Wednesday, November 25, 2020
Home राजनीति 15000 स्क्वायर किलोमीटर जंगल भी बढ़े और आदिवासी तरक्की के रास्ते में विकास के...

15000 स्क्वायर किलोमीटर जंगल भी बढ़े और आदिवासी तरक्की के रास्ते में विकास के पार्टनर भी: प्रकाश जावड़ेकर

"UPA के विपरीत अगर विकास होता है तो आदिवासियों का भी विकास होता है। अब आदिवासियों को जमीन के पट्टे मिलने लगे हैं। बाँस के वन निर्माण का अधिकार आदिवासियों को दिया है। ये नया तरीका है। आदिवासी तरक्की के रास्ते में पार्टनर बन गए हैं, वो खिलाफ नहीं हैं।"

केंद्रीय मंत्री (पर्यावरण, सूचना एवं प्रसारण, भारी उद्योग) प्रकाश जावड़ेकर ने ऑपइंडिया को दिए इंटरव्यू में कई मुद्दों पर अपनी बात काफी मुखरता के साथ रखी। हमने उनसे तीनों मंत्रालय के साथ-साथ बिहार-महाराष्ट्र की राजनीति, ‘OTT प्लेटफॉर्म सेल्फ-रेग्युलेशन, फेक न्यूज और रिपब्लिक मीडिया समेत कई मुद्दों पर बातचीत की। 

यहाँ पर इंटरव्यू के अंश सवाल-जवाब के रूप में पेश हैं-

सवाल: कुछ जगहों पर सड़कों के लिए रास्ते कटे हुए हैं, लेकिन उन पर पीचिंग नहीं हो पा रही है यानी सामान्य सड़क नहीं बनाया जा रहा है, जो इस तरह की समस्याएँ ‘विकास बनाम जंगल’ की बातें करते हैं, उसे आप कैसे देखते हैं?

जवाब: विकास जब करना होता है, तो फिर चाहे वो पहाड़ों में हो या मैदान में भी हो, कुछ न कुछ तो जो आज जमीन की स्थिति है, उसमें बदलाव होता है। हमें यही देखना है कि वो जमीन का बदलाव जमीन को और बाकी पर्यावरण को ज्यादा नुकसान करने वाला तो नहीं है न। क्योंकि मुझे याद है कि जब मैं स्कूल में था तो उस समय देश की आबादी 30 करोड़ थी और आज 136 करोड़ है, तो उनको खाने के लिए ज्यादा खेती चाहिए। ज्यादा तकनीक चाहिए, ज्यादा बल चाहिए। उसके लिए ज्यादा नौकरियाँ चाहिए। नौकरी के लिए कल-कारखाने चाहिए। नहीं तो आदमी की तरक्की क्या होगी। इसलिए मोदी सरकार की नीति है कि पर्यावरण भी और विकास भी। दोनों एक दूसरे के विरोध में नहीं है। यह ‘जंगल बनाम विकास’ नहीं बल्कि ‘विकास विद जंगल’ है। और ये हमने पिछले 6 सालों में दिखाया कि विकास भी हुआ और जंगल भी 15000 स्क्वायर किलोमीटर बढ़े। इसीलिए हमारा मानना है कि विकास और पर्यावरण दोनों साथ-साथ है और यही हमारा नारा है।

सवाल: अल्ट्रा-लेफ्ट वाले हमेशा इस मुद्दे को हवा देते हैं कि जंगल आदिवासियों का है और सरकार उसमें अगर हस्तक्षेप करती है तो उसके बाद वो हिंसक हो जाते हैं, हथियार उठा लेते हैं, नक्सली बन जाते हैं।

जवाब: नहीं, ऐसा तो नहीं है। यूपीए शासनकाल में जहाँ पर नक्सलवाद का काफी प्रभाव था, वहाँ भी अब एक तिहाई हो गया है। इसलिए यह सच नहीं है, बल्कि इसके विपरीत अगर विकास होता है तो आदिवासियों का भी विकास होता है। अब आदिवासियों को जमीन के पट्टे मिलने लगे हैं। वहाँ हमने नए-नए औजार शुरू किए। जैसे बाँस के वन निर्माण का अधिकार आदिवासियों को दिया है। बाँस 2-3 साल में बढ़ते हैं, उसके पैसे उनको मिलते हैं। तो ये नया तरीका है। आदिवासी तरक्की के रास्ते में पार्टनर बन गए हैं, वो खिलाफ नहीं हैं।

सवाल: अभी EIA 2020 को लेकर जो नोटिफिकेशन आ रहे हैं, उसको लेकर मीडिया में चलाया जा रहा है कि इस पर काफी विरोध हुआ है। सवाल के साथ-साथ सुझाव भी आए हैं। 

जवाब: 15-20 लाख जो भी सुझाव आए हैं, उसमें 90% एक ही भाषा के हैं, तो इसलिए वह एक मुहिम थी। लेकिन हमने हर सुझाव का संज्ञान लिया है। जब फाइनल आएगा तो सबके सामने आ जाएगा। मैं मूल बताना चाहता हूँ कि हमने क्या किया। 2006 के नोटिफिकेशन के बाद 55 बार संशोधन हुआ है और 236 ऑफिस मेमोरेंडम निकले, जिससे बदलाव किए गए। इतना सारा बदलाव अलग-अलग पढ़ने की बजाए एक ही जगह पढ़ें, इसलिए  EIA 2020 का नोटिफिकेशन लाया गया है। लोगों को गलतफहमी हुई है कि हमने कुछ लोगों को सार्वजनिक सुनवाई से माफ किया है। जबकि हमने 21 उद्योगों को सार्वजनिक सुनवाई में लाया है, जो पहले नहीं थे।

सवाल: पर्यावरण पर जब बात होती है तो लोग पराली जलाने और कुछ लोग इसमें दिवाली का भी योगदान बता देते हैं।

जवाब: इसमें बहुत सारी चीजों का योगदान है। वाहन-यातायात प्रदूषण का एक कारक है। दूसरा है- कंस्ट्रक्शन डस्ट। ये बहुत बड़ा कारक है। दिल्ली और उत्तरी भारत में जिस तरह से धूल का संकट है, धूल उड़ती है, हिमालय की ठंड होती है, गंगा और बाकी नदियों का मॉइश्चर होता है, वो सब पकड़ लेता है और यहाँ एक विशेष भौगोलिक स्थिति के कारण हवा नहीं बहती है, तो ये जम जाता है। ये प्रदूषण की समस्या का कारण है। इसमें पराली और उद्योग का भी योगदान होता है। 35 दिन तक पराली जलाने का सिलसिला होता है। वो कम हो, इसके लिए सरकार ने बहुत प्रयास किया है। मुझे और वैज्ञानिकों को भी उम्मीद है कि इस साल थोड़ा कम होगा। जिस दिन किसान के खेत काटने का खर्चा निकलने वाला कोई भी इलाज निकलेगा, उस दिन खेती नहीं जलेगी। उस दिशा में हम जा रहे हैं और मुझे लगता है कि हम 3-4 साल में इससे निजात पा लेंगे।

सवाल: पर्यावरण और भारी उद्योग कई बार एक-दूसरे के सामने खड़े दिखते हैं, क्योंकि सबसे ज्यादा भारी उद्योग वालों को ही पर्यावरण से अनुमति लेनी पड़ती है, तो क्या इसके लिए आपके सामने कभी ऊहा-पोह की स्थिति आई?

जवाब: भारी उद्योगों का मुख्य काम इलेक्ट्रिक वाहनों को पुश करना है और इलेक्ट्रिकल वाहनों के लिए 10 हजार बसें देश भर में हो, इसके लिए हमने 10,000 करोड़ का कार्यक्रम बनाया है। ये बहुत महत्वपूर्ण है। बाकी इलेक्ट्रिकल वाहन को भी सब्सिडी देते हैं। वो भी बढ़ें, हम इस दिशा में भी काम करते हैं।

सवाल: डिजिटल मीडियम में फिलहाल आपको किस तरह की चुनौतियाँ दिखती हैं? 

जवाब: मेरा मानना है कि यह बहुत ही महत्वपूर्ण पहलू है और डिजिटल मीडिया खुद ही इसे सेल्फ रेग्युलेट करे, लेकिन अगर उन्हें मदद चाहिए, तो हम मदद करने के लिए भी तैयार हैं। इसके अच्छे और बुरे दोनों तरह के नतीजे आ रहे हैं। इसलिए हमने OTT प्लेटफॉर्म को कहा है कि वो सेल्फ-रेग्युलेशन की अच्छी व्यवस्था करें। डिजिटल मीडिया से भी कह सकते हैं, क्योंकि कंटेंट ऑर्गेनाइज्ड होता है। लेकिन डिसऑर्गेनाइज्ड कंटेंट पर लगाम कसना थोड़ा मुश्किल है। एक मैकेनिज्म बनाइए, जिसकी विश्वसनीयता हो और किसी को भी इससे शिकायत न हो और उसके कारण सुधार होता रहे और अगर कोई नहीं करता है तो क्या करना है, इसका विकल्प हमेशा सरकार के पास खुले होते हैं।

सवाल: कुछ लोग खुद को ही फैक्ट चेकर कह रहे हैं और फेक न्यूज फैलाते दिख रहे हैं। इस फेक न्यूज की पहचान कैसे की जाए?

जवाब:  इसके लिए पीआईबी है। वो बहुत अच्छे से फैक्ट चेक करती है। उसकी प्रतिष्ठा भी हो गई है। आगे इसके लिए और सख्त कदम उठाए जाएँगे। इसकी वजह से अनेक चैनल ने फेक न्यूज दिखाना बंद किया, कई चैनलों को माफी माँगनी पड़ी, अनेक अखबारों को माफी माँगनी पड़ी। इसका परिणाम यह हुआ कि अब लोग भी चेक करके ही न्यूज लगाते हैं, बिना सोर्स का न्यूज नहीं लगाते हैं।

सवाल: महाराष्ट्र में जो मीडिया से जुड़ा चाहे टीआरपी स्कैम हो या एक चैनल को परेशान करना, हजार लोगों पर एफआईआर करना अतार्किक है। आप इसे कैसे देखते हैं? 

जवाब: टीआरपी स्कैम गलत ही है, अगर हुआ है तो जाँच करके पता चलना चाहिए। कंप्लेन में एक का नाम आता है, चार्ज दूसरे पर लगता है। ये मुंबई पुलिस जो कर रही है, इसे कोई भी पसंद नहीं करेगा। एडिटर्स गिल्ड से लेकर सभी लोगों ने उसका विरोध किया है। एनडीए ने भी विरोध किया है। मुझे लगता है कि इस तरह से पत्रकारों का दमन अपने राजनीतिक हितों के लिए करना गलत है।

सवाल: आपने कम से कम तीन बार विदेशी संस्थाओं को ट्विटर पर तथ्यात्मक रूप से गलत साबित किया है, लेकिन वही चीज मीडिया में नहीं दिखती है कि आपने ऐसा किया है। ऐसा क्यो?

जवाब: मैं देश-विदेश की हर खबरें देखता हूँ। ऐसे में अगर कोई गलत जानकारी या खबर होती है तो हम उन तक पहुँचाते हैं। ये काम पीआईबी करता है। पीआईबी के ऐसे कुछ प्रयासों को मैं ट्विट्स में बदलता हूँ, लेकिन हर ट्विट्स के द्वारा मैं मंत्रालय नहीं चलाता हूँ।

सवाल: बिहार चुनाव और महाराष्ट्र में जारी राजनीतिक उथल-पुथल के बीच पोस्ट-पोल अलायंस को आप एक निजी वोटर के तौर पर कैसे देखते हैं?

जवाब: ये शिवसेना-भाजपा का प्री-पोल अलायंस था। लोगों ने पीएम मोदी के नेतृत्व में शिवसेना के कैंडिडेट को वोट दिए। हम दोनों का प्री-पोल अलायंस था। वो सत्ता में आया। हमें पूर्ण बहुमत मिला। 160 मेंबर बने। लेकिन उसके बाद अपने राजनीतिक स्वार्थ के कारण मुख्यमंत्री की लालसा से शिवसेना बागी हुए।

उन्होंने जनता से द्रोह करके जनता के जनादेश का अपमान करके उनके साथ गए, जिन्हें हमने चुनाव में पराजित किया था। इसमें शिवसेना भी शामिल थे। तो शिवसेना ने जिनको बीजेपी की मदद से हराया, उन्हीं कॉन्ग्रेस-एनसीपी के साथ जाकर वो बैठे। शिवसेना ने राजनीतिक रूप से ये बहुत गलत बात की है और जब भी मौका मिलेगा, इसकी सजा महाराष्ट्र की जनता देगी। वो भ्रम मे हैं कि वो जीत गए हैं, वो जीते नहीं हैं, बल्कि हारे हैं।

सवाल: महाराष्ट्र सरकार के विचित्र गठबंधन का भविष्य आपको कैसा नजर आता है? 

जवाब: इसका कोई लॉजिकल फ्यूचर नहीं है। भ्रष्टाचार ही एकमात्र मुद्दा है, जिन पर उनकी एकजुटता निर्भर है। इसलिए महाराष्ट्र पीछे जा रहा है और वहाँ पर सरकार नाम की कोई चीज दिखती ही नहीं है।

सवाल: बिहार में भाजपा समर्थक ये सवाल उठा रहे हैं कि वहाँ पर भाजपा अकेले चुनाव क्यों नहीं लड़ती है? क्या इस मुद्दे पर केंद्रीय नेतृत्व में कुछ बातचीत होती है? 

जवाब: बातचीत हम हर मुद्दे की करते हैं, लेकिन वहाँ पर हम पहले से गठबंधन में हैं, तो हम ऐसे ही इसे छोड़ नहीं सकते। हमने शिवसेना के साथ भी 30 साल चलाया। बाद में जब पिछली बार असंभव हुआ तो हम अलग लड़े लेकिन फिर सत्ता में गठबंधन करके ही आए। अभी भी हमारा गठबंधन था, जिसे उन्होंने छोड़ दिया। उनकी गलती वो भुगतेंगे, लेकिन बिहार में हमारा पहले से ही गठबंधन है, बीच में जदयू निकल गए थे, लेकिन फिर वापस आए, तो आज हम काफी मजबूती से नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री बनाने के वादे पर ही चुनाव लड़ रहे हैं। और हमें जनता का आशीर्वाद मिलेगा। पहले चरण के चुनाव के बाद पता चलेगा कि बीजेपी और जदयू कॉम्बिनेशन बहुत आगे निकलेगा। HAM और VIP चार पार्टियों का ये गठबंधन मजबूती से लड़ रहा है और निश्चित रूप से जीतेगा।

सवाल: आप लोजपा पर क्या प्रतिक्रिया देना चाहेंगे?

जवाब: हमारे केंद्र में वो एनडीए का हिस्सा हैं, लेकिन जिस तरह की भूमिका लोजपा ने बिहार में की है, वो वहाँ पर वोटकटुआ पार्टी की तरह काम करेंगे, इसके अलावा वो कुछ नहीं कर सकते। इससे परिणाम पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

सवाल: आपका एक बयान गलत तरीके से पेश किया गया है कि हमने इतिहास के किताब में कोई बदलाव नहीं किया।

जवाब: इंडियन एक्सप्रेस ने 29-30-31 मई को तीन दिन लगातार बैनर लगाकर इस तरह से स्टोरी किया था कि देखने लायक है। बदलाव करने के अनेक तरीके होते हैं। इंडियन एक्सप्रेस ने ये तीन लेख छापे कि लोग इस पर काफी प्रतिक्रिया देंगे। लेकिन बदलाव हम हर साल एफलिएशन में करते हैं। वो 1100 शिक्षक के सुझाव पर आधारित हैं। वो इतने सार्थक हैं कि 900 पेज का बदलाव हुआ, लेकिन जरा भी चर्चा नहीं हुई। इसके लिए तो शाबाशी मिलनी चाहिए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वो सीक्रेट बैठक, जिससे उड़ी इमरान खान की नींद: तुर्की की गोद में बैठा कंगाल Pak अब चीन के लिए होगा खिलौना

पाकिस्तान समेत ज़्यादातर मुस्लिम देश इजरायल को अपना दुश्मन नंबर एक मानते हैं। सऊदी अरब व इजरायल के रिश्ते मजबूत होने से इमरान की उड़ी नींद।

‘PFI वाले मुझे घर, नौकरी और रुपए देंगे’: इस्लाम अपनाने की घोषणा करने वाली केरल की दलित महिला

केरल की दलित महिला ऑटोरिक्शा ड्राइवर चित्रलेखा ने इस्लामी धर्मांतरण की घोषणा की थी। अब सामने आया है कि PFI ने उन्हें इसके लिए प्रलोभन दिया।

उमर खालिद नास्तिकता का ढोंग करता है, वस्तुतः वह कट्टर मुस्लिम है जो भारत को तोड़ना चाहता है: दिल्ली पुलिस

खालिद के लिए दिल्ली में रहने वाले बांग्लादेशी और रोहिंग्या अप्रवासी ऐसे लोग थे, जिनका इस्तेमाल करना आसान था। उसने इस्लाम और अल्ट्रा लेफ्ट...

वो अहमद पटेल, जिसे राज्यसभा सीट जिताने के लिए कॉन्ग्रेस ने खो दिया था पूरे गुजरात को

71 साल के अहमद पटेल का इंतकाल हो गया। उनकी मौत का कारण मल्टिपल ऑर्गन फेलियर रहा। उनसे यूपीए काल में हुए कई घोटालों के...

‘स्पीकर के चुनाव में साथ दो, तुम्हें मंत्री बनाएँगे’: लालू यादव का MLA को लालच देने वाला कॉल, सुनें ऑडियो क्लिप

बिहार के पूर्व उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने लालू यादव पर विधायकों को प्रलोभन देने का आरोप लगाया है। साथ ही एक ऑडियो क्लिप भी शेयर किया।

जानिए क्या है रोशनी एक्ट, जिसका गुनाह छिपाने के लिए हंगामा कर रहा है घोटालेबाज गुपकार गैंग

जम्मू-कश्मीर के ‘रोशनी एक्ट’ भूमि घोटाले की लिस्ट सार्वजनिक कर दी गई है। इस लिस्ट में जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम फारुक अब्दुल्ला समेत...

प्रचलित ख़बरें

‘मेरे पास वकील रखने के लिए रुपए नहीं हैं’: सुप्रीम कोर्ट में पूर्व सैन्य अधिकारी की पत्नी से हरीश साल्वे ने कहा- ‘मैं हूँ...

साल्वे ने अर्णब गोस्वामी का केस लड़ने के लिए रिपब्लिक न्यूज नेटवर्क से 1 रुपया भी नहीं लिया। अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में उन्होंने कुलभूषण जाधव का केस भी मात्र 1 रुपए में लड़ा था।

बहन से छेड़खानी करता था ड्राइवर मुश्ताक, भाई गोलू और गुड्डू ने कुल्हाड़ी से काट डाला: खुद को किया पुलिस के हवाले

गोलू और गुड्डू शाम के वक्त मुश्ताक के घर पहुँच गए। दोनों ने मुश्ताक को उसके घर से घसीट कर बाहर निकाला और जम कर पीटा, फिर उन्होंने...

रहीम ने अर्जुन बनकर हिंदू विधवा से बनाए 5 दिन शारीरिक संबंध, बाद में कहा- ‘इस्लाम कबूलो तब करूँगा शादी’

जब शादी की कोई बात किए बिना अर्जुन (रहीम) महिला के घर से जाने लगा तो पीड़िता ने दबाव बनाया। इसके बाद रहीम ने अपनी सच्चाई बता...

इतिहास में गुम हैं मुगलों को 17 बार हराने वाले अहोम योद्धा: देश भूल गया ब्रह्मपुत्र के इन बेटों को

राजपूतों और मराठों की तरह कोई और भी था, जिसने मुगलों को न सिर्फ़ नाकों चने चबवाए बल्कि उन्हें खदेड़ कर भगाया। असम के उन योद्धाओं को राष्ट्रीय पहचान नहीं मिल पाई, जिन्होंने जलयुद्ध का ऐसा नमूना पेश किया कि औरंगज़ेब तक हिल उठा। आइए, चलते हैं पूर्व में।

कंगना को मुँह तोड़ने की धमकी देने वाले शिवसेना MLA के 10 ठिकानों पर ED की छापेमारी: वित्तीय अनियमितता का आरोप

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मंगलवार को शिवसेना नेता प्रताप सरनाईक के आवास और दफ्तर पर छापेमारी की। यह छापेमारी सरनाईक के मुंबई और ठाणे के 10 ठिकानों पर की गई।

‘मुस्लिमों ने छठ में व्रती महिलाओं का कपड़े बदलते वीडियो बनाया, घाट पर मल-मूत्र त्यागा, सब तोड़ डाला’ – कटिहार की घटना

बिहार का कटिहार मुस्लिम बहुत सीमांचल का हिस्सा है, जिसकी सीमाएँ पश्चिम बंगाल से लगती हैं। वहाँ के छठ घाट को तहस-नहस कर दिया गया।
- विज्ञापन -

राजस्थान में कोरोना संक्रमित कॉन्ग्रेसी मंत्री ने RUHS का दौरा कर उड़ाई प्रोटोकॉल की धज्जियाँ: तस्वीरें वायरल

“आरयूएचएस में पहले से सब पॉजिटिव हैं और मैं भी पॉजिटिव हूँ, इसलिए प्रश्न उठता है कि मुझसे कोरोना फैलेगा कैसे? मैं डॉक्टरों की सलाह के बाद इंतजामों को देखने गया था।”

वो सीक्रेट बैठक, जिससे उड़ी इमरान खान की नींद: तुर्की की गोद में बैठा कंगाल Pak अब चीन के लिए होगा खिलौना

पाकिस्तान समेत ज़्यादातर मुस्लिम देश इजरायल को अपना दुश्मन नंबर एक मानते हैं। सऊदी अरब व इजरायल के रिश्ते मजबूत होने से इमरान की उड़ी नींद।

‘PFI वाले मुझे घर, नौकरी और रुपए देंगे’: इस्लाम अपनाने की घोषणा करने वाली केरल की दलित महिला

केरल की दलित महिला ऑटोरिक्शा ड्राइवर चित्रलेखा ने इस्लामी धर्मांतरण की घोषणा की थी। अब सामने आया है कि PFI ने उन्हें इसके लिए प्रलोभन दिया।

उमर खालिद नास्तिकता का ढोंग करता है, वस्तुतः वह कट्टर मुस्लिम है जो भारत को तोड़ना चाहता है: दिल्ली पुलिस

खालिद के लिए दिल्ली में रहने वाले बांग्लादेशी और रोहिंग्या अप्रवासी ऐसे लोग थे, जिनका इस्तेमाल करना आसान था। उसने इस्लाम और अल्ट्रा लेफ्ट...

वो अहमद पटेल, जिसे राज्यसभा सीट जिताने के लिए कॉन्ग्रेस ने खो दिया था पूरे गुजरात को

71 साल के अहमद पटेल का इंतकाल हो गया। उनकी मौत का कारण मल्टिपल ऑर्गन फेलियर रहा। उनसे यूपीए काल में हुए कई घोटालों के...

‘स्पीकर के चुनाव में साथ दो, तुम्हें मंत्री बनाएँगे’: लालू यादव का MLA को लालच देने वाला कॉल, सुनें ऑडियो क्लिप

बिहार के पूर्व उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने लालू यादव पर विधायकों को प्रलोभन देने का आरोप लगाया है। साथ ही एक ऑडियो क्लिप भी शेयर किया।

जानिए क्या है रोशनी एक्ट, जिसका गुनाह छिपाने के लिए हंगामा कर रहा है घोटालेबाज गुपकार गैंग

जम्मू-कश्मीर के ‘रोशनी एक्ट’ भूमि घोटाले की लिस्ट सार्वजनिक कर दी गई है। इस लिस्ट में जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम फारुक अब्दुल्ला समेत...

‘मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम हवाई अड्डा पर आपका स्वागत है’ – योगी कैबिनेट ने प्रस्ताव को दी मंजूरी, होंगी विश्व स्तरीय सुविधाएँ

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने निर्माणाधीन अयोध्या एयरपोर्ट का नाम 'मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम एयरपोर्ट' रखने का निर्णय लिया है।

कर्नाटक की माला होंगी USA की नई 1st Lady की नीति निदेशक, जो बायडेन के कार्यकाल में बढ़ेगा भारतीयों का दबदबा

जो बायडेन ने यूएस की नई 'फर्स्ट लेडी' और अपनी पत्नी जिल के पॉलिसी डायरेक्टर (नीति निदेशक) के रूप में माला अडिगा को नियुक्त किया है।

ओवैसी को सूअर वाली स्वादिष्ट बिरयानी खिलाने का ऑफर, AIMIM नेता के बीफ बिरयानी पर BJP का पलटवार

"मैं आपको आज बिरयानी का निमंत्रण दे रहा हूँ। वाल्मिकी समुदाय के लोग पोर्क के साथ बिरयानी अच्छी बनाते हैं। आइए हम आपको स्वादिष्ट बिरयानी..."

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,374FollowersFollow
357,000SubscribersSubscribe