Sunday, June 13, 2021
Home राजनीति केंद्र नहीं, राज्य जुटाते हैं कोरोना के आँकड़े: PM मोदी पर दोष मढ़ने से...

केंद्र नहीं, राज्य जुटाते हैं कोरोना के आँकड़े: PM मोदी पर दोष मढ़ने से पहले पंजाब और राजस्थान में झाँकें राहुल

5 में से 4 कॉन्ग्रेस शासित राज्यों में भाजपा शासित राज्यों के मुकाबले मृत्यु दर ज्यादा है। पंजाब में तो मृत्यु दर 2.51% है। इन 5 बड़े भाजपा शासित राज्यों की मृत्यु दर उसकी आधी से भी कम है। बाकियों में ज्यादा अंतर नहीं। फिर 'बड़ा अंतर' वाला आरोप कहाँ से आया?

कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के माध्यम से भारत सरकार पर हमला बोलते हुए कहा है कि भारत में कोरोना की दूसरी लहर के लिए सिर्फ और सिर्फ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जिम्मेदार हैं, उन्हें कोविड की समझ नहीं है। उन्होंने कोरोना के आँकड़ों में हेराफेरी का आरोप भी केंद्र सरकार पर ही मढ़ा। वायनाड के सांसद ने कहा कि पीएम मोदी ने दरवाजा खुला छोड़ दिया, जिसे अब तक बंद नहीं किया गया है।

राहुल गाँधी ने 1 दिन पहले भी NYT की भ्रामक खबर शेयर कर के दावा किया था कि भारत में कोरोना से सरकारी आँकड़ों के मुकाबले दोगुने से भी ज्यादा लोगों की मौत हुई है। शुक्रवार (मई 28, 2021) को किए गए प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी उन्होंने आँकड़ों की हेराफेरी की बात की। साथ ही कहा कि कोरोना की पहली लहर के समय किसी को कुछ समझ नहीं आया था, लेकिन दूसरी लहर के लिए प्रधानमंत्री जिम्मेदार हैं।

यहाँ राहुल गाँधी को सबसे पहली बात ये याद दिलानी ज़रूरी है कि भारत में अब तक कोरोना का डेटा केंद्र सरकार नहीं, बल्कि राज्य सरकारें जुटाती हैं। अगर वो कोरोना के आँकड़ों में हेराफेरी की बातें कर रहे हैं तो क्या वो ये कहना चाहते हैं कि भाजपा शासित राज्यों में कोरोना के आँकड़ों की हेराफेरी हुई है और कॉन्ग्रेस शासित राज्य पाक साफ़ हैं? लाशों पर राजनीति की बजाए उन्हें वास्तविकता पर ध्यान देना चाहिए।

सबसे पहली बात तो ये है कि कोरोना के कारण होने वाली मौतों के आँकड़ों में गड़बड़ी का आरोप राजस्थान सरकार पर लगा है। ‘दैनिक भास्कर’ ने अपनी ग्राउंड तहकीकात में पाया था कि 1 अप्रैल से लेकर 20 मई के बीच 25 ग्रामीण जिलों में सरकारी आँकड़ों के हिसाब से 3918 मौतें हुई हैं, जबकि वहाँ के 512 गाँव-प्रखंडों में इस अवधि में 14,482 लोगों के अंतिम संस्कार हुए। आँकड़ों की इस हेराफेरी पर क्या वो ‘जादूगर’ अशोक गहलोत को क्लीन चिट देंगे?

अब आते हैं मौत के आँकड़ों पर। महाराष्ट्र में शिवसेना-NCP-कॉन्ग्रेस की सरकार चल रही है और वहाँ कोरोना से अब तक 92,225 मौतें हुई हैं। इसकी एक तिहाई मौतें भी किसी अन्य राज्य में नहीं हुई। वहाँ अब तक 56,72,180 लोग कोरोना संक्रमित हुए हैं। इसके आधे लोग भी किसी अन्य राज्य में संक्रमित नहीं हुए। आइए, कॉन्ग्रेस और भाजपा शासित राज्यों में कोरोना संक्रमितों की मृत्यु दर देखते हैं:

राज्य मृत्यु दर (%)सरकार
महाराष्ट्र 1.62 कॉन्ग्रेस-NCP-शिवसेना
पंजाब 2.51 कॉन्ग्रेस
छत्तीसगढ़1.33 कॉन्ग्रेस
झारखंड1.47 कॉन्ग्रेस-झामुमो
राजस्थान0.87 कॉन्ग्रेस
उत्तर प्रदेश 1.18 भाजपा
गुजरात1.21 भाजपा
कर्नाटक 1.08भाजपा
मध्य प्रदेश1.01 भाजपा
हरियाणा1.05भाजपा
10 राज्यों में कोरोना संक्रमितों का मृत्यु दर

अगर आप ऊपर के आँकड़े देखेंगे तो पाएँगे कि 5 में से 4 कॉन्ग्रेस शासित राज्यों में भाजपा शासित राज्यों के मुकाबले मृत्यु दर ज्यादा है। पंजाब में तो मृत्यु दर 2.51% है, देश में सर्वाधिक। इन 5 बड़े भाजपा शासित राज्यों की मृत्यु दर उसकी आधी से भी कम है। बाकियों के बीच ज्यादा अंतर नहीं है। कॉन्ग्रेस शासित राज्यों में राजस्थान की मृत्यु दर काफी कम है, लेकिन उसकी असलियत हम ऊपर देख चुके हैं। अब सवाल ये उठता है कि झूठ कौन बोल रहा है?

अब राहुल गाँधी सरकारों के आधार पर ये तय करेंगे कि फलाँ राज्य में फलाँ पार्टी का शासन है तो वो वहाँ के आँकड़े सच्चाई की प्रतिमूर्ति है, जबकि अगर किसी राज्य में भाजपा की सत्ता है तो उसकी हर एक बात झूठ है? राहुल गाँधी पंजाब और महाराष्ट्र में अपनी सरकारों से क्यों नहीं पूछते कि वहाँ कोरोना से ज्यादा मौतें क्यों हो रही हैं? केंद्र सरकार को कोसने की बजाए जहाँ उनकी सरकार है, अपनी ‘महत्वपूर्ण’ राय वहाँ दें, क्योंकि स्थिति खराब है।

इसे यूँ भी समझिए। अगर कॉन्ग्रेस शासित राज्य ही केवल सच बोल रहे होते तो भाजपा शासित राज्यों के मुकाबले उनके आँकड़ों में बड़ा अंतर होता, लेकिन ऐसा नहीं है। अगर ये राज्य झूठ बोल रहे हैं तो राहुल गाँधी को केंद्र की बजाए इनकी क्लास लेनी चाहिए और पूछना चाहिए कि वो गलत आँकड़े देकर केंद्र को बरगला क्यों रहे हैं? अगर भाजपा शासित राज्य झूठे होते तो अन्य राज्यों के मुकाबले उनके आँकड़ों में बड़ा अंतर होता, जबकि ऐसा नहीं है।

राहुल गाँधी कह रहे हैं कि कोरोना के कारण होने वाली मौतों के आँकड़ों में ‘बड़ा अंतर’ है। अधिकतर भाजपा और कॉन्ग्रेस शासित राज्यों में मृत्यु दर (ऊपर के 10 में 8 राज्यों में) 1-2% के बीच में ही घूम रही है, ऐसी में ये बड़ा अंतर कहाँ से आ गया? अगर झूठे हैं तब तो भारत के सारे राज्यों की सरकारें झूठी हुईं? और हाँ, अगर कॉन्ग्रेस सरकारें सच बोल रही हैं तो मृत्यु दर में जमीन-आसमान का अंतर होना चाहिए था अलग-अलग राज्यों में।

हमने ऊपर तालिका में देखा कि ऐसा कुछ भी नहीं है। केंद्र सरकार अगर मौतों के आँकड़े जुटाती तो भला उसका दोष हो सकता था, लेकिन राज्य सरकारों के कार्य को लेकर केंद्र को दोष देना कहाँ तक उचित है? विदेशी मीडिया NYT सत्यवादी हो गया और राजस्थान की ग्राउंड रिपोर्ट झूठी हो गई? राहुल गाँधी अपनी सरकारों के आँकड़ों और भाजपा सरकारों के आँकड़े का मिलान करें, उन्हें पता चलेगा कि उनके सारे आरोपों की जड़ ही टूटी हुई है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

माता वैष्णो देवी की भूमि पर तिरुपति बालाजी के दर्शन: LG मनोज सिन्हा ने किया 62 एकड़ में बनने वाले मंदिर का भूमिपूजन

जम्मू में टीटीडी तिरुपति बालाजी के मंदिर के अलावा वेद पाठशाला, आध्यात्म केंद्र और आवास जैसी अन्य सुविधाओं का निर्माण करेगा। निकट भविष्य में स्वास्थ्य एवं शिक्षा सुविधाओं के निर्माण का लक्ष्य रखा गया है।

चीन और अमेरिका ने ठुकराई इमरान खान की ‘मैंगो डिप्लोमेसी’, वापस लौटाए तोहफे में मिले पाकिस्तानी आम

कभी गधे बेचने वाला हमारा पड़ोसी मुल्क आज ‘आम’ तोहफे में दे रहा है, हालाँकि ये अलग बात है कि अमेरिका और चीन समेत कई देशों ने पाकिस्तान के इन तोहफों को ठुकरा दिया।

राजस्थान में कौन बनेगा मंत्री: 9 कुर्सी पर 35 दावेदार, पायलट खेमा को अकेले चाहिए 6-7, विधायकों की फोन टैपिंग इसी कारण?

राजस्थान की गहलोत सरकार एक बार फिर से फोन टैपिंग मामले में घिरती नजर आ रही है। सरकार पर आरोप लग रहे हैं कि वह अपने ही MLA की....

अयोध्या को बनाएँगे धार्मिक, वैदिक और सोलर शहर- प्राचीन विरासत के साथ आधुनिकता का संगम: CM योगी

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यह घोषणा की है कि राज्य सरकार अयोध्या को एक धार्मिक, वैदिक और सोलर सिटी के रूप में विकसित करेगी।

मात्र 84 टिकट और ₹6,000 का कलेक्शन: महाराष्ट्र के सिनेमाघरों में सलमान की फिल्म ‘राधे’ को नहीं मिल रहे दर्शक

महाराष्ट्र में दो सिनेमाघरों ने खुलने के तुरंत बाद ही सलमान खान की फिल्म ‘राधे’ से अपनी शुरुआत करने का फैसला किया लेकिन उन्हें निराशा ही हाथ लगी।

यति नरसिंहानंद की हत्या की साजिश: विपुल नहीं रमजान घुसा था मंदिर में, हिंदू धर्म छोड़ कासिफ की बहन से किया था निकाह

पुलिस व खुफिया एजेंसियों को पूछताछ में पता चला कि विपुल और कासिफ जीजा-साला हैं। विपुल ने डेढ़ साल पहले ही कासिफ की बहन आयशा से...

प्रचलित ख़बरें

सस्पेंड हुआ था सुशांत सिंह का ट्रोल अकाउंट, लिबरलों ने फिर से करवाया रिस्टोर: दूसरों के अकाउंट करवाते थे सस्पेंड

जो दूसरों के लिए गड्ढा खोदता है, वो उस गड्ढे में खुद गिरता है। सुशांत सिंह का ट्रोल अकाउंट @TeamSaath के साथ यही हुआ।

आईएस में शामिल केरल की 4 महिलाओं को वापस नहीं लाएगी मोदी सरकार, अफगानिस्तान की जेलों में है कैद

केरल की ये महिलाएँ 2016-18 में अफगानिस्तान के नंगरहार पहुँची थीं। इस दौरान उनके पति अफगानिस्तान में अलग-अलग हमलों में मारे गए थे।

‘भाईजान’ के साथ निकाह से इनकार, बॉयफ्रेंड संग रहना चाहती थी समन अब्बास, अब खेत में दफन? – चचेरा भाई गिरफ्तार

तथाकथित ऑनर किलिंग में समन अब्बास के परिवार वालों ने उसकी गला घोंटकर हत्या कर दी और उसके शव को खेत में दफन कर दिया?

‘तैमूर की अम्मी नहीं हैं माँ सीता के रोल के लायक… शूर्पणखा बन सकती हैं’: ट्विटर पर ट्रेंड हुआ #BoycottKareenaKhan

यूजर्स का कहना है कि वह तैमूर की अम्मी को माँ सीता के रोल में नहीं देखना चाहते और इसलिए फिल्म मेकर्स को करीना के अलावा दूसरी अभिनेत्रियों को ये रोल असाइन करना चाहिए।

सुशांत ड्रग एडिक्ट था, सुसाइड से मोदी सरकार ने बॉलीवुड को ठिकाने लगाया: आतिश तासीर की नई स्क्रिप्ट, ‘खान’ के घटते स्टारडम पर भी...

बॉलीवुड के तीनों खान-सलमान, शाहरुख और आमिर के पतन के पीछे कौन? मोदी सरकार। लेख लिखकर बताया गया है।

‘मेरे जीजा से एक्स-वाइफ कविता का अफेयर था, माँ ने कई बार रंगे हाथ पकड़ा’: शिल्पा के पति राज कुंद्रा ने किए कई खुलासे

राज ने कहा, "मेरी माँ ने कविता और जीजा वंश को आपत्तिजनक स्थिति में कई बार रंगे हाथों पकड़ा था।"
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
103,589FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe