Thursday, May 30, 2024
Homeराजनीति'थानेदार पैंट गीली कर दे' पर सिद्धू को चंडीगढ़ के DSP ने घेरा, मुस्तफा...

‘थानेदार पैंट गीली कर दे’ पर सिद्धू को चंडीगढ़ के DSP ने घेरा, मुस्तफा का हिंदुओं को धमकाने वाला Video भी सही निकला

मुस्तफा ने कहा था, “अल्लाह की कसम खाकर कहता हूँ कि इनका कोई जलसा नहीं होने दूँगा। मैं कौमी फौजी हूँ। अगर इन्होंने दोबारा ऐसी हरकत की तो खुदा की कसम इनके घर में घुसकर इन्हें मारूँगा। मैं वोटों के लिए नहीं लड़ रहा हूँ, मैं कौम के लिए लड़ रहा हूँ।”

पंजाब विधानसभा (Punjab Assembly Election 2022) के लिए कल 20 फरवरी को होने वाली वोटिंग से पहले कॉन्ग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) की मुसीबतें बढ़ गई हैं। उनके खिलाफ आपराधिक मानहानि की याचिका (Defamation Plea) दायर की गई है। वहीं, उनके राजनीतिक सलाहकार पूर्व IPS अधिकारी मोहम्मद मुस्तफा का वो वीडियो सही पाया गया है, जिसमें उन्होंने हिंदुओं को खुलेआम धमकी दी थी।

रिपोर्ट के मुताबिक, यह याचिका शुक्रवार (18 फरवरी 2022) को चंडीगढ़ पुलिस के डीएसपी दिलशेर सिंह चंदेल ने चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट अमनइंदर सिंह की कोर्ट में दायर की। कोर्ट इस मसले पर सोमवार (21 फरवरी 2022) को सुनवाई करेगा। पुलिस अधिकारी ने सिद्धू के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की माँग की है। चंदेल की तरफ से कोर्ट में उनका केस वकील डॉ सूर्यप्रकाश ने फाइल किया। एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक, इस मसले पर डीएसपी चंदेल का कहना है कि राजनेता 2021 में एक रैली के दौरान पुलिस के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की थी और माफी नहीं माँगी।

क्या है मामला

पंजाब कॉन्ग्रेस (Congress) के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू 18 दिसंबर 2021 को सुल्तानपुर लोधी में गए थे। वहाँ वो कॉन्ग्रेस विधायक नवतेज सिंह चीमा के समर्थन में जनसभा को संबोधित कर रहे थे। उसी दौरान उन्होंने नवतेज सिंह चीमा के कंधे पर हाथ रखकर कहा कि ‘ये मुंडा देख लो, पिली जैकेट पाकर गाडर वरगा, थानेदार नूँ मारे ओ पैंट कर दे गीली..ठोको ताली’। यानी, नवतेज सिंह चीमा इतने मजबूत हैं कि थानेदार अपनी पैंट गीली कर देगा।

उनके इस बयान का वीडियो वायरल हो गया था और उनकी जमकर आलोचना भी हुई। इसके बाद चंडीगढ़ के वर्तमान डीएसपी दिलशेर सिंह चंदेल की ओर से उन्हें एक लीगल नोटिस भेजा गया था और उनसे 21 दिनों के भीतर बिना शर्त माफी माँगने की माँग की गई थी, लेकिन सिद्धू ने ऐसा नहीं किया।

इस मसले पर चंदेल ने एक वीडियो भी रिलीज किया था। इस वीडियो में उन्होंने कहा था ‘ सियासत के रंगों में न डूबो इतना कि वीरो की शहादत याद न आए, जरा सा याद कर लो वादे जुबां के, अगर आपको अपनी जुबां का कहा याद आए’।

पुलिस अधिकारी ने ये भी कहा कि अगर ऐसी ही बात है तो सिद्धू जो पुलिस सुरक्षा में घूमते हैं, उसे लौटा दें। फोर्स के बिना एक रिक्शावाला भी इनकी बात नहीं सुनेगा। सिद्धू को मेरा धन्यवाद कि उन्होंने पुलिस फोर्स को शर्मसार कर दिया। वहीं, जालंधर ग्रामीण में तैनात पंजाब पुलिस के उपनिरीक्षक बलबीर सिंह ने भी सिद्धू की टिप्पणी की कड़ी निंदा की थी।

सिद्धू के सलाहकार की हिंदुओं को धमकी वाला वीडियो सही निकला

इसी तरह से नवजोत सिंह सिद्धू के सलाहकार और पूर्व आईपीएस अधिकारी रहे मोहम्मद मुस्तफा का हिंदुओं को धमकाने वाला बयान जाँच में सही पाया गया है। सीएफएसएल रिपोर्ट में वीडियो सही पाया गया है। मुस्तफा ने पिछले महीने (जनवरी 2022) अपनी एक सभा के दौरा कहा था कि उनके जलसे के बराबर में हिन्दुओं को इजाजत दी गई तो वे ऐसे हालात पैदा कर देंगे कि सँभालने मुश्किल हो जाएँगे।

उन्होंने कहा था, “अल्लाह की कसम खाकर कहता हूँ कि इनका कोई जलसा नहीं होने दूँगा। मैं कौमी फौजी हूँ। मैं आरएसएस (RSS) का एजेंट नहीं हूँ, जो डरकर घर में घुस जाऊँगा। अगर इन्होंने दोबारा ऐसी हरकत की तो खुदा की कसम इनके घर में घुसकर इन्हें मारूँगा। आज मैं इन्हें सिर्फ वॉर्निंग दे रहा हूँ। मैं वोटों के लिए नहीं लड़ रहा हूँ, मैं कौम के लिए लड़ रहा हूँ।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

बाँटने की राजनीति, बाहरी ताकतों से हाथ मिला कर साजिश, प्रधान को तानाशाह बताना… क्या भारतीय राजनीति के ‘बनराकस’ हैं राहुल गाँधी?

पूरब-पश्चिम में गाँव को बाँटना, बाहरी ताकत से हाथ मिला कर प्रधान के खिलाफ साजिश, शांति समझौते का दिखावा और 'क्रांति' की बात कर अपने चमचों को फसलना - 'पंचायत' के भूषण उर्फ़ 'बनराकस' को देख कर आपको भारत के किस नेता की याद आती है?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -