्रह्लादपुर से दिल्ली के कुछ इलाकों तक से मकानों पर ‘ये मकान बिकाऊ है’ लिखना पड़ रहा हो, तो संगठित होने के अलावा कोई चारा नहीं है।

संगठन आत्मरक्षा के लिए, धर्मरक्षा के लिए और संस्कृति की रक्षा के लिए ज़रूरी है। वरना दिल्ली के हौज़ काज़ी में दुर्गा मंदिर के सामने मुसलमानों की भीड़ आएगी, ‘अल्लाहु अकबर’ चिल्लाएगी, पत्थर फेंकेगी, भीतर जाकर मूर्तियों को तोड़ेगी और आप मीडिया को बाइट देंगे कि ‘उन्होंने हमारी मूर्ति पर पेशाब भी किया’।

आप इतने मजबूर कैसे हैं? हमला बोलने की परंपरा हमारी रही नहीं, लेकिन अपने आप को बचाने के लिए पहला कदम तो उठाइए! सत्ता का सिर्फ एक ही ध्येय होता है ‘सत्ता में बने रहना’। सरकारों को न तो दंगों में किसी एक समुदाय की मदद करनी चाहिए, न ही ऐसा आगे होने वाला है। याद कीजिए कि चर्च का शीशा टूटता है और यही पुलिस उपद्रवियों को कैसे पकड़ लेती है। याद कीजिए कि जयपुर में मुसलमानों की एक भीड़ पुलिस स्टेशन को घेर लेती है, आग लगाती है, दंगा करती है, और वहाँ के भाजपा मंत्री को देर रात को ‘नेगोशिएशन’ करने जाना पड़ता है, और केस वापस लेने की बात माननी पड़ती है।

एक खबर पर दिल्ली में लाख लोग जुट जाते हैं और उसे मजहबी रंग देकर सबको सुना देते हैं कि जुनैद की हत्या गोमांस के कारण हुई, और तबरेज की हत्या उसके मुसलमान होने के कारण हुई, सच भले यह हो कि एक सीट के विवाद में मारा गया और दूसरा चोर था और उसकी जान भीड़ ने ले ली। आखिर तुम्हारी एक लाख लोगों की भीड़ मंगरू की हत्या पर, अंकित सक्सेना की हत्या पर, प्रशांत पुजारी की हत्या पर, ईरिक्शा चालक रवीन्द्र की हत्या पर, डॉ. नारंग की हत्या पर, ध्रुव त्यागी की हत्या पर… क्यों नजर नहीं आती? और कितने नाम लूँ?

आपका और हमारा सत्य यही है कि हम फेसबुक पर ही लाइकों की भीड़ जुटा लेते हैं और पेरिस हमलों के बाद डीपी में फ्रान्स के झंडे का फिल्टर लगा कर संवेदनशील हो जाते हैं, जबकि रामपुर में दस मुसलमान लड़के किसी हिन्दू लड़की को खींच लेते हैं, छेड़ते हैं, हाथ लगाते हैं और वो किसी लोकल न्यूजपेपर के भीतरी पन्नों की खबर बन कर गायब हो जाती है। पचास घटनाएँ तो हाल ही में हमने गिनाईं जहाँ 2016 के बाद से मुसलमानों के द्वारा किए गए हेट क्राइम्स की पूरी सूची है। दर्जन भर और ऐसी घटनाएँ जहाँ हिन्दू को बुरा दिखाने के लिए हेट क्राइम बताया गया, लेकिन वो निकले कुछ और। लेकिन हमने किया क्या उसके बाद?

क्या हमारा इकोसिस्टम ऐसा है कि हम किसी आतंकी के लिए इकट्ठे हो जाएँ? क्या हमारे तथाकथित चिंतित हिन्दू मित्रों ने लाख तो छोड़िए, सौ की भीड़ इकट्ठा कर के पूछा कि दिल्ली का दुर्गा मंदिर कैसे टूट जाता है? क्या कभी ऐसा हुआ है कि आपने गलत आदमी को तो छोड़िए, सही आदमी को भी छुड़ाने का कोई प्रयास किया? क्या आपने वामपंथियों की तरह, इस समुदाय विशेष की भीड़ की तरह कासगंज के चंदन को गोली मारने की घटना पर कभी कैंडल मार्च भी किया?

नहीं किया, क्योंकि जब तक अपने घर का कोई नहीं मर जाता, आप में वो संवेदना नहीं जगती कि आप इकट्ठे हो सकें। एक तरफ आतंकियों की सजा पर या तो विरोध प्रदर्शन होता है, या फिर हर ऐसी घटना पर ये समुदाय चुप्पी साध लेता है, और दूसरी तरफ आप हैं जो यह कह कर डिफेंड करने लगते हैं कि हिन्दू टेरर नहीं होता, उस पर तो इल्जाम लगा है, साबित कुछ नहीं हुआ है। आपको हमेशा कोर्ट के आदेश का इंतजार होता है, आप वोट की शक्ति के बल पर चलते हैं, आपको तंत्र पर विश्वास है।

जबकि उधर तंत्र को भीड़ के सामने झुकना पड़ता है। हर बार तंत्र झुकता है। पत्थरबाजों के केस वापस लिए जाते हैं। उनकी सरकारी नौकरी के लिए आपकी चुनी हुई सरकार इंतजाम में लग जाती है। उन्हें मजहब के आधार पर छात्रवृत्ति दी जाती है। उन्हें विश्वास दिलाया जाता है कि उनके साथ नाइंसाफी नहीं होगी। उनके मस्जिद की दीवार पर कीचड़ भी पड़ता है तो वो उस इलाके के पुलिस की सबसे बड़ी प्राथमिकता बन जाती है।

आखिर आपको ये सुविधा क्यों नहीं मिलती? क्या आपने कभी तंत्र को झुकाने का तो छोड़िए, अपनी शक्ति दिखाने भर का भी प्रयत्न किया है? आपकी हालत यह है कि आपका बेटा मुसलमानों की भीड़ द्वारा अगवा कर लिया जाता है, गायब रहता है और पुलिस आपको चुप रहने को कहती है। आपकी हालत यह है कि आपके मंदिर तोड़े जाते हैं, आपकी मूर्तियाँ तोड़ी जाती हैं और आपके हिन्दू हृदय सम्राट की पुलिस इस फिराक में रहती है कि नई मूर्ति लगा दी जाए और ‘इलाके की स्थिति को नियंत्रण’ में लाया जा सके। आखिर पीड़ित के साथ ही नाइंसाफी कर के आप स्थिति को नियंत्रण में कैसे ले आते हैं? ये स्थिति ऐसे ही नियंत्रित क्यों होती है? नियंत्रित तो तब होगी जब उस भीड़ में शामिल हर व्यक्ति को जेल में डाला जाए, न कि किसी तीन को पकड़ कर दिखाने के लिए कहा जाए कि हिन्दू घरों के साथ न्याय हो गया!

ये प्रतीक हैं, ये लगातार चलती रही बेकार-सी परंपरा का घिसा-पिटा रूप है, जब हमला करने वाली भीड़, जानबूझकर उपद्रव करती है, और अपने शक्ति प्रदर्शन के बाद आपको चिढ़ाती हुई ऑफर करती है कि ‘हम लोग मिल-जुल कर मंदिर को दोबारा बना देंगे’। ये शांति की पेशकश नहीं है, ये हिन्दुओं की भीरुता पर तमाचा है, लेकिन नींद में सोया हिन्दू इन थप्पड़ों के बाद भी जगता नहीं, खुश हो जाता हो कि देखो हमारे मुसलमान भाई कितने शांतिप्रिय हैं।

मुसलमान भाई बेशक शांतिप्रिय होंगे, लेकिन बारह घंटे पहले मंदिर तोड़ने वाली भीड़ को शांतिप्रिय कैसे कहा जा सकता है? इतने ही शांतिप्रिय थे तो पत्थर उठा कर मंदिर पर हमला कैसे बोला? खबर तो यह भी थी कि मंदिर तोड़ने के बाद यही शांतिप्रिय भीड़ छतों से हिन्दुओं पर पत्थर फेंक रही थी और तलवार लिए मुसलमान इलाके में घूम रहे थे।

हिन्दुओं को एक बात गाँठ बाँध कर रख लेनी चाहिए कि जब तुम्हारे 59 कारसेवकों को साबरमती एक्सप्रेस की बॉगी में जला दिया जाए, तो तुम्हें उसके बाद होने वाली प्रतिक्रिया को सत्रह साल बाद भी अपनी गलती मान कर डिफेंड नहीं करना चाहिए, बल्कि यह याद करना चाहिए कि गुजरात में उस आगजनी के बाद आज तक कोई दंगा नहीं हुआ।

‘शठे शाठ्यम समाचरेत्’ कहा जाता है। यानी, दुष्ट के साथ दुष्टता का ही आचरण करना चाहिए। आज तक हिन्दुओं ने न तो जलमार्ग ढूँढ कर दूसरे देशों के साथ व्यापार करने की कोशिश की, न ही उन्होंने उपनिवेश बनाए, न ही दूसरे देशों में घुस कर मस्जिदों को तोड़ा, न ही गाँवों में आग लगा कर लूट-पाट और बलात्कार किए, न ही किसी को तलवार की नोंक पर हिन्दू बनाया, तो आज के समय में वैसी अपेक्षा करना मूर्खता होगी।

लेकिन यह आशा तो की जा सकती है कि आस्था को निजी के साथ-साथ सामूहिक मान कर, दिल्ली में मंदिर तोड़े जाने पर चेन्नई में कैंडल मार्च हो। यह आशा तो की जा सकती है कि किसी मंगरू को अगर तीन मुसलमान चाकुओं से इसलिए गोद दें कि उसने अपने घर के सामने उन्हें गाँजा पीने से मना किया था, तो उस मंगरू की लिंचिंग पर एक लाख लोग इंडिया गेट पर इंसाफ माँगने पहुँच जाएँ। यह आशा तो की जा सकती है कि तुम उस पुलिस स्टेशन को तब तक घेरे रखो जब तक सीसीटीवी में दिखने वाला हर अपराधी पुलिस पकड़ न ले।

लेकिन वो हमसे नहीं हो पाएगा, हम दलित-सवर्ण में, डोम-चमार में, इस ब्राह्मण और उस ब्राह्मण में, तीन गाँठ और दो गाँठ के जनेऊ में, उत्तर और दक्षिण में, हिन्दी और तमिल में, नौकरी और आस्था में तोल-मोल करते रहेंगे। हम निजी नफा-नुकसान तब तक देखते रहेंगे जब तक कि हमारे घर के भीतर के मंदिर में कोई आकर पेशाब न कर दे, जब तक हमारे घर की किसी लड़की को कोई खींच न ले जाए, जब तक हमारा भाई तीन दिनों के लिए किसी मजहबी भीड़ द्वारा गायब न कर दिया जाए।

इसलिए, इंतजार करो कल्कि अवतार का जो कि कलियुग में होना लिखा है। इसका इंतजार इसलिए करो क्योंकि तुम्हारे विरोध में बैठे लोगों का तंत्र, सत्ता से बाहर होते हुए भी इतना प्रबल है कि चोर की भीड़ हत्या पर प्रधानमंत्री को बोलने पर मजबूर कर देता है, लेकिन मंगरू जैसे दसियों हिन्दुओं की मुसलमानों द्वारा की गई हत्या पर उससे कोई सवाल ही नहीं करता।

हमारी लड़ाई उस इकोसिस्टम से है जो हमें यह बताता है कि भले ही मुसलमान आक्रांताओं ने हिन्दुओं के मंदिर तोड़े, गाँवों को आग लगाया, जगहों की पहचान मिटाने के लिए नाम बदले, बलात्कार और लूट-पाट की, लेकिन देखो उन्होंने तो मुगलई व्यंजनों की रेसिपी भी तो बताई! ये इकोसिस्टम बार-बार बताता है कि ठीक है, उन्होंने लाखों हत्याएँ कि लेकिन वो दिल के बड़े अच्छे थे।

उनके नाम का सत्संग तुम्हें इतिहास में पढ़ाया जाता रहेगा। तुम्हारे नायकों को एक वाक्य में डिसमिस किया जाएगा लेकिन मुगल सल्तनत में किसके बाप ने किस-किस की बेटियों से शादी करके, कितने बच्चे पैदा किए और उसने फिर किस तरीके से कितने साल भारत पर राज किया, ये सब विस्तार से पढ़ाया जाएगा। और तुम्हारी तथाकथित हिन्दूवादी सरकार, जो कि भारतीय संस्कृति और इतिहास को संरक्षित करने का दावा किया करते थकती नहीं, एक शिक्षा नीति तक अपने पहले कार्यकाल में नहीं ला पाई। सरकारों से उम्मीद रखोगे तो ऐसे ठगे जाओगे कि शिकायत करने के लिए कोई मिलेगा नहीं।

इसलिए हे हिन्दुओ! तुम गाय के झुंड के सामने हाथ जोड़ कर ऐसे ही बैठे रहो कि भगवान शंकर का घर है, वो रक्षा करेंगे जबकि एक उन्मादी भीड़ आएगी और उसी शिवलिंग को लूट कर चली जाएगी जिससे तुम किसी प्रकाशपुंज के निकलने की प्रतीक्षा में हो कि त्रिशूल चमकेगा और दुश्मनों का नाश हो जाएगा। शंकर ऐसे कायरों पर अपनी ऊर्जा व्यर्थ नहीं करते। शंकर की ऊर्जा का पात्र बनने के लिए स्वयं का स्तर बढ़ाओ।

तुम्हें लगता है कि नोबेल पीस प्राइज की राह तकता सत्ताधीश तुम्हारे पक्ष में बयान देकर अपनी अंतरराष्ट्रीय छवि बर्बाद करेगा कि उससे वैश्विक पटलों पर यह पूछ दिया जाए कि आपने तो बहुसंख्यकों के पक्ष में बयान दिया था। जब तक सामूहिक प्रतिकार करना नहीं सीखोगे, हमारे जैसे लोग इन खबरों को गिनते रहेंगे जहाँ फलाँ साल कितने मंदिर गिरे, कितनी जगहों पर मजहबी भीड़ ने किसी की हत्या कर दी, किसने लस्सी विक्रेता से हुई बाता-बाती पर मुसलमानों की भीड़ बुला कर हिन्दू व्यक्ति की जान ले ली।

रीढ़हीन व्यक्ति के लिए तो मेडिकल साइंस ने सपोर्ट की व्यवस्था की है, लेकिन रीढ़हीन व्यक्तित्व के लिए किसी भी तरह का सपोर्ट बाजार में उपलब्ध नहीं है। अंग्रेजी में एक कहावत है कि भगवान उसी की मदद करता है जो स्वयं अपनी मदद करने को तैयार हों। यहाँ वैसी स्थिति नहीं है। रोने-गाने वालों की एक आभासी भीड़ का खून तीन सेंकेंड के लिए ऐसे ही उबल कर नीचे चला जाता है जैसे इंडक्शन चूल्हे पर स्टील के बर्तन में रखा दूध।

कल्कि आएँगे, सफेद घोड़े पर आएँगे और उसे मजहबी भीड़ घोड़ा समेत काट कर फेंक देगी और हम फेसबुक पर अपडेट करके उस समय की सरकार से पूछेंगे कि क्या तुम्हें इसी समय के लिए चुना था!

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

बड़ी ख़बर

गुस्साए गाँव वालों ने अंसारी से गाय के पाँव छूकर माफी माँगने को कहा, लेकिन जैसे ही अंसारी वहाँ पहुँचा, गाय उसे देखकर डर गई और वहाँ से भाग गई। गाय की व्यथा देखकर गाँव वाले उससे बोले, "ये भाग रही है क्योंकि ये तुमसे डर गई। उसे लग रहा है कि तुम वही सब करने दोबारा आए हो।"

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

फेक पहचान से शादी

हीना ख़ान ने गीता बन कर पुजारी से रचाई शादी, अगले दिन भागने की कोशिश में गिरफ़्तार

गाँव के मंदिर का पुजारी अशोक कई दिनों से अपनी शादी के प्रयास में था। इसका फायदा उठाते हुए दलाल नारायण ने उस से सवा लाख रुपए ठग लिए और एक मुस्लिम महिला से मिलवाया। पुजारी को धोखे में रखने के लिए महिला का नाम गीता बताया गया।
कुरान रिचा राँची

ऋचा भारती को आप ने कहा क़ुरान बाँटो, उसे ‘रंडी साली’, ‘फक योर सिस्टर’ कहने वाले क्या बाँटें मी लॉर्ड?

हो सकता है अंजुमन इस्लामिया वालों को ‘फक योर सिस्टर’ का या ‘तेरी माँ मेरी रखैल’ आदि का मतलब मालूम न हो, लेकिन कोर्ट के जजों को तो ज़रूर पता होगा कि इन शब्दों से एक लड़की की ‘मोडेस्टी आउटरेज’ होती है। और यह क़ानूनन जुर्म है।
राजस्थान, महिला, हत्या, होटल

जिस रफीक के साथ शादी करने को घर से भागी महिला, उसी ने होटल में गला घोंट मार डाला

मध्य प्रदेश की शाहिस्ता, रफीक के साथ घर से भागी। उन्होंने अजमेर के होटल में ठहरने के लिए कमरा लिया। दोनों यहाँ शादी करने के लिए आए थे, जिसके लिए उन्होंने वकील से भी बात की थी। लेकिन किसी बात को लेकर दोनों में कहासुनी हो गई और...
तापसी

एक हिंदू लड़की मुस्लिम Live-In पार्टनर के द्वारा मार दी जाती है और तापसी पन्नू को मजाक सूझ रहा है!

एक हिंदू लड़की को उसके मुस्लिम बॉयफ्रेंड द्वारा बर्बर तरीके से मार दिया जाता है और तुम्हें मजाक सूझ रही है। अगर यह उल्टा होता तो फेविकॉल पी के शांत बैठी रहती। मौत पर व्यंग्य करके इंसान गिरने की सीमा से भी परे होकर गिर जाता है।
मौलवी

AMU की मस्जिद में नमाज पढ़ाने वाले मौलाना ने 9 साल की बच्ची को बनाया हवस का शिकार

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में मोज्जिन के पद पर तैनात मौलवी द्वारा 9 साल की नाबालिग के साथ डरा धमकाकर दुष्कर्म के मामले में मुकदमा दर्ज कर आरोपित के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। वहीं, एएमयू मेंबर इंचार्ज साफे किदवई ने बताया कि शिकायत मिलने पर मौलाना को तत्काल पद से हटा दिया गया है और रिपोर्ट तलब की जा रही है।
कुरान राँची कोर्ट

‘बाँटनी होगी कुरान’- जमानत के लिए कोर्ट के इस शर्त को मानने से ऋचा भारती ने किया इनकार

ऋचा ने कहा, "आज कुरान बाँटने का आदेश दिया गया है, कल को इस्लाम स्वीकार करने या नमाज पढ़ने का आदेश देंगे तो वह कैसे स्वीकार किया जा सकता है। क्या किसी मुसलमान को सजा के तौर पर दुर्गा पाठ करने या हनुमान चालीसा पढ़ने का आदेश कोर्ट ने सुनाया है?"
विमल-ज़ुबाँ केसरी

अजय देवगन के खिलाफ आपत्तिजनक पोस्ट करना शख्स को पड़ा मँहगा, जज ने पूरे कानपुर में विमल बाँटने का दिया आदेश

अदालत ने आपत्तिजनक पोस्ट लिखने वाले उस युवक को अगले एक साल तक कानपुर के हर गली-मोहल्ले में 'विमल' बाँटने की सजा सुना दी है और साथ ही उन्हें 'बोलो जुबाँ केसरी' के नारे भी लगाने होंगे।
मुगल कुशासन

‘मुगलों ने हिंदुस्तान को लूटा ही नहीं, माल बाहर भी भेजा, ये रहा सबूत’

1659 में औरंगज़ेब के मक्का को 600,000 रुपए देने का ज़िक्र करते हुए True Indology ने बताया है कि उस समय एक रुपए में 280 किलो चावल आता था। यानी करीब 2 लाख टन चावल खरीदे जाने भर का पैसा औरंगज़ेब ने हिन्दुस्तानियों से लूट कर मक्का भेजा।
मीडिया गिरोह

तख्ती गैंग, मौलवी क़ुरान पढ़ाने के बहाने जब रेप करता है तो कौन सा मज़हब शर्मिंदा होगा?

बात चाहे हस्तमैथुन और ऑर्गेज़्म के जरिए महिलाओं के अधिकारों की बात करने वाली स्वरा भास्कर की हो या फिर उन्हीं के जैसी काम के अभाव में सोशल मीडिया पर एक्टिविस्ट्स बने फिर रहे अन्य मीडिया गिरोह हों, सब जानते हैं कि उन्हें कब कैंडल बाहर निकालनी है और किन घटनाओं का विरोध करना है।
राँची बार एसोसिएशन

मुस्लिम वकीलों ने भी ऋचा भारती पर ‘कुरान जजमेंट’ को बताया आश्चर्यजनक, तबादले तक जज का बहिष्कार

"एक अधिवक्ता काला कोट पहनने के बाद हिन्दू और मुस्लिम नहीं होता है। हिन्दू ही नहीं बल्कि कई मुस्लिम अधिवक्ताओं तक ने 'कुरान बाँटने' के इस फैसले पर आश्चर्य व्यक्त किया है और कहा कि इस प्रकार की शर्त कोई न्यायालय कैसे रख सकता है?"

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

57,421फैंसलाइक करें
9,740फॉलोवर्सफॉलो करें
74,819सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: