Thursday, June 20, 2024
Homeराजनीति'कब्रिस्तान बनाने से फुर्सत हो तब तो मंदिर के बारे में सोचते': CM योगी...

‘कब्रिस्तान बनाने से फुर्सत हो तब तो मंदिर के बारे में सोचते’: CM योगी का अखिलेश यादव पर निशाना – रामभक्तों पर चलवाई गोलियाँ

अखिलेश यादव के 300 यूनिट फ्री बिजली देने के चुनावी वादे पर चुटकी लेते हुए सीएम योगी ने कहा कि जब बिजली ही नहीं देते थे तो मुफ्त कहाँ से होता।

उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ साल 2022 के पहले दिन शनिवार (1 जनवरी, 2022) को रामपुर के चुनावी दौरे पर पहुँचे। यहाँ उन्होंने सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव पर जमकर निशाना साधा। अखिलेश यादव के 300 यूनिट फ्री बिजली देने के चुनावी वादे पर चुटकी लेते हुए सीएम योगी ने कहा कि जब बिजली ही नहीं देते थे तो मुफ्त कहाँ से होता। उन्होंने कहा कि आपने तो उलटा लोगों से वसूली की है, कम से कम इसके लिए तो जनता से माफी माँग लो।

रिपोर्ट के मुताबिक, रामपुर के रठौंडा में जनसभा के दौरान सीएम योगी ने अखिलेश यादव को ‘बबुआ’ के नाम से संबोधित किया और उनके राम मंदिर बनाने वाले बयान पर कहा, “आज बबुआ बोल रहे थे कि हमारी सरकार होती तो हम भी भव्य राम मंदिर बनाते। मैंने कहा, कब्रिस्तान बनाने से फुर्सत होती तब तो राम मंदिर बनाने के बारे में सोचते। जब उनकी सरकार थी तब तो रामभक्तों पर इन्होंने गोलियाँ चलवाईं।”

रामपुर का मशहूर चाकू का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने ‘एक जनपद और एक उत्पाद’ की योजना चलाई। उन्होंने बताया कि इस योजना के क्रियान्वयन के वक्त रामपुर का चाकू ही ध्यान में आया। उन्होंने आगे कहा कि अगर अच्छे लोगों के पास शस्त्र होगा तो देश और धर्म की रक्षा के लिए उसका उपयोग होगा, लेकिन अगर यह गलत लोगों के हाथ में गया तो वो इसका इस्तेमाल लूट-खसोट, दलितों और कमजोरों की जमीनों पर कब्जा करने के लिए उसका इस्तेमाल करेगा। उन्होंने बताया कि कैसे यह समाजवादी पार्टी की सरकार में यह दलितों की जमीनों पर कब्जा करने का जरिया बन गया।

सीएम योगी ने सपा पर निशाना साधते हुए कहा कि 2017 से पहले मुख्यमंत्री कार्यालय में मुजफ्फरनगर के दंगाइयों का सम्मान होता था, लेकिन 2017 के बाद सीएम ऑफिस में किसानों और गुरुबाणी का पाठ होता है – यही अंतर है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -