Monday, May 10, 2021
Home राजनीति गोविंदा कर रहे भाजपा उम्मीदवार का प्रचार: एक और 'कॉन्ग्रेसी' चेहरा हुआ भगवा?

गोविंदा कर रहे भाजपा उम्मीदवार का प्रचार: एक और ‘कॉन्ग्रेसी’ चेहरा हुआ भगवा?

भाजपा को गढ़ में पटखनी देने के लिए कॉन्ग्रेस गोविंदा को लेकर आई थी। लेकिन, फिर उन्होंने 'अमिताभ बच्चन जैसे' राजनीति को अलविदा कह दिया। प्रचार के रण में वे फिर उतरे हैं। गोविंदा की राजनीति का तो जो होना होगा सो होगा, पर कॉन्ग्रेस का क्या होगा?

गोविंदा भले ही कॉन्ग्रेस से आधिकारिक तौर पर 2008 में ही किनारा कर चुके हों, लेकिन जनता की याद में उनकी आज सुबह तक ‘कॉन्ग्रेस वाला’ की छवि थी। मुंबई के लोग उन्हें भाजपा के कद्दावर नेता और वर्तमान में उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाइक को हराने वाले ‘जायंट किलर’ के रूप में याद रखते हैं। इसलिए कॉन्ग्रेस भले ही उनके आगामी महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों के लिए भाजपा उम्मीदवार चैनसुख मदनलाल संचेती के पक्ष में प्रचार से कन्नी काटने की कोशिश करे, लेकिन इसे देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी के घटते आभामंडल से जोड़ कर देखना गलत नहीं होगा।

1999-2000 में ‘सदी के सबसे चमकदार फ़िल्मी और मंच के सितारों’ की जिस फेहरिस्त में अमिताभ बच्चन ने ‘टॉप’ किया था, गोविंदा उसमें अंतरराष्ट्रीय 10वें नंबर के स्टार थे। यानी इंडस्ट्री के सबसे बड़े नामों में से एक। ऐसे बड़े सितारे को अपने से जोड़ पाना यकीनन वाजपेयी-आडवाणी की जोड़ी और ‘इंडिया शाइनिंग’ से टक्कर लेने वाली कॉन्ग्रेस के लिए यकीनन फायदे का सौदा हुआ। फ़िल्मी नगरी मुंबई में गोविंदा “आहूजा” (उनका उपनाम पहली बार सुर्ख़ियों का कारण राजनीति में आने के ही चलते बना, जिसके ज़रिए नाइक के पक्ष में भाजपा-शिव सेना के “मराठी माणूस” कार्ड को काटने के लिए ‘others’ को लामबंद किया गया) ने सारी चर्चाएँ और बाद में सारे वोट, लूट लिए। यही नहीं, उत्तर मुंबई सीट के बाहर भी गोविंदा की शोहरत ने कॉन्ग्रेस को खबरों और वोटर के दिमाग में बने रहने में मदद की।

“आवास, प्रवास, स्वास्थ्य, ज्ञान” के मुद्दे पर चुनाव लड़ने वाले गोविंदा ने जीत के बाद पहले राजनीति से ‘ब्रेक’ लिया, फिर सन्यास का ऐलान कर दिया। “राजनीति हमारे और हमारे परिवार के खून में ही नहीं रही। मैं यहाँ कभी नहीं लौटूँगा।” न केवल खबरें चलीं कि गोविंदा पार्टी से व्यथित हैं, उन्हें लगता है कि कॉन्ग्रेस ने उनका ‘इस्तेमाल किया’ भाजपा के गढ़ उत्तर मुंबई में सेंध लगाने के लिए, बल्कि खुद गोविंदा ने अपने अलविदा को ‘अमिताभ बच्चन जैसा’ बताया। ज़ाहिर था कि अमिताभ की तरह वे भी पंजे का ‘चाँटा’ महसूस कर रहे थे।

आज वही ‘विरार का छोरा’ लौटा है- भगवा तिलक लगाकर, भगवा पार्टी के कैंडिडेट का प्रचार करने के लिए, भगवा गमछा गले में टाँगे। लग रहा है कि वे लंबी पारी खेलने की फ़िराक में हैं- वे जिस प्रत्याशी चैनसुख संचेती का प्रचार कर रहे हैं, वे मलकापुर से 5 बार के विधायक हैं। राज्य की भाजपा इकाई के अध्यक्ष को छोड़कर लगभग सारे बड़े-बड़े पदों पर काबिज रह चुके हैं। इसके अलावा महाराष्ट्र में राष्ट्रीय पटल की ही तरह लचर विपक्ष के चलते विकल्पहीनता है, जनता खुद भाजपा-फड़णवीस का विकल्प हाल-फ़िलहाल किसी को नहीं देखती। यानी संचेती का काम शायद गोविंदा की ‘स्टार पावर’ के बिना भी चल जाता।

ऐसे में ज्यादा संभावना इस बात की है कि संचेती का प्रचार कम हो रहा था, गोविंदा के खुद भाजपा में अपनी जगह तलाशने की संभावना अधिक है। यही कॉन्ग्रेस के लिए खतरे की घंटी होनी चाहिए- अगर वह राहुल गाँधी की बैंकॉक यात्राओं के औचित्य ढूँढ़ने से फुर्सत पा सके। उसे सोचना चाहिए कि क्यों जिसे वह राजनीति में लेकर आई, वह आज राजनीति में लौटना चाहता है तो ‘घर’ लौटने की बजाय नया घर तलाशने को मजबूर है।

हाल ही में गोविंदा की सह-अभिनेत्री रहीं उर्मिला ने भी कॉन्ग्रेस से हाथ जोड़ लिए थे- उसकी अंदरूनी राजनीति से तंग आकर। उसके गढ़ रहे उत्तर प्रदेश में उसकी VVIP सीट रायबरेली सदर की विधायक अदिति सिंह किसी भी दिन टाटा कर सकतीं हैं, प्रदेश के दो प्रभावशाली राजघराने पहले ही उसे अलविदा कह चुके हैं। गोविंदा की राजनीति का तो जो होना होगा सो होगा, पर कॉन्ग्रेस का क्या होगा??

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

लेफ्ट मीडिया नैरेटिव के आधार पर लैंसेट ने PM मोदी को बदनाम करने के लिए प्रकाशित किया ‘प्रोपेगेंडा’ लेख, खुली पोल

मेडिकल क्षेत्र के जर्नल लैंसेट ने शनिवार को एक लेख प्रकाशित किया जहाँ भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते संक्रमण का पूरा ठीकरा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर फोड़ दिया गया।

गाँधी का कुत्ता… न कॉन्ग्रेस का, न असम का: बिस्कुट खाता है, कुर्सी गँवाता है

कहानी में कुत्ते को बिस्कुट खिलाने का जिक्र है। कहानी में असम से ज्यादा कुत्ते को प्राथमिकता दिए जाने का भी जिक्र है।

‘BMC ने किया कोविड से मौत की आँकड़ों में हेरफेर, PR एजेंसीज और सेलिब्रिटीज चला रहे फेक नैरेटिव’: देवेंद्र फडणवीस

देवेन्द्र फडणवीस ने अपने पत्र में मुंबई में कम टेस्टिंग का आरोप लगाते हुए कहा की मुंबई में रोजाना 1 लाख आरटी-पीसीआर टेस्टिंग की सुविधा उपलब्ध है जबकि यहाँ मात्र 34,000 टेस्ट ही रोजाना की जा रहे हैं।

जावेद अख्तर ने कहा- Covid पर महाराष्ट्र सरकार से सीखें, लोगों ने ‘जोक ऑफ द डे’ कह किया ट्रोल

“पता नहीं आपको महाराष्ट्र सरकार की कौन सी क्षमता दिखाई दी क्योंकि कई जगह पर लॉकडाउन लगा होने के कारण भी राज्य में रोजाना 50,000 से अधिक नए संक्रमित मिल रहे हैं साथ ही संक्रमण दर भी लगभग 15% बनी हुई है।“

हेमंत बिस्वा सरमा: असम के मुख्यमंत्री, सर्वानंद सोनोवाल ने दिया इस्तीफा

असम चुनाव के बाद प्रदेश में नए सीएम की तलाश अब खत्म हो गई है। हेमंत बिस्वा सरमा प्रदेश के अगले मुख्यमंत्री होंगे।

हिंदू त्योहार ‘पाप’, हमारी गलियों से नहीं निकलने दें जुलूस: मुस्लिम बहुल इलाके की याचिका, मद्रास HC का सॉलिड जवाब

मद्रास हाई कोर्ट ने धार्मिक असहिष्णुता को देश के धर्मनिरपेक्ष ताने-बाने के लिए खतरनाक बताया। कोर्ट ने कहा कि त्योहारों के आयोजन...

प्रचलित ख़बरें

रेप होते समय हिंदू बच्ची कलमा पढ़ के मुस्लिम बन गई, अब नहीं जा सकती काफिर माँ-बाप के पास: पाकिस्तान से वीडियो वायरल

पाकिस्तान में नाबालिग हिंदू लड़की को इ्स्लामी कट्टरपंथियों ने किडनैप कर 4 दिन तक उसके साथ गैंगरेप किया और उसका जबरन धर्मान्तरण कराया।

हिंदू त्योहार ‘पाप’, हमारी गलियों से नहीं निकलने दें जुलूस: मुस्लिम बहुल इलाके की याचिका, मद्रास HC का सॉलिड जवाब

मद्रास हाई कोर्ट ने धार्मिक असहिष्णुता को देश के धर्मनिरपेक्ष ताने-बाने के लिए खतरनाक बताया। कोर्ट ने कहा कि त्योहारों के आयोजन...

रमजान का आखिरी जुमा: मस्जिद में यहूदियों का विरोध कर रहे हजारों नमाजियों पर इजरायल का हमला, 205 रोजेदार घायल

इजरायल की पुलिस ने पूर्वी जेरुसलम स्थित अल-अक़्सा मस्जिद में भीड़ जुटा कर नमाज पढ़ रहे मुस्लिमों पर हमला किया, जिसमें 205 रोजेदार घायल हो गए।

कोरोना संक्रमित शवों के कफन चुराते थे, ब्रैंडेड लेबल लगाकर बेचते थे बाजार में, 520 कफन बरामद: 7 गिरफ्तार

गिरफ्तार किए गए आरोपितों के पास से पास से 520 कफन, 127 कुर्ते, 140 कमीज, 34 धोती, 12 गर्म शॉल, 52 साड़ी, तीन रिबन के पैकेट, 1 टेप कटर और 158 ग्वालियर की कंपनी के स्टीकर बरामद हुए हैं।

टीकरी बॉर्डर: आंदोलन में शामिल होने आई युवती के साथ दुष्‍कर्म मामले में 4 किसान नेताओं सहित 6 पर FIR

आरोपित अनूप सिंह हिसार क्षेत्र का है और आम आदमी पार्टी (AAP) का सक्रिय कार्यकर्ता भी है जिसकी पुष्टि आप सांसद सुशील गुप्ता ने की। अनिल मलिक भी दिल्ली में AAP का कार्यकर्ता बताया जा रहा है।

‘2015 से ही कोरोना वायरस को हथियार बनाना चाहता था चीन’, चीनी रिसर्च पेपर के हवाले से ‘द वीकेंड’ ने किया खुलासा: रिपोर्ट

इस रिसर्च पेपर के 18 राइटर्स में पीएलए से जुड़े वैज्ञानिक और हथियार विशेषज्ञ शामिल हैं। मैग्जीन ने 6 साल पहले 2015 के चीनी वैज्ञानिकों के रिसर्च पेपर के जरिए दावा किया है कि SARS कोरोना वायरस के जरिए चीन दुनिया के खिलाफ जैविक हथियार बना रहा था।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,393FansLike
91,476FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe