Sunday, July 21, 2024
Homeराजनीतिउत्तराखंड में 59 नामों का BJP ने किया ऐलान, खटीमा से लड़ेंगे CM धामी:...

उत्तराखंड में 59 नामों का BJP ने किया ऐलान, खटीमा से लड़ेंगे CM धामी: गोवा में पर्रिकर के पुत्र को टिकट नहीं, AAP-शिवसेना ने डाले डोरे

गोवा के चुनाव प्रभारी देवेंद्र फणनवीस ने कहा, ‘‘मनोहर पर्रिकर जी का परिवार हमारा परिवार है। उत्पल पर्रिकर से चर्चा हुई है। हमने उन्हें दो विकल्प दिए हैं। उन्होंने पहले विकल्प को खारिज कर दिया। दूसरे विकल्प पर उनसे चर्चा हो रही है। हम समझते हैं कि वह मान जाएँगे।’’

उत्तराखंड विधानसभा चुनावों के लिए भाजपा ने गुरुवार (20 जनवरी 2022) को उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की। इस सूची में प्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्वाचन क्षेत्र की घोषणा की गई है। वहीं, गोवा में जारी की गई भाजपा उम्मीदवारों की सूची में प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के बेटे उत्पल पर्रिकर को जगह नहीं मिली है। इसके बाद आम आदमी पार्टी और शिवसेना उन्हें अपनी ओर खींचने के लिए डोरे डाल रही है।

सबसे पहले बात करते हैं उत्तराखंड की। उत्तराखंड के कुल 70 विधानसभा सीटों में 59 विधानसभा सीटों के लिए उम्मीदवारों की सूची जारी की गई है। इसमें मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी खटीमा और सतपाल महाराज चौबट्टाखाल विधानसभा सीट से चुनाव लड़ेंगे। प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक हरिद्वार से चुनाव लड़ेंगे। वहीं, चार साल तक प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे त्रिवेंद्र सिंह रावत ने टिकटों के ऐलान से पहले ही चुनाव नहीं लड़ने का ऐलान कर दिया था।

गोवा में 14 फरवरी को एक ही चरण में होने वाले मतदान के लिए भाजपा ने अपने उम्मीदवारों की पहली सूची जारी कर दी है। प्रदेश की कुल 40 सीटों में से 34 सीटों के लिए नामों की घोषणा की गई है। इनमें से 9 उम्मीदवार ईसाई समुदाय से ताल्लुक रखते हैं। पहली सूची में छह विधायकों के टिकट कटे हैं, जबकि प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और दिवंगत भाजपा नेता मनोहर पर्रिकर के बेटे उत्पल पर्रिकर का नाम इस सूची में शामिल नहीं है। उत्पल पणजी सीट से दावेदार थे।

बता दें कि मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद पणजी सीट पर हुए उप-चुनाव में कॉन्ग्रेस के अतनासियो मोंटेसेरेट ने जीत दर्ज की थी। बाद में वह भाजपा में शामिल हो गए थे और इस बार भी भाजपा ने उन पर विश्वास जताते हुए पणजी सीट से अपना उम्मीदवार बनाया है।

इस मुद्दे पर गोवा के चुनाव प्रभारी देवेंद्र फणनवीस ने कहा, ‘‘मनोहर पर्रिकर जी का परिवार हमारा परिवार है। उत्पल पर्रिकर से चर्चा हुई है। हमने उन्हें दो विकल्प दिए हैं। उन्होंने पहले विकल्प को खारिज कर दिया। दूसरे विकल्प पर उनसे चर्चा हो रही है। हम समझते हैं कि वह मान जाएँगे।’’

उत्पल पर्रिकर को टिकट नहीं मिलने पर आम आदमी पार्टी (आप) और शिवसेना ने राजनीति शुरू कर दी है। शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा, “यह उत्पल पर्रिकर पर निर्भर है कि वह गोवा विधानसभा चुनाव लड़ें या नहीं। गोवा में बीजेपी को स्थापित करने में उनके परिवार का बहुत बड़ा योगदान है। अगर वह स्वतंत्र रूप से चुनाव लड़ते हैं तो हम उनका समर्थन करेंगे।”

उधर प्रदेश में अपनी जमीन तलाश रही आम आदमी पार्टी ने कहा उत्पल को पार्टी में शामिल होकर चुनाव लड़ने का खुला ऑफर दे दिया है। आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कहा, “उत्पल जी (दिवंगत पूर्व सीएम मनोहर पर्रिकर के बेटे उत्पल पर्रिकर) का आप में शामिल होने और पार्टी की टिकट पर चुनाव लड़ने के लिए स्वागत है।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-370 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

हर दिन 14 घंटे करो काम, कॉन्ग्रेस सरकार ला रही बिल: कर्नाटक में भड़का कर्मचारियों का संघ, पहले थोपा था 75% आरक्षण

आँकड़े कहते हैं कि पहले से ही 45% IT कर्मचारी मानसिक समस्याओं से जूझ रहे हैं, 55% शारीरिक रूप से दुष्प्रभाव का सामना कर रहे हैं। नए फैसले से मौत का ख़तरा बढ़ेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -