Wednesday, October 21, 2020
Home राजनीति 'प्रियंका गाँधी हमारी नेता, लेकिन वह हमारे खिलाफ ऑर्डर नहीं दे सकतीं, हमने पूरा...

‘प्रियंका गाँधी हमारी नेता, लेकिन वह हमारे खिलाफ ऑर्डर नहीं दे सकतीं, हमने पूरा जीवन कॉन्ग्रेस को दिया है’

"हम बागी नहीं हैं, मगर यह सच है कि निजी हितों को साध रहे कई नेता इस संगठन को डुबाने में लगे हुए हैं। पार्टी में वरिष्ठ लोग नए नेतृत्व द्वारा अपनी उपेक्षा से परेशान हैं और यह मीटिंग में भी साफ़ झलक रहा है।"

कॉन्ग्रेस पार्टी की अंदरूनी राजनीति और फूट अब सड़क पर आने लगी है। उत्तर प्रदेश में रविवार को कॉन्ग्रेस पार्टी के 11 बुज़ुर्ग नेताओं को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया। अनुशासनहीनता के आरोप में निकाले गए इन नेताओं में एक नाम 87 वर्षीय रामकृष्ण द्विवेदी का भी है। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी के करीबी रह चुके द्विवेदी को अनुशासनहीनता के आरोप में पार्टी से 6 साल के लिए निकाल दिया गया है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक इन सभी बुज़ुर्ग नेताओं को बाहर का रास्ता दिखाने का यह फैसला प्रियंका गाँधी के इशारों पर लिया गया है। इन बुज़ुर्ग नेताओं पर आरोप है कि इन्होंने सार्वजानिक रूप से अपनी ही पार्टी के केन्द्रीय नेतृत्व की साख पर बट्टा लगाने का काम किया है। इसके अलावा उन पर पार्टी विरोधी गतिविधियों, अलग से मीटिंग कराने और पार्टी लाइन का विरोध करने के आरोप लगे हैं।

कॉन्ग्रेस से निकाले गए बुज़ुर्ग नेताओं में पूर्व सांसद संतोष सिंह, पूर्व एमएलसी सिराज मेहँदी, यूपी के पूर्व गृहमंत्री रामकृष्ण द्विवेदी, पूर्व मंत्री सत्यदेव त्रिपाठी, ऑल इंडिया कॉन्ग्रेस कमिटी के मेम्बर राजेन्द्र सिंह सोलंकी, पूर्व विधायक भूधर नारायण मिश्रा, पूर्व विधायक नेकचन्द्र पाण्डेय, पूर्व विधायक हाफ़िज़ मोहम्मद उमर, पूर्व विधायक विनोद चौधरी, यूथ कॉन्ग्रेस के स्पीकर रहे स्वयं प्रकाश गोस्वामी और गोरखपुर के पूर्व जिलाध्यक्ष संजीव सिंह शामिल हैं।

इन नेताओं को पहले उत्तर प्रदेश कॉन्ग्रेस कमिटी की ओर से नोटिस भी दिया गया था। राज्य की कॉन्ग्रेस इकाई में प्रियंका गाँधी द्वारा पुराने नेताओं की जगह नए नेताओं को स्थापित करने के निर्णय से ये नेता नाराज़ चल रहे थे। बता दें कि पुराने नेताओं ने राज्य में अजय लल्लू को कॉन्ग्रेस चीफ बनाए जाने पर भी नाराजगी जताई थी।

एक प्रेस कांफ्रेंस में अपनी बात रखते हुए इन बुज़ुर्ग नेताओं ने खुद को पार्टी से किनारे किए जाने की बात कहते हुए खेद व्यक्त किया। इस दौरान अपनी बात रखते हुए रामकृष्ण द्विवेदी ने कहा कि पार्टी के संविधान के मुतबिक हमारा निलंबन अवैध और निंदनीय है। उन्होंने आगे कहा कि प्रियंका हमारी नेता हैं मगर वह भी हमारे खिलाफ यूपीसीसी को कार्रवाई करने का ऑर्डर नहीं दे सकतीं। एक ज़माने में इंदिरा गाँधी के विश्वासपात्र रहे द्विवेदी ने गोरखपुर की मनीराम सीट पर हुए एक उप-चुनाव में मुख्यमंत्री कैंडिडेट त्रिभुवन नारायण सिंह को भारी मतों से पराजित किया था।

पार्टी से अलग बैठक रखने के आरोप पर द्विवेदी ने कहा कि राज्य में प्रियंका गाँधी का नियुक्त किया हुआ नेतृत्व उनकी उपेक्षा कर रहा है। उन्होंने कहा, “प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू को श्रद्धान्जलि अर्पित करने के लिए हम गोमती नगर में इकट्ठा हुए थे। इस दिन पार्टी ने राज्य के मुख्यालय में कार्यक्रम रखा था। पार्टी के दफ्तर पर तो हमारी उपेक्षा ही होती है इसलिए हम अलग से मिले भी तो इसी बात पर चर्चा हुई कि कैसे पार्टी को मजबूती प्रदान की जाए।”

उन्होंने आगे कहा कि हम बागी नहीं हैं, मगर यह सच है कि निजी हितों को साध रहे कई नेता इस संगठन को डुबाने में लगे हुए हैं। पार्टी के दावे के उलट द्विवेदी ने कहा कि उन्हें अब तक ऐसा कोई नोटिस पार्टी की ओर से नहीं मिला है, जिसका उन्हें 24 घंटे में जवाब देना हो।

निष्कासित किए गए अन्य नेताओं ने भी पार्टी की ओर से लिए गए इस फैसले पर अपनी नाराज़गी जताई है। मामले पर बोलते हुए पूर्व विधायक भूधर नारायण मिश्रा ने कहा कि पार्टी में वरिष्ठ लोग नए नेतृत्व द्वारा अपनी उपेक्षा से परेशान हैं और यह मीटिंग में भी साफ़ झलक रहा है। वहीं एक अन्य निष्कासित बुज़ुर्ग नेता और सांसद रह चुके संतोष सिंह ने कहा कि वरिष्ठ कॉन्ग्रेसी नेताओं में किसी तरीके से भी असुरक्षा का भाव बिलकुल भी नहीं है।

प्रियंका के नाम पर रार, UP कॉन्ग्रेस हुई दो फाड़: 11 वरिष्ठ नेताओं को ‘कारण बताओ’ नोटिस जारी

350 को बुलाया, आए सिर्फ 40… बहुत नाइंसाफी: प्रियंका गाँधी के ‘स्टाइल’ से परेशान UP के कॉन्ग्रेसी नेता?

बेड, बॉडीगार्ड और कुर्सी… प्रियंका गाँधी ने जब नेहरू को ऐसे किया याद तो ट्विटर पर पूछे गए सवाल

SPG सुरक्षा हटी, लेकिन प्रियंका गाँधी ने खाली नहीं किया सरकारी बंगला

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

खून पर खून और खून के बदले खून: बिहार में जातीय नरसंहार के बूते लालू ने कुछ यूँ खड़ी की थी ‘सामाजिक न्याय’ की...

अगस्त 12-13, 1992 का दिन। गया जिला का बारा गाँव। माओवादियों ने इलाके को घेरा और 'भूमिहार' जाति के 35 लोग घर से निकाले गए। पास में एक नहर के पास ले जाकर उनके हाथ बाँधे गए और सबका गला रेत कर मार डाला गया। लालू राज में जाति के नाम पर ऐसी न जाने कितनी घटनाएँ हुईं।

पेरिस में कट्टर मुस्लिम ने शिक्षक की गर्दन काट दी, ऐसे लोगों के लिए किसी भी सेकुलर देश में जगह नहीं होनी चाहिए |...

जानकार कहते हैं कि असली इस्लाम तो वही है, जो कट्टरपंथी जीते, क्योंकि वो काफिरों को कत्ल के योग्य मानते हैं।

बिहार चुनाव ग्राउंड रिपोर्ट: गया से 7 बार से विधायक, कृषि मंत्री प्रेम कुमार से बातचीत| 7-time MLA Prem Kumar interview

हमने प्रेम कुमार से जानने की कोशिश की कि 7 साल जीत मिलने के बाद वो 8वीं पर मैदान में किस मुद्दे और रणनीति को लेकर उतरे हैं।

नक्सलवाद कोरोना ही है, राजद-कॉन्ग्रेस नया कोरोना आपके बीच छोड़ना चाहते हैं: योगी आदित्यनाथ

नक्सलवाद को कोरोना बताते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राजद और कॉन्ग्रेस भाकपा (माले) के रूप में आपके बीच एक नए कोरोना को छोड़ना चाहते हैं।

राहुल गाँधी ने किया जातीय हिंसा भड़काने के आरोपित PFI सदस्य सिद्दीक कप्पन की मदद का वादा, परिवार से की मुलाकात

PFI सदस्य और कथित पत्रकार सिद्दीक कप्पन के परिवार ने इस मुलाकात में राहुल गाँधी से पूरे मामले में हस्तक्षेप की माँग कर कप्पन की जल्द रिहाई की गुहार लगाई।

पेरिस: ‘घटिया अरब’ कहकर 2 बुर्के वाली मुस्लिम महिलाओं पर चाकू से हमला, कुत्ते को लेकर हुआ था विवाद

पेरिस में एफिल टॉवर के नीचे दो मुस्लिम महिलाओं को कई बार चाकू मारकर घायल कर दिया गया। इस दौरान 'घटिया अरब' कहकर उन्‍हें गाली भी दी गई।

प्रचलित ख़बरें

मैथिली ठाकुर के गाने से समस्या तो होनी ही थी.. बिहार का नाम हो, ये हमसे कैसे बर्दाश्त होगा?

मैथिली ठाकुर के गाने पर विवाद तो होना ही था। लेकिन यही विवाद तब नहीं छिड़ा जब जनकवियों के लिखे गीतों को यूट्यूब पर रिलीज करने पर लोग उसके खिलाफ बोल पड़े थे।

37 वर्षीय रेहान बेग ने मुर्गियों को बनाया हवस का शिकार: पत्नी हलीमा रिकॉर्ड करती थी वीडियो, 3 साल की जेल

इन वीडियोज में वह अपनी पत्नी और मुर्गियों के साथ सेक्स करता दिखाई दे रहा था। ब्रिटेन की ब्रैडफोर्ड क्राउन कोर्ट ने सबूतों को देखने के बाद आरोपित को दोषी मानते हुए तीन साल की सजा सुनाई है।

हिन्दुओं की हत्या पर मौन रहने वाले हिन्दू ‘फ़्रांस की जनता’ होना कब सीखेंगे?

हमें वे तस्वीरें देखनी चाहिए जो फ्रांस की घटना के पश्चात विभिन्न शहरों में दिखती हैं। सैकड़ों की सँख्या में फ्रांसीसी नागरिक सड़कों पर उतरे यह कहते हुए - "हम भयभीत नहीं हैं।"

सूरजभान सिंह: वो बाहुबली, जिसके जुर्म की तपिश से सिहर उठा था बिहार, परिवार हो गया खाक, शर्म से पिता और भाई ने की...

कामदेव सिंह का परिवार को जब पता चला कि सूरजभान ने उनके किसी रिश्तेदार को जान से मारने की धमकी दी है तो सूरजभान को उसी के अंदाज में संदेश भिजवाया गया- “हमने हथियार चलाना बंद किया है, हथियार रखना नहीं। हमारी बंदूकों से अब भी लोहा ही निकलेगा।”

ऐसे मुस्लिमों के लिए किसी भी सेकुलर देश में जगह नहीं होनी चाहिए, वहीं जाओ जहाँ ऐसी बर्बरता सामान्य है

जिनके लिए शिया भी काफिर हो चुका हो, अहमदिया भी, उनके लिए ईसाई तो सबसे पहला दुश्मन सदियों से रहा है। ये तो वो युद्ध है जो ये बीच में हार गए थे, लेकिन कहा तो यही जाता है कि वो तब तक लड़ते रहेंगे जब तक जीतेंगे नहीं, चाहे सौ साल लगे या हजार।

‘कश्मीर टाइम्स’ अख़बार का श्रीनगर ऑफिस सील, सरकारी सम्पत्तियों पर कर रखा था कब्ज़ा

2 महीने पहले कश्मीर टाइम्स की एडिटर अनुराधा भसीन को भी उनका आधिकारिक निवास खाली करने को कहा गया था।
- विज्ञापन -

खून पर खून और खून के बदले खून: बिहार में जातीय नरसंहार के बूते लालू ने कुछ यूँ खड़ी की थी ‘सामाजिक न्याय’ की...

अगस्त 12-13, 1992 का दिन। गया जिला का बारा गाँव। माओवादियों ने इलाके को घेरा और 'भूमिहार' जाति के 35 लोग घर से निकाले गए। पास में एक नहर के पास ले जाकर उनके हाथ बाँधे गए और सबका गला रेत कर मार डाला गया। लालू राज में जाति के नाम पर ऐसी न जाने कितनी घटनाएँ हुईं।

पेरिस में कट्टर मुस्लिम ने शिक्षक की गर्दन काट दी, ऐसे लोगों के लिए किसी भी सेकुलर देश में जगह नहीं होनी चाहिए |...

जानकार कहते हैं कि असली इस्लाम तो वही है, जो कट्टरपंथी जीते, क्योंकि वो काफिरों को कत्ल के योग्य मानते हैं।

बिहार चुनाव ग्राउंड रिपोर्ट: गया से 7 बार से विधायक, कृषि मंत्री प्रेम कुमार से बातचीत| 7-time MLA Prem Kumar interview

हमने प्रेम कुमार से जानने की कोशिश की कि 7 साल जीत मिलने के बाद वो 8वीं पर मैदान में किस मुद्दे और रणनीति को लेकर उतरे हैं।

नक्सलवाद कोरोना ही है, राजद-कॉन्ग्रेस नया कोरोना आपके बीच छोड़ना चाहते हैं: योगी आदित्यनाथ

नक्सलवाद को कोरोना बताते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राजद और कॉन्ग्रेस भाकपा (माले) के रूप में आपके बीच एक नए कोरोना को छोड़ना चाहते हैं।

राहुल गाँधी ने किया जातीय हिंसा भड़काने के आरोपित PFI सदस्य सिद्दीक कप्पन की मदद का वादा, परिवार से की मुलाकात

PFI सदस्य और कथित पत्रकार सिद्दीक कप्पन के परिवार ने इस मुलाकात में राहुल गाँधी से पूरे मामले में हस्तक्षेप की माँग कर कप्पन की जल्द रिहाई की गुहार लगाई।

पेरिस: ‘घटिया अरब’ कहकर 2 बुर्के वाली मुस्लिम महिलाओं पर चाकू से हमला, कुत्ते को लेकर हुआ था विवाद

पेरिस में एफिल टॉवर के नीचे दो मुस्लिम महिलाओं को कई बार चाकू मारकर घायल कर दिया गया। इस दौरान 'घटिया अरब' कहकर उन्‍हें गाली भी दी गई।

शीना बोरा की गुमशुदगी के बारे में जानते थे परमबीर सिंह, फिर भी नहीं हुई थी FIR

शीना बोरा जब गायब हुई तो राहुल मुखर्जी और इंद्राणी, परमबीर सिंह के पास गए। वह उस समय कोंकण रेंज के आईजी हुआ करते थे।

बिहार चुनाव ग्राउंड रिपोर्ट: गया के केनार चट्टी गाँव के कारीगर, जो अब बन चुके हैं मजदूर। Bihar Elections Ground Report: Wazirganj, Gaya

मैं आज गया जिले के केनार चट्टी गाँव गया। जो पहले बर्तन उद्योग के लिए जाना जाता था, अब वो मजदूरों का गाँव बन चुका है।

रवीश की TRP पर बकैती, कश्मीरी नेताओं का पक्ष लेना: अजीत भारती का वीडियो| Ajeet Bharti on Ravish’s TRP, Kashmir leaders

TRP पर ज्ञान देते हुए रवीश ने बहुत ही गूढ़ बातें कहीं। उन्होंने दर्शकों को सख्त बनने के लिए कहा। TRP पर रवीश ने पूछा कि मीटर दलित-मुस्लिम के घर हैं कि नहीं?

TRP मामले की जाँच अब CBI के पास, UP में दर्ज हुई अज्ञात आरोपितों के खिलाफ शिकायत

TRP में गड़बड़ी का मामला अब CBI के हाथ में आ गया है। उत्तर प्रदेश सरकार की सिरफारिश के बाद लखनऊ पुलिस से जाँच का सारा जिम्मा CBI ने ले लिया है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
78,938FollowersFollow
335,000SubscribersSubscribe