Thursday, May 23, 2024
Homeराजनीतिनेपाल पार्टी के बाद तेलंगाना की जनसभा में पहुँचे राहुल गाँधी, थीम का कुछ...

नेपाल पार्टी के बाद तेलंगाना की जनसभा में पहुँचे राहुल गाँधी, थीम का कुछ अता-पता नहीं: वीडियो में पूछ रहे- बोलना क्या है

17 सेकंड की क्लिप में देखा जा सकता है कि राहुल गाँधी कुर्सी पर बैठे हुए बाकी के कॉन्ग्रेस नेताओं से पूछते हैं, “आज का मुख्य विषय क्या है … क्या बोलना है?"

कॉन्ग्रेस नेता राहुल गाँधी (Rahul Gandhi) नेपाल के दौरे से भारत वापस आ गए हैं। आते ही वो तेलंगाना के दो दिवसीय दौरे पर चले गए हैं। इस बीच उनका एक वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसमें वो कॉन्ग्रेस नेताओं से पूछते दिख रहे हैं कि ‘क्या बोलना है’। ये वीडियो तेलंगाना कॉन्ग्रेस नेताओं के साथ बैठक का है।

17 सेकंड की क्लिप में देखा जा सकता है कि राहुल गाँधी कुर्सी पर बैठे हुए बाकी के कॉन्ग्रेस नेताओं से पूछते हैं, “आज का मुख्य विषय क्या है … क्या बोलना है?” उल्लेखनीय है कि शुक्रवार (6 मई 2022) को तेलंगाना के दौरे पर पहुँचे राहुल गाँधी किसानों के मुद्दे पर वारंगल में एक जनसभा को संबोधित करने वाले हैं।

राहुल गांधी दो दिवसीय दौरे पर शुक्रवार को तेलंगाना पहुँचे जहाँ उनका वारंगल में किसानों के मुद्दों पर एक जनसभा को संबोधित करना था। बहरहाल इस पर तंज कसते हुए बीजेपी की आईटी सेल के अध्यक्ष अमित मालवीय ने कहा, “ऐसा तब होता है जब आप निजी विदेश यात्राओं और नाइटक्लबिंग के बीच राजनीति करते हैं।”

इस बीच एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने भी राहुल गाँधी के इस वीडियो पर कमेंट किया है। ओवैसी ने कहा, “जब आपको ये नहीं पता कि आप तेलंगाना की जनता को क्या संदेश देना चाहते हैं, तो वे आपका समर्थन क्यों करेंगे। ओवैसी ने राहुल गाँधी पर तंज किया कि आपका दिमाग खाली है। आप टीआरएस से कैसे लड़ेंगे। ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम में कॉन्ग्रेस साफ हो गई है।”

नेपाल में नाइटक्लब विवाद चर्चा में

गौरतलब है कि इससे पहले राहुल गाँधी नेपाल में एक नाइट क्लब में देखे गए थे। उनके साथ एक महिला भी थी, जिसको लेकर दावे किए गए कि वो चीनी राजदूत होउ यांकी हैं। काफी राजनीति के बाद राहुल के ही करीबी रेवंत रेड्डी ने भी कन्फर्म किया कि वो महिला चीनी राजदूत ही थी। दावा किया जाता है कि वो वहाँ अपनी एक दोस्त की शादी अटेंड करने के लिए गए थे। हालाँकि, उक्त महिला को लेकर एक नई जानकारी सामने आई कि वो भारतीय मूल की पुर्तगाली महिला थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मी लॉर्ड! भीड़ का चेहरा भी होता है, मजहब भी होता है… यदि यह सच नहीं तो ‘अल्लाह-हू-अकबर’ के नारों के साथ ‘काफिरों’ पर...

राजस्थान हाईकोर्ट के जज फरजंद अली 18 मुस्लिमों को जमानत दे देते हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि चारभुजा नाथ की यात्रा पर इस्लामी मजहबी स्थल के सामने हमला करने वालों का कोई मजहब नहीं था।

‘प्यार से माँगते तो जान दे देती, अब किसी कीमत पर नहीं दूँगी इस्तीफा’: स्वाति मालीवाल ने राज्यसभा सीट छोड़ने से किया इनकार

आम आदमी पार्टी की राज्यसभा सांसद स्वाति मालीवाल ने अब किसी भी हाल में राज्यसभा से इस्तीफा देने से इनकार कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -