Thursday, July 29, 2021
Homeराजनीतिबंगाल: वर्चस्व को लेकर टीएमसी के दो गुटों में बमबाजी, गोली लगने से राहगीर...

बंगाल: वर्चस्व को लेकर टीएमसी के दो गुटों में बमबाजी, गोली लगने से राहगीर की मौत

इससे पहले मुर्शिदाबाद जिले के तलताली इलाके में नदी तट पर कब्जे को लेकर टीएमसी के तीन कार्यकर्ता मारे गए थे। प्रतिद्वंद्वी गुट पर हमले के बम बनाते वक्त हुए धमाके में मिंटू मंडल, ननटू मोला और छवि शेख की मौत हो गई थी।

पश्चिम बंगाल में दिनोंदिन सत्ताधारी तृणमूल कॉन्ग्रेस के कार्यकर्ताओं का संघर्ष भी बढ़ता जा रहा है। ऐसी ही एक घटना में 26 साल के शेख इन्सान के मारे जाने की है। वह वीरभूम के निकट सांईथिया इलाके के कल्याणपुर गाँव में वर्चस्व को लेकर टीएमसी के दो गुटों की बमबाजी और गोलीबारी का शिकार हो गया। कुछ लोगों के जख्मी होने की भी खबर है। तनाव को देखते हुए गॉंव में पुलिस बल की तैनाती की गई है।

दरअसल, कल्याणपुर गाँव में वर्चस्व को लेकर लम्बे समय से तृणमूल के स्थानीय अध्यक्ष और पार्टी के एक जिलास्तरीय नेता के बीच संघर्ष चल रहा है। सोमवार रात दोनों गुटों के लोगों का एक-दूसरे से आमना-सामना हो गया। दोनों पक्षों के बीच कहासुनी से मामला सीधे बमबाजी और गोलीबारी तक पहुँच गया।

तृणमूल के दोनों गुटों के बीच हुए इस ख़ूनी संघर्ष का दौर सुबह तक चला। इस दौरान रास्ते से गुजर रहे शेख इन्सान को तीन गोलियाँ लगीं। घायल शेख को स्थानीय लोग अस्पताल ले गए। अस्पताल पहुँचते ही डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। सूचना मिलने पर पहुँची पुलिस ने किसी तरह हालात पर काबू पाया।

मृतक शेख के परिवार का दावा है कि उसका सम्बन्ध किसी भी राजनीतिक दल से नहीं था। उन्होंने आरोप लगाया कि डालिम, ताहिरुल नाम के व्यक्तियों ने जानबूझकर शेख को गोली मार दी। इस घटना के बाद से ही मृतक के परिजनों में काफी रोष है। उन्होंने सभी आरोपितों को कठोर सजा देने की माँग की है। इस घटना को भाजपा ने तृणमूल कॉन्ग्रेस की गुटबाजी बताया तो तृणमूल के उपाध्यक्ष अभिजीत सिंह ने भाजपा के आरोप को निराधार करार देते हुए कहा कि असामाजिक तत्वों की हरकत के चलते राह चलते युवक की जान चली गई।

गौरतलब है कि सोमवार को ही ऐसी एक अन्य घटना में टीएमसी के तीन कार्यकर्ताओं के परखच्चे उड़ गए थे। मुर्शिदाबाद जिले के तलताली इलाके में नदी तट पर कब्जे को लेकर पार्टी के दो गुटों के बीच संघर्ष के कारण यह घटना घटी। बताया जाता है कि प्रतिद्वंद्वी गुट पर हमले के बम बनाते वक्त हुए धमाके में मिंटू मंडल, ननटू मोला और छवि शेख की मौत हो गई।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘पूरे देश में खेला होबे’: सभी विपक्षियों से मिलकर ममता बनर्जी का ऐलान, 2024 को बताया- ‘मोदी बनाम पूरे देश का चुनाव’

टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने विपक्ष एकजुटता पर बात करते हुए कहा, "हम 'सच्चे दिन' देखना चाहते हैं, 'अच्छे दिन' काफी देख लिए।"

कराहते केरल में बकरीद के बाद विकराल कोरोना लेकिन लिबरलों की लिस्ट में न ईद हुई सुपर स्प्रेडर, न फेल हुआ P विजयन मॉडल!

काँवड़ यात्रा के लिए जल लेने वालों की गिरफ्तारी न्यायालय के आदेश के प्रति उत्तराखंड सरकार के जिम्मेदारी पूर्ण आचरण को दर्शाती है। प्रश्न यह है कि हम ऐसे जिम्मेदारी पूर्ण आचरण की अपेक्षा केरल सरकार से किस सदी में कर सकते हैं?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,743FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe