Sunday, September 20, 2020
Home बड़ी ख़बर रवीश जी, साध्वी प्रज्ञा पर प्राइम टाइम में आपकी नग्नता चमकती हुई बाहर आ...

रवीश जी, साध्वी प्रज्ञा पर प्राइम टाइम में आपकी नग्नता चमकती हुई बाहर आ गई (भाग 4)

रवीश जैसों के अजेंडे को बाहर लाने के लिए उसकी हर बात पर लेख लिखना ज़रूरी है। उनकी हर धूर्तता पर यह कहना ज़रूरी है कि सर आपने दो बार में, एक ही तरह की बात पर दो अलग बात कही थी क्योंकि एक हिन्दू था, एक दूसरे समुदाय से।

कुछ समय पहले की बात है एक नवयुवक को 1994 में पुलिस ने पकड़ा था और 2016 में उसे कोर्ट ने रिहा किया क्योंकि वो बेगुनाह था, और सबूत नहीं मिले। नाम जानना ज़रूरी नहीं है, क्योंकि रवीश कुमार के प्राइम टाइम का यह इंट्रो आप आँख मूँद कर सुनेंगे तो भी आपको नाम और मज़हब का अंदाज़ा हो जाएगा। रवीश ने सालों को 365 से गुणा करके दिन निकाले और बताया कि वो संख्या कितनी बड़ी है।

सामान्य आदमी इसे देख कर दुःखी हो जाएगा कि कई बार निर्दोष लोग जेल पहुँच जाते हैं, और उन्हें न्याय के लिए कितना इंतजार करना पड़ जाता है। ये जानना ज़रूरी नहीं है कि किस सरकार के कार्यकाल में वो व्यक्ति पकड़ा गया था, और किस सरकार के कार्यकाल में रिहा हुआ। वो बताने पर दोनों का क्रेडिट गलत सरकारों को चला जाएगा। हें, हें, हें…

अब नया प्राइम टाइम आया साध्वी प्रज्ञा ठाकुर पर। असीमानंद और कर्नल पुरोहित को कोर्ट से राहत मिल चुकी है, और हिन्दू टेरर, या भगवा आतंकवाद की लॉबी और कोरस का सच बाहर आ चुका है। चिदम्बरम और कॉन्ग्रेस ने कथित अल्पसंख्यकों को लुभाने के लिए जिस तरह के शब्दों का इस्तेमाल किया था, और मकोका जैसी धाराएँ लगा कर, भाजपा, संघ और यहाँ तक सेना से जुड़े डेकोरेटेड अफसर को इसमें लपेटा था, उसे कोर्ट और एजेंसियों ने बारी-बारी से या तो रिहा किया या चार्ज हटा लिए।

रवीश कुमार एक ज्ञानी व्यक्ति हैं। ज्ञानी व्यक्ति के साथ एक समस्या होती है। चूँकि, उसके पास शब्द होते हैं, तो वो प्रोपेगेंडा करने में महारत हासिल कर लेता है। वो समुदाय विशेष के व्यक्ति पर केस साबित न होने पर आपको इस तरह के शब्द सुनाएगा कि आप रो देंगे। वो बताएगा कि जब वो जेल गया था, तब उसकी उम्र क्या थी, और बाहर आने पर कितने हजार दिन बीत गए।

- विज्ञापन -

मैं यह नहीं कह रहा कि ऐसा कहना गलत है। लेकिन प्रपंच तब बाहर आता है, और क्लीन, स्मूथ तरीके से चमकता हुआ बाहर आता है जब साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को, जिस पर हिन्दू आतंक की मुहर लगाकर, पुलिस ने कॉन्ग्रेस के आकाओं को संतुष्ट करने के लिए मकोका लगाया था, और उसे आतंकवादी बनाने की सारी क़वायद पूरी की, भाजपा उसे चुनाव लड़ने के लिए टिकट देती है।

यहीं पर ज्ञानी आदमी धूर्त हो जाता है। यहाँ पर वो यह भूल जाता है कि जो संवेदना उसने विशेष समुदाय के आरोपित पर दिखाई थी, जैसे 365 को सालों से गुणा करके दिनों की संख्या निकाली थी, वही संवेदना उसे उस लड़की के लिए भी दिखानी थी जिसे युवावस्था में आतंक के आरोप में जेल में जाला गया। सबूत के नाम पर एक स्कूटर जो उसने सालों पहले बेच दिया था, और उसके काग़ज़ात पुलिस को दे दिए। फिर टॉर्चर का एक निर्मम दौर जिसमें मार-पीट से लेकर अश्लील ऑडियो और विडियो दिखाने और पुरुषों के साथ जेल में रखना तक शामिल है।

यहाँ पर रवीश ने गम्भीर चेहरा बना यह नहीं कहा कि यहाँ दो तस्वीरें हैं, एक युवती की जो अपने जीवन को सही तरीके से जी रही थी, जो साधना और ईश्वर को समर्पित थी, और एक दिन पुलिस उसे उठा कर ले जाती है, उस पर भगवा आतंक का ठप्पा लग जाता है। दूसरी तस्वीर सालों बाद की है जब वो बाहर आती है, और उस पर लगे इल्जाम हटा लिए जाते हैं क्योंकि पुलिस के सबूत बेकार और कोर्ट में नकारे जाने योग्य साबित हुए।

रवीश और भी गम्भीर होकर कहते कि सोचिए उसने अपने परिवार के साथ बिताए कितने लाख सेकेंड खोए, सोचिए कि एक युवती जिसके सामने अपने जीवन के सबसे महत्वपूर्ण और रचनात्मक साल थे, उसे पुलिस ने सिर्फ इसलिए नोंच लिया क्योंकि उसका कपड़ा भगवा था, और वो ईश्वर की साधना करती थी, और सबसे बड़ी बात कि वो सनातन थी, वो हिन्दू थी।

लेकिन रवीश ने ऐसा कहना नहीं चुना। रवीश भूल गए कि संविधान, कानून और चुनाव आयोग हर उस व्यक्ति को चुनाव लड़ने की आज़ादी देता है जिस पर अपराध साबित न हुए हों। रवीश का दोहरापन तब सामने आ जाता है जब वो बेगूसराय जाकर कन्हैया को लगभग माउथ-टू-माउथ फ़्रेंच किस विद टंग एक्शन दे देते हैं, लेकिन चूँकि साध्वी प्रज्ञा पर कभी आतंक के इल्जाम लगे थे तो इल्ज़ाम लगने मात्रा से आतंकी हो जाती है।

जब-जब मैं सोचता हूँ कि ये व्यक्ति और कितना गिरेगा, तब-तब यह मुझे आश्चर्य में डाल देते हैं कि अजीत भाई, ये तो इब्तिदा है, रोता है क्या, आगे-आगे देख, होता है क्या!

रवीश इतने घटिया स्तर के पत्रकार हो चुके हैं कि लालू तक के फ़ेवर में बोल लेते हैं, और ममता के बंगाल की तस्वीर बताने में उन्हें शर्म आती है, लेकिन किसी पर महज़ आरोप लगने को, अगर वो उनकी विचारधारा से अलग हो, उसे अपराधी मान लेते हैं। ये जो भी हो, पत्रकारिता तो नहीं है। रवीश को अपने दर्शकों में यह ज़हर भरने का कोई अधिकार नहीं है।

रवीश एक घोर साम्प्रदायिक और घृणा में डूबे व्यक्ति हैं जो आज भी स्टूडियो में बैठकर मजहबी उन्माद बेचते रहते हैं। साम्प्रदायिक हैं इसलिए उन्हें मजहबी व्यक्ति की रिहाई पर रुलाई आती है, और हिन्दू साध्वी के कानूनी दायरे में रह कर चुनाव लड़ने पर यह याद आता है कि भाजपा नफ़रत का संदेश बाँट रही है।

अवसादग्रस्त रवीश के लिए उनका स्टूडियो ही लोकतंत्र के तीनों पिलर पर ब्रासो मारने वाली अकेली जगह है जहाँ वो हर सुबह इन तीनों पिलर की जड़ों में पानी डालते हैं, फिर उसके आस-पास झाड़ू लगाते हैं, और फिर ध्यान में बैठकर कहते हैं कि हे पिलरो! मैंने सालों से तुम्हारा ख़्याल रखा है, अब मैं चाहता हूँ कि मैं ही लोकतंत्र बन जाऊँ, मैं ही न्यायाधीश, मैं ही संविधान, मैं ही विधायिका, मैं ही सब कुछ हो जाऊँ। अतः, आप मेरे अंदर समाहित हो कर मुझे ऊर्जा प्रदान करें।

फिर रवीश स्वयं ही संविधान को अपने हिसाब से देखते हैं, न्यायपालिका जब उनके हिसाब की जजमेंट देती है, तो लोकतंत्र की जीत बताते हैं, वायर पर मानहानि का दावा करती है तो उसे डाँटते हैं कि आखिर जज नेताओं को कैसे एंटरटेन कर लेते हैं। वो बताते हैं कि चुनाव आयोग, या रीप्रेजेंटेशन ऑफ पीपुल्स एक्ट तब ही सही होगा जब उनके द्वारा सत्यापित लोग चुनाव लड़ें। अन्यथा, बाकी किसी पर आरोप भी लगे हैं, तो भी वो चुनाव नहीं लड़ सकता।

रवीश कुमार पत्रकार हैं, और फेसबुकिया बुद्धिजीवी भी। वो जो कर रहे हैं, उसे अभिव्यक्ति कहते हैं। लेकिन वो जो कर बैठते हैं, और स्वयं को सर्वेसर्वा मान कर ज्ञान बाँच देते हैं, कि दाग़ी और ऐसे आरोप वाले लोगों को चुनाव लड़ाना गलत है, तो फिर रवीश कुमार के बौद्धिक आतंकवाद का क्या इलाज है?

स्वयं पूरी दुनिया को टीवी देखना छोड़ने से लेकर मोबाइल बंद कर लीजिए, और टीवी फोड़ लीजिए बताने वाले, स्वयं टीवी पर क्या घास छीलने आते हैं? ज़ाहिर है कि इनका प्रपंच और प्रोपेगेंडा उसी दुकान से चलेगा जहाँ हर दिन इनके चेहरे की चमक, मोदी सरकार द्वारा तमाम एलईडी बाँटने के बाद भी, मंद पड़ती जाती है।

आखिर रवीश कुमार अपने ही टाइमलाइन पर पड़ने वाली गालियों का संज्ञान लेकर, स्वयं ही इसे अपनी घटिया पत्रकारिता पर जनता की वृहद् राय मानते हुए, इसे ऑनररी (अर्थात मानद) आरोप मान कर, पत्रकारिता की दुनिया से निकल कर कहीं किसी पार्टी में क्यों नहीं चले जाते? क्योंकि इनका मालिक तो पैसों की हेराफेरी में भीतर जाएगा ही, नौकरी भी बहुत दिन नहीं कर पाएँगे।

लेकिन रवीश ऐसा नहीं करेगा। रवीश एक घाघ व्यक्ति हैं। रवीश कोर्ट पहनते हैं, और अब टाई नहीं लगाते। रवीश अब मज़े नहीं ले पाते। रवीश पूरे पाँच साल से स्टूडियो से कैम्पेनिंग कर रहे हैं। रवीश को राहुल गाँधी द्वारा ‘हम बीस लाख सरकारी नौकरियाँ देंगे’ विजनरी बात लगती है, लेकिन वो पूछ नहीं पाते कि कैसे दोगे? लेकिन रवीश मोदी जी से रात के चार बजे भी फेसबुक पर कुछ भी पूछ लेते हैं।

फ़िलहाल, रवीश की धूर्तता आती रहनी ज़रूरी है ताकि ऐसे नकली पत्रकारों पर से लोगों का विश्वास उठे जो कि समाज में घृणा और भय के अलावा कुछ नहीं पहुँचा रहा। ये वो व्यक्ति है जो शांत समुदायों को यह कह कर भड़काता रहता है कि मोदी और उसके नेता उन्हें सताते हैं, डराते हैं, उनके खिलाफ माहौल बनाते हैं। इस व्यक्ति को लोकतंत्र में कोई विश्वास नहीं क्योंकि इस लोकतंत्र ने मोदी को चुना है, और वो उस मोदी को जिसे बहुमत प्राप्त है, सुप्रीम लीडर, यानी तानाशाह कहता रहता है।

खैर जो भी हो, रवीश जैसों के अजेंडे को बाहर लाने के लिए उसकी हर बात पर लेख लिखना ज़रूरी है। उनकी हर धूर्तता पर यह कहना ज़रूरी है कि सर आपने दो बार में, एक ही तरह की बात पर दो अलग बात कही थी क्योंकि एक हिन्दू था, एक दूसरे समुदाय का। रवीश जैसे लोग पत्रकारिता के नाम पर कलंक हैं, और इस बात का अच्छा उदाहरण हैं कि पक्षपाती पत्रकारिता आपको किस गर्त में ले जा सकती है।

साध्वी प्रज्ञा चुनाव लड़ेगी क्योंकि आज ही चुनाव आयोग ने उन पर उठाए जा रहे प्रश्नों को निरस्त करते हुए कहा है कि जब तक आरोप सिद्ध नहीं हो जाते, कोई भी व्यक्ति चुनाव लड़ने को स्वतंत्र हैं। ये बात और है कि रवीश कुमार स्वयं को हर बात का सबसे बड़ा विशेषज्ञ मान कर चलते हैं, और गाँव की कहावत की तरह विष्ठा को देखने के बाद, छू कर पहचानने की कोशिश करते हैं, तब भी मन नहीं भरता तो नाक तक लाकर सूँघते हैं, और कहते हैं, ‘अरे! ये तो टट्टी है!’

हें… हें… हें…

यह रविश शृंखला पर चौथा लेख है, बाकी के तीन लेख यहाँ, यहाँ, और यहाँ पढ़ें।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जिप, लिंग, योनि’ मामले में अनुराग कश्यप ने किए 4 ट्वीट, राजनीति घुसा किया पायल घोष से खुद का बचाव

“अभी तो बहुत आक्रमण होने वाले हैं। बहुत फ़ोन आ चुके हैं कि नहीं मत बोल और चुप हो जा। यह भी पता है कि पता नहीं कहाँ-कहाँ से..."

‘बिचौलिया’ मदर इंडिया का लाला नहीं… अब वो कंट्रोल करता है पूरा मार्केट: कृषि विधेयक इनका फन कुचलने के लिए

'बिचौलिया' मतलब छोटी मछली नहीं, बड़े किलर शार्क। ये एक इशारे पर दर्जनों वेयरहाउस से आपूर्ति धीमी करवा, कई राज्यों में कीमतें बढ़ा सकते हैं।

बेंगलुरु दंगों में चुनकर हिंदुओं को किया गया था टारगेट, स्थानीय मुस्लिमों को थी इसकी पूरी जानकारी: फैक्ट फाइंडिंग रिपोर्ट में खुलासा

"बेंगलुरु में हुए दंगों के दिन हमले वाले स्थान पर एक भी मुस्लिम वाहन नहीं रखा गया था। वहीं सड़क पर भी उस दिन किसी मुस्लिम को आते-जाते नहीं देखा। कोई भी मुस्लिम घर या मुस्लिम वाहन क्षतिग्रस्त नहीं हुए।"

‘उसने अपने C**k को जबरन मेरी Vagina में डालने की कोशिश की’: पायल घोष ने अनुराग कश्यप पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

“अगले दिन उसने मुझे फिर से बुलाया। उन्होंने कहा कि वह मुझसे कुछ चर्चा करना चाहते हैं। मैं उसके यहाँ गई। वह व्हिस्की या स्कॉच पी रहा था। बहुत बदबू आ रही थी। हो सकता है कि वह चरस, गाँजा या ड्रग्स हो, मुझे इसके बारे में कुछ भी पता नहीं है लेकिन मैं बेवकूफ नही हूँ।”

SSR केस: 7 अक्टूबर को सलमान खान, करण जौहर समेत 8 टॉप सेलेब्रिटीज़ को मुज्जफरपुर कोर्ट में होना होगा पेश, भेजा गया नोटिस

मुजफ्फरपुर जिला न्यायालय ने सलमान खान और करण जौहर सहित आठ हस्तियों को कोर्ट में पेश होने का आदेश दिया है। 7 अक्टूबर, 2020 को इन सभी को कोर्ट में उपस्थित होना है।

दिल्ली दंगों के पीछे बड़ी साज़िश की तरफ इशारा करती है चार्जशीट-59: सफूरा ज़रगर से उमर खालिद तक 15 आरोपितों के नाम शामिल

दिल्ली पुलिस ने राजधानी में हुए हिन्दू विरोधी दंगों के मामले में 15 लोगों को मुख्य आरोपित बनाया है। इसमें आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता ताहिर हुसैन, पूर्व कॉन्ग्रेस नेता इशरत जहाँ, खालिद सैफी, जेसीसी की सदस्य सफूरा ज़रगर और मीरान हैदर शामिल हैं।

प्रचलित ख़बरें

NCB ने करण जौहर द्वारा होस्ट की गई पार्टी की शुरू की जाँच- दीपिका, मलाइका, वरुण समेत कई बड़े चेहरे शक के घेरे में:...

ब्यूरो द्वारा इस बात की जाँच की जाएगी कि वीडियो असली है या फिर इसे डॉक्टरेड किया गया है। यदि वीडियो वास्तविक पाया जाता है, तो जाँच आगे बढ़ने की संभावना है।

‘उसने अपने C**k को जबरन मेरी Vagina में डालने की कोशिश की’: पायल घोष ने अनुराग कश्यप पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

“अगले दिन उसने मुझे फिर से बुलाया। उन्होंने कहा कि वह मुझसे कुछ चर्चा करना चाहते हैं। मैं उसके यहाँ गई। वह व्हिस्की या स्कॉच पी रहा था। बहुत बदबू आ रही थी। हो सकता है कि वह चरस, गाँजा या ड्रग्स हो, मुझे इसके बारे में कुछ भी पता नहीं है लेकिन मैं बेवकूफ नही हूँ।”

दिशा की पार्टी में था फिल्म स्टार का बेटा, रेप करने वालों में मंत्री का सिक्योरिटी गार्ड भी: मीडिया रिपोर्ट में दावा

चश्मदीद के मुताबिक तेज म्यूजिक की वजह से दिशा की चीख दबी रह गई। जब उसके साथ गैंगरेप हुआ तब उसका मंगेतर रोहन राय भी फ्लैट में मौजूद था। वह चुपचाप कमरे में बैठा रहा।

जया बच्चन का कुत्ता टॉमी, देश के आम लोगों का कुत्ता कुत्ता: बॉलीवुड सितारों की कहानी

जया बच्चन जी के घर में आइना भी होगा। कभी सजते-संवरते उसमें अपनी आँखों से आँखे मिला कर देखिएगा। हो सकता है कुछ शर्म बाकी हो तो वो आँखों में...

थालियाँ सजाते हैं यह अपने बच्चों के लिए, हम जैसों को फेंके जाते हैं सिर्फ़ टुकड़े: रणवीर शौरी का जया को जवाब और कंगना...

रणवीर शौरी ने भी इस मुद्दे पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कंगना को समर्थन देते हुए कहा है कि उनके जैसे कलाकार अपना टिफिन खुद पैक करके काम पर जाते हैं।

मौत वाली रात 4 लोगों ने दिशा सालियान से रेप किया था: चश्मदीद के हवाले से मीडिया रिपोर्ट में दावा

दावा किया गया है जिस रात दिशा सालियान की मौत हुई उस रात 4 लोगों ने उनके साथ रेप किया था। उस रात उनके घर पर पार्टी थी।

‘जिप, लिंग, योनि’ मामले में अनुराग कश्यप ने किए 4 ट्वीट, राजनीति घुसा किया पायल घोष से खुद का बचाव

“अभी तो बहुत आक्रमण होने वाले हैं। बहुत फ़ोन आ चुके हैं कि नहीं मत बोल और चुप हो जा। यह भी पता है कि पता नहीं कहाँ-कहाँ से..."

‘बिचौलिया’ मदर इंडिया का लाला नहीं… अब वो कंट्रोल करता है पूरा मार्केट: कृषि विधेयक इनका फन कुचलने के लिए

'बिचौलिया' मतलब छोटी मछली नहीं, बड़े किलर शार्क। ये एक इशारे पर दर्जनों वेयरहाउस से आपूर्ति धीमी करवा, कई राज्यों में कीमतें बढ़ा सकते हैं।

बेंगलुरु दंगों में चुनकर हिंदुओं को किया गया था टारगेट, स्थानीय मुस्लिमों को थी इसकी पूरी जानकारी: फैक्ट फाइंडिंग रिपोर्ट में खुलासा

"बेंगलुरु में हुए दंगों के दिन हमले वाले स्थान पर एक भी मुस्लिम वाहन नहीं रखा गया था। वहीं सड़क पर भी उस दिन किसी मुस्लिम को आते-जाते नहीं देखा। कोई भी मुस्लिम घर या मुस्लिम वाहन क्षतिग्रस्त नहीं हुए।"

‘उसने अपने C**k को जबरन मेरी Vagina में डालने की कोशिश की’: पायल घोष ने अनुराग कश्यप पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

“अगले दिन उसने मुझे फिर से बुलाया। उन्होंने कहा कि वह मुझसे कुछ चर्चा करना चाहते हैं। मैं उसके यहाँ गई। वह व्हिस्की या स्कॉच पी रहा था। बहुत बदबू आ रही थी। हो सकता है कि वह चरस, गाँजा या ड्रग्स हो, मुझे इसके बारे में कुछ भी पता नहीं है लेकिन मैं बेवकूफ नही हूँ।”

कानपुर लव जिहाद: मुख्तार से राहुल विश्वकर्मा बन हिंदू लड़की को फँसाया, पहले भी एक और हिंदू लड़की को बना चुका है बेगम

जब लड़की से पूछताछ की गई तो उसने बताया कि मुख्तार ने उससे राहुल बनकर दोस्ती की थी। उसने इस तरह से मुझे अपने काबू में कर लिया था कि वह जो कहता मैं करती चली जाती। उसने फिर परिजनों से अपने मरियम फातिमा बनने को लेकर भी खुलासा किया।

अलवर: भांजे के साथ बाइक से जा रही विवाहिता से गैंगरेप, वीडियो वायरल होने के बाद आरोपित आसम, साहूद सहित 5 गिरफ्तार

“पुलिस ने दो आरोपितों आसम मेओ और साहूद मेओ को गिरफ्तार किया और एक 16 वर्षीय नाबालिग को हिरासत में लिया। बाकी आरोपितों को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस की टीमें हरियाणा भेजी गई हैं।”

‘सभी संघियों को जेल में डालेंगे’: कॉन्ग्रेस समर्थक और AAP ट्रोल मोना अम्बेगाँवकर ने जारी किया ‘लिबरल डेमोक्रेसी’ का एजेंडा

मोना का कहना है कि वह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) पर प्रतिबंध लगाएँगी और अगले पीएम बनने का मौका मिलने पर सभी संघियों को जेल में डाल देगी।

अतीक अहमद के फरार चल रहे भाई अशरफ को जिस घर से पुलिस ने किया था गिरफ्तार, उसे योगी सरकार ने किया जमींदोज

प्रयागराज विकास प्राधिकरण ने अतीक अहमद के भाई अशरफ के साले मोहम्मद जैद के कौशांबी स्थित करोड़ों के आलीशान बिल्डिंग पर भी सरकारी बुलडोजर चलाकर उसे जमींदोज कर दिया है।

नेटफ्लिक्स: काबुलीवाला में हिंदू बच्ची से पढ़वाया नमाज, ‘सेक्युलरिज्म’ के नाम पर रवींद्रनाथ टैगोर की मूल कहानी से छेड़छाड़

सीरीज की कहानी के एक दृश्य में (मिनी) नाम की एक लड़की नमाज अदा करते हुए दिखाई देती है क्योंकि उसका दोस्त काबुलीवाला कुछ दिनों के लिए उससे मिलने नहीं आया था।

कंगना ने किया योगी सरकार के सबसे बड़ी फिल्म सिटी बनाने के ऐलान का समर्थन, कहा- फिल्म इंडस्ट्री में कई और बड़े सुधारों की...

“हमें अपनी बॉलीवुड इंडस्ट्री को कई प्रकार के आतंकवादियों से बचाना है, जिसमें भाई भतीजावाद, ड्रग माफ़िया का आतंक, सेक्सिज़म का आतंक, धार्मिक और क्षेत्रीय आतंक, विदेशी फिल्मों का आतंक, पायरेसी का आतंक प्रमुख हैं।"

हमसे जुड़ें

260,559FansLike
77,944FollowersFollow
322,000SubscribersSubscribe
Advertisements