Friday, December 3, 2021
Homeराजनीतिबेटी की तरह की थी बीमार सुषमा स्वराज की देखभाल, ग्रेटर कैलाश से BJP...

बेटी की तरह की थी बीमार सुषमा स्वराज की देखभाल, ग्रेटर कैलाश से BJP प्रत्याशी हैं शिखा राय

स्वराज कौशल ने एक ट्वीट के माध्यम से बताया कि शिखा ने सुषमा स्वराज के अंतिम दिनों में उनकी देखभाल की थी। शिखा ने जम्मू कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में 2011 में गणतंत्र दिवस के दिन झंडा फहराया था। स्वराज कौशल ने अपील की हैं कि लोग शिखा को वोट दें।

दिल्ली के ग्रेटर कैलाश विधानसभा क्षेत्र से भाजपा ने शिखा राय को मैदान में उतारा है। भारत की विदेश मंत्री रहीं सुषमा स्वराज के पति स्वराज कौशल ने शिखा राय का समर्थन किया है। स्वराज कौशल ने एक ट्वीट के माध्यम से बताया कि शिखा ने सुषमा स्वराज के अंतिम दिनों में उनकी देखभाल की थी। शिखा ने जम्मू कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में 2011 में गणतंत्र दिवस के दिन झंडा फहराया था। स्वराज कौशल ने अपील की हैं कि लोग शिखा को वोट दें।

स्वराज कौशल ने शिखा का एक वीडियो भी शेयर किया। ये वीडियो तब का है, जब भाजपा ने उन्हें ग्रेटर कैलाश विधानसभा क्षेत्र से अपना प्रत्याशी घोषित किया था। शिखा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी को धन्यवाद दिया था। शिखा ने इसे एक जिम्मेदारी बताते हुए कहा था कि वो अपने क्षेत्र की जनता के साथ मिल कर न सिर्फ़ चुनाव जीतेंगी बल्कि विधानसभा में भी क्षेत्र की बात को प्रमुखता से रखेंगी।

शिखा का मानना है कि केंद्र, दिल्ली और एमसीडी- तीनों में भाजपा सत्ता में हो तो तेज़ी से विकास होगा। स्वराज कौशल ने बताया कि शिखा को श्रीनगर में झंडा फहराने के बाद पुलिस कस्टडी में प्रताड़ित भी किया गया था। उन्होंने जानकारी दी कि सुषमा स्वराज ने शिखा राय को लगभग 25 वर्षों तक अपने मार्गदर्शन में रखा। साथ ही उन्होंने बताया कि सुषमा स्वराज जब बीमार पड़ीं तो शिखा ने भी उनका एक बेटी की तरह दिन-रात देखभाल किया। शिखा राय ने कहा कि वो आज राजनीति में जो कुछ भी हैं, वो सिर्फ़ सुषमा स्वराज के कारण ही हैं।

जहाँ तक ग्रेटर कैलाश विधानसभा की बात है, यहाँ से फ़िलहाल आम आदमी पार्टी के सौरभ भारद्वाज विधायक हैं। सौरभ भारद्वाज इस बार भी यहाँ से दाँव आजमा रहे हैं। उनका मुक़ाबला 30 सालों से भाजपा से जुड़ी रहीं शिखा राय से होगा, जो लम्बे समय तक एमसीडी की निगम पार्षद रही हैं। कॉन्ग्रेस ने सुखबीर सिंह को मैदान में उतारा है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सियासत होय जब ‘हिंसा’ की, उद्योग-धंधा कहाँ से होय: क्या अडानी-ममता मुलाकात से ही बदल जाएगा बंगाल में निवेश का माहौल

एक उद्योगपति और मुख्यमंत्री की मुलाकात आम बात है। पर जब मुख्यमंत्री ममता बनर्जी हों और उद्योगपति गौतम अडानी तो उसे आम कैसे कहा जा सकता?

पाकिस्तानी मूल की ऑस्ट्रेलियाई सीनेटर मेहरीन फारुकी से मिलिए, सुनिए उनकी हिंदू घृणा- जानिए PM मोदी से उनको कितनी नफरत

मेहरीन फारूकी ने ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन के अच्छे दोस्त PM नरेंद्र मोदी को घेरने के बहाने संघीय सीनेट में घृणा के स्तर तक उतर आईं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
141,299FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe