Wednesday, September 22, 2021
Homeराजनीतिअब नहीं रुलाएगा प्याज: निर्यात पर रोक, केंद्र ने राज्यों से कहा- जितनी जरूरत...

अब नहीं रुलाएगा प्याज: निर्यात पर रोक, केंद्र ने राज्यों से कहा- जितनी जरूरत हो ले जाएँ

महाराष्ट्र जैसे उत्पादक राज्यों के बाढ़ से प्रभावित होने के कारण प्याज की कीमतों में लगातार इजाफा हो रहा था। कीमतों में कमी लाने के लिए केंद्र सरकार एक साथ कई विकल्पों पर काम कर रही है।

प्याज की बढ़ती कीमतों पर अंकुश लगाने के लिए केन्द्र सरकार ने बड़ा फ़ैसला लिया है। केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय ने प्याज की निर्यात नीति में अगले आदेश तक संशोधन किया है। सरकार ने प्याज की सभी किस्मों के निर्यात पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी है।

इससे पहले, केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने कहा था कि सरकार प्याज की क़ीमतों में कमी लाने की पूरी कोशिश कर रही है। उन्होंने बताया था कि केंद्र ने अभी तक त्रिपुरा को 1,850 टन, हरियाणा को 2,000 टन और आंध्र प्रदेश को 960 टन प्याज तत्काल 15.59 रुपए/ किलो की दर से मुहैया करा दिया है। ये अधिकतम 23.90 रुपए/किलो की दर से उपभोक्ता को मुहैया कराएंगे। पासवान ने कहा था कि दिल्ली सरकार ने 28 सितंबर से 5 दिनों के लिए प्रतिदिन 100 टन प्याज की माँग की है, जो पूरी की जाएगी। इसके अलावा, भी जिस राज्य को जितनी जरूरत होगी उतना प्याज मुहैया कराया जाएगा।

उन्होंने जानकारी दी थी कि 50 हज़ार टन का बफर स्टॉक उपलब्ध है, इससे मंडियों में आवक को बढ़ाया जा रहा है। देश के कई शहरों में प्याज का फुटकर दाम 70 से 80 रुपए प्रति किलो पहुँच गया है। इस बात को ध्यान में रख कर केंद्र सरकार प्याज व्यापारियों के भंडारण की सीमा तय करने पर विचार में है।

बुधवार (25 सितंबर) को जारी किए उपभोक्ता मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, दिल्ली, मुंबई और लखनऊ जैसे शहरों में खुदरा प्याज का मूल्य 60 रुपए किलो है। वहीं, मुंबई में 58 रुपए किलो, चेन्नई में 42 रुपए किलो और कानपुर में 70 से 80 रुपए किलो में प्याज का मूल्य है।

प्याज की आसमान छूती क़ीमतों के संबंध में उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने शनिवार (28 सितंबर) को प्रदेश में प्याज की कीमत में हो रहे इजाफे को रोकने लिए विशेष प्रयास करने को कहा था। उन्होंने कहा था कि बिचौलिए किसी भी तरह से प्याज को अनाधिकृत रूप से स्टोर न करने पाएँ।

ग़ौरतलब है कि महाराष्ट्र जैसे प्याज उत्पादक राज्यों के बाढ़ से प्रभावित होने के कारण आपूर्ति बाधित हुई है। इसकी वजह से पिछले एक महीने से प्याज की क़ीमत में लगातार इज़ाफ़ा हो रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘साड़ी स्मार्ट ड्रेस नहीं’- दिल्ली के अकीला रेस्टोरेंट ने महिला को रोका: ‘ओछी मानसिकता’ पर भड़के लोग, वीडियो वायरल

अकीला रेस्टोरेंट के स्टाफ ने महिला से कहा कि चूँकि साड़ी स्मार्ट आउटफिट नहीं है इसलिए वो उसे पहनने वाले लोगों को अंदर आने की अनुमति नहीं देते।

मौलाना कलीम सिद्दीकी को यूपी ATS ने मेरठ से किया गिरफ्तार, अवैध धर्मांतरण के लिए की हवाला के जरिए फंडिंग

यूपी पुलिस ने बताया कि मौलाना जामिया इमाम वलीउल्लाह ट्रस्ट चलाता है, जो कई मदरसों को फंड करता है। इसके लिए उसे विदेशों से भारी फंडिंग मिलती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,707FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe