Thursday, June 20, 2024
Homeराजनीतिऔरंगजेब के साथ दिखे उद्धव ठाकरे, साथ में मुगल आक्रांता के कब्र पर सजदा...

औरंगजेब के साथ दिखे उद्धव ठाकरे, साथ में मुगल आक्रांता के कब्र पर सजदा करने वाले प्रकाश अंबेडकर की भी तस्वीरः मुंबई पुलिस ने होर्डिंग हटाए

डॉक्टर भीमराव अंबेडकर के पोते प्रकाश आंबेडकर 17 जून 2023 को औरंगजेब की कब्र पर गए थे और सजदा किया था। उन्होंने कहा था, "मैं यहाँ पर्यटन स्थल के रूप में आया हूँ। औरंगजेब के नाम पर जिस तरह लड़ाइयाँ लगाने का काम चल रहा है। ऐसे लोगों से मैं कहना चाहता हूँ कि यहाँ औरंगजेब ने 50 साल राज किया है। ये किसी से मिटाते नहीं बनेगा।"

महाराष्ट्र में मुगल आक्रांता औरंगजेब को लेकर शुरू हुआ विवाद बढ़ता जा रहा है। मुंबई के कई इलाकों में औरंगजेब के साथ शिवसेना-UBT के प्रमुख उद्धव ठाकरे और वंचित बहुजन अघाड़ी प्रमुख प्रकाश अंबेडकर की तस्वीर वाले पोस्टर लगाए गए हैं। बता दें कि कुछ दिन पहले प्रकाश अंबेडकर ने औरंगजेब के कथित कब्र पर जाकर सजदा किया था।

ये पोस्टर मुंबई के माहिम इलाके में लगाए गए हैं। पोस्टर बुधवार-गुरुवार (21-22 जून 2023) की रात में लगाए गए हैं। हालाँकि, ये स्पष्ट नहीं हो सका है कि पोस्टर किसने लगाए हैं। पुलिस ने इन पोस्टर को हटा दिया है। पुलिस का कहना है कि अभी तक कोई शिकायत नहीं मिली है। कानून व्यवस्था बिगड़ने पर पुलिस अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करेगी।

दरअसल, औरंगजेब को लेकर पिछले कुछ दिनों से महाराष्ट्र में राजनीति गर्माई हुई है। कुछ सप्ताह पहले एक रैली में औरंगजेब का पोस्टर लहराया गया था। बीड, लातूर, अहमदनगर, कोल्हापुर सहित कई इलाकों में कुछ युवकों द्वारा अपने सोशल मीडिया स्टेटस पर औरंगजेब की तस्वीरें लगाई गई थीं। इसके बाद इन इलाकों में सांप्रदायिक तनाव फैल गया था।

वहीं, डॉक्टर भीमराव अंबेडकर के पोते प्रकाश आंबेडकर 17 जून 2023 को औरंगजेब की कब्र पर गए थे और सजदा किया था। विवाद बढ़ने पर उन्होंने कहा था, “मैं यहाँ पर्यटन स्थल के रूप में आया हूँ। औरंगजेब के नाम पर जिस तरह लड़ाइयाँ लगाने का काम चल रहा है। ऐसे लोगों से मैं कहना चाहता हूँ कि यहाँ औरंगजेब ने 50 साल राज किया है। ये किसी से मिटाते नहीं बनेगा।”

प्रकाश आंबेडकर की पार्टी ने कुछ महीने पर उद्धव ठाकरे की पार्टी के साथ औपचारिक समझौते भी किए हैं। माना जा रहा है कि इन्हीं घटनाओं की वजह से तीनों की तस्वीरें जोड़कर बैनर बनाए गए और उन्हें लगाया गया। इसी तरह साल 2020 में एक सोशल मीडिया यूजर ने उद्धव ठाकरे को औरंगज़ेब और आदित्य ठाकरे को ‘बेबी पेंग्विन’ कहा था। इसके बाद वबाल हो गया था।

माहिम में लगे इस पोस्टर को लेकर महाराष्ट्र सरकार में मंत्री दीपक केसरकर ने कहा कि उद्धव ठाकरे का औरंगजेब के प्रति प्यार साफ देखा जा सकता है। उन्होंने यह भी कहा कि हिन्दुत्व के साथ समझौता करने वालों को छत्रपति शिवाजी महाराज कभी माफ नहीं करेंगे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

14 फसलों पर MSP की बढ़ोतरी, पवन ऊर्जा परियोजना, वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार, पालघर का पोर्ट होगा दुनिया के टॉप 10 में: मोदी कैबिनेट...

पालघर के वधावन पोर्ट की क्षमता अब 298 मिलियन टन यूनिट की जाएगी। इससे भारत-मिडिल ईस्ट कॉरिडोर भी मजबूत होगा। 9 कंटेनर टर्मिनल होंगे।

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -