Monday, November 29, 2021
Homeराजनीति'पहले अपने बेटा-बेटी को बॉर्डर पर भेजो': पाक PM इमरान खान को 'बड़ा भाई'...

‘पहले अपने बेटा-बेटी को बॉर्डर पर भेजो’: पाक PM इमरान खान को ‘बड़ा भाई’ बताने पर बरसे गंभीर, मालवीय बोले- राहुल गाँधी ने इसीलिए चुना

सिद्धू के बयान पर कॉन्ग्रेस नेता मनीष तिवारी ने कहा कि इमरान खान किसी के भी बड़े भाई हो सकते हैं, लेकिन भारत के लिए वह ऐसे शख्स हैं, जो पंजाब में हथियार और नशीले पदार्थ भेजता है और जम्मू-कश्मीर में आतंकवादी। उन्होने कहा, "क्या हम पुंछ में अपने जवानों की वीरगति को इतनी जल्दी भूल गए?"

पंजाब कॉन्ग्रेस के प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू अपने पाकिस्तान प्रेम के चलते एक बार फिर से विवादों में घिर गए हैं। करतारपुर गुरुद्वारा के दौरे पर गए नवजोत सिंह सिद्धू ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की तारीफ करते हुए उन्हें ‘बड़ा भाई’ बताया है। इसको लेकर पूर्वी दिल्ली से बीजेपी सांसद गौतम गंभीर और भाजपा आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने सिद्धू पर निशाना साधा है। गंभीर ने कहा, “पहले अपने बेटा या बेटी को बॉर्डर पर भेजो, उसके बाद किसी आतंकी देश के मुखिया को बड़ा भाई बोलो।”

हालाँकि, गौतम गंभीर ने सीधे तौर पर तो किसी का भी नाम नहीं लिया, लेकिन उन्होंने इशारों में नवजोत सिंह सिद्धू पर निशाना साधा है। इस मामले में बीजेपी के आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने भी सिद्धू पर जुबानी हमला किया है। मालवीय ने नवजोत सिद्धू को कॉन्ग्रेस नेता राहुल गाँधी का करीबी बताया।

मालवीय ने ट्वीट किया, “राहुल गाँधी के फेवरेट नवजोत सिंह सिद्धू ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को ‘बड़ा भाई’ कहा। पिछली बार उन्होंने पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा को गले लगाकर उनकी तारीफ की थी। इसमें किसी को आश्चर्य है कि गाँधी के भाई-भतीजों ने दिग्गज अमरिंदर सिंह की जगह पाकिस्तान से प्रेम करने वाले नवजोत सिंह सिद्धू को क्यों चुना?”

मनीष तिवारी ने भी किया विरोध

नवजोत सिंह सिद्धू के इमरान खान को बड़ा भाई बताने पर कॉन्ग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री मनीष तिवारी ने भी नाराजगी जताई। उन्होंने सिद्धू को पाक द्वारा पोषित आतंकवाद का हवाला दिया और पुंछ की घटना याद दिलाई।

तिवारी ने ट्वीट किया, “इमरान खान किसी के भी बड़े भाई हो सकते हैं, लेकिन भारत के लिए वह पाक डीप स्टेट आईएसआई-मिलिट्री गठबंधन का वह बिल्ली का पंजा हैं, जो पंजाब में हथियार और नशीले पदार्थ भेजता है और जम्मू-कश्मीर में एलओसी के पार हर दिन आतंकवादियों को भेजता है। क्या हम पुंछ में अपने जवानों की वीरगति को इतनी जल्दी भूल गए?”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जिनके घर शीशे के होते हैं, वे दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते’: केजरीवाल के चुनावी वादों पर बरसे सिद्धू, दागे कई सवाल

''अपने 2015 के घोषणापत्र में 'आप' ने दिल्ली में 8 लाख नई नौकरियों और 20 नए कॉलेजों का वादा किया था। नौकरियाँ और कॉलेज कहाँ हैं?"

‘शरजील इमाम ने किसी को भी हथियार उठाने या हिंसा करने के लिए नहीं कहा, वो पहले ही 14 महीने से जेल में’: इलाहाबाद...

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने अपनी टिप्पणी में कहा कि शरजील इमाम ने किसी को भी हथियार उठाने या हिंसा करने के लिए नहीं कहा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,506FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe