Friday, July 23, 2021
Homeराजनीतिकॉन्ग्रेस की साड़ियॉं लेकर जा रहे वाहन ने मारी टक्कर, वोटरों के बीच बॉंटा...

कॉन्ग्रेस की साड़ियॉं लेकर जा रहे वाहन ने मारी टक्कर, वोटरों के बीच बॉंटा जाना था

पूछताछ के दौरान गाड़ी में मौजूद शख्स ने साड़ियों का बंडल कॉन्ग्रेस कार्यालय से लाने की बात स्वीकार की। उसने बताया कि वह कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता है और साड़ियाँ रेंगनार गाँव में बाँटने ले जा रहा था।

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा उपचुनाव में प्रचार अभियान के साथ ही मतदाताओं को लुभाने के हथकंडे भी जारी हैं। मंगलवार (सितंबर 10, 2019) देर शाम पुलिस ने साड़ियों से भरे एक वाहन को पकड़ा है। आरोप है कि उक्त साड़ियाँ वोटरों के बीच बाँटने के लिए कॉन्ग्रेस ने भिजवाई थी। घटना कुआकोण्डा थाना क्षेत्र की है।

जानकारी के मुताबिक, कॉन्ग्रेस कार्यालय से साड़ियों का बंडल लादकर गाड़ी रवाना हुई थी। इसी दौरान गाड़ी ने एक बाइक सवार को ठोकर मार दी। इसकी सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुँची और पिकअप वाहन के चालक से पूछताछ की।

जानकारी के मुताबिक, कुआकोण्डा थाना क्षेत्र में साड़ी से भरे वाहन क्रमांक सीजी 18 एन 2879 को पकड़ा गया। वाहन में चालक के साथ रेंगनार निवासी मासा मौजूद था। पूछताछ के दौरान मासा ने सारी सच्चाई उगल दी और साड़ियों का बंडल कॉन्ग्रेस कार्यालय से लाने की बात स्वीकार कर ली। उसने बताया कि वह कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता है और यह साड़ियाँ वो रेंगनार गाँव में बाँटने ले जा रहा था।

बता दें कि, उपचुनाव को लेकर पुलिस द्वारा जिलेभर में वाहनों की सघन चेकिंग की जा रही है। इसके बावजूद साड़ियों से भरी गाड़ी मुख्यालय से पार होने की घटना ने पुलिस की मुस्तैदी पर भी सवाल खड़े कर दिए हैं। फिलहाल, वाहन चालक द्वारा दी गई जानकारी के बाद कुआकोण्डा पुलिस विस्तृत जाँच में जुट गई है।

दंतेवाड़ा में इस महीने की 23 तारीख को वोट डाले जाएँगे। बीते साल इस सीट से भाजपा के भीमा मंडावी ने जीत दर्ज की थी। उनके निधन के कारण यहॉं उपचुनाव कराया जा रहा है। भाजपा ने मंडावी की पत्नी ओजस्वी मंडावी को मैदान में उतारा है तो कॉन्ग्रेस की ओर से देवती कर्मा चुनाव लड़ रही हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कौन है स्वरा भास्कर’: 15 अगस्त से पहले द वायर के दफ्तर में पुलिस, सिद्धार्थ वरदराजन ने आरफा और पेगासस से जोड़ दिया

इससे पहले द वायर की फर्जी खबरों को लेकर कश्मीर पुलिस ने उनको 'कारण बताओ नोटिस' जारी किया था। उन पर मीडिया ट्रॉयल में शामिल होने का भी आरोप है।

जिस भास्कर में स्टाफ मर्जी से ‘सूसू-पॉटी’ नहीं कर सकते, वहाँ ‘पाठकों की मर्जी’ कॉर्पोरेट शब्दों की चाशनी है बस

"भास्कर में चलेगी पाठकों की मर्जी" - इस वाक्य में ईमानदारी नहीं है। पाठक निरीह है, शब्दों का अफीम देकर उसे मानसिक तौर पर निर्जीव मत बनाइए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,862FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe