Friday, February 26, 2021
Home विचार सामाजिक मुद्दे The Print वालों, रोना बंद करो- हिन्दुओं की हालत 'शांतिप्रियों' से बदतर है तुम्हारे...

The Print वालों, रोना बंद करो- हिन्दुओं की हालत ‘शांतिप्रियों’ से बदतर है तुम्हारे ‘सेक्युलर’ राज में

कड़वा सच यही है फातिमा खान जी कि इस देश पर लगभग 1000 साल तक राज करने और उसके बाद से आज तक हर एक सरकार की आँखों के तारे बने रहने के बाद भी मुस्लिम पिछड़ा है, 'डरा हुआ' है तो उसे अपने अंदर ही झाँक कर देखने की ज़रूरत है कि ऐसा क्यों है?

मुगल इस देश पर कमोबेश 700 साल राज कर चुके हैं- उससे पहले मुहम्मद बिन कासिम के 670 के दशक में सिंध पर हमले से 1200 ई. के करीब दिल्ली सल्तनत की स्थापना के बीच करीब 400-500 साल इस्लामी आक्रांताओं ने हिन्दुस्तान को लूटा, औरतों को नोंचा-खसोटा, मर्दों का कत्ले-आम किया, यानि कुल मिलाकर भरपूर राज किया। उसके बाद 90 सालों की अंग्रेजी हुकूमत में भी अधिकांश नवाबों की नवाबी सलामत ही रही, और उसके बाद नेहरू का तो यह मानना ही था कि इस देश के दो टुकड़े कर देने और लाखों के खून की होली के बाद भी मुस्लिमों को ‘विशेष ध्यान से’ इस देश में रखा जाना चाहिए।

670 ईस्वी से 500 साल हमलावर-हत्यारे-लुटेरे, अगले 700 साल निरंकुश शासक, उसके बाद 90 साल के अंग्रेजी राज में सीमित शक्तियों के साथ शासन और उसके बाद 70 साल से एक सेक्युलर राज्य के ‘लाडले’ बने रहने के बाद भी अगर कोई कौम ‘भेदभाव’ की शिकायत करे तो इससे ज्यादा क्रूर मज़ाक कोई नहीं हो सकता। The Print में छपे लेख के मुताबिक़ हिंदुस्तान में मुस्लिम होना आसान नहीं- “राज्य की एजेंसियों का इस्तेमाल हमें निशाना बनाने के लिए किया जाता रहा है।” इस बेहूदा तर्क के लिए सहारा लिया जाता है कुल दो घटनाओं का- हाशिमपुरा हत्याकाण्ड, और 11 मुस्लिमों को 25 साल बाद टाडा मुकदमे में बरी कर दिया जाना। महज इन दो घटनाओं के दम पर यह साबित हो गया कि मुस्लिम सताई हुई ‘माइनॉरिटी’ कौम हैं।

पिछड़ेपन के लिए जिम्मेदार कौन?

इस लेख की शुरुआत में ही मुस्लिमों को आत्ममंथन करने और अपनी कमज़ोरियों, अपने पिछड़ेपन के लिए दूसरों को दोषी ठहराने की बजाय खुद से ज़िम्मेदारी उठाने की बात करने वाले एक दूसरे लेख पर हमला किया जाता है। यह तर्क दिया जाता है कि हाशिमपुरा और टाडा से डरकर कट्टरपंथी अपनी ‘ghetto’ के नाम से जानी जाने वाली बस्तियों तक सीमित हो गए। लेखिका फातिमा खान ने रोना रोया कि मुस्लिमों में स्वच्छता की कमी की धारणा उनके खिलाफ ‘नैरेटिव’ है। साथ ही यह आरोप भी लगाया गया कि स्कूलों, कॉलेजों आदि सार्वजनिक स्थलों पर मुस्लिमों को ‘इस्लामोफ़ोबिया’ झेलना पड़ता है।

इसके बाद ‘हर कौम को मूलभूत सुविधाएँ निष्पक्ष रूप से मुहैया कराना सरकार की ज़िम्मेदारी है’ का ज्ञान बाँचा जाता है। वह इसलिए ताकि इसकी आड़ में यह घटिया तर्क दिया जा सके कि जबकि मुस्लिमों ने खुद को अपनी मर्ज़ी से उन बस्तियों में कैद कर लिया जहाँ घुसने में गैर-मुस्लिमों के प्राण निकलते हों, लेकिन फिर भी उन तक मूलभूत सुविधाएँ पहुँचाना सरकार की जिम्मेदारी है।

आगे न बढ़ पहले इतने ही प्रोपेगण्डे की बात करें। तो हाशिमपुरा तो हुआ 1987 में, और टाडा के अंतर्गत गिरफ्तारियाँ हुईं 1994 में। तो हमारी पिछली पीढ़ी, और उसके पहले की पीढ़ी, और उनके भी पहले की पीढ़ी और न जाने कितनी पीढ़ियों से मौजूद मुस्लिम बस्तियों के पीछे क्या था? किसका डर था? मुस्लिमों में स्वच्छता के अभाव की धारणा भी, चाहे जितनी गलत हो या न हो, हाशिमपुरा से कम-से-कम दो पीढ़ी पुरानी है। रही बात अपनी जान जोखिम में डालकर इस्लामी बस्तियों में घुसने और स्वच्छता सेवाएँ पहुँचाने की, तो फातिमा जी को यह पता होना चाहिए कि अगर मुस्लिमों ने ‘ghettos’ के रूप में अपनी बंद बस्तियाँ बना लीं, जिनमें कोई अपराध होने पर पुलिस भी जाने में डरती रही, तो उनमें सफ़ाई व्यवस्था पहुँचाना न ही सरकार की ज़िम्मेदारी है, और न ही सरकार ने झाड़ू लगाने या नालियाँ साफ़ करने वालों की जान खरीद रखी है कि उन्हें ज़बरदस्ती ऐसी जगह धकेल दे जहाँ जाने में हथियारों से लैस पुलिस बल भी घबराते रहे हों।

हिन्दू-मुस्लिम अशांति का ज़िम्मेदार कौन?

फातिमा के लेख में कम-से-कम एक बात की सत्यनिष्ठ अभिव्यक्ति है- हिन्दू-मुस्लिम इस देश में ‘शांतिपूर्ण’ नहीं, तनावपूर्ण माहौल में ही रहे हैं; आधुनिक युग में केवल यही तनाव असल हिंसा के रूप में अभिव्यक्त होने लगा है, और सूचना-क्रांति के बाद से हमारे टीवी और मोबाइल के ज़रिए हमारी ज़िंदगियों तक पहुँचने लगा है। लेकिन फातिमा को यह बताना चाहिए कि इस तनाव के पीछे ज़िम्मेदार कौन रहा?

अगर हिन्दू जिम्मेदार रहे तो मुस्लिमों (और कुछ हद तक ईसाईयों) को छोड़ कर और किसी से कभी टकराव क्यों नहीं हुआ? हिन्दू खुद में हजारों जात-पाँत, सम्प्रदाय में विभाजित रहे, लेकिन कभी सुना क्या कि किसी शाक्त क्षत्रिय ने बौद्ध पर या यहूदी पर या किसी शूद्र वैष्णव पर भी पंथिक टकराव के चलते हमला कर दिया हो? हिन्दू-इस्लामिक इतिहास लगभग इस्लाम जितना ही पुराना है, शायद एक-आध सदी का फ़र्क हो। क्या किसी भी हिन्दू राजा ने किसी भी मुस्लिम को उसके मज़हब के चलते मारा है? या आधुनिक काल में भी आ जाएँ तो एक भी ऐसे हिन्दू-मुस्लिम दंगे का रिकॉर्ड है क्या जो हिन्दुओं ने भड़काया हो? या मुस्लिमों के गैर-हिंसक उकसावे पर भी हिन्दुओं ने हिंसा की हो?

फिर से मॉब-लिंचिंग का झूठ

‘मॉब-लिंचिंग’ पत्रकारिता के समुदाय विशेष का नया ‘वॉट अबाउट 2002’ बन चुका है- यह जानकर भी कि काठ की यह हांडी फिर नहीं चढ़नी, कोशिश जारी रहेगी। बार-बार मॉब लिंचिंग का नैरेटिव झूठा निकला, ‘हमसे जय श्री राम बुलवाया गया’ की कलई खुल रही है, लेकिन कोशिश बदस्तूर जारी है।

हिन्दुओं की हालत

अब ज़रा फातिमा द्वारा ही तय किए गए मानदंडों पर हिन्दुओं की हालत देख लें- फिर ही यह सोचा जा सकता है कि किसे देश में शोषण और प्रताड़ना का रोना रोने का अधिकार है।

सबसे पहले स्वच्छता की बात करें। लिबरल गैंग का ही पोर्टल है लाइवमिंट। उस पर 2014 में छपी एक रिपोर्ट में बताया गया था कि हिन्दू बस्तियों की हालत स्वच्छता के मामले में मुस्लिमों से भी बुरी है- इतनी अधिक कि हिन्दुओं के घर शिशुओं की मौत भी गंदगी से हो जाती थी। यानि या तो गंदगी का हिन्दू-मुस्लिम कनेक्शन नहीं है, और हर गरीब, हर हाशिए पर पड़ा इंसान गंदगी में जीने के लिए मजबूर है, और नहीं तो अगर गंदगी को साम्प्रदायिक एंगल देना ही है तो रोना रोने का अधिकार तो हिन्दुओं को है!

अगर बात गलत आतंकी हमले के आरोप में ज़िंदगी बर्बाद होने की करें तो बेशक उन 11 आरोपितों के साथ गलत हुआ, लेकिन यही तो साध्वी प्रज्ञा, स्वामी असीमानन्द, और समझौता धमाकों के आरोपितों के साथ भी हुआ! उन्हें भी तो समझौता मामले में बरी कर दिया गया! उनके लिए फातिमा कूदीं पैरवी में कि इनकी ज़िंदगी महज़ शक में जेल में सड़ा कर बर्बाद मत करो, अदालत का फैसला आने दो? उनका लेख जिस पोर्टल में छपा, उसके सम्पादक शेखर गुप्ता बिना साध्वी प्रज्ञा पर मालेगाँव का आरोप साबित हुए उन्हें शर्म का विषय कहते हैं। इस पर फातिमा का क्या कहना है?

फातिमा सरकारी मशीनरी की बात करना चाहतीं हैं? जिस सरकारी मशीनरी को वह महज़ दो घटनाओं के चलते अपनी पूरी कौम के खिलाफ खड़ा मान रहीं हैं, वही मशीनरी सबरीमाला, तिरुपति बालाजी समेत हिन्दुओं के हज़ारों मंदिरों को निगल चुकी है। RTE का बोझ केवल हिन्दू शैक्षिक संस्थान उठा रहे हैं- मुस्लिमों के मदरसे इससे आज़ाद हैं। सरकारी AMU और जामिया मिलिया इस्लामिया आरक्षण देने से मना करते हैं और उसके पक्ष में तोड़-मरोड़ कर कुतर्क देते हैं। केवल हमारे गुरुओं, पूजा-परम्पराओं पर ‘वैज्ञानिकता’ की आड़ में हमला ‘fair game’ और ‘free speech’ होता है। तबरेज़ और इकलाख की मौत पर मीडिया से लेकर प्रधानमंत्री तक सब बोले, भारत यादव और मंगरू का नाम भी आपको पता है?

कड़वा सच यही है फातिमा खान जी कि इस देश पर लगभग 1000 साल तक राज करने और उसके बाद से आज तक हर एक सरकार की आँखों के तारे बने रहने के बाद भी मुस्लिम पिछड़ा है, ‘डरा हुआ’ है तो उसे अपने अंदर ही झाँक कर देखने की ज़रूरत है कि ऐसा क्यों है? यही नसीरुद्दीन शाह ने कहा था, जिन्हें आपने आड़े हाथों ले लिया; यही आरिफ मोहम्मद खान ने कहा, जिनपर आप हमलवार हो गईं; और यही बात उस लेख में कही गई थी, जिसके जवाब में आपने यह झूठा विषवमन किया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘ज्यादा गर्मी ना दिखाएँ, जो जिस भाषा को समझेगा, उसे उस भाषा में जवाब मिलेगा’: CM योगी ने सपाइयों को लताड़ा

"आप लोग सदन की गरिमा को सीखिए, मैं जानता हूँ कि आप किस प्रकार की भाषा और किस प्रकार की बात सुनते हैं, और उसी प्रकार का डोज भी समय-समय पर देता हूँ।"

‘लियाकत और रियासत के रिश्तेदार अब भी देते हैं जान से मारने की धमकी’: दिल्ली दंगा में भारी तबाही झेलने वाले ने सुनाया अपना...

प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि चाँदबाग में स्थित दंगा का प्रमुख केंद्र ताहिर हुसैन के घर को सील कर दिया गया था, लेकिन 5-6 महीने पहले ही उसका सील खोला जा चुका है।

3 महीनों के भीतर लागू होगी सोशल, डिजिटल मीडिया और OTT की नियमावली: मोदी सरकार ने जारी की गाइडलाइन्स

आपत्तिजनक विषयवस्तु की शिकायत मिलने पर न्यायालय या सरकार जानकारी माँगती है तो वह भी अनिवार्य रूप से प्रदान करनी होगी। मिलने वाली शिकायत को 24 घंटे के भीतर दर्ज करना होगा और 15 दिन के अंदर निराकरण करना होगा।

भगोड़े नीरव मोदी भारत लाया जाएगा: लंदन कोर्ट ने दी प्रत्यर्पण को मंजूरी, जताया भारतीय न्यायपालिका पर विश्वास

सुनवाई के दौरान कोर्ट ने नीरव की मानसिक सेहत को लेकर लगाई गई याचिका को ठुकरा दिया। साथ ही ये मानने से इंकार किया कि नीरव मोदी की मानसिक स्थिति और स्वास्थ्य प्रत्यर्पण के लिए फिट नहीं है।

LoC पर युद्धविराम समझौते के लिए भारत-पाक तैयार, दोनों देशों ने जारी किया संयुक्त बयान

दोनों देशों ने तय किया कि आज, यानी 24-45 फरवरी की रात से ही उन सभी पुराने समझौतों को फिर से अमल में लाया जाएगा, जो समय-समय पर दोनों देशों के बीच हुए हैं।

यहाँ के CM कॉन्ग्रेस आलाकमान के चप्पल उठा कर चलते थे.. पूरे भारत में लोग उन्हें नकार रहे हैं: पुडुचेरी में PM मोदी

PM मोदी ने कहा कि पहले एक महिला जब मुख्यमंत्री के बारे में शिकायत कर रही थी, पूरी दुनिया ने महिला की आवाज में उसका दर्द सुना लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री ने सच बताने की बजाए अपने ही नेता को गलत अनुवाद बताया।

प्रचलित ख़बरें

UP पुलिस की गाड़ी में बैठने से साफ मुकर गया हाथरस में दंगे भड़काने की साजिश रचने वाला PFI सदस्य रऊफ शरीफ

PFI मेंबर रऊफ शरीफ ने मेडिकल जाँच कराने के लिए ले जा रही UP STF टीम से उनकी गाड़ी में बैठने से साफ मना कर दिया।

कला में दक्ष, युद्ध में महान, वीर और वीरांगनाएँ भी: कौन थे सिनौली के वो लोग, वेदों पर आधारित था जिनका साम्राज्य

वो कौन से योद्धा थे तो आज से 5000 वर्ष पूर्व भी उन्नत किस्म के रथों से चलते थे। कला में दक्ष, युद्ध में महान। वीरांगनाएँ पुरुषों से कम नहीं। रीति-रिवाज वैदिक। आइए, रहस्य में गोते लगाएँ।

शैतान की आजादी के लिए पड़ोसी के दिल को आलू के साथ पकाया, खिलाने के बाद अंकल-ऑन्टी को भी बेरहमी से मारा

मृत पड़ोसी के दिल को लेकर एंडरसन अपने अंकल के घर गया जहाँ उसने इस दिल को पकाया। फिर अपने अंकल और उनकी पत्नी को इसे सर्व किया।

केरल में RSS कार्यकर्ता की हत्या: योगी आदित्यनाथ की रैली को लेकर SDPI द्वारा लगाए गए भड़काऊ नारों का किया था विरोध

SDPI की रैली में कुछ आपत्तिजनक टिप्पणी की गई थी, जिसके खिलाफ हिन्दू कार्यकर्ता प्रदर्शन कर रहे थे। मृतक नंदू के एक साथी पर भी चाकू से वार किया गया, जिनका इलाज चल रहा है।

‘लोकतंत्र सेनानी’ आज़म खान की पेंशन पर योगी सरकार ने लगाई रोक, 16 सालों से सरकारी पैसों पर कर रहे थे मौज

2005 में उत्तर प्रदेश की मुलायम सिंह यादव की सपा सरकार ने आजम खान को 'लोकतंत्र सेनानी' घोषित करते हुए उनके लिए पेंशन की व्यवस्था की थी।

मस्जिदों में लाउडस्पीकर हटाने के लिए बजरंग दल ने शुरू किया राष्ट्रव्यापी कैंपेन: 1 लाख हस्ताक्षरों की दरकार

ये कैंपेन 22 फरवरी 2021 से शुरू किया गया है। अभियान के तहत संगठन का मकसद एक लाख लोगों का समर्थन पाना है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,062FansLike
81,848FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe