Tuesday, July 23, 2024
Homeराजनीति'दारू में पानी मिलाएँगे... एक बार में गट-गट कर नहीं पीना है': कार्यक्रम नशा...

‘दारू में पानी मिलाएँगे… एक बार में गट-गट कर नहीं पीना है’: कार्यक्रम नशा मुक्ति का, छत्तीसगढ़ के शिक्षा मंत्री ने शराब पीने के बाँटे टिप्स

कार्यक्रम के बाद शिक्षा मंत्री टेकाम से पत्रकारों ने सड़कों की हालत को लेकर सवाल किया। इस पर टेकाम ने कहा कि खराब सड़क के कारण हादसे कम होते हैं। जब सड़क चकाचक बन जाती है तो हादसे बढ़ जाते हैं।

छत्तीसगढ़ के कॉन्ग्रेस सरकार (Congress Government, Chhattisgarh) में स्कूली शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय टेकाम ने नशामुक्ति अभियान से संबंधित एक कार्यक्रम में शराब की महिमा की जमकर बखान किया। उन्होंने शराब पीने के तरीके भी लोगों को बताए। साथ ही हरिवंश राय बच्चन की ‘मधुशाला’ का जिक्र किया।

हरिशवंश राय बच्चन की प्रसिद्ध कविता का जिक्र करते हुए टेकाम ने कहा, “मंदिर-मस्जिद झगड़ा कराते हैं, लेकिन मधुशाला एक कराती है।” उन्होंने आगे कहा, “आत्म-नियंत्रण होना चाहिए। हम भी चुनाव-सुनाव में उपयोग कर लेते हैं।”

मंत्री टेकाम का एक वीडियो भी सामने आया है। इस वीडियो में शिक्षा मंत्री कह रहे हैं, मैं एक बार एक मीटिंग में गया था। वहाँ एक व्यक्ति दारू के पक्ष बोल रहा था और एक विपक्ष में बोल रहा था। दारू की क्या-क्या हानि हो सकती है, क्या-नुकसान हो सकते हैं। एक पक्ष बोला कि दारू के क्या-क्या फायदे हो सकते हैं।”

उन्होंने आगे कहा, “दारू का सब उपयोग करते हैं। हम भी कभी-कभी करते हैं। चुनाव-सुनाव में इसका उपयोग करते हैं। दारू में अगर पानी मिलाएँगे तो वह निदान का काम करती है। उसमें डाइल्यूशन होना चाहिए। कितना डाइल्यूशन हो? जितना हो सकता है, उतना हो। उसके बाद ड्यूरेशन होना चाहिए। ये नहीं कि एक बार में ही गट-गट कर मार दिए।”

शिक्षा मंत्री प्रेमसाय टेकाम बलरामपुर में बुधवार (31 अगस्त 2022) को नशा मुक्ति अभियान के एक कार्यक्रम में गए थे। उस कार्यक्रम में स्कूली बच्चे भी शामिल हुए थे। वहाँ मंत्री ने दारू पीने के नुकसान बताने की जगह, उसके पीने के फायदे और पीने के तरीके बताने लगे।

जिस समय शिक्षा मंत्री दारू का बखान कर रहे थे, उस समय मंच पर जिले के एसपी और डीएम भी मौजूद थे और वे मुस्कुराते दिखे। मंत्री टेकाम का यह वीडियो सोशल मीडिया पर भी खूब वायरल हो रहा है। सोशल मीडिया यूजर्स मंत्री जी का जमकर मजाक उड़ा रहे हैं।

कार्यक्रम के बाद शिक्षा मंत्री से पत्रकारों ने सड़कों की हालत को लेकर सवाल किया। इस पर टेकाम ने कहा कि खराब सड़क के कारण हादसे कम होते हैं। जब सड़क अच्छी बन जाती है तो हादसे बढ़ जाते हैं।

उन्होंने कहा, “प्रयास है कि खराब सड़कें जल्द बन जाएँ, लेकिन जहाँ खराब सड़कें होती हैं, वहाँ सड़क दुर्घटना कम होती है। वहाँ लोगों की मृत्यु कम होती है। जहाँ चकाचक सड़कें बन जाती हैं, वहाँ हादसे ज़्यादा होते हैं।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -