Tuesday, October 26, 2021
Homeराजनीतिभारत ने माना मोदी ही खेवनहार, वायरस से भी नहीं बनी राहुल गाँधी की...

भारत ने माना मोदी ही खेवनहार, वायरस से भी नहीं बनी राहुल गाँधी की विश्वसनीयता: कोरोना काल में जनता का मूड बताते आया सर्वे

एबीपी न्यूज-सी वोटर के इस सर्वे के नतीजे ऐसे वक्त में आए हैं जब कोरोना की आड़ में मोदी सरकार के खिलाफ तमाम तरह के प्रोपेगेंडा चलाए जा रहे हैं।

नरेंद्र मोदी ने बतौर प्रधानमंत्री बीते 26 मई को सात साल पूरे किए थे। 30 मई को उनकी दूसरी सरकार (मोदी 2.0) के दो साल पूरे होंगे। उससे पहले एक सर्वे आया है जो कोरोना वैश्विक महामारी के कारण पैदा हुए हालात के बीच देश के मिजाज पर रोशनी डालता है। इस सर्वे से यह बात सामने आई है कि आज भी मोदी देश के सर्वमान्य नेता हैं और विश्वसनीयता के लिहाज से कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी उनके सामने कहीं नहीं टिकते।

एबीपी न्यूज-सी वोटर के इस सर्वे के नतीजे ऐसे वक्त में आए हैं जब कोरोना की आड़ में मोदी सरकार के खिलाफ तमाम तरह के प्रोपेगेंडा चलाए जा रहे हैं। खुद राहुल गाँधी भी लगातार इसे हवा दे रहे हैं। पिछले दिनों कॉन्ग्रेस का एक कथित टूलकिट भी सामने आया था जिसमें बताया गया था कि कैसे सरकार को बदनाम करना है।

बावजूद इसके सर्वे बताता है कि शहरी क्षेत्र के 66 और ग्रामीण क्षेत्र के 22 फीसदी लोगों का मानना है कि कोरोना के संकट से ज्यादा बेहतर तरीके से निपटने में प्रधानमंत्री मोदी ही सक्षम हैं। शहरी इलाके के केवल 20 और ग्रामीण क्षेत्र के 23 फीसदी लोगों को ही राहुल पर भरोसा है। शहरी क्षेत्र के 14 और ग्रामीण इलाकों के 15 फीसदी लोग इस सवाल का स्पष्ट जवाब नहीं दे पाए। इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि लोकप्रियता और विश्वसनीयता के मोर्चे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विपक्ष के चेहरे से कितने आगे हैं।

सर्वे में शामिल 44 फीसदी और ग्रामीण इलाकों के 40 फीसदी लोग कोरोना संकट को मोदी सरकार की सबसे बड़ी नाकामी मानते हैं। किसानों के आंदोलन को लेकर शहरी क्षेत्र के हर पाँच में से एक यानी 20 प्रतिशत और ग्रामीण क्षेत्र के हर चार में से एक यानी 25 प्रतिशत लोगों को ही लगता है कि मोदी सरकार इस मोर्चे पर नाकाम रही है। शहरी लोगों में से 9 प्रतिशत दिल्ली दंगे को नाकामी मानते हैं। ग्रामीण क्षेत्र के भी 9 फीसदी लोगों ने ही इसे नाकामी माना है। चीन के साथ सीमा विवाद को लेकर 7 प्रतिशत शहरी और 10 प्रतिशत ग्रामीण लोग सरकार को नाकाम मानते हैं।

इस वर्ष देशव्यापी लॉकडाउन न लगने का सवाल किए जाने पर 57% शहरी और 52% ग्रामीणों ने इसे सही बताया, जबकि 31% शहरी और 34% ग्रामीणों ने गलत कहा। 12% शहरी और 14 % ग्रामीणों का कहना है कि वे इस बारे में कुछ नहीं कह सकते हैं।

इसी तरह मोदी सरकार ने वैक्सीन के इंतजाम ठीक किए हैं या नहीं, इस पर 51% शहरी और 42 फीसदी ग्रामीणों ने इस सवाल का हाँ में इसका जवाब दिया है। 38 % शहरी और 46% ग्रामीणों ने माना कि सरकार ने वैक्सीन का इंतजाम ठीक से नहीं किया। इस तरह शहर के 11% और 12% ग्रामीणों ने कहा कि उन्हें इस पर कुछ नहीं कहना है।

आज की तारीख में सबसे बड़े परेशानी पूछे जाने पर भ्रष्टाचार को वजह 7% ने माना। वहीं बेरोजगारी को 18%, गरीबी को 5%, महँगाई को 10%, कृषि को 4%, कोरोना को 36%, और अन्य दिक्कतों पर 20% ने अपनी सहमति दी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केरल में नॉन-हलाल रेस्तराँ खोलने वाली महिला को बेरहमी से पीटा, दूसरी ब्रांच खोलने के खिलाफ इस्लामवादी दे रहे थे धमकी

ट्विटर यूजर के अनुसार, बदमाशों के खिलाफ आत्मरक्षा में रेस्तराँ कर्मचारियों द्वारा जवाबी कार्रवाई के बाद केरल पुलिस तुशारा की तलाश कर रही है।

असम: CM सरमा ने किनारे किया दीवाली पर पटाखों पर प्रतिबंध का आदेश, कहा – जनभावनाओं के हिसाब से होगा फैसला

असम में दीवाली के मौके पर पटाखों पर पूर्ण प्रतिबंध का ऐलान किया गया था। अब मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने कहा है कि ये आदेश बदलेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
131,815FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe