Thursday, July 18, 2024
Homeराजनीतिबंगाल पुलिस को हाईकोर्ट का झटका: हिन्दुओं की यात्रा को मिली अनुमति, VHP-बजरंग दल...

बंगाल पुलिस को हाईकोर्ट का झटका: हिन्दुओं की यात्रा को मिली अनुमति, VHP-बजरंग दल करेंगे ‘शौर्य जागरण’ का शंखनाद

"लोगों को यह याद दिलाना ज़रूरी है कि 15 अगस्त 1947 की आजादी के पीछे लड़ाइयों, विद्रोहों और आंदोलनों का लंबा इतिहास रहा है, जिसे भूलना नहीं चाहिए।"

पश्चिम बंगाल पुलिस ने विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल की राष्ट्रव्यापी यात्रा के पश्चिम बंगाल हिस्से को मंजूरी नहीं दी थी, जिसके बाद हिंदू संगठनों ने कलकत्ता हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी। कलकत्ता हाई कोर्ट ने पूरे मामले की सुनवाई की और विहिप-बजरंग दल के ‘शौर्य जागरण यात्रा’ को मंजूरी दे दी।

पश्चिम बंगाल पुलिस की ओर से राज्य के कुछ जिलों में रैली को आगे बढ़ाने की अनुमति देने से इनकार करने के बाद वीएचपी और बजरंग दल के सदस्यों द्वारा तीन अलग-अलग याचिकाएँ दायर की गईं। राष्ट्रव्यापी रैली 4 अक्टूबर से 8 अक्टूबर तक पश्चिम बंगाल से गुजरने वाली है। वकील अनामिका पांडे और फिरोज एडुल्जी के माध्यम से विहिप और बजरंग दल के तीन सदस्यों चंदन कैटी, अमित प्रमाणिक और देबजीत भर द्वारा याचिकाएँ दायर की गईं।

याचिकाकर्ताओं ने पश्चिम बंगाल पुलिस की ओर से अनुमति न मिलने के बारे में हाई कोर्ट में अपनी बात रखी। इन संगठनों की तरफ से कहा गया, “इस यात्रा का उद्देश्य ‘हिंदू धर्म’ से संबंधित विभिन्न मुद्दों के बारे में जागरूकता फैलाना है। इसका उद्देश्य विभिन्न स्वतंत्रता सेनानियों को सम्मानित करना भी है, जिन्होंने हिंदू धर्म और हिंदू संस्कृति की रक्षा करते हुए देश के लिए अपना जीवन लगा दिया। यह धार्मिक और ऐतिहासिक महत्व वाले विभिन्न स्थलों से होकर गुजरेगा। इस यात्रा के दौरान किसी तरह का अस्त्र-शस्त्र नहीं रहेगा।”

आजादी की लड़ाई के बारे में जागरुकता पैदा करना है लक्ष्य

याचिकाकर्ताओं ने हाईकोर्ट से कहा है कि यात्रा में वीएचपी और बजरंग दल का कोई भी सदस्य हथियार नहीं रखेगा। याचिकाकर्ताओं ने कहा कि नागरिकों के बीच राष्ट्रवाद की अलख जगाने के लिए इस यात्रा का आयोजन किया जा रहा है। अपनी दलील में याचिकाकर्ताओं ने कहा, “लोगों को यह याद दिलाना ज़रूरी है कि 15 अगस्त 1947 की आजादी के पीछे लड़ाइयों, विद्रोहों और आंदोलनों का लंबा इतिहास रहा है, जिसे भूलना नहीं चाहिए।” इस बीच, पश्चिम बंगाल में इस यात्रा की शुरुआत हो गई है।

विहिप ने अपने एक्स (पूर्व में ट्विटर) हैंडल पर इस यात्रा के पश्चिम बंगाल में शुरू होने की जानकारी दी गई है। पोस्ट में लिखा गया है, “आज उत्तर बंगाल प्रांत के अलीपुरद्वार जिले के जयगांव प्रखंड भूटान बॉर्डर से बजरंग दल शौर्य जागरण यात्रा का शुभारंभ विश्व हिन्दू परिषद् के अखिल भारतीय संगठन महामंत्री श्री विनायक राव देशपांडे जी के द्वारा हुआ। इस यात्रा में हजारों की संख्या में नवयुवक और मातृ शक्ति ने हिस्सा लिया।”

कलकत्ता हाई कोर्ट में याचिकाकर्ताओं ने कहा है कि इस ‘शौर्य जागरण यात्रा’ में भारी भीड़ नहीं बुलाई जाएगी, बल्कि इसमें सिर्फ 3 ट्रक और करीब 20 मोटरसाइकिलें ही शामिल होंगी। इस दौरान विहिप और बजरंग दल के अधिकतम 200 सदस्य ही मौजूद होंगे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -