विरोध के लिए त्रिशूल पर कंडोम देखकर खुश होने वाले लिबरल्स आपत्ति करने का खो चुके हैं हक़

तंत्र की विफलता के लिए यदि हिंदुत्व की जवाबदेही तय की जाएगी तो अगली बार इस्लाम की तय की जाएगी और इन सबके बीच हम लोग आपत्ति करने का अधिकार खो बैठेंगे।

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन का धर्म के बारे में कहना था – “मैं जब कुछ अच्छा करता हूँ तो मुझे अच्छा महसूस होता है, मैं जब बुरा करता हूँ तो मुझे बुरा महसूस होता है और यही मेरा धर्म है।”

लेकिन भारत के संदर्भ में इस प्रकार के कथन मजाक बनकर रह गए हैं। और इसे मजाक बनाया है उन लोगों ने, जो एक लम्बे समय से सूचना के माध्यमों को अपनी बपौती समझते आ रहे थे। आज भी सूचना के बाजार में एक आसमानी मत यह है कि बुद्धिजीवी वही कहलाएगा, जो हिन्दुओं की आस्था पर बेहूदा तरीके से घटिया प्रहार कर सकेगा। इसी होड़ के बीच वो समय भी आया जब ‘त्रिशूल पर कंडोम’ की कविताएँ लिखी जाने लगीं। सेकुलरिज्म का सीधा सा अर्थ मुस्लिम समुदाय से जुड़ी ख़बरों को छुपा देना हो गया।

समाज का वास्तविक ध्रुवीकरण करने वाले भेड़िए कठुआ रेप केस के समय बाहर आ गए और प्लाकार्ड के जरिए हिंदुत्व को ही बलात्कार का केंद्र बना दिया गया। लिबरल प्रतीत होने के लिए बॉलीवुड से लेकर सोशल मीडिया के सिपाहियों ने जमकर बलात्कार के मुद्दे को हिंदुत्व में समेटने का काम किया। लेकिन तब शायद उन्हें यह आभास तक नहीं था कि वो समाज को कितना गहरा जख्म दे चुके हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

ये लिबरल्स ऐसी किसी भी घटना के इन्तजार में गिद्दों की तरह नजर गड़ाए बैठे रहते हैं, जिसके जरिए हिंदुत्व और उसकी आस्था को चोट पहुँचाई जा सके। लेकिन, इस हड़बड़ी में वो भूल ही गए कि यदि किसी भी अपराध को धर्म तक समेट दिया जाने लगा तो आगे ऐसे कितने मौके होंगे जब यही तीर उड़ता हुआ वापस उन्हीं को सहन करना होगा। रवीश कुमार जैसे बड़े नाम भी कहते नजर आए कि बलात्कार करने वालों के घरों में देवताओं की तस्वीरें लगी होती हैं। आखिर में यह लिबरल्स द्वारा बेहद जल्दबाजी में किया गया एक सेल्फगोल से ज्यादा कुछ साबित नहीं हुआ।

नतीजा ये हुआ कि सामाजिक विकृति से जन्मे किसी भी अपराध के ‘नायक’ को तलाशा जाने लगा। यदि 1 कठुआ में आरोपित हिन्दू था तो अन्य 10 मामलों में आरोपित मुस्लिम नजर आने लगे। इस सबका भुगतान किसे करना पड़ रहा है? क्या प्लाकार्ड के जरिए वर्चुअल फेम बटोर रहे लोगों को अलीगढ़ में ढाई साल की बच्ची के साथ हुई वीभत्स घटना से फ़र्क़ पड़ता भी है? बल्कि सवाल यह होना चाहिए कि क्या उनके पास इतनी फुरसत है भी कि वो इसे महसूस कर सकें?

जवाब बेहद स्पष्ट है कि उनका अपनी सस्ती लोकप्रियता के अलावा दूसरा कोई नहीं है। सामाजिक विकृतियाँ उनका पहला मुद्दा हैं भी नहीं। उनका मुद्दा इन बातों का नहीं है कि समाज में इस तरह के लोग हैं जो आपसी बदले के लिए ढाई साल की बच्ची तक को अपना शिकार बना सकते हैं। उनके लिए ये सिर्फ हार और जीत का मुद्दा है। वो लोग ऐसी ख़बरें सुनने के बाद सबसे पहले यह तलाश करते हैं कि कहीं आरोपित वो तो नहीं जिनके लिए उन्होंने तख्तियाँ उठाई थीं। यदि ऐसा हुआ तो यह उनकी विचारधारा की हार हुई।

अलीगढ़ में हुई इस घटना के बाद मुद्दा बलात्कार जैसे अपराध से बदलकर हिन्दू-मुस्लिम की चर्चा पर सिमट गया। ‘मेरे अपराधी’ और ‘तेरे अपराधी’ के इस द्वन्द्व में हम लोगों ने अपराध के लिए एक बड़ी जगह छोड़ दी है।
अपराधियों में हिन्दू नामों को तलाशकर उत्साह में त्रिशूल पर कंडोम की तस्वीरें शेयर कर देने वाले लोग आज अलीगढ़ कांड में भीगी बिल्ली बनकर खुद को पीड़ित बता रहे हैं।

ऐसे वैचारिक नंगे लोग ट्विटर से लेकर फेसबुक, समाचार पत्र और न्यूज़ डिबेट में बड़ी बेशर्मी से यह कहते देखे जा रहे हैं कि नाम में मजहब नहीं ढूँढा जाना चाहिए। या उल्टा सवाल पूछकर अपने दुराग्रहों का परिचय देते फिर रहे हैं कि सवाल हमसे क्यों पूछा जा रहा है? वास्तव में वह जवाब दे रहे हैं कि आपको पता होना चाहिए कि उन एक्टिविस्ट्स का हृदय सिर्फ विशेष अवसरों पर पिघलता है और तब उन्हें सवाल करने का इंतजार नहीं करना होता है।

राणा अय्यूब जैसे लोग हों या फिर स्क्रॉल जैसे मीडिया गिरोह, अलीगढ़ काण्ड में अपराधियों के नाम असलम और जाहिद होने के कारण उन सबका रोना यही है कि अपराध को साम्प्रदायिक रंग दिया जा रहा है। उन्हें समझना होगा कि यह सांप्रदायिक रंग नहीं दिया जा रहा है, बल्कि जो जहर उन लोगों ने बोया था, ये उसी के रुझान देखने को मिल रहे हैं।

आजकल हर दूसरी बलात्कार की घटना में अपराधी मौलवी या फिर किसी मुस्लिम युवक के होने का मतलब ये नहीं है कि भविष्य में कभी किसी दूसरे समुदाय द्वारा अपराध नहीं किए जा सकते हैं। इस बात की गारंटी कोई भी नहीं दे सकता है कि समाज में अपराध होने बंद हो जाएँगे। या अगर होंगे तो आरोपित सिर्फ मुस्लिम ही होंगे, लेकिन यह प्रचलन हिन्दू आतंकवाद शब्द गढ़ने वाले, विरोध के लिए त्रिशूल पर कंडोम लगाकर और तख्तियों पर सामाजिक अपराधों के लिए हिंदुत्व को जिम्मेदार ठहराने वाले लोगों ने ही शुरू किया है।

जो समाचार पत्र आज शिकायत करते नजर आते हैं कि हेडलाइन में मुस्लिम युवक का नाम लिखना सही नहीं है, वही लोग ‘हिन्दू अपराधी’ कहते हुए जोर से चिल्लाते हुए देखे गए हैं। इतिहास हम सबके अपराध का लेखा-जोखा रख रखा है और यदि सूचना के माध्यमों ने जिम्मेदारी नहीं दिखाई तो समाज ही इसके व्यापक नतीजे भी भुगतेगा। यह भी सच है कि इसमें नुकसान विचाधारा को अपना अहंकार बनाने वाले लोगों के बजाए सड़क पर मेहनत मजदूरी करने वाले लोगों का ही होना है।

गूगल पढ़कर ट्विटर पर लिखने वाले इन सोशल मीडिया एक्टिविस्ट्स को एक के बाद एक आ रहे अलीगढ़ से लेकर मौलवी तक के किस्सों से अब परेशानी होने लगी है। इस प्रकार के जघन्य अपराध को जो लोग खेल समझकर आगे बढ़ रहे थे शायद वो लोग समझ गए हैं कि अब यह इकतरफा नहीं है। उन्हें समझना होगा कि यदि यह खेल ही है, तो जिसे खेल समझकर वो उन्माद कर रहे थे उसे ख़त्म करने का मन बनाकर अब ‘दूसरी’ टीम भी मैदान में उतर गई है। लेकिन यह दुर्भाग्य है, इस खेल के बीच समाज हार गया है और बुराइयाँ चुपके से अपने लायक जगह तलाश रही हैं।

सोशल मीडिया लिबरल्स का दुःख प्रकट करने का तरीका अभी भी ‘हिंदूवादी एक्टिविस्ट्स’ से शुरू हो रहा है। यानी कम से कम यह तो साफ है कि पीछे हटने के मूड में कोई भी नहीं है। जाहिर सी बात है, आप सिर्फ एक समय में मुखर होकर दूसरी बार इसलिए नहीं चुप रह सकते क्योंकि यह आपके एजेंडा के मुताबिक़ नहीं है। आप या तो लिबरल हो सकते हैं या फिर नहीं होते हैं। यह बीच की कड़ी सिर्फ घृणा और दोहरे जहर का सबूत देती है। और अगर ऐसा है तो स्पष्ट है कि लोग प्रशासन से पहले स्वरा भास्कर और सोनम कपूर जैसे पार्ट टाइम लिबरल्स से सवाल करेंगे। तंत्र की विफलता के लिए यदि हिंदुत्व की जवाबदेही तय की जाएगी तो अगली बार इस्लाम की तय की जाएगी और इन सबके बीच हम लोग आपत्ति करने का अधिकार खो बैठेंगे।

अब देखना यह है कि आखिर कब तक हमारा मन इस रस्सा-कस्सी से भरता है और हम स्वीकार करते हैं कि इस समाज के कसूरवार हम लोग हैं, न कि हमारी आस्थाएँ। हमें मौकापरस्त होने से बचना होगा। हमारे नैतिक मूल्यों की जवाबदेही तय करने कोई बाहर से नहीं आएगा। लेकिन हकीकत ये है कि जब भी कभी कोई कठुआ और अलीगढ़ होगा, तो हम वही क्रम दोहराने वाले हैं क्योंकि हमारी जंग अपराध से नहीं बल्कि विचारधाराओं से हो चुकी है। हम आँसुओं को पोंछने से पहले दूसरे को ठेस पहुँचाना चाहते हैं। हमारे अपराधों के परिणाम भुगतने के लिए समाज तो है ही!

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

बड़ी ख़बर

स्थापना के 49 वर्ष बीत जाने के बवजूद SKMCH में Pediatrics (बाल्चिकित्सा) का पोस्ट ग्रेजुएट कोर्ट क्यों नहीं है? अपनी नाकामी छिपाने के लिए राबड़ी देवी को बिहार का नेहरू बनाने वाले सुशील मोदी को समझना चाहिए कि सीटों की संख्या के साथ ज़िम्मेदारियों का बोझ भी बढ़ता है।

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

हस्तमैथुन

‘दाढ़ी वाला ऑटो ड्राइवर मुझे देखकर हस्तमैथुन कर रहा था’: MBA कर रही 19 साल की लड़की की आपबीती

"मैं हीरानंदानी में जॉगिंग कर रही थी। फिर पास के एक बैंक एटीएम की सीढ़ियों पर बैठ गई। अपना फोन देखने में बिजी हो गई। जैसे ही मेरी नजर फोन से हटकर ऊपर को हुई तो सामने एक ऑटो में एक आदमी बैठा मुझे घूर रहा था। फिर जल्द ही यह भी समझ आ गया कि वह सिर्फ मुझे घूर ही नहीं रहा था बल्कि वो हस्तमैथुन भी कर रहा था।"
रेप आरोपित को गोली मारी

6 साल की बच्ची का बलात्कार और हत्या: आरोपित नाज़िल को IPS अजय पाल ने मारी गोली, हो रही तारीफ

आरोपित नाज़िल ने बच्ची की पहचान भी छिपाने की पूरी कोशिश की थी। उसने बच्ची को मार कर उसके चेहरे पर तेज़ाब डाल दिया था, ताकि उसका चेहरा बुरी तरह झुलस जाए और कोई भी उसे पहचान नहीं पाए।
रेप

तौसीफ़ इमरान ने नाबालिग छात्रा को बनाया हवस का शिकार, Tik Tok पर बनाता था बलात्कार का वीडियो

"मेरी बेटी का धर्म-परिवर्तन कराने के मक़सद से उसे विभिन्न धार्मिक स्थलों पर ले जाता था। शादी का वादा करने पर मेरी नाबालिग बेटी ने रमज़ान पर रोज़ा रखना भी शुरू कर दिया था।"
ज्योति मल्होत्रा-मोहम्मद नबी

अफगानिस्तान पर भारत की जीत को पचा नहीं पाईं The Print की पत्रकार, सोशल मीडिया पर उगला जहर

अफगानिस्तान पर भारत की रोमांचक जीत से जहाँ पूरा हिंदुस्तान बेहद खुश था तो वहीं, 'द प्रिंट' की पत्रकार काफी क्षुब्ध और व्यथित लगीं। परेशानी जब हद से ज्यादा बढ़ गई तो उन्होंने अपनी निराशा और भड़ास को जहर के रूप में ट्विटर पर उगला। विराट कोहली पर निशाना साधा।
भारतीय नौसेना, बालाकोट स्ट्राइक

बालाकोट के बाद वो लड़ाई जो भारतीय नौसेना ने लड़ी: कहानी गायब पाकिस्तानी सबमरीन की

कराची में जिस आखिरी लोकेशन से पीएनएस साद गायब हुआ था, वहाँ से उसे गुजरात के तटीय स्थल तक पहुँचने में 3 दिन लगते और अगर वो मुंबई स्थित वेस्टर्न फ्लीट के मुख्यालय तक पहुँचने की चेष्टा करता तो उसे 5 दिन लगते। अगर सच में ऐसा होता तो यह देश की सुरक्षा के लिए ख़तरा हो सकता था।
तेजश्वी यादव

’44 AC, 108 पंखे, 464 फैंसी लाइट्स, 35 क़ीमती सोफे: तेजस्वी ने सरकारी फंड से बंगले पर ख़र्च किए करोड़ों’

"किस नियम के तहत तेजस्वी ने अपने घर में 44 AC (जिनमें से कुछ बाथरूम में भी थे), 35 क़ीमती लेदर सोफे, 464 फैंसी LED लाइट्स, 108 पंखे, क़ीमती बिलियर्ड्स टेबल, दीवालों पर महँगी लकड़ियों के पैनल और इम्पोर्टेड ग्रेनाइट फ्लोरिंग- यह सब लगवाए?"
मंसूर खान, वीडियो

‘शायद मार दिया जाऊँ… फिर भी भारत लौट कर नेताओं के नाम का खुलासा करना चाहता हूँ’

"जो नेता मेरे करीबी थे, वही नेता अब मेरे लिए और मेरे परिवार के लिए खतरा बने हुए हैं। मैं भारत वापस आना चाहता हूँ, सारी जानकारी देना चाहता हूँ। भारत आकर मैं निवेशकों का पैसा लौटाना चाहता हूँ।"
पशु क्रूरता

तेलंगाना में नगरपालिका की क्रूरता: 100 कुत्तों को ज़हर देकर मार डाला, ज़मीन में दफनाया

"मैं इस बात को देख कर हैरान थी कि मेरे सारे कुत्ते गायब हैं। उनमें से कोई भी आक्रामक नहीं था और किसी ने भी कभी कोई हिंसक परिस्थिति नहीं पैदा की। अगर लोगों ने शिकायत की ही थी तो नगरपालिका वालों को 'एनिमल बर्थ कण्ट्रोल' अपनाना चाहिए था।"
अरविन्द केजरीवाल

क्या कपिल मिश्रा के खुलासे के बाद केजरीवाल ने की ‘पैरेंट्स को कसम खिलाने वाली’ मीटिंग रद्द?

यदि AAP के बागी विधायक कपिल मिश्रा की मानें तो अरविन्द केजरीवाल स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों के अभिभावकों को मीटिंग के बहाने बुलाकर आगामी विधानसभा चुनाव में AAP को ही वोट दिलवाने की कसम खिलाने वाले थे। लेकिन अब केजरीवाल ने यह प्लान रद्द कर दिया है।
दीपिका पादुकोण

एयरपोर्ट पर गार्ड ने माँगा ID प्रूफ तो ‘माई चॉइस’ पादुकोण ने फेंका सेलिब्रिटी कार्ड!

इस वीडियो में देखा जा सकता है कि दीपिका अपने पिता के साथ एयरपोर्ट के अंदर जा रही हैं। लेकिन जब दीपिका एयरपोर्ट के अंदर एंट्री कर रही थीं, तभी एक सिक्योरिटी गार्ड ने उन्हें रोक लिया और उन्हें आवाज लगाते हुए पूछा- 'आईडी-आईडी'।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

51,921फैंसलाइक करें
8,978फॉलोवर्सफॉलो करें
70,203सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: