Tuesday, July 16, 2024
Homeराजनीति'CBI मेरे दफ्तर फिर से आ गई…': दिल्ली के डिप्टी CM मनीष सिसोदिया ने...

‘CBI मेरे दफ्तर फिर से आ गई…’: दिल्ली के डिप्टी CM मनीष सिसोदिया ने जाँच एजेंसी पर लगाया आरोप, रिपोर्ट्स में दावा- ये कोई रेड नहीं

कुछ रिपोर्ट्स में रिपोर्ट में सीबीआई सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि सिसोदिया के कार्यालय में कोई छापेमारी नहीं की गई है। बल्कि सीबीआई की टीम कुछ कागजात हासिल करने सिसोदिया के दफ्तर पहुँची हुई थी।

आम आदमी पार्टी नेता और दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के दफ्तर पर सीबीआई की रेड चल रही है। इसे लेकर मनीष सिसोदिया ने ट्वीट भी किया है। उधर कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में यह दावा किया जा रहा है कि सीबीआई कोई छापेमारी नहीं कर रही है। कहा जा रहा है कि कुछ दस्तावेज प्राप्त करने के लिए सीबीबआई की टीम सिसोदिया के दफ्तर पहुँची हुई थी।

अपने दफ्तर में छापेमारी का दावा करते हुए मनीष सिसोदिया ने ट्विटर पर लिखा, “आज फिर CBI मेरे दफ्तर पहुँची है, उनका स्वागत है। इन्होंने मेरे घर पर रेड कराई, दफ्तर में छापा मारा, लॉकर तलाशे, मेरे गाँव तक में छानबीन करा ली। मेरे खिलाफ न कुछ मिला हैं न मिलेगा, क्योंकि मैंने कुछ गलत किया ही नहीं है। ईमानदारी से दिल्ली के बच्चों की शिक्षा के लिए काम किया है।”

न्यूज़ एजेंसी एएनआई की तरफ से दिल्ली सचिवालय के बाहर की तस्वीरें ट्वीट की गई हैं। पोस्ट में दावा किया गया कि मनीष सिसोदिया के कार्यालय में सीबीआई की रेड चल रही है। दरअसल दिल्ली शराब घोटाले को लेकर सीबीआई की जाँच जारी है। इस मामले में सीबीआई ने मनीष सिसोदिया को आरोपित नंबर एक बनाया है। प्राथमिकी में 14 अन्य नाम भी हैं, जिनमें दो कंपनियों के नाम शामिल हैं।

हालाँकि, कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में सीबीआई छापेमारी की बात से इनकार भी किया जा रहा है। आजतक की रिपोर्ट में सीबीआई सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि सिसोदिया के कार्यालय में कोई छापेमारी नहीं की गई है। बल्कि सीबीआई की टीम कुछ कागजात हासिल करने सिसोदिया के दफ्तर पहुँची हुई थी।

गौरतलब है कि दारू घोटाले में घिरने के बाद दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को सीबीआई (CBI) ने अक्टूबर 2022 में पूछताछ के लिए बुलाया था। सीबीआई ने उनसे करीब 9 घंटे तक पूछताछ की थी, जिसके बाद सिसोदिया ने दावा किया था कि CBI ने उन पर AAP छोड़ने का दबाव डाला। जाँच एजेंसी ने इन दावों को खारिज करते हुए कहा था कि पूछताछ वैधानिक और पेशेवर तरीके से हुई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिस भोजशाला को मुस्लिम कहते हैं कमाल मौलाना मस्जिद, वह मंदिर ही है: ASI ने हाई कोर्ट को बताया- मंदिरों के हिस्से पर बने...

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट को सौंपी गई रिपोर्ट में ASI ने कहा है कि भोजशाला का वर्तमान परिसर यहाँ पहले मौजूद मंदिर के अवशेषों से बनाया गया था।

भारतवंशी पत्नी, हिंदू पंडित ने करवाई शादी: कौन हैं JD वेंस जिन्हें डोनाल्ड ट्रम्प ने चुना अपना उपराष्ट्रपति उम्मीदवार, हमले के बाद पूर्व अमेरिकी...

पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को रिपब्लिकन पार्टी के नेशनल कंवेंशन में राष्ट्रपति और सीनेटर JD वेंस को उपराष्ट्रपति उम्मीदवार चुना है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -