Wednesday, May 12, 2021
Home बड़ी ख़बर 2014 में मसूद अज़हर की वापसी और आतंक की स्क्रिप्ट का पुनर्लेखन

2014 में मसूद अज़हर की वापसी और आतंक की स्क्रिप्ट का पुनर्लेखन

रैली को सम्बोधित करते हुए मसूद ने कहा था कि भारत में आतंक फैलाने के लिए उसके पास हज़ार से भी अधिक जिहादी तैयार बैठे हैं। उसके भाई असगर ने भी उस रैली में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया था- वही असगर जो पुलवामा हमले का भी मास्टरमाइंड है।

जनवरी 2014 का महीना था। पूरा भारत आम चुनाव के लिए तैयार हो रहा था, नरेंद्र मोदी के उद्भव से उत्साहित जनता राजनीतिक चर्चों में मशगूल थी, राजनीतिक पार्टियाँ और उनके स्टार प्रचारक हवाई दौरे से लेकर ज़मीनी पदयात्रा तक- जनता तक पहुँचने के लिए सारे विकल्पों का प्रयोग कर रहे थे। 2G घोटाले की मार से अभी-अभी उबरे देश में 3D रैलियाँ की जा रही थी। लेकिन ठीक उसी समय पाकिस्तान में कुछ ऐसी घटनाएँ घट रही थी, जिन पर मीडिया या अंतर्राष्ट्रीय समुदाय का ध्यान नहीं गया। वो घटनाएँ, जिनके दूरगामी परिणाम हुए। उस दौरान भले ही ये घटनाएँ छोटी-मोटी प्रतीत हुई हो, लेकिन उसके दुष्प्रभावों ने भारत को कई बार झकझोरा।

खूंखार आतंकी की वापसी

जनवरी 2014 का महीना था। मौका था अफ़ज़ल गुरु द्वारा लिखी गई पुस्तक के विमोचन का। जी हाँ, वही अफ़ज़ल गुरु जो भारत के संसद भवन पर हुए हमले का मास्टरमाइंड था। उसे फाँसी दे दी गई थी। पाक अधिकृत कश्मीर की कथित राजधानी मुज़फ़्फ़राबाद में आयोजित इस रैली में एक ऐसे शख़्स ने एंट्री ली, जिस से पूरे पाकिस्तानी मीडिया में खलबली मच गई। भारतीय जाँच एजेंसियों तक के कान खड़े हो गए। रैली में आए 10,000 लोगों को आतंकी मसूद अज़हर ने फोन के द्वारा सम्बोधित किया।

उस दौरान पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने भारत को आश्वासन दिया था कि मसूद अज़हर की वापसी से उसे डरने की ज़रुरत नहीं है। लेकिन, जिस आतंकी ने भारत को अगनित घाव दिए हों, उसकी वापसी से भारत भला कैसे चिंतित नहीं होता? मसूद अज़हर का नाम आते ही कंधार प्लेन हाईजैक से लेकर 6 विदेशियों के अपहरण तक- ख़ून और आतंक से सनी दास्तानें याद आ जाती है। कई दिनों से निष्क्रिय मसूद अज़हर का आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद कहने को तो पाकिस्तान में प्रतिबंधित था और यह भी मान लिया गया था कि संगठन पर मसूद की पकड़ ढ़ीली पड़ रही है। लेकिन, मसूद की वापसी के पीछे उसका कुछ और ही इरादा था।

अगर मसूद अज़हर की उस रैली में कही गई बातों पर हम आज ग़ौर करें, तो पता चलता है कि पठानकोट और पुलवामा की पटकथा उसी वक़्त लिखी जानी शुरू कर दी गई थी। मसूद अज़हर ने पाकिस्तान सरकार से जिहाद पर लगे कथित प्रतिबन्ध को हटाने की माँग की। मसूद के उस भाषण ने पाकिस्तानी आतंकियों को नए जोश से लबरेज कर दिया, वहाँ के अधिकतर आतंकियों को मसूद के भीतर एक मसीहा नज़र आने लगा। ख़ासकर जो कश्मीर की ‘आज़ादी’ के नाम पर आतंक फैलाने वाले समूह थे, उनमे नई ऊर्जा का संचार हुआ।

पाकिस्तान ने मसूद को फिर से स्थापित किया

मुज़फ़्फ़राबाद की वो रैली काफ़ी अच्छे तरीक़े से आयोजित की गई थी। अगर एक प्रतिबंधित आतंकी संगठन के नेता ने इतना बड़ा आयोजन करवा लिया तो कोई यह कैसे मान सकता है कि पाकिस्तानी प्रशासन, आईएसआई और पाकिस्तानी सेना आतंकवाद को बढ़ावा नहीं दे रही है। रैली इतने सुव्यवस्थित तरीक़े से आयोजित की गई थी और समर्थकों को आयोजन स्थल तक लाने के लिए ऐसे इंतजाम किए गए थे, जिस से पता चलता है कि इस रैली को आयोजित करवाने में पाकिस्तान सरकार का पूरा हाथ था।

रैली का स्थल और तारीख़ का चुनाव भी काफ़ी तैयारी के बाद किया गया था। आयोजन की तारीख़ थी- 26 जनवरी। यानी भारत का गणतंत्र दिवस। तिरंगे के रंग में रंगे भारत की जनता तक शायद इस रैली की ख़बर पहुँची ही नहीं, या फिर हमने इसे हलके में लिया। किसे पता था कि इस एक रैली की वजह से भारतीय सपूतों को मातृभूमि की बलि-बेदी पर क़ुर्बान होना पड़ेगा। जहाँ एक भी भारतीय नागरिक या सुरक्षा बल के जवान की मृत्यु दुःखद और त्रासद है, किसे पता था कि वहाँ 50 से भी अधिक (पठानकोट और पुलवामा) शहीद हो जाएँगे।

उस रैली को सम्बोधित करते हुए मसूद ने कहा था कि भारत में आतंक फैलाने के लिए उसके पास हज़ार से भी अधिक जिहादी तैयार बैठे हैं। उसके भाई असगर ने भी उस रैली में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया था- वही असगर जो पुलवामा हमले का भी मास्टरमाइंड है। उस रैली में वो सारे किरदार जमा हुए थे, जो भारत के टुकड़े करने का दिवास्वप्न देखते हैं। पाकिस्तानी अख़बार डॉन ने पाकिस्तान सरकार के दोहरे रवैये पर सवाल खड़े करते हुए कहा था कि एक प्रतिबंधित संगठन के नेता ने कैसे इतना बड़ा आयोजन कर लिया।

यह कैसा प्रतिबन्ध? यह कैसा रवैया?

हुक्मरानों का यह दावा रहा है कि जैश पर प्रतिबन्ध पाक अधिकृत कश्मीर में लागू नहीं होता। डॉन अख़बार ने इस पर भी कड़ी टिप्पणी करते हुए कहा था कि यह हास्यास्पद है क्योंकि मसूद अज़हर पाकिस्तान के पंजाब में स्थित बहावलपुर से ही संगठन के सारे कामकाज देख रहा था। मसूद के उस भाषण को रिकॉर्ड कर के पाकिस्तान में सर्कुलेट किया गया। लोगों को और जिहादियों को उसके भाषण के अंश सुनाए गए। कुल मिला कर देखा जाए तो उस एक रैली से खूंखार मसूद अज़हर पाकिस्तान की व्यवस्था में सक्रिय होकर अपना आतंकी किरदार निभाने के लिए फिर से जी उठा था।

मसूद अज़हर को बचाने में चीन का भी अहम रोल रहा है। भारत ने जब-जब भारत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में मसूद पर प्रतिबन्ध लगाने की बात की, तब-तब चीन ने भारत के इस क़दम पर वीटो लगा दिया। पाकिस्तान की बची-खुची प्राकृतिक सम्पदाओं पर नज़र गड़ाए बैठे चीन ‘बेल्ट एन्ड रोड’ में उसका साथ पाने के लिए भी पाकिस्तान की तरफ़दारी करता रहा है। साम्राज्यवाद की मानसिकता के मारे चीन ने तो यहाँ तक भी कह दिया था कि पाकिस्तानी सरज़मीं पर भारत द्वारा की गई कोई भी कार्रवाई सीधा चीन पर आघात माना जाएगा।

पाकिस्तान और आतंकवाद: यह रिश्ता क्या कहलाता है…

जब पठानकोट पर आतंकी हमला हुआ था, तब भारत और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के दबावों के कारण चीन ने मसूद अज़हर को कस्टडी में लेने का दावा किया था। 2008 मुंबई हमले के बाद अंडरग्राउंड हुआ मसूद जब 2014 में निकला, तभी पाकिस्तानी सुरक्षा एजेंसियों को उसे गिरफ़्तार करना चाहिए था। लेकिन, ऐसा नहीं किया गया। मसूद और असगर- दोनों भाइयों के ख़िलाफ़ मई 2016 में ही इंटरपोल द्वारा रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया जा चुका है, लेकिन फिर भी पाकिस्तान में उन्हें खुले में रैली करने की छूट है।

2008 मुंबई हमलों का मास्टरमाइंड हाफ़िज़ सईद वहाँ के चुनावों में भाग लेता है, मसूद को जिहादी रैली आयोजित करने की पूरी छूट दी जाती है, इंटरपोल की नोटिस के बावजूद इन्हें गिरफ़्तार नहीं किया जाता- यह सब दिखाता है कि पाकिस्तान जान-बूझ कर आतंकवाद को बढ़ावा दे रहा है, आतंकियों को पोषित कर रहा है। सबूत पर सबूत देने के बावजूद पाकिस्तान आतंकियों पर कार्रवाई करने में विफल रहा है। आपको बता दें कि इंटरपोल किसी भी आतंकी के ख़िलाफ़ तभी नोटिस जारी करता है, जब उसे सबूत दिया जाए कि फलाँ अपराधी ने फलाँ अपराध किया है। वही सबूत अंतर्राष्ट्रीय एजेंसियों के लिए विश्वसनीय हैं लेकिन पाकिस्तान के लिए बस एक काग़ज़ का टुकड़ा है।

असल में राजनीति, सेना और आतंकवादी- ये सभी पाकिस्तान में एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं। ये तीनों एक-दूसरे के हितैशी हैं। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री को ही तालिबान ख़ान के नाम से जाना जाता है क्योंकि तालिबान व आतंकी संगठनों के प्रति उनका रवैया बहुत ही सॉफ्ट रहा है। वो उनकी वकालत करते रहे हैं। इमरान तो बस एक मुखौटा है, सत्ता अभी भी पाकिस्तानी सेना के हाथों में ही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

25 साल पहले ULFA ने कर दी थी पति की हत्या, अब असम की पहली महिला वित्त मंत्री

असम में पहली बार एक महिला वित्त मंत्री चुनी गई है। नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने अपनी सरकार में वित्त विभाग 5 बार गोलाघाट से विधायक रह चुकी अजंता निओग को सौंपा।

UP: न्यूज एंकर समेत 4 पत्रकार ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी में गिरफ्तार, ₹55 हजार में कर रहे थे सौदा

उत्तर प्रदेश के कानपुर में चार पत्रकार ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजरी करते पकड़े गए हैं। इनमें से एक लोकल न्यूज चैनल का एमडी/एंकर है।

‘हमारे साथ खराब काम हुआ’: टिकरी बॉर्डर गैंगरेप में योगेंद्र यादव से पूछताछ, कविता और योगिता भी तलब

पीड़ित पिता के मुताबिक बेटी की मौत के बाद उन पर कुछ भी पुलिस को नहीं बताने का दबाव बनाया गया था।

पति से वीडियो कॉल पर बात कर रही थी केरल की सौम्या, फलस्तीनी आतंकी संगठन हमास के रॉकेट ने उड़ाया

सौम्या संतोष हमास के रॉकेट हमले में मारी गई। जब हमला हुआ उस वक्त वह केरल में रह रहे अपने पति संतोष से वीडियो कॉल पर बात कर रही थी।

97941 गाँव, 141610 टीम: कोरोना से लड़ाई में योगी सरकार का डोर-टू-डोर कैम्पेन असरदार, WHO ने भी माना लोहा

उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण पर काबू पाने के लिए योगी सरकार की तरफ से उठाए गए कदमों का पूरा ब्यौरा।

563 साल पहले आज ही इस शहर की पड़ी थी नींव, 7 दिन में मोदी के मंत्री ने कोविड से जंग में कर दिखाया...

जोधपुर में 120 बेड का अत्याधुनिक कोविड रिलीफ सेंटर केवल 7 दिन में तैयार कर दिया गया है।

प्रचलित ख़बरें

मुस्लिम वैज्ञानिक ‘मेजर जनरल पृथ्वीराज’ और PM वाजपेयी ने रचा था इतिहास, सोनिया ने दी थी संयम की सलाह

...उसके बाद कई देशों ने प्रतिबन्ध लगाए। लेकिन वाजपेयी झुके नहीं और यही कारण है कि देश आज सुपर-पावर बनने की ओर अग्रसर है।

इजरायल पर इस्लामी गुट हमास ने दागे 480 रॉकेट, केरल की सौम्या सहित 36 की मौत: 7 साल बाद ऐसा संघर्ष

फलस्तीनी इस्लामी गुट हमास ने इजरायल के कई शहरों पर ताबड़तोड़ रॉकेट दागे। गाजा पट्टी पर जवाबी हमले किए गए।

‘इस्लाम को रियायतों से आज खतरे में फ्रांस’: सैनिकों ने राष्ट्रपति को गृहयुद्ध के खतरे से किया आगाह

फ्रांसीसी सैनिकों के एक समूह ने राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों को खुला पत्र लिखा है। इस्लाम की वजह से फ्रांस में पैदा हुए खतरों को लेकर चेताया है।

‘#FreePalestine’ कैम्पेन पर ट्रोल हुई स्वरा भास्कर, मोसाद के पैरोडी अकाउंट के साथ लोगों ने लिए मजे

स्वरा के ट्वीट का हवाला देते हुए @TheMossadIL ने ट्वीट किया कि अगर इस ट्वीट को स्वरा भास्कर के ट्वीट से अधिक लाइक मिलते हैं, तो वे भारतीय अभिनेत्री को एक स्पेशल ‘पॉकेट रॉकेट’ भेजेंगे।

इजरायल का आयरन डोम आसमान में ही नष्ट कर देता है आतंकी संगठन हमास का रॉकेट: देखें Video

इजरायल ने फलस्तीनी आतंकी संगठन हमास द्वारा अपने शहरों को निशाना बनाकर दागे गए रॉकेट को आयरन डोम द्वारा किया नष्ट

बांग्लादेश: हिंदू एक्टर की माँ के माथे पर सिंदूर देख भड़के कट्टरपंथी, सोशल मीडिया में उगला जहर

बांग्लादेश में एक हिंदू अभिनेता की धार्मिक पहचान उजागर होने के बाद इस्लामिक लोगों ने अभिनेता के खिलाफ सोशल मीडिया में उगला जहर
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,388FansLike
92,652FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe