Wednesday, July 24, 2024
Homeराजनीतिआप शायद शरद पवार जी को जानते नहीं… महिला पत्रकार से बोले देवेंद्र फडणवीस,...

आप शायद शरद पवार जी को जानते नहीं… महिला पत्रकार से बोले देवेंद्र फडणवीस, जिस BJP नेता का महाराष्ट्र में सबने माना लोहा उनका जवाब

"आप शायद शरद पवार जी को जानते नहीं है। विपक्षी एकता को ड्राइव करने वाले पवार साहब ही हैं। सारे विपक्षी दल जो एक-दूसरे का मुँह भी नहीं देख सकते, ऐसे लोगों को भी एक-दूसरे के सामने बैठाने की पवार साहब में क्षमता है। उनके साथ स्वास्थ्य की समस्या है, पर वे फिट हैं। इस उम्र में भी वे राजनीतिक तौर पर पूरी तरह अलर्ट हैं।"

देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis)। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री। वर्तमान में राज्य के उप मुख्यमंत्री (Maharashtra Deputy CM)। पहले एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) के नेतृत्व में शिवसेना (Shiv Sena) में हुई टूट और अब अजित पवार (Ajit Pawar) की अगुवाई में राष्ट्रवादी काॅन्ग्रेस पार्टी (NCP) में पड़ी फूट के पीछे इस बीजेपी नेता की महत्वपूर्ण भूमिका होने की बात कही जाती है। एक इंटरव्यू में फडणवीस ने माना है कि इस उम्र में भी शरद पवार (Sharad Pawar) राजनैतिक तौर पर पूरी तरह सक्रिय हैं। ये उनकी ही क्षमता है जिसकी वजह से एक-दूसरे को पसंद नहीं करने वाले विपक्षी दल भी हाल में एक साथ नजर आए हैं।

फडणवीस ने यह बात न्यूज एजेंसी एएनआई की संपादक के स्मिता प्रकाश के पाॅडकाॅस्ट (ANI Podcast with Smita Prakash) में कही है। यह पाॅडकाॅस्ट 3 जुलाई 2023 की शाम 5 बजे जारी किया जाएगा। यह पाॅडकाॅस्ट ऐसे समय में सामने आया है, जब महाराष्ट्र में नया सियासी उलटफेर देखने को मिला है। अजित पवार महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री बन गए हैं। उनके सहित नौ एनसीपी नेता महाराष्ट्र की शिंदे सरकार का हिस्सा बने हैं। अजित पवार का कहना है कि NCP के 40 विधायक उनके साथ हैं। वहीं शरद पवार पार्टी पर कब्जा कायम रखने की कोशिशों में लगे हैं। इसी क्रम में सतारा में उन्होंने शक्ति प्रदर्शन किया है।

एएनआई ने पाॅडकाॅस्ट का जो वीडियो जारी किया है, उसमें स्मिता प्रकाश फडणवीस से पूछती हैं कि 2019 में क्या हुआ? किसने किसको धोखा दिया? जवाब में फडणवीस कहते हैं कि धोखा उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने दिया। उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव में बीजेपी और शिवसेना गठबंधन को बहुमत मिला था। लेकिन उद्धव ठाकरे के ध्यान में आया कि नंबर्स इस प्रकार हैं कि वे बीजेपी को छोड़कर दूसरे लोगों के साथ चले जाएँ तो उनकी सरकार बन सकती है। इसी महत्वाकांक्षा के चलते उन्होंने काॅन्ग्रेस और एनसीपी से बातचीत शुरू की। स्पष्ट बहुमत के बावजूद वे 10 दिन तक हमें टाल रहे। इससे हमें पता चल गया कि उन्होंने तय कर लिया है कि वे चीफ मिनिस्टर बनेंगे।

फडणवीस ने कहा, “इस बीच एनसीपी की ओर से कुछ लोगों ने हमसे बातचीत की। उन्होंने कहा कि हमें साथ में आना चाहिए। हमने शरद पवार जी के साथ मीटिंग की। शरद पवार जी ने इस बात को माना कि महाराष्ट्र में स्थायी सरकार देंगे। बीजेपी और एनसीपी साथ में आएँगे। लेकिन एक सुबह पवार साहब पीछे हट गए। उस समय अजीत पवार ने कहा कि इतने आगे जाने के बाद मैं वापिस नहीं आ सकता हूँ।” उल्लेखनीय है कि 23 नवंबर 2019 की सुबह-सुबह देवेंद्र फडणवीस और अजीत पवार ने शपथ ली थी। लेकिन 72 घंटे में दोनों का इस्तीफा भी हो गया था।

पाॅडकाॅस्ट के जारी वीडियो में स्मिता प्रकाश ने विपक्षी एकता को लेकर भी फडणवीस से सवाल किया है। उन्होंने उन्होंने पूछा कि गाॅडफादर जैसी भूमिका में दिखने वाले शरद पवार स्वास्थ्य कारणों से अब बैक स्टेज जाते दिख रहे हैं। ऐसे में विपक्षी एकता में एनसीपी का क्या वजूद है? जवाब में फडणवीस ने कहा, “आप शायद शरद पवार जी को जानते नहीं है। विपक्षी एकता को ड्राइव करने वाले पवार साहब ही हैं। सारे विपक्षी दल जो एक-दूसरे का मुँह भी नहीं देख सकते, ऐसे लोगों को भी एक-दूसरे के सामने बैठाने की पवार साहब में क्षमता है। उनके साथ स्वास्थ्य की समस्या है, पर वे फिट हैं। इस उम्र में भी वे राजनीतिक तौर पर पूरी तरह अलर्ट हैं।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘तुमलोग वापस भारत भागो’: कनाडा में अब सांसद को ही धमकी दे रहा खालिस्तानी पन्नू, हिन्दू मंदिर पर हमले का विरोध करने पर भड़का

आर्य ने कहा है कि हमारे कनाडाई चार्टर ऑफ राइट्स में दी गई स्वतंत्रता का गलत इस्तेमाल करते हुए खालिस्तानी कनाडा की धरती में जहर बोते हुए इसे गंदा कर रहे हैं।

मुजफ्फरनगर में नेम-प्लेट लगाने वाले आदेश के समर्थन में काँवड़िए, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोले – ‘हमारा तो धर्म भ्रष्ट हो गया...

एक कावँड़िए ने कहा कि अगर नेम-प्लेट होता तो कम से कम ये तो साफ हो जाता कि जो भोजन वो कर रहे हैं, वो शाका हारी है या माँसाहारी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -