Thursday, September 23, 2021
Homeराजनीतिमहबूबा और अब्दुल्ला पर PSA लगा दिया, कश्मीर भावनात्मक रूप से हमारे साथ नहीं:...

महबूबा और अब्दुल्ला पर PSA लगा दिया, कश्मीर भावनात्मक रूप से हमारे साथ नहीं: अधीर रंजन

महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला पिछले साल 5 अगस्त से ही नज़रबंद हैं। गुरुवार को पुलिस की मौजूदगी में मजिस्ट्रेट ने उस बंगले में जाकर महबूबा को PSA लगाए जाने का आदेश सौंपा जहाँ उन्हें नजरबंद रखा गया है।

विवादों में रहने के लिए कुख्यात कॉन्ग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी फिर एक बार कश्मीर पर दिए अपने बयान के कारण सुर्खियाँ बटोर रहे हैं। जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्रियों महबूबा मुफ़्ती तथा उमर अब्दुल्ला के खिलाफ जन सुरक्षा कानून (PSA) लगाए जाने पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए, अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि कश्मीर सिर्फ भौगोलिक तौर पर भारत के साथ है न कि भावनात्मक तौर पर भी।

समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत करते हुए लोकसभा में कॉन्ग्रेस के नेता, बरहमपुर से कॉन्ग्रेस सांसद चौधरी ने कहा, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कल ही संसद में उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती के बारे में टिप्पणी की और रात में उन पर पब्लिक सेफ्टी एक्ट (PSA) लगा दिया गया। आप कश्मीर पर इस तरह राज नहीं कर सकते हैं। कश्मीर भौगोलिक तौर पर तो हमारा है लेकिन भावनात्मक रूप से नहीं।”

ज्ञात हो कि महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला पिछले साल 5 अगस्त से ही नज़रबंद हैं। गुरुवार को पुलिस की मौजूदगी में मजिस्ट्रेट ने उस बंगले में जाकर महबूबा को PSA लगाए जाने का आदेश सौंपा जहाँ उन्हें नजरबंद रखा गया है। बाद में अधिकारियों ने यह भी बताया कि उमर अब्दुल्ला के खिलाफ भी पीएसए के तहत मामला दर्ज किया गया है।

आखिर क्या है PSA ?
इस कानून के तहत किसी भी आरोपी को बिना किसी अन्य आरोप या फिर ट्रायल के 2 साल तक हिरासत में रखा जा सकता है। इस कानून के तहत आरोपी व्यक्ति को बिना वारंट, किसी विशेष जुर्म के किए आरोपी होने के बिना भी बिना किसी समयसीमा के अरेस्ट या डिटेन कर रखा जा सकता है। बताते चलें कि उमर अब्दुल के पिता फारूक अब्दुल्ला को पहले ही इस कानून के तहत नज़रबंद करके रखा गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गुजरात के दुष्प्रचार में तल्लीन कॉन्ग्रेस क्या केरल पर पूछती है कोई सवाल, क्यों अंग विशेष में छिपा कर आता है सोना?

मुंद्रा पोर्ट पर ड्रग्स की बरामदगी को लेकर कॉन्ग्रेस पार्टी ने जो दुष्प्रचार किया, वह लगभग ढाई दशक से गुजरात के विरुद्ध चल रहे दुष्प्रचार का सबसे नया संस्करण है।

‘मुंबई डायरीज 26/11’: Amazon Prime पर इस्लामिक आतंकवाद को क्लीन चिट देने, हिन्दुओं को बुरा दिखाने का एक और प्रयास

26/11 हमले को Amazon Prime की वेब सीरीज में मु​सलमानों का महिमामंडन किया गया है। इसमें बताया गया है कि इस्लाम बुरा नहीं है। यह शांति और सहिष्णुता का धर्म है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,821FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe