Tuesday, October 27, 2020
Home राजनीति बिहार चुनाव 2020: जमुई की 4 सीटों पर 'बंगला' और 'बागी' से उलझे समीकरण

बिहार चुनाव 2020: जमुई की 4 सीटों पर ‘बंगला’ और ‘बागी’ से उलझे समीकरण

जमुई जिले की 4 सीटों पर एनडीए को मोदी का आसरा। श्रेयसी सिंह के मैदान में होने से मुकाबला दिलचस्प। लोजपा निर्णायक फैक्टर।

बिहार के 14 जिलों की जिन 71 सीटों पर पहले चरण यानी 28 अक्टूबर को वोट डाले जाने हैं, उनमें जमुई की भी चार सीटें हैं। ये हैं: जमुई, सिकंदरा, झाझा और चकाई। 2015 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को इनमें से केवल एक सीट झाझा में सफलता मिली थी। दो सीटें (जमुई और चकाई) तत्कालीन महागठबंधन की साझेदार राजद और एक सीट (सिकंदरा) कॉन्ग्रेस के खाते में गई थी।

हालाँकि इस बार समीकरण बदले-बदले से दिख रहे हैं। इसके तीन बड़ी वजहें जमीन पर दिख रही हैं। पहली वजह, पिछला चुनाव राजद और कॉन्ग्रेस के साथ लड़ने वाली जदयू इस बार एनडीए में है। दूसरी, पिछले चुनाव में बीजेपी के साथ रही लोजपा अकेले लड़ रही है। ध्यान रहे कि यह वह इलाका है जहाँ लोजपा का प्रभाव है। बीते साल जमुई (सुरक्षित) लोकसभा सीट से लोजपा के चिराग पासवान ने महागठबंधन के प्रत्याशी को करीब 2.41 लाख मतों के अंतर से पराजित किया था। अंतिम नतीजों के लिहाज से जो तीसरा कारण निर्णायक साबित हो सकता है, वह है इस इलाके में प्रभाव रखने वाले पूर्व मंत्री नरेंद्र सिंह के बेटों का मैदान में होना।

जमुई की सीट से बीजेपी ने पूर्व केंद्रीय मंत्री दिवंगत दिग्विजय सिंह की शूटर बेटी श्रेयसी सिंह को मैदान में उतारकर इसे इस चरण की सबसे चर्चित सीट में बदल दिया है। श्रेयसी हाल ही में बीजेपी में शामिल हुईं थी। लेकिन उनकी पारिवारिक सियासी पृष्ठभूमि काफी मजबूत है। जमीन पर युवाओं और महिलाओं के बीच उनका आकर्षण भी जनसंपर्क के दौरान देखने को मिल रहा है।

2015 में चकाई छोड़ शेष तीन सीटों पर एनडीए और महागठबंधन के प्रत्याशी के बीच सीधा मुकाबला था। इस बार सभी सीटों पर त्रिकोणीय मुकाबला दिख रहा है। जीत और हार के बीच का फर्क इसी तीसरे कोण के प्रदर्शन से तय होगा।

जमुई सीट पर राजद ने मौजूदा विधायक विजय प्रकाश पर ही दाँव लगाया है। विजय इस सीट से कई बार लड़ चुके हैं। पहली बार फरवरी 2005 में जीते। उसके बाद लगातार दो बार बड़े अंतर से हारे। लेकिन 2015 में जदयू के साथ होने का लाभ उन्हें मिला और उन्होंने करीब आठ हजार वोटों के अंतर से यह सीट जीती। महागठबंधन की सरकार में वे मंत्री भी थे। उनकी पत्नी विनीता प्रकाश जुमई जिला परिषद की अध्यक्ष है, जबकि बड़े भाई जय प्रकाश नारायण यादव बगल की बाँका सीट से सांसद और केंद्र में मंत्री रह चुके हैं।

पिछली बार इस सीट से हारे बीजेपी के अजय प्रताप इस बार रालोसपा की तरफ से मैदान में हैं। पराजित होने से पहले अजय लगातार दो बार यहाँ से विधायक रहे थे। वे नरेंद्र सिंह के बेटे हैं। विजय और अजय अपनी-अपनी जीत के दावे कर रहे हैं, पर जमुई की कोई भी राजनीतिक चर्चा आजकल सिमट कर श्रेयसी सिंह पर ही आती है। उनके पक्ष में यहाँ से लोजपा के उम्मीदवार का नहीं होना भी है। इसे खुद श्रेयसी ने भी ऑपइंडिया के साथ बातचीत में स्वीकार किया।

ठीक इसके विपरीत झाझा की सीट पर लोजपा के उम्मीदवार का होना एनडीए की परेशानी बढ़ा रहा है। पिछला चुनाव यहाँ से बीजेपी के रवींद्र यादव जीते थे। उन्हें 65,537 वोट मिले थे। जदयू के दामोदर रावत 43,451 वोट पाकर दूसरे नंबर पर थे। इस बार यह सीट जदयू के खाते में गई है और दामोदर रावत एनडीए उम्मीदवार हैं। रवींद्र यादव लोजपा के चुनाव निशान ‘बंगला’ पर मैदान में हैं। लोजपा के उम्मीदवार जिन सीटों पर मजबूत बताए जा रहे हैं, उनमें से एक झाझा भी है। हालाँकि क्षेत्र के सुदूर ग्रामीण इलाकों में मतदान से करीब दो हफ्ते पहले भी अपने भ्रमण के दौरान हमने पाया कि मतदाताओं का एक वर्ग रवींद्र यादव की पार्टी और चुनाव निशान को लेकर भ्रम में हैं। राजद से राजेंद्र प्रसाद प्रत्याशी हैं। लेकिन जीत और हार के बीच का फैक्टर रवींद्र यादव हैं।

चकाई की सीट पर निर्णायक फैक्टर एक निर्दलीय उम्मीदवार हैं। इनका नाम सुमित सिंह है। ये भी नरेंद्र सिंह के बेटे हैं। पिछली बार बतौर निर्दलीय करीब 35 हजार वोट पाकर दूसरे नंबर पर रहे थे। करीब 47 हजार वोट पाकर राजद की सावित्री देवी जीती थीं। इस बार भी राजद ने उन्हें मौका दिया है। एनडीए में यह सीट भी जदयू के खाते में गई है और उसने संजय प्रसाद को उम्मीदवार बनाया है। यहाँ से 2015 में लोजपा के विजय कुमार सिंह 28,535 वोट पाकर तीसरे नंबर पर रहे थे। इस बार लोजपा ने संजय मंडल को मैदान में उतारा है। जाहिर है इस सीट पर भी लोजपा का अच्छा-खासा प्रभाव है। लेकिन सबसे ज्यादा चर्चा सुमित सिंह की है।

हमें स्थानीय लोगों ने बताया कि चुनाव हारने के बावजूद सुमित सिंह 5 साल इलाके में लगातार सक्रिय रहे। पिता के प्रभाव के अलावा उन्हें इसका फायदा होता दिख रहा है। वैसे यह कहना मुश्किल है त्रिकोणीय मुकाबले में जीत किसकी होगी पर यह बिहार की उन सीटों में से एक होगी जहाँ 10 नवंबर को नतीजे सामने आने के बाद जीत-हार बेहद मामूली अंतर से होगा।

सिकंदरा की सीट सुरक्षित है। यहाँ कॉन्ग्रेस से सुधाीर कुमार उर्फ बंटी चौधरी मैदान में हैं। 2015 में उन्हें करीब 59 हजार वोट मिले थे। दूसरे नंबर पर लोजपा के सुभाष पासवान करीब 51 हजार वोट लाकर रहे थे। बंटी इन पाँच सालों में अपने काम की बजाए अन्य वजहों से चर्चा में रहे हैं। इस बार लोजपा ने रविशंकर पासवान को उतारा है। एनडीए में यह सीट जीतनराम माँझी के ‘हम’ को मिली है। ‘हम’ पार्टी के प्रत्याशी प्रफुल्ल माँझी हैं। पिछली बार लोजपा के उम्मीदवार रहे सुभाष पासवान इस बार बागी हैं। शुरुआत में इस सुरक्षित सीट से खुद चिराग पासवान के भी विधानसभा चुनाव लड़ने की चर्चा थी। यहाँ लोजपा की मजबूत पैठ मानी जाती है। रामविलास पासवान के निधन के बाद पार्टी के पक्ष में मतदाताओं के एक वर्ग में सहानुभूति भी देखने को मिल रही है।

दिलचस्प यह है कि जमीन पर मतदाता सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिलने और भ्रष्टाचार को लेकर शिकायत कर रहे हैं। लॉकडाउन से जीवन प्रभावित होने का दुखड़ा सुनाते हैं। लेकिन हर चर्चा आखिर में उम्मीदवार के नाम पर ही खत्म हो रही है। जिले के जिस एकमात्र सीट पर बीजेपी की उम्मीदवार हैं, वहां लोजपा एनडीए के लिए एक्स फैक्टर है। अन्य तीन सीटों पर वह एनडीए की सँभावनाओं पर असर डाल सकती है।

जैसा कि स्थानीय पत्रकार मुरली दीक्षित कहते हैं, “कागज के समीकरण और जमीनी हकीकत अलग-अलग हैं। इसका बड़ा कारण जदयू का इस बार महागठबंधन से अलग होना और लोजपा का एनडीए से अलग होकर चुनाव लड़ना है। जदयू के एनडीए में आने से पिछली बार राजद और कॉन्ग्रेस को मिले वोट में से उसका आधार खिसकना तय है। इसी तरह जिन सीटों पर लोजपा लड़ रही है, उसका भी प्रभाव पड़ना तय है। साथ ही सुमित सिंह और अजय प्रताप जैसों की दावेदारी भी आसानी से खारिज नहीं की जा सकती।”

झारखंड से सटे इसे पिछड़े जिले में एक नाम जो हर जगह चर्चा में है, वह है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का। आश्चर्यजनक तौर पर जिन मतदाताओं को यह भी नहीं पता है कि राजद और जदयू अब साथ नहीं रहे वह भी नरेंद्र मोदी और बीजेपी के चुनाव चिह्न को पहचानते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत झा
देसिल बयना सब जन मिट्ठा

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जौनपुर की जामा मस्जिद में मिस्र शैली की नक्काशी है या अटाला देवी मंदिर के विध्वंस की छाप?

सुल्तान ने निर्देश दिए थे कि अटाला देवी मंदिर को तोड़कर उसकी जगह मस्जिद की नींव रखी जाए। 1408 ई में मस्जिद का काम पूरा हुआ। आज भी खंबों पर मूर्ति में हुई नक्काशी को ध्वस्त करने के निशान मिलते हैं।

‘मुस्लिम बन जा, निकाह कर लूँगा’: तौफीक बना रहा था निकिता पर धर्मांतरण का दबाव- मृतका के परिवार का दावा

तौफीक लड़की से कहता था, 'मुस्लिम बन जा हम निकाह कर लेंगे' मगर जब लड़की ने उसकी बात नहीं सुनी तो उसकी गोली मार कर हत्या कर दी।

बाबा का ढाबा स्कैम: वीडियो वायरल करने वाले यूट्यूबर पर डोनेशन के रूपए गबन करने के आरोप

ऑनलाइन स्कैमिंग पर बनाई गई वीडियो में लक्ष्य चौधरी ने समझाया कि कैसे लोग इसी तरह की इमोशनल वीडियो बना कर पैसे ऐंठते हैं।

अपहरण के प्रयास में तौफीक ने निकिता तोमर को गोलियों से भूना, 1 माह पहले ही की थी उत्पीड़न की शिकायत

तौफीक ने छात्रा पर कई बार दोस्ती और धर्मांतरण के लिए दबाव भी बनाया था। इससे इनकार करने पर तौफीक ने 2018 में एक बार निकिता का अपहरण भी कर लिया था।

केरल: 2 दलित नाबालिग बेटियों की यौन शोषण के बाद हत्या, आरोपित CPI(M) कार्यकर्ता बरी, माँ सत्याग्रह पर: पुलिस की भूमिका संदिग्ध

महिला का आरोप है कि इस केस को कमजोर करने वाले अधिकारियों का प्रमोशन हुआ। पुलिस ने सौतेले पिता को जिम्मेदारी लेने को भी कहा।

दाढ़ी कटाना इस्लाम विरोधी.. नौकरी छोड़ देते, शरीयत में ये गुनाह है: SI इंतसार अली को देवबंदी उलेमा ने दिया ज्ञान

दारुल उलूम देवबंद के उलेमा का कहना है कि दरोगा को दाढ़ी नहीं कटवानी चाहिए थी चाहे तो वह नौकरी छोड़ देते। शरीयत के हिसाब से उन्होंने बहुत बड़ा जुर्म किया है।

प्रचलित ख़बरें

IAS अधिकारी ने जबरन हवन करवाकर पंडितों को पढ़ाया ‘समानता का पाठ’, लोगों ने पूछा- मस्जिद में मौलवियों को भी ज्ञान देंगी?

क्या पंडितों को 'समानता का पाठ' पढ़ाने वाले IAS अधिकारी मौलवियों को ये पाठ पढ़ाएँगे? चर्चों में जाकर पादिरयों द्वारा यौन शोषण की आई कई खबरों का जिक्र करते हुए ज्ञान देंगे?

अपहरण के प्रयास में तौफीक ने निकिता तोमर को गोलियों से भूना, 1 माह पहले ही की थी उत्पीड़न की शिकायत

तौफीक ने छात्रा पर कई बार दोस्ती और धर्मांतरण के लिए दबाव भी बनाया था। इससे इनकार करने पर तौफीक ने 2018 में एक बार निकिता का अपहरण भी कर लिया था।

मदद की अपील अक्टूबर में, नाम लिख लिया था सितम्बर में: लोगों ने पूछा- सोनू सूद अंतर्यामी हैं क्या?

"मदद की गुहार लगाए जाने से 1 महीने पहले ही सोनू सूद ने मरीज के नाम की एक्सेल शीट तैयार कर ली थी, क्या वो अंतर्यामी हैं?" - जानिए क्या है माजरा।

जब रावण ने पत्थर पर लिटा कर अपनी बहू का ही बलात्कार किया… वो श्राप जो हमेशा उसके साथ रहा

जानिए वाल्मीकि रामायण की उस कहानी के बारे में, जो 'रावण ने सीता को छुआ तक नहीं' वाले नैरेटिव को ध्वस्त करती है। रावण विद्वान था, संगीत का ज्ञानी था और शिवभक्त था। लेकिन, उसने स्त्रियों को कभी सम्मान नहीं दिया और उन्हें उपभोग की वस्तु समझा।

नवरात्र में ‘हिंदू देवी’ की गोद में शराब और हाथ में गाँजा, फोटोग्राफर डिया जॉन ने कहा – ‘महिला आजादी दिखाना था मकसद’

“महिलाओं को देवी माना जाता है लेकिन उनके साथ किस तरह का व्यवहार किया जाता है? उनके व्यक्तित्व को निर्वस्त्र किया जाता है।"

एक ही रात में 3 अलग-अलग जगह लड़कियों के साथ छेड़छाड़ करने वाला लालू का 2 बेटा: अब मिलेगी बिहार की गद्दी?

आज से लगभग 13 साल पहले ऐसा समय भी आया था, जब राजद सुप्रीमो लालू यादव के दोनों बेटों तेज प्रताप और तेजस्वी यादव पर छेड़खानी के आरोप लगे थे।
- विज्ञापन -

निकिता तोमर हत्याकांड: तौफीक के बाद अब रेवान भी गिरफ्तार, भाई ने कहा- अगर मुस्लिम की बेटी होती तो सारा प्रशासन यहाँ होता

निकिता तोमर की माँ ने कहा है कि जब तक दोषियों का एनकाउंटर नहीं किया जाता, तब तक वो अपनी बेटी का अंतिम-संस्कार नहीं करेंगी।

जम्मू-कश्मीर, लद्दाख में अब कोई भी खरीद सकेगा जमीन, नहीं छिनेगा बेटियों का हक़: मोदी सरकार का बड़ा फैसला

जम्मू-कश्मीर में अब देश का कोई भी व्यक्ति जमीन खरीद सकता है और वहाँ पर बस सकता है। गृह मंत्रालय द्वारा मंगलवार को इसके तहत नया नोटिफिकेशन जारी किया गया है।

जौनपुर की जामा मस्जिद में मिस्र शैली की नक्काशी है या अटाला देवी मंदिर के विध्वंस की छाप?

सुल्तान ने निर्देश दिए थे कि अटाला देवी मंदिर को तोड़कर उसकी जगह मस्जिद की नींव रखी जाए। 1408 ई में मस्जिद का काम पूरा हुआ। आज भी खंबों पर मूर्ति में हुई नक्काशी को ध्वस्त करने के निशान मिलते हैं।

₹1.70 लाख करोड़ की गरीब कल्याण योजना से आत्मनिर्भर बन रहे रेहड़ी-पटरी वाले: PM मोदी ने यूपी के ठेले वालों से किया संवाद

पीएम 'स्वनिधि योजना' में ऋण आसानी से उपलब्ध है और समय से अदायगी करने पर ब्याज में 7% की छूट भी मिलेगी। अगर आप डिजिटल लेने-देन करेंगे तो एक महीने में 100 रुपए तक कैशबैक के तौर पर वापस पैसे आपके खाते में जमा होंगे।

‘मुस्लिम बन जा, निकाह कर लूँगा’: तौफीक बना रहा था निकिता पर धर्मांतरण का दबाव- मृतका के परिवार का दावा

तौफीक लड़की से कहता था, 'मुस्लिम बन जा हम निकाह कर लेंगे' मगर जब लड़की ने उसकी बात नहीं सुनी तो उसकी गोली मार कर हत्या कर दी।

मुंगेर में दुर्गा पूजा विसर्जन: पुलिस-पब्लिक भिडंत में युवक की मौत, SP लिपि सिंह ने कहा- ‘बदमाशों’ ने चलाई गोलियाँ

मुंगेर एसपी और JDU सांसद RCP सिंह की बेटी लिपि सिंह ने दावा किया है कि प्रतिमा विसर्जन के दौरान असामाजिक तत्वों ने पुलिस पर पथराव किया और गोलीबारी की।

गाँव में 1 मुस्लिम के लिए भी बड़ा कब्रिस्तान, हिन्दू हैं मेड़ किनारे अंतिम संस्कार करने को विवश: साक्षी महाराज

साक्षी महाराज ने याद दिलाया कि शमसान और कब्रिस्तान के इस मुद्दे को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी उठाया था।

पेशावर: मदरसे में कुरान पढ़ाते वक़्त बम धमाका- 7 की मौत 72 घायल, अधिकतर बच्चे

जहाँ बम धमाका हुआ, स्पीन जमात मस्जिद है, जो मदरसे के रूप में भी काम करता है। मस्जिद में जहाँ नमाज पढ़ी जाती थी, उस जगह को खासा नुकसान पहुँचा है।

बाबा का ढाबा स्कैम: वीडियो वायरल करने वाले यूट्यूबर पर डोनेशन के रूपए गबन करने के आरोप

ऑनलाइन स्कैमिंग पर बनाई गई वीडियो में लक्ष्य चौधरी ने समझाया कि कैसे लोग इसी तरह की इमोशनल वीडियो बना कर पैसे ऐंठते हैं।

अपहरण के प्रयास में तौफीक ने निकिता तोमर को गोलियों से भूना, 1 माह पहले ही की थी उत्पीड़न की शिकायत

तौफीक ने छात्रा पर कई बार दोस्ती और धर्मांतरण के लिए दबाव भी बनाया था। इससे इनकार करने पर तौफीक ने 2018 में एक बार निकिता का अपहरण भी कर लिया था।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
79,331FollowersFollow
338,000SubscribersSubscribe