मुसलमान हिंदुस्तान में कॉन्ग्रेस की रहम-ओ-करम पर नहीं हैं, हम यहाँ हैं तो अल्लाह की मेहरबानी से: ओवैसी

"मुसलमान हिंदुस्तान में है तो कॉन्ग्रेस की मेहरबानी या रहम ओ करम पर नहीं। हम यहाँ है तो बाबा साहेब के संविधान की वजह से और अल्लाह की मेहरबानी की वजह से।"

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहालदुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने कॉन्ग्रेस पार्टी पर आज फिर से (अक्टूबर 23, 2019) जोरदार निशाना साधा है। दरअसल, आज ओवैसी के नाम और तस्वीर के साथ उनकी पार्टी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से एक पोस्टर शेयर किया है। जिसमें लिखा है कि भारत में मुसलमान कॉन्ग्रेस की मेहरबानी से नहीं बल्कि बाबा साहेब और अल्लाह की मेहरबानी से है।

बुधवार (अक्टूबर 23, 2019) की दोपहर में शेयर हुए इस पोस्टर को हिन्दी के साथ-साथ उर्दू में भी शेयर किया गया है। इसमें ओवैसी के नाम के ऊपर उनका कथन स्पष्ट लिखा है, “मुसलमान हिंदुस्तान में है तो कॉन्ग्रेस की मेहरबानी या रहम ओ करम पर नहीं। हम यहाँ है तो बाबा साहेब के संविधान की वजह से और अल्लाह की मेहरबानी की वजह से।”

उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व भी ओवैसी कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी पर खुलेआम तंज कस चुके हैं। महाराष्ट्र में चुनाव प्रचार दौरान उन्होंने कहा था कि जब कोई जहाज डूबता है, तो जहाज का कैप्टन सभी को सुरक्षित निकाल लेता है, लेकिन राहुल गाँधी ऐसे कप्तान हैं जो कॉन्ग्रेस के जहाज को डूबता देख छोड़कर भाग गए।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

बता दें AIMIM के प्रमुख ओवैसी ने कुछ दिन पहले अयोध्या राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद के मामले में भी एक ट्वीट किया था। इसमें उन्होंने अपने ट्विटर अकॉउंट पर लिखा था, “मुझे नहीं पता क्या फैसला आएगा, लेकिन मैं चाहता हूँ फैसला ऐसा आए जिससे कानून के हाथ मजबूत हों। बाबरी मस्जिद को गिराया जाना कानून का मजाक था।”

इसके अलावा कुछ दिन पहले ओवैसी ने मोहन भागवत पर भी जमकर निशाना साधने का प्रयास किया था। उन्होंने कहा था, “भारत को हिंदू राष्ट्र बताकर यह मेरा इतिहास नहीं मिटा सकते। ये काम नहीं करेगा। वह यह नहीं कह सकते कि हमारी संस्कृति, आस्था पहचान हिंदुओं से जुड़ी है।” ओवैसी के अनुसार भारत न कभी हिन्दू राष्ट्र था, न है और न कभी बनेगा। इंशाल्लाह!!

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

सोनिया गाँधी
शिवसेना हिन्दुत्व के एजेंडे से पीछे हटने को तैयार है फिर भी सोनिया दुविधा में हैं। शिवसेना को समर्थन पर कॉन्ग्रेस के भीतर भी मतभेद है। ऐसे में एनसीपी सुप्रीमो के साथ उनकी आज की बैठक निर्णायक साबित हो सकती है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,489फैंसलाइक करें
23,092फॉलोवर्सफॉलो करें
121,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: