Monday, July 26, 2021
Homeराजनीति'जनता कर्फ्यू' से कोरोना पर PM मोदी का वार, याद आया शास्त्री का 55...

‘जनता कर्फ्यू’ से कोरोना पर PM मोदी का वार, याद आया शास्त्री का 55 साल पुराना उपवास

1964 में शास्त्री प्रधानमंत्री बने। अगले ही साल भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध छिड़ गया। उस समय देश में भयंकर सूखा पड़ा था। खाने-पीने की चीजों को निर्यात किया जा रहा था। अनाज के एवज में अमेरिका अपनी शर्तें थोप रहा था। यह शास्त्री को मॅंजूर नहीं था।

चीन से निकले कोरोना वायरस की मार आज विश्व के करीब 180 देश झेल रहे हैं। सभी प्रभावित देश अपने-अपने तरीके से इससे निपटने की कोशिश कर रहे हैं। भारत में कोरोना की चपेट में आने से अब तक पाँच लोगों की मौत हो चुकी है और 200 से ज्यादा संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं।

इसका प्रसार रोकने के लिए मोदी सरकार तमाम कदम उठा रही है। इसमें से एक जनता जनता कर्फ्यू है। इसकी अपील पीएम नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को देश को संबोधित करते हुए की थी। उनके प्रयासों की चौतरफा सराहना हो रही है। उनके इस कदम ने लोगों के जेहन में पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के एक ऐसे ही अनूठे प्रयोग की याद ताजा कर दी है। शास्त्री ने करीब 55 साल पहले इसी तरह देश के लोगों से उपवास की अपील की थी।

1964 में शास्त्री प्रधानमंत्री बने। इसके अगले ही साल भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध छिड़ गया। उस समय देश में भयंकर सूखा पड़ा था। खाने-पीने की चीजों को निर्यात किया जा रहा था। यह संकट सरकार के लिए युद्ध से भी बड़ी चुनौती बनकर उभरी। अनाज देने के एवज में अमेरिका अपनी शर्तें थोप रहा था। यह शास्त्री को मॅंजूर नहीं था। ऐसे में अनाज की कमी को पूरा करने के लिए उन्होंने कई कदम उठाए। इनमें से एक जनता से उपवास की अपील थी।

हालॉंकि जनता से यह अपील करने से पहले उन्होंने इसका प्रयोग अपने ही परिवार पर किया। एक दिन शास्त्री ने घर के सारे सदस्यों को रात के खाने के समय बुलाया और कहा कि कल से एक हफ्ते तक शाम को चूल्हा नहीं जलेगा। बच्चों को दूध और फल मिलेगा और बड़े उपवास रखेंगे। शास्त्री की इस बात का परिवार के सभी सदस्यों ने पूरी तरह से सात दिन तक पालन किया। पूरा सप्ताह बीत जाने के बाद शास्त्री ने एक बार फिर से परिवार के सदस्यों को एक साथ बुलाया और कहा, “मैं सिर्फ देखना चाहता था कि यदि मेरा परिवार एक हफ्ते तक एक वक्त का खाना छोड़ सकता है तो मेरा बड़ा परिवार (देश) भी हफ्ते में कम से कम एक दिन तो भूखा रह ही सकता है।”

इसके बाद शास्त्री ने आकाशवाणी के जरिए देश की जनता से हफ्ते में कम से कम एक बार खाना न पकाने और उपवास रखने की अपील की। उन्होंने कहा कि ऐसा करने से देश इतना अनाज बचा लेगा कि अगली फसल आने तक देश में इसकी कमी न हो। शास्त्री की इस मार्मिक अपील देश पर गहरा असर देखने को मिला।

इसके बाद शास्त्री जी का यह कदम देश की राजनीति में भी हमेशा के लिए एक सबक बन गया और आम लोगों को भी अहसास हुआ कि देश हित में आखिर सामान्य व्यक्ति किस तरह से अपनी भागीदारी अदा कर सकता है। गौरतलब है कि शास्त्री जी ने कृषि उत्पादन में आत्मनिर्भरता के लिए ‘जय जवान जय किसान’ का भी नारा दिया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कारगिल के 22 साल: 16 की उम्र में सेना में हुए शामिल, 20 की उम्र में देश पर मर मिटे

सुनील जंग ने छलनी सीने के बावजूद युद्धभूमि में अपने हाथ से बंदूक नहीं गिरने दी और लगातार दुश्मनों पर वार करते रहे।

देवी की प्रतिमाओं पर सीमेन, साड़ियाँ उतार जला दी: तमिलनाडु के मंदिर का ताला तोड़ कर कुकृत्य

तमिलनाडु स्थित रानीपेट के एक मंदिर में हिन्दू घृणा का मामला सामने आया है। इससे पहले भी राज्य में मंदिरों पर हमले के कई...

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,222FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe