Tuesday, May 21, 2024
HomeराजनीतिEC ने ममता बनर्जी के OSD अशोक चक्रवर्ती को तत्काल प्रभाव से हटाया, 3...

EC ने ममता बनर्जी के OSD अशोक चक्रवर्ती को तत्काल प्रभाव से हटाया, 3 जिला चुनाव अधिकारियों का भी ट्रांसफर

चुनाव आयोग ने राज्य के मुख्य सचिव को लिखा है कि जिला निर्वाचन अधिकारियों (DEO) - पुरबा बर्धमान के एनर रहमान, पश्चिम बर्धमान के पूर्णेंदु कुमार माझी और दक्षिण दिनाजपुर के निखिल निर्मल को 'तत्काल प्रभाव' से स्थानांतरित किया जा रहा है।

पश्चिम बंगाल में चौथे चरण के मतदान से पहले चुनाव आयोग ने राज्य की मुख्यमंत्री व तृणमूल कॉन्ग्रेस की अध्यक्ष ममता बनर्जी के सेक्योरिटी ऑफिसर अशोक चक्रवर्ती को तत्काल प्रभाव से हटा दिया है। चक्रवर्ती वर्तमान में सुरक्षा निदेशालय में पुलिस अधीक्षक पद पर (एक पूर्व कैडर पद पर) विशेष ड्यूटी अधिकारी के रूप में तैनात थे।

चुनाव आयोग ने मतदान के चौथे चरण से पहले 3 जिला चुनाव अधिकारियों को भी गैर चुनाव पोस्ट पर ट्रांसफर किया है। चुनाव आयोग ने राज्य के मुख्य सचिव को लिखा है कि जिला निर्वाचन अधिकारियों (DEO) – पुरबा बर्धमान के एनर रहमान, पश्चिम बर्धमान के पूर्णेंदु कुमार माझी और दक्षिण दिनाजपुर के निखिल निर्मल को ‘तत्काल प्रभाव’ से स्थानांतरित किया जा रहा है। पोल-पैनल ने अपने पत्र में आगे कहा कि इन अधिकारियों को चुनाव संबंधी कोई भी पोस्टिंग नहीं दी जानी चाहिए।

इन तीनों अधिकारियों की जगह शिल्पा गौरीसरिया, सी मुरुगन और अनुराग श्रीवास्तव को लाया गया है। तीन जिला चुनाव अधिकारियों के अलावा, कई अन्य अधिकारियों को भी चुनाव आयोग द्वारा स्थानांतरित किया गया है।

याद दिला दें कि विधानसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान के साथ ही तृणमूल कॉन्ग्रेस लगातार चुनाव आयोग पर केंद्र का साथ देने का आरोप लगा रही थी। उनका कहना था कि केंद्र के हिसाब से चुनाव आयोग ने तारीखों को तय किया है। ऐसे में जाहिर है चुनाव आयोग का यह ताजा फैसला सीएम ममता को आग बबूला करेगा।

अभी हाल की बात करें तो ममता बनर्जी ने चुनावी रैली को संबोधित करते हुए सुरक्षाबल पर सवाल उठाए थे और उनके विरुद्ध आपत्तिजनक टिप्पणी की थी, जिसकी वजह से भी चुनाव आयोग ने ममता बनर्जी पर कार्रवाई की और उन्हें नोटिस भी भेजा। 

इससे पहले चुनाव आयोग ने आचार संहिता लागू होने के साथ ही हिंसा और लॉ एंड ऑर्डर को लेकर कड़ी कार्रवाई शुरू कर दी थी। तारीखों के ऐलान के दूसरे दिन ही चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल में एडीजी लॉ एंड ऑर्डर जावेद शमीम को हटा दिया था। 

शमीम की जगह डीजी फायर सेवा जगन मोहन को नया एडीजी बनाया गया था। वहीं जावेद शमीम को डीजी फायर सेवा बनाया गया। मालूम हो एडीजी (कानून-व्यवस्था) चुनाव आयोग के साथ नोडल एजेंसी के रूप में काम करता है।

बता दें कि पश्चिम बंगाल में तीन चरणों की वोटिंग हो चुकी है। चौथे चरण के तहत 44 सीटों पर कल वोटिंग होगी। 5वें चरण के तहत 6 जिलों की 45 सीटों पर 17 अप्रैल, छठे चरण के तहत चार जिलों की 43 सीटों पर 22 अप्रैल, 7वें चरण के तहत 5 जिलों की 36 सीटों पर 26 अप्रैल और 8वें चरण के तहत चार जिलों की 35 सीटों पर 29 अप्रैल को मतदान होगा। 2 मई को नतीजे आएँगे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

J&K के बारामुला में टूट गया पिछले 40 साल का रिकॉर्ड, पश्चिम बंगाल में सर्वाधिक 73% मतदान: 5वें चरण में भी महाराष्ट्र में फीका-फीका...

पश्चिम बंगाल 73% पोलिंग के साथ सबसे आगे है, वहीं इसके बाद 67.15% के साथ लद्दाख का स्थान रहा। झारखंड में 63%, ओडिशा में 60.72%, उत्तर प्रदेश में 57.79% और जम्मू कश्मीर में 54.67% मतदाताओं ने वोट डाले।

भारत पर हमले के लिए 44 ड्रोन, मुंबई के बगल में ISIS का अड्डा: गाँव को अल-शाम घोषित चला रहे थे शरिया, जिहाद की...

साकिब नाचन जिन भी युवाओं को अपनी टीम में भर्ती करता था उनको जिहाद की कसम दिलाई जाती थी। इस पूरी आतंकी टीम को विदेशी आकाओं से निर्देश मिला करते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -