Thursday, May 30, 2024
Homeराजनीतिलंबे वक्त तक चलेगी बीजेपी की सरकार, कॉन्ग्रेस की दया के कारण जिंदा नहीं...

लंबे वक्त तक चलेगी बीजेपी की सरकार, कॉन्ग्रेस की दया के कारण जिंदा नहीं मुस्लिम: ओवैसी

"जब एक जहाज समुद्र के बीच में डूबता है, तो कप्तान सभी को सुरक्षित रूप से बाहर निकालता है, लेकिन राहुल गाँधी वो कप्तान हैं जो कॉन्ग्रेस को डूबते हुए देखकर उसे छोड़कर भाग जाते हैं।"

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव प्रचार में लगे ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी सोमवार (अक्टूबर 14, 2019) को ठाणे जिले के भिवंडी में पार्टी प्रत्याशी के लिए वोट माँगने पहुँचे। यहाँ ओवैसी ने अपने भाषण में कॉन्ग्रेस नेता राहुल गाँधी पर जमकर तंज कसा। उन्होंने राहुल गाँधी पर तीखा हमला करते हुए कहा कि जब कोई जहाज डूबता है, तो जहाज का कैप्टन सभी को सुरक्षित निकाल लेता है, लेकिन राहुल गाँधी ऐसे कप्तान हैं जो कॉन्ग्रेस के जहाज को डूबता देख छोड़कर भाग गए।

ओवैसी ने कहा, “जब एक जहाज समुद्र के बीच में डूबता है, तो कप्तान सभी को सुरक्षित रूप से बाहर निकालता है, लेकिन राहुल गाँधी वो कप्तान हैं जो कॉन्ग्रेस को डूबते हुए देखकर उसे छोड़कर भाग जाते हैं। 70 साल से हम मुस्लिम कॉन्ग्रेस की दया के कारण जीवित नहीं हैं, बल्कि हम तो संविधान और ईश्वर की कृपा से जीवित हैं।”

तीन तलाक को अपराध बनाने वाले कानून की आलोचना करते हुए ओवैसी ने कहा कि यह कानून सभी मुस्लिम महिलाओं के खिलाफ है। उन्होंने इस फैसले को गलत बताते हुए कहा कि भाजपा लंबे समय तक चलने वाली सरकार है और इसका मतलब यह है कि यह अंधेरा लंबे समय तक चलने वाला है। इस दौरान ओवैसी ने मुस्लिमों के लिए आरक्षण देने की बात करते हुए यह भी कहा कि जिस तरह से सरकार ने मराठों को आरक्षण दिया है, उसी तरह से मुस्लिमों को भी आरक्षण देना चाहिए।

गौरतलब है कि ओवैसी ने इससे पहले भी एक रैली के दौरान राहुल गाँधी पर निशाना साधते हुए कहा था, “ये पार्टी (कॉन्ग्रेस) न तो सुधरने वाली है और न ही संभलने वाली, इनकी हालत ऐसी है कि गिरे तो गिरे, मेरी टाँग तो ऊपर है।” उन्होंने कहा था कि देश की राजनीतिक तस्वीर से कॉन्ग्रेस पार्टी खत्म हो चुकी है। अब किसी भी सूरत में कॉन्ग्रेस की वापसी नहीं हो सकती है।

उल्लेखनीय है कि कुछ दिनों पहले मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान ने भी राहुल गाँधी पर इसी तरह की टिप्पणी करते हुए कहा था, “जब कोई जहाज डूबता है, तो उसका कैप्टन अंत तक डटा रहता है, लेकिन कॉन्ग्रेस ऐसा डूबता जहाज है, जिसका कप्तान (राहुल गाँधी) सबसे पहले भाग जाना चाहता है। वो पार्टी के डूबते जहाज को छोड़कर जाने वाले पहले शख्स हैं।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बाँटने की राजनीति, बाहरी ताकतों से हाथ मिला कर साजिश, प्रधान को तानाशाह बताना… क्या भारतीय राजनीति के ‘बनराकस’ हैं राहुल गाँधी?

पूरब-पश्चिम में गाँव को बाँटना, बाहरी ताकत से हाथ मिला कर प्रधान के खिलाफ साजिश, शांति समझौते का दिखावा और 'क्रांति' की बात कर अपने चमचों को फसलना - 'पंचायत' के भूषण उर्फ़ 'बनराकस' को देख कर आपको भारत के किस नेता की याद आती है?

33 साल पहले जहाँ से निकाली थी एकता यात्रा, अब वहीं साधना करने पहुँचे PM नरेंद्र मोदी: पढ़िए ईसाइयों के गढ़ में संघियों ने...

'विवेकानंद शिला स्मारक' के बगल वाली शिला पर संत तिरुवल्लुवर की प्रतिमा की स्थापना का विचार एकनाथ रानडे का ही था, क्योंकि उन्हें आशंका थी कि राजनीतिक इस्तेमाल के लिए बाद में यहाँ किसी की मूर्ति लगवाई जा सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -