Wednesday, December 1, 2021
Homeराजनीति'सोनिया खुद इटली से आकर नागरिकता ले लीं, लेकिन सताए गए हिंदू-सिख भाइयों पर...

‘सोनिया खुद इटली से आकर नागरिकता ले लीं, लेकिन सताए गए हिंदू-सिख भाइयों पर सवाल उठा रहीं’

"नागरिकता संशोधन क़ानून, नागरिकता छीनने के लिए नहीं बल्कि नागरिकता देने के लिए बना है। पश्चिम बंगाल भी हिन्दुस्तान का हिस्सा है और हिन्दुस्तान में..."

नागरिकाता संशोधन क़ानून (CAA) संसद के दोनों सदनों से पारित होने के बाद से ही विरोध का विषय बना हुआ है। देश भर में हो रहे विरोध-प्रदर्शनों की आड़ में हिंसात्मक गतिविधियों को अंजाम दिया जा रहा है। कॉन्ग्रेस और विपक्ष इस क़ानून के लगातार विरोध में बने हुए हैं।

इस बीच, हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने कॉन्ग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा, “सोनिया गाँधी इटली से यहाँ आई हैं और उन्होंने नागरिकता ले ली थी, लेकिन यह लोग पाकिस्तान में सताए गए हमारे हिन्दू और सिख भाइयों को मिल रही नागरिकता का विरोध कर रहे हैं। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान भी उनके समूह का हिस्सा हैं, वे एक ही भाषा बोलते हैं।”

दरअसल, बीजेपी ने नागरिकता संशोधन क़ानून को लेकर गुरुवार (26 दिसंबर) को रोहतक में बैठक की थी। इस बैठक में यह चर्चा की गई कि इस क़ानून को लेकर किस तरह से जन जागरपण अभियान चलाया जाए। हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज भी इस बैटक का हिस्सा थे। जगह-जगह होने वाले विरोध-प्रदर्शनों को लेकर जब उनसे सवाल पूछा गया तो उन्होंने स्पष्ट तौर पर कहा, “नागरिकता संशोधन क़ानून, नागरिकता छीनने के लिए नहीं बल्कि नागरिकता देने के लिए बना है।”

इससे पहले उन्होंने पश्चिम बंगाल के गृह मंत्री सिद्दीकी उल्ला चौधरी पर भी जमकर पलटवार किया था। दरअसल, उल्ला चौधरी ने कड़ा रुख़ अख़्तियार करते हुए कहा था कि अगर नागरिकता संशोधन क़ानून वापस न लिया तो केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के कोलकाता आने पर उन्हें एयरपोर्ट से बाहर नहीं निकलने दिया जाएगा। इस बयान के पलटवार में अनिल विज ने कहा था कि पश्चिम बंगाल भी हिन्दुस्तान का हिस्सा है और हिन्दुस्तान का कोई भी शख़्स किसी भी प्रांत में कभी भी जा सकता है।

भाजपा ने नहीं, कॉन्ग्रेस की सरकार ने NPR को NRC से जोड़ा था: 9 साल बाद मोदी सरकार ने अलग किया

…16 साल पुराना मनमोहन सिंह का वो वीडियो, CAA पर भ्रम फैलाने से पहले कॉन्ग्रेस को देखना चाहिए

CAA: दंगाइयों के आकाओं को जनरल रावत ने फटकारा, CPI व कॉन्ग्रेस ने बताया असंवैधानिक बयान

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe