Friday, June 21, 2024
Homeराजनीतिसमाजवादी पार्टी ने जेल में बंद आजम खान को रामपुर सीट से उम्मीदवार बनाया,...

समाजवादी पार्टी ने जेल में बंद आजम खान को रामपुर सीट से उम्मीदवार बनाया, बेटे अब्दुल्ला आजम को ​भी अखिलेश यादव ने दिया टिकट

वहीं सपा ने आजम खान के बेटे अब्दुल्ला आजम खान (Abdullah Azam Khan) को स्वार-टांडा से टिकट दिया गया है।

भाजपा और कॉन्ग्रेस के बाद समाजवादी पार्टी (SP) ने भी मंगलवार (18 जनवरी 2022) को उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (Uttar Pradesh Assembly Election) के लिए रामपुर जिले की पाँचों सीटों पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, जेल में बंद आजम खान (Azam Khan) रामपुर सीट से सपा के उम्मीदवार होंगे। वह जेल में रहकर ही चुनाव लड़ेंगे। आजम खान इस सीट से नौ बार विधायक बन चुके हैं।

वहीं आजम खान के बेटे अब्दुल्ला आजम खान (Abdullah Azam Khan) को स्वार-टांडा से अखिलेश यादव ने टिकट दिया गया है। इसके अलावा चमरौआ सीट से आजम खान के करीबी नसीर अहमद खान और मिलक सीट से सपा ने पूर्व विधायक विजय सिंह को प्रत्याशी बनाया है, जबकि बिलासपुर विधानसभा सीट से अमरजीत सिंह को प्रत्याशी बनाया गया है। यानी सपा ने पुराने चेहरों पर दांव खेलते हुए उन्हें एक बार फिर चुनावी मैदान में उतरने का मौका दिया है। इस जिले में दूसरे चरण में यानी 14 फरवरी को वोट डाला जाएगा। इसके लिए 21 जनवरी से नामांकन शुरू हो जाएँगे।

उत्तर प्रदेश की 403 सदस्यीय विधानसभा सीटों के लिए सात चरणों में मतदान होना है। 10 फरवरी को राज्य के पश्चिमी हिस्से के 11 जिलों की 58 सीटों पर मतदान के साथ इसकी शुरुआत होगी। दूसरे चरण में 14 फरवरी को राज्य की 55 सीटों पर मतदान होगा। तीसरे चरण में 59 सीटों पर, चौथे चरण में 60 सीटों, पाँचवें चरण में 60 सीटों, छठे चरण में 57 सीटों और सात मार्च को सातवें चरण में 54 सीटों पर मतदान होगा।

बता दें कि आजम खान पर कई केस दर्ज हैं और वह फिलहाल जेल में बंद हैं। पिछले साल यूपी की एक पुरानी मुस्लिम संस्था ने आरोप लगाया था कि आजम खान ने पुस्तकालय से सैकड़ों मूल्यवान पांडुलिपियाँ और किताबें चुरा ली हैं। सपा के शासन में आजम खान ने अपनी शक्ति का उपयोग करते हुए स्थानीय किसानों से जमीन, बकरियाँ और मवेशी भी चुरा लिए थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कर्नाटक की कॉन्ग्रेस सरकार जनता से उगाही का तरीका जानने के लिए खर्च कर रही ₹9.5 करोड़, अमेरिकी फर्म को दिया ‘आईडिया’ बताने का...

जनता से किस तरह से पैसे उगाहा जाए, उसका 'आइडिया' देने के लिए एक अमेरिकी कंपनी को भी काम पर लगाया गया है

दिल्ली की अदालत ने ED के दस्तावेज पढ़े बिना ही CM केजरीवाल को दे दी थी जमानत, कहा- हजारों पन्ने पढ़ने का समय नहीं:...

निचली अदालत ने ED द्वारा केजरीवाल की गिरफ्तारी को 'दुर्भावनापूर्ण' बताया और दोनों पक्षों के दस्तावेजों को पढ़े बिना ही जमानत दे दी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -