Friday, August 6, 2021
Homeराजनीतिमजनू का टीला गुरुद्वारा में फँसे हुए हैं 400 सिख: नहीं सुन रहे केजरीवाल...

मजनू का टीला गुरुद्वारा में फँसे हुए हैं 400 सिख: नहीं सुन रहे केजरीवाल और कैप्टेन, कोरोना फैलने का ख़तरा

अभी तक पंजाब या दिल्ली सरकार की तरफ़ से इस सम्बन्ध में कोई बयान नहीं आया है। बार-बार आग्रह करने के बावजूद कैप्टेन अमरिंदर सिंह कोई जवाब नहीं दे रहे हैं। केजरीवल या कैप्टेन की तरफ़ से सोशल मीडिया पर भी कोई रिस्पॉन्स नहीं दिया गया है।

कोरोना वायरस पूरी दुनिया में तबाही मचा रहा है। भारत में लॉकडाउन के बावजूद दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात द्वारा ढाई हजार लोगों को जमा कर मजहबी कार्यक्रम करने से कोरोना के मामलों में उछाल आया है। दिल्ली में ही मजनू का टीला इलाक़े में कई लोग फँसे हुए हैं, जो अपने घरों से दूर हैं। मजनू का टीला गुरूद्वारे में कई सिख फँसे हुए हैं। ऐसे में कोरोना वायरस के फैलने का ख़तरा है। पत्रकार आदित्य राज कौल ने वहाँ घिरे लोगों की तस्वीरें ट्वीट की हैं। साथ ही उन्होंने अकाली दल, भाजपा और कॉन्ग्रेस- तीनों ही दलों से सवाल पूछा है कि वो किस चीज का इन्तजार कर रहे हैं?

दिल्ली सिख गुरुद्वारा कमिटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने दिल्ली के सीएम अरविन्द केजरीवाल और पंजाब के उनके समकक्ष कैप्टेन अमरिंदर सिंह से इन लोगों को पंजाब वापस पहुँचाने के लिए व्यवस्था करने को कहा है। उन्होंने कहा है कि अगर इनमें से किसी एक को भी कोरोना हुआ तो इससे हज़ारों को फैलने का ख़तरा है। कौल ने बताया कि मजनू का टीला स्थित गुरुद्वारा में सिख समुदाय के क़रीब 400 लोग फँसे हुए हैं। पूरे देश में लॉकडाउन की घोषणा के बाद से ही ये लोग वहाँ फँसे हुए हैं। क़ौल ने कहा कि न तो केंद्र सरकार और न ही राज्य सरकार ने उनको सही जगह पहुँचाने की व्यवस्था की है।

सिरसा ने कहा कि वो दोनों मुख्यमंत्रियों से हाथ जोड़ कर आग्रह करते हैं कि मजनू का टीला में फँसे लोगों को निकालें। उन्होंने बताया कि उनमें से कई लोगों को सर्दी-बुखार भी है और कई खाँस भी रहे हैं। उन्होंने कहा कि इन सबकी मेडिकल जाँच करानी ज़रूरी है लेकिन बार-बार आग्रह करने के बावजूद कैप्टेन अमरिंदर सिंह कोई जवाब नहीं दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि गुरुद्वारा प्रबंधन कमिटी उन सभी के खाने-पीने का ध्यान रख रही है और उन्हें सारी सुविधाएँ दी जा रही हैं लेकिन उन्हें वहाँ से निकाला जाना सबसे जयादा ज़रूरी है, जिसके लिए दिल्ली व पंजाब की सरकारों को व्यवस्था करनी चाहिए।

मनजिंदर सिंह सिरसा ने बताया कि उन्होंने 29 मार्च को 2 बसों से मजनू का टीला गुरूद्वारे में फँसे कई लोगों को उनके घरों तक पहुँचाया था। लेकिन, उसके बाद दोनों राज्य सरकारों का सहयोग न मिलने के कारण 400 लोग वहीं रह गए और उन्हें घर नहीं पहुँचाया जा सका। दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने बताया कि मजनू का टीला में पाकिस्तान से आए हुए हिन्दुओं के लिए भी राशन-पानी की व्यवस्था की जा रही है। उन्होंने इस सम्बन्ध में मनजिंदर सिरसा से बातचीत की। वहाँ रह रहे सभी हिन्दुओं के खाने-पीने की व्यवस्था गुरुद्वारा प्रबंधन कमिटी करेगी। लॉकडाउन के बाद भी ऐसा किया जाता रहेगा।

अभी तक पंजाब या दिल्ली सरकार की तरफ़ से इस सम्बन्ध में कोई बयान नहीं आया है। केजरीवल या कैप्टेन की तरफ़ से सोशल मीडिया पर भी कोई रिस्पॉन्स नहीं दिया गया है। मजनू का टीला में फँसे सिखों के खाने-पीने की तो व्यवस्था कर दी गई है लेकिन सबसे ज़रूरी है उनका मेडिकल टेस्ट कर के उनके घर पहुँचाया जाना, ताकि भीड़ न जुटे और इतने लोगों के एक साथ रहने की नौबत न आए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तान में गणेश मंदिर तोड़ने पर भारत सख्त, सालभर में 7 मंदिर बन चुके हैं इस्लामी कट्टरपंथियों का निशाना

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में मंदिर तोड़े जाने के बाद भारत सरकार ने पाकिस्तान के शीर्ष राजनयिक को तलब किया है।

अफगानिस्तान: पहले कॉमेडियन और अब कवि, तालिबान ने अब्दुल्ला अतेफी को घर से घसीट कर निकाला और मार डाला

अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने भी अब्दुल्ला अतेफी की हत्या की निंदा की और कहा कि अफगानिस्तान की बुद्धिमत्ता खतरे में है और तालिबान इसे ख़त्म करके अफगानिस्तान को बंजर बनाना चाहता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,173FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe